Urvashi Apsara Sadhana सौन्दर्य और वशीकरण के लिए 14 दिन की साधना का प्रयोग

3
1527

आपने अप्सरा साधना के बारे में पढ़ा होगा. अलग अलग उदेश्य के लिए हम Apsara and yakshini ritual की जाती है. इन साधनाओ को आप wife, sister, mother or friend के तौर पर कर सकते है. ज्यादातर लोग जो vashikaran mantra or love spell देख रहे है उन्हें सौन्दर्य और वशीकरण के लिए उर्वशी मंत्र साधना करना चाहिए. ये साधना वशीकरण और मोहन के लिए जानी जाती है जो आपके अन्दर की Attraction power को enhance करती है. देव साधना के बाद Urvashi Apsara Sadhana और यक्षिणी ऐसी साधना है जो साधक की भौतिक और आध्यात्मिक जरुरतो को पूरा करता है.

अप्सरा साधना में कई बार साधक अप्सरा को एक पत्नी के तौर पर सिद्ध करता है तो Low spirituality की वजह से अप्सरा उसके सामने पूरी तरह प्रकट नहीं हो पाती है. ऐसी स्थिति में वो किसी भी मनचाही लड़की या औरत के शरीर पर काबू करती है और आपकी जरूरतों को पूरा करती है लेकिन, एक अप्सरा का उस लड़की के शरीर में प्रवेश करना उसके Physical mental and spiritual health के लिए अच्छा नहीं है.

Urvashi Apsara Sadhana

हमारे मंडल से ऊपर के मंडल में Gandharv, Yaksh, Yakshini, Kinnari, Yogini, Kshetrapaal, Bhut, Bhutini, Pret, Pishach, Pisachini  and Apsara जैसी कई श्रेणी है जिनकी साधना के जरिये हम अपनी भौतिक जरुरतो को पूरा कर सकते है. इसमें भौतिक सौन्दर्य, मानसिक शक्ति, आध्यात्मिक और सम्पति की प्राप्ति करना शामिल है. मनचाही विश को पूरा करने के लिए आप ऐसी ही एक साधना को कर सकते है जिसे उर्वशी अप्सरा साधना के नाम से जाना जाता है.

अप्सरा की शक्ति भी यक्षिणी की तरह होती है. ये साधक की भौतिक जरूरतों को पूरा करती है और धन देकर उनकी कामनाओ की पूर्ती करती है. अप्सरा साधना के बारे में एक ग़लतफ़हमी हमेशा फैलाई जाती है की शादीशुदा व्यक्ति को इसे नहीं करनी चाहिए. अगर आप ऐसा करते है तो आपको पत्नी के सुख से वंचित रहना होगा लेकिन 4 में से एक का चुनाव कर आप किसी अलग रूप में कर सकते है.

Urvashi Apsara Sadhana in Hindi

उर्वशी अप्सरा स्वर्ग की खास अप्सरा में से एक है. उर्वशी को most gorgeous Apsara in the whole Universe माना जाता है जिन्हें कोई भी साधक अपने आकर्षण शक्ति को बढाने के लिए प्रयोग में ला सकता है. अगर आप किसी को पसंद करते है तो Urvashi Mantra and Sadhana के जरिये अपना काम पूरा कर सकते है.

उर्वशी अप्सरा की साधना दूसरी साधनाओ से अलग है क्यों की ये उच्च स्तर की अप्सरा है जिन्हें सम्मान के साथ आवाहन किया जाता है.

आपने ऐसी कई अप्सरा साधना के बारे में पढ़ा है जिन्हें प्रेमिका या दासी की तरह दिखाया गया है लेकिन Urvashi Apsara Sadhana को हमेशा माँ या देवी स्वरूप में किया जाता है वो भी पूरे सम्मान के साथ. उर्वशी शब्द में उर का मतलब है ह्रदय और वशी का मतलब है वश में करने वाला.

ये साधक आकर्षण को बढाने वाली और मोहन साधना में से एक मानी जाती है. Hindu Mythology and the Heavens of Indra से जुड़े ऐसे कई किस्से है जिसमे इनका वर्णन देखने को मिलता है.

Who is Urvashi Apsara?

साहित्य और पुराण में उर्वशी सौंदर्य की प्रतिमूर्ति रही है. स्वर्ग की इस अप्सरा की उत्पत्ति नारायण की जंघा से मानी जाती है. पद्मपुराण के अनुसार इनका जन्म कामदेव के उरु से हुआ था. श्रीमद्भागवत के अनुसार यह स्वर्ग की सर्वसुंदर अप्सरा थी.

एक बार इंद्र की राजसभा में नाचते समय वह राजा पुरुरवा के प्रति क्षण भर के लिए आकृष्ट हो गई. इस कारण उनके नृत्य का ताल बिगड़ गया. इस अपराध के कारण राजा इंद्र ने रुष्ट होकर उसे मृत्युलोक में रहने का अभिशाप दे दिया. मर्त्य लोक में उसने पुरु को अपना पति चुना किंतु शर्त यह रखी कि

  • वह पुरु को बिना कपड़े की अवस्था में देख ले या
  • पुरुरवा उसकी इच्छा के प्रतिकूल समागम करे अथवा
  • उसके दो मेष स्थानांतरित कर दिए जाएं

तो वह उनसे संबंध विच्छेद कर स्वर्ग जाने के लिए स्वतंत्र हो जाएगी.

ऊर्वशी और पुरुरवा बहुत समय तक पति पत्नी के रूप में साथ-साथ रहे. इनके नौ पुत्र आयु, अमावसु, श्रुतायु, दृढ़ायु, विश्वायु, शतायु आदि उत्पन्न हुए. दीर्घ अवधि बीतने पर गंधर्वों को ऊर्वशी की अनुपस्थिति अप्रिय प्रतीत होने लगी. गंधर्वों ने विश्वावसु को उसके मेष चुराने के लिए भेजा. उस समय पुरुरवा बिना कपड़े में थे.

आहट पाकर वे उसी अवस्था में विश्वाबसु को पकड़ने दौड़े. अवसर का लाभ उठाकर गंधर्वों ने उसी समय प्रकाश कर दिया. जिससे उर्वशी ने पुरुरवा को बिना कपड़े के देख लिया.

आरोपित प्रतिबंधों के टूट जाने पर ऊर्वशी श्राप से मुक्त हो गई और पुरुरवा को छोड़कर स्वर्ग लोक चली गई. महाकवि कालीदास के संस्कृत महाकाव्य विक्रमोर्वशीय नाटक की कथा का आधार यही प्रसंग है. आधुनिक हिंदी साहित्य में रामधारी सिंह दिनकर ने इसी कथा को अपने काव्यकृति का आधार बनाया और उसका शीर्षक भी रखा ऊर्वशी.

महाभारत की एक कथा के अनुसार एक बार जब अर्जुन इंद्र के पास अस्त्र विद्या की शिक्षा लेने गए तो उर्वशी उन्हें देखकर मुग्ध हो गई. अर्जुन ने ऊर्वशी को मातृवत देखा. अतः उसकी इच्छा पूर्ति न करने के कारण. इन्हें शापित होकर एक वर्ष तक पुंसत्व से वंचित रहना पड़ा.

Urvashi Apsara Sadhana Benefits

अगर आप अपनी लाइफ में beautiful and attractive दिखना चाहते है तो ये साधना आपके लिए ही है. उर्वशी अप्सरा साधना के जरिये अपनी आकर्षण शक्ति और Physical beauty को बढाया जा सकता है.

अगर इस साधना को पूरे dedication, determination, patience and the right ritual के साथ किया जाए तो इसके अनुकूल परिणाम देखने को मिलते है. आपके अन्दर की beauty and attraction को ये साधना बढ़ा देती है जिसके बाद आप अपने आसपास के circle में popular हो सकते है.

दूसरो के emotion, feeling, thoughts पर भी काबू पाया जा सकता है. ये साधना मोहन साधना में से एक है इसलिए वशीकरण में भी इसका प्रयोग किया जा सकता है. ये सामने वाले के दिल पर काबू करने में आपकी मदद करती है.

अगर आप किसी को पसंद करते है और उसे अपना बनाना चाहते है तो Urvashi Apsara Sadhana for get love back इसमें आपको सफलता दिला सकती है.

इस साधना के जरिये आप law of attraction process को boost कर सकते है. हमारी लाइफ में कई चीजे और goal ऐसे है जिन्हें हम हासिल करना चाहते है ऐसे में ये साधना आपके अन्दर के Confidence को buildup करती है. आप अपने visualization power को strong कर मनचाहे व्यक्ति या target को achieve कर सकते है.

Urvashi Apsara Sadhana mantra

Om Shreem Urvashi Aagach Aagach Swaha ||

ॐ श्रीम उर्वशी आगछ आगछ स्वाहा ||

How to perform Urvashi Apsara Sadhana mantra ritual

इस साधना को सात्विक साधना तरीके से पूरा किया जाता है. किसी भी पूर्णिमा के रात्रि में 10 बजे बाद कमरे में गुलाब के फूल और गुलाब जल का छिड़काव कर ले.

  • सबसे पहले साफ़ सफ़ेद कपड़े धारण कर ले. आपके आसपास का वातावरण भी सुगन्धित होना चाहिए इसलिए धूप-दीप या इत्र का इस्तेमाल कर सकते है. उर्वशी अप्सरा साधना के लिए ऐसे स्थान का चुनाव करे जो पूरी तरह से light, positive energy से भरा हुआ हो. अपने आसपास और खुद पर इत्र का इस्तेमाल कर महका ले ताकि आप खुद को अच्छा दिखा सके.
  • अपने पास में Light incense sticks को जला ले. कमरे ली लाइट को बंद कर चारो तरफ मोमबत्ती को जला ले. कम से कम 5 से 7 कैंडल आपको जला लेनी चाहिए ताकि पूरे कमरे में सुनहली रौशनी भर जाए. कमरे को फूलो से सजा ले. कोशिश करे ये एक अलग से रूम हो जहाँ कोई आता जाता ना हो और इसमें गुलाब के फूल को जितना आप सजा सकते है सजा ले.
  • ज्यादातर Urvashi Apsara Sadhana में यंत्र का महत्त्व होता है इसलिए अगर आपके पास Urvashi Apsara Yantra है तो इसे अपने सामने रखे और गुलाब के फूल अर्पण करे. यंत्र को wooden seat पर स्थापित करना चाहिए. साधना में इसका महत्त्व सफलता को आसान बनाना है ये जरुरी नहीं है की आप इसे ख़रीदे.
  • अपने सामने एक picture of Urvashi Apsara को स्थापित करे और इसके आगे घी का दीपक जला ले.
  • ऊपर दिए गए मंत्र को एक माला का जप करे और फिर उर्वशी अप्सरा का ध्यान करे.

इस साधना को 14 दिन तक करना है और अंतिम दिन आप कुछ संकेत को नोटिस करना शुरू कर देंगे जैसे की कमरे में सुगंध का बढ़ जाना. जब ऐसा हो तब दोनों हाथो को जोड़े, अपने मन की कामना को Urvashi Apsara के सामने रखे और कुछ फूलो का अर्पण दे साधना का समापन कर दे.

पढ़े : Top 5 reason Ego Defense Mechanisms can stop your spiritual growth basic guide

उर्वशी अप्सरा साधना में ध्यान रखे इन बातो का

  • यहाँ पर आपको ध्यान देना चाहिए की इस साधना का असर दिखने में आपको 3 से 30 दिन तक का समय लग सकता है.
  • अगर ऐसा हो तब आपको पूरे devotion and patience के साथ अपने इच्छा को तस्वीर के सामने रखना चाहिए. साधना में असर न दिखने पर कभी भी negative thoughts में भरकर बार बार साधना करने की जरुरत नहीं है क्यों की इस साधना का आपको देर सवेर से असर दिखेगा. साधना के दौरान अगर अप्सरा की आवाज आपको सुनाई देने लगे तो भूलकर भी अपना ध्यान न तोड़े क्यों की ये साधना को भंग कर देगा.
  • Urvashi Apsara Sadhana के दौरान आपको संयम और कण्ट्रोल करने की जरुरत है क्यों की साधना को हर हाल में पूरा करना होता है. साधना के बीच में आवाजे सुनाई देना एक Positive sign है लेकिन साधना को बीच में छोड़कर आवाज पर ध्यान देना आपका ध्यान भटकाता है.
  • अप्सरा साधना के दौरान काम भावना को काबू में रखना बेहद जरुरी है इसलिए मन में इस तरह के विचार ना आने दे और सात्विक रहते हुए साधना को पूरा करे.
  • अगर 14 दिन में सफलता ना मिले तो 21 दिन तक साधना को किया जा सकता है.

इन सब बातो का ध्यान रखते हुए अप्सरा साधना करे ताकि सफलता को 100% सुनिश्चित किया जा सके.

पढ़े : The ultimate power of future thinking and how to use it to get what you want

Urvashi Apsara Sadhana mantra ritual final word

अप्सरा और यक्षिणी ये दोनों साधना भौतिक सुविधाओ को पूरा करने के लिए की जाती है. Urvashi Apsara Sadhana mantra का उदेश्य साधक का अपने सौन्दर्य में वृद्धि करना है. ये साधना साधक के अन्दर मोहन शक्ति को बढाती है जिसकी वजह से उसके आकर्षण क्षेत्र में बढ़ोतरी होती है और वो मनचाहे व्यक्ति पर वशीकरण का प्रयोग किया जा सकता है.

आपको ध्यान देना चाहिए की ये साधना उच्च स्तर की साधना में से एक है इसलिए किसी भी भौतिक सुख की कामना के उदेश्य से इसका प्रयोग न करे.

Spiritual sadhna में से एक उर्वशी अप्सरा की साधना आपके आध्यात्मिक अनुभव को बढाती है और इन्हें सम्मान के साथ मंत्र शक्ति के जरिये आवाहन कर मनचाहा काम करवाया जा सकता है. इसके बेनिफिट को हमने ऊपर ही बता दिया है. किसी भी तरह की समस्या के समाधान के लिए कमेंट के माध्यम से पूछ सकते है.

Never miss an update subscribe us

* indicates required
Previous articleकर्ण पिशाचनी साधना अनुभव इतिहास और तामसिक साधना का उपाय
Next articleBlack sheep of the family क्या आपकी family भी आपको बेकार समझती है ?
Nobody is perfect in this world but we can try to improve our knowledge and use it for others. welcome to my blog and learn new skill about personal | psychic | spiritual development. our team always ready to help you here. You can follow me on below platform

3 COMMENTS

  1. Sir Please yeh bataii Urvashi Sadhna main koi mala se jap karna hai or kaun mala se jaap karna hai batai main Roj Gaitri mantra Rudraj mala se karta hoon108 bar kya main kya main Rudraj mala se jaap kar sakta hoon or kitna mala jaap karna hai batai

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here