पुरे विश्व में प्रयोग किये जाते है ये top 5 main types of magic आप किसके बारे में कितना जानते है ?

2

भारत को जादू का केंद्र माना जाता है. spiritual practice, ritual, magic, mesmerism ये कुछ ऐसे अभ्यास है जिनका भारत से दुनियाभर में अलग अलग जगह विस्तार हुआ. हालाँकि भारत में जादू को अन्धविश्वास से जोड़ कर देखा जाता है लेकिन western country में occult, healing, spiritual healing, Wicca ये कुछ ऐसे मैजिक है जिनका चलन जोर शोर से है. आज हम बात करने वाले है types of black magic के बारे में. दुनियाभर में कुल 5 types of magic है जिनमे सभी तरह के black magician practice का समावेश है.

types of magic

पूर्वी देशो में जहाँ जादू का मतलब काला जादू तक ही सिमित है वही पश्चिमी देशो में इसका काफी विस्तार हुआ है और लोगो ने इस पर पकड़ भी बनाई है. जगह और प्रान्त के अनुसार मुख्य 5 types of magic है जिन्हें आप अलग अलग जगहों में थोड़े बहुत बदलाव के साथ देख सकते है लेकिन कुछ बाते हर जगह आपको कॉमन ही मिलेगी.

Spiritual practice करने वाले लोगो को अगर अपनी पकड़ मैजिक की फील्ड में गहरी करनी है तो उन्हें पता होना चाहिए की किस तरह के जादू को वो अच्छे से परफॉर्म कर सकते है और आगे बढ़ सकते है.

main types of magic

जादू को perform करने के काफी सारे तरीके है. अगर हम उन्हें उनके तरीके के आधार पर समझे तो निचे कुछ main type of magic दिए है.

  • Kinetic Magic: हाथ की सफाई से किसी भी चीज को manipulate करना इसका हिस्सा है. अक्सर जादूगर इसे perform करते है.
  • divination: इस जादू के अन्दर talk to spirit and telling fortune जैसी activity आती है. सिर्फ एक nacromancy को छोड़ दे तो हर तरह की वो activity जिसमे हम आत्माओ से या किसी माध्यम का प्रयोग का प्रयोग कर लोगो के भविष्य को देखते है आता है.
  • Illusion: ये भी जादू का ही एक टाइप है जिसमे हम लोगो को वो दिखाते है जो हम चाहते है. वास्तविक सच्चाई से हटकर एक अलग तरह का भ्रम पैदा करना इसमें आता है. इसे आप मायाजाल या इंद्रजाल कह सकते है जो की आपके बोलने पर और माध्यम पर उन शब्दों के असर से जुड़ा है.
  • Theurgy : आत्माओं का आवाहन करने के लिए कई तरह की spiritual ritual practice की जाती है जिसके जरिये हम मरे हुए लोगो का, फरिश्तो का, शैतानी शक्तियों का आवाहन करते है. सिंपल शब्दों में कहे तो witchcraft इसमें आता है.
  • Summoning: आत्माओं का आवाहन करना और उन्हें इस दुनिया में आमंत्रित करना.
  • Necromancy: मरे हुए लोगो की डेड बॉडी के साथ की जाने वाली क्रिया और जादू.
  • Enchanting: मंत्र जाप के जरिये किसी भी चीज को प्राण प्रतिष्ठित करना. तलिस्मान की रचना करना इसका हिस्सा है.
  • Conjuration: साधक की अपनी pure energy के जरिये summoning spirit anbd angel’s जैसी क्रिया को अंजाम देना.
  • Transfiguration: किसी भी चीज का रूप बदल देना इस जादू के अन्दर आता है. आठ सिद्धि में से एक रूप बदलने की भी है.
  • Healing: उर्जा के जरिये किसी चीज को ठीक करना ये एक spiritual practice है जो की aura energy field पर based है.
  • Alchemy: किसी धातु को दूसरी धातु में बदल देना जैसे की लोहे को सोने में.
  • Reality Manipulation: ये भी मायाजाल की तरह ही काम करता है लेकिन उससे कही ज्यादा शक्तिशाली होता है. ये किसी तरह का भ्रम नहीं होता है बल्कि वास्तविक होता है.

ये तो थे जादू के प्रकार जो की पुरे विश्व भर में किये जाते है. अगर बात करे black magic and white और types of black magic की तो ये मुख्यत: 5 main types of magic है.

White Magic and Black Magic

Spells of magic भौतिक संसार में कुछ इस तरह से असर डालता है की इसे वैज्ञानिक तरीके से परिभाषित कर पाना कई बार संभव नहीं होता है. मैजिक दो प्रकार का होता है पहला वो जिसे स्वीकार किया जा सके और दूसरा वो जिसे स्वीकार नहीं किया जा सकता है. इसे

  1. White magic – जिसे आसानी से accept किया जा सके.
  2. Black magic – इसे आसानी से स्वीकारा नहीं जाता है और परिणाम मन को अशांत कर देने वाले तथा विपरीत होते है.

इन दोनों तरह के मैजिक को जगह, व्यक्ति और कार्य पद्धति के अनुसार भी अलग अलग तरीको से किया जाता है जिसकी वजह से भी इसे सही मायने में परिभाषित कर पाना इतना आसान नहीं. अलग अलग जगहों पर मैजिक को स्वीकारने के मायने भी बदल जाते है क्यों की काफी सारी चीजो का बदलाव होता है.

White magic को हम spiritual practice भी कह सकते है. ऐसा करने वाले magic spell caster और माध्यम दोनों का भला होता है. वही दूसरी ओर Black magic ऐसा जादू है जिसे मुख्यत कम टाइम में ज्यादा फायदे के लिए, उन विश को पूरा करने के लिए जिन्हें हम सामान्य तौर पर पूरा नहीं कर सकते है या फिर white magic से कर पाना मुमकिन नहीं आसान शब्दों में कहे तो Illegal demand को पूरा करने के लिए काम में लिया जाता है.

ऐसे लोग जो खुद को black magicians के नाम से संबोधित करते है वो इसे दुसरे नजरिये से देखते है. Black magic जैसे वर्ड का ज्यादा इस्तेमाल करने की एक वजह ये भी है की लोग उनसे डरे और शक्तिशाली माने. जब भी हम किसी व्यक्ति को as a black magician के तौर पर देखते है तो मन में एक डर बन जाता है की कही ये सच में कला जादू जैसा कुछ हम पर ना कर दे.

वास्तव में जरुरी नहीं की कला जादू का प्रयोग हमेशा बुरे कामो में ही हो. ये हमेशा harmful नहीं होता है बल्कि इसे unacceptable बनाने के पीछे और भी कई सारी चीजे काम करती है जैसे की

  • The powers invoked – ब्लैक मैजिक के जरिये कौनसी शक्ति को जगाया जा रहा है.
  • The methods used – किस विधि, तरीकेया मार्ग का प्रयोग किया गया है.
  • Outcomes desired – काले जादू के प्रयोग के परिणाम क्या चाहते है.

ऐसे लोग जो मानते है की काले जादू का हर प्रकार और तरीका हमेशा गलत कामो के लिए किया जाता है और इससे हमेशा शैतानी शक्ति को ही बुलाया जाता है उन्हें term black magic or the black arts यानि काले जादू का अध्ययन करने की जरुरत है.

5 Major Types of Magic (black magic)

Magic की तरह ही Types of magic को समझ पाना बेहद मुश्किल है. इसकी सबसे बड़ी वजह साधक की एक जैसी मंशा का न होना और अलग अलग जगह पर अलग अलग तरीके का चुनाव करना है. जादू वास्तव में क्या है ? अगर इसे शब्दों में समझने की कोशिश करे तो

जादू भौतिक संसार में कुछ खास तरह के बदलाव करता है जिन्हें वैज्ञानिक तरीको से समझा पाना संभव नहीं.

वही दूसरी और occult and esoteric circles में इसे परिभाषित करना और भी कठिन है क्यों इसमें कई सारी spiritual practice को साथ में लेकर चलना होता है. आइये जानते है काले जादू के मुख्य प्रकार के बारे में.

#1. Ceremonial Magic – High Magic

काले जादू का वो प्रकार जो किसी भी दुसरे तरीको से पूरी तरह अलग है. इसे समझने के लिए आपको बहुत ज्यादा गहन अध्ययन करना पड़ता है किताबो का, निर्देशन का और दुसरे सुझावों का. इस types of magic को सबसे ज्यादा शक्तिशाली माना जाता है.

Western country में 19 वी सदी से पहले ceremonial magic को सिर्फ Judeo-Christian myth तक ही सिमित रखा गया. लेकिन इसके बाद के समय में इससे जुड़े Black magician ने इस context पर काम करना शुरू कर दिया. काले जादू में इसे सबसे हाई माना जाता है जिसकी वजह है इसका उदेश्य. इसका उदेश्य सिर्फ किसी एक कार्य की पूर्ति के उदेश्य या प्रैक्टिकल से नहीं है बल्कि spiritual practice से जुड़ा है.

इसकी एक वजह ये भी है की ceremonial magic किसी व्यक्ति को सिर्फ मैजिशियन तक सिमित नहीं रखता है बल्कि उसके अन्दर divine knowledge ( आत्मज्ञान ), purification ( शुद्धता ), the attraction of proper influences ( किसी भी उदेश्य के लिए आकर्षण बनाना ), and embracing one’s destiny (किसी के भाग्य को बदलना ) जैसी quality भी विकसित करता है.

#2. Folk Magic – Low Magic

Folk magic को low level magic भी कह सकते है. इस तरह के जादू में सभी तरह के Practical purposes समायोजित किये जा सकते है जैसे की healing, attracting luck or love, driving away evil forces, finding lost items, bringing good harvests, fertility और भी बहुत कुछ. दुसरे शब्दों में कहे तो शाबर मंत्र जो हलके स्तर से लेकर उच्च स्तर तक जादू प्रदर्शन कर सकते है. इन सबके जरिये किसी के लक को चमकाया जा सकता है.

इसके उद्भव की वजह लोगो में जादू की सही शिक्षा की कमी थी. इसकी वजह से लोगो ने सरल उपाय, माध्यम की खोज की जिसमे कुछ प्लांट, कॉइन नाख़ून, लकड़ी जैसे उत्पाद इस्तेमाल किये जाने लगे. इनका महत्त्व किसी कार्य में उर्जा प्रदान करने जैसा था इस वजह से इन्हें low level magic का नाम दिया गया क्यों की इन्हें सिर्फ यही तक काम में लिया गया.

#3. Witchcraft powerful types of magic

black magic castingसबसे खतरनाक तरह का जादू जो की cross between ceremonial magic and folk magic ही है. ये ना तो उच्च स्तर का जादू है ना ही निचले स्तर का लेकिन इसके इस्तेमाल करने के तरीके ने इसे लोगो की नजरो में खतरनाक बना दिया है.

कई सारी कंट्री में मैजिशियन ने खुद को witches बुलाना शुरू कर दिया है. इससे विकसित होने वाली स्पेल witchcraft spells के अंतर्गत प्रैक्टिस की जाती है.

इसके नाम को लेकर आम लोगो में भ्रान्ति है और वो how to do witchcraft को लेकर काफी सर्च करते है. जल्दी ही इसके बारे में pdf book in Hindi शेयर की जाएगी जो हमारे पास पहले से पड़ी है.

अगर बात करे इसके काम करने के तरीके की तो इसमें निचले स्तर के जादू की तरह सामान्य चीजे इस्तेमाल की जाती है जिन्हें व्यक्ति अपने emotion and intention के साथ जोड़ कर इन शक्तियों से काम लिया जाता है. आपने देखा होगा की इस विधि में जिस तरह सुरक्षा घेरा बनाया जाता है और उसमे अलग अलग संकेत दर्शाए जाते है ये सभी ceremonial magic से लिए हुए है.

भारत जैसे देश में witch को डायन या चुड़ैल के नाम से भी जाना जाता है. ऐसा भी मानना है की ये अपने शिकार को किसी तरह के भ्रम में डाल सकती है, उनपर अपना असर डाल सकती है जो की किसी तरह के खाने पिने की चीज के जरिये किया जाता है या फिर उनका शोषण कर उन्हें ख़त्म कर देती है.

Witches and folk magicians’ ये दोनों अलग अलग ग्रुप के लोग होते है. एक और जहाँ पर witches को गलत नजरिये से देखा जाता है वही folk magician जिसे कुछ लोग ओझा भी कहते है को सम्मान की दृष्टी से देखा जाता है.

#4. Left and Right Hand Magic

Left and Right Hand Magic शब्दों को लेकर अगर आप कंफ्यूज हो रहे है तो बता दे की ये ज्यादा टिपिकल नहीं है. India में इसे वाम मार्गी और दक्षिण मार्गी के नाम से भी कह सकते है. जहाँ एक मार्ग की साधना शांत और सौम्य होती है वही दूसरी और की साधना में कुछ ऐसे ritual perform किये जाते है जो की social conventions की सीमाओं से बाहर आते है. जैसे की अघोरी जो की सामाजिक नियमो को नहीं मानते है.

Western country में left hand path के लोग Satanic and Luciferian faiths को बढ़ावा देते है. उनका मानना है की ये types of magic सरल भी है और कम समय में आगे बढ़ने के माध्यम भी. उदाहरण के लिए Illuminati secret society के लोग जो की आपको सक्सेस बनने का लालच देकर शैतान की पूजा करने को उकसाते है.

Left-Hand and Right-Hand Paths?

मुख्य रूप से बात करे Occult and religious paths की तो ये दो भागो में बंटा हुआ है. पहला the left-hand path और दूसरा the right-hand path है. जितनी भी religions and spiritual practice है सबमे कुछ न कुछ बाते कॉमन देखने को मिलती है.

Left hand path के लोग समाज और उसके नियमो को नहीं मानते है बल्कि खुद को elevation and centrality बनाने पर जोर देते है. ये पथ पूरी तरह से strength and will of the practitioner पर based है. साधक जितना ज्यादा मानसिक रूप से मजबूत होगा खुद को आगे ले जाने में उतना ही सक्षम होगा.

Western country में Satanism ( both LaVeyan and Theistic ) and Luciferianism पर जोर दिया जाता है और भारत में भी आज इसका बड़े स्तर पर प्रभाव देखने को मिल रहा है. ऐसे लोग जो अघोरी क्रिया करते हुए शैतान की पूजा करते है ताकि कम समय में उन्हें सिद्धि हासिल हो सके.

दूसरी तरफ Right hand path के लोग symbol of goodness यानि divine spiritual practice पर जोर देने वाले होते है. ये लोग इश्वर भक्ति और पूजा पाठ के जरिये spiritualism को अपनाते है और आगे बढ़ते है. ये खुद को सात्विकता से रखते हुए हर किसी को ग्रुप से जोड़कर आगे बढ़ते है और समाज के अन्दर रहते हुए सबका भला करते है.

Limitation and Bias of Usage

हालाँकि ये जाहिर हो चूका है की इसमें लोग किस तरह के पथ का अनुसरण करते है लेकिन, एक चीज जिसे हम सबसे बड़ी limitation भी कह सकते है और वो है इसका follower system. इस पथ के लोग खुद को Satanists बताते है लेकिन अगर ऐसा है तो इसके विपरीत नियम का पालन करने वाले क्या सभी right hand path follower है ?

Left and right hand path के follower को लेकर इस तरह की परिभाषा पूर्ण रूप से सही नहीं है. ऐसा इसलिए क्यों की अलग अलग जगह पर इसके मायने बदलते है और समाज का दायरा भी बदलता है जिसकी वजह से जो नियम एक जगह सही है दूसरी जगह वही नियम गलत हो सकता है.

इसी तरह right hand path के follower दुसरे पथ वाले लोगो को खतरनाक मानते है क्यों की उनकी नजर में वो जो करते है वो समाज के दायरे से बाहर है और बुराई का प्रतिक है जैसे की शैतान की पूजा करना.

इन पथ की स्थापना Western occultism यानि पश्चिमी तंत्र में Theosophy founder Helena Blavatsky के जरिये हुई. उन्होंने इसे अपनाया पूर्व तंत्र से जो की भारतीय तंत्र माना जाता है. ऐसा माना जाता है की western country में दो तरह के follower थे right’ with goodness and correctness and the ‘left’ with inferiority यानि एक पथ जो की दैवीय शक्ति में विश्वास करता था और दूसरा जो satanic ritual को मानने वाला था. इसी के आधार पर black magic and white magic का चलन हुआ.

समय के साथ इसे मानने वाले लोगो ने अपने उसी हाथ का अनुसरण करना शुरू कर दिया जिसे वो फोलो कर रहे थे. समय के साथ sinister side विकसित हुई जो की लेफ्ट हैण्ड के लोगो का मुख्य आधार बनी. लोगो ने इस types of magic को evil and maliciousness से जोड़ कर देखना शुरू कर दिया.

#5. Black and White Magic

Black and white magic एक टर्म है जो की कुछ निर्देशों के पालन के आधार पर बनी है. अगर सिंपल शब्दों में इसे समझना चाहे तो जिस जादू से किसी का नुकसान ना हो और आसानी से स्वीकार किया जा सके ( दुआ ) इस तरह का जादू white magic कहलाता है जबकि, जिस जादू का प्रयोग किसी को नुकसान पहुंचाने के लिए किया जाता है और स्वीकार नहीं किया जा सके ( श्राप, evil eye ) ये काला जादू के अन्दर आता है.

जिस जादू से किसी का भला किया जा सके उसे वाइट मैजिक के नाम से बुलाया जाता है जो की आमतौर पर किसी की हीलिंग, लव स्पेल या फिर दुआ ब्लेस जैसी शक्तियां होती है. इन्हें व्यक्ति आसानी से स्वीकार कर लेता है जिसकी वजह से उसे इसका लाभ मिलता है. काला जादू जैसे की बुरी नजर, श्राप, शैतान छोड़ना ऐसे कई कृत्य जिन्हें कोई भी स्वीकार नहीं करना चाहता है काले जादू के अंतर्गत आते है.

main types of magic final conclusion

पुरे विश्व में जादू को अलग अलग तरीको से perform किया जाता है. जगह और स्थान के बदलाव के साथ हम जादू के तरीके में भी बदलाव देख सकते है लेकिन इन सबमे कुछ न कुछ मुख्य origin से मिलता जुलता होता है. 5 main types of magic की इस पोस्ट में हमने बात की है basic of magic and black magic के बारे. उम्मीद करता हूँ आपको कुछ नया जानने को मिला होगा.

आज पश्चिमी तंत्र इतना ज्यादा विकसित हो चूका है की इसे वहां real life में महसूस किया जा सकता है वही दूसरी और पूर्वी तंत्र जो की मुख्य था धीरेधीरे अपनी पहचान खोता जा रहा है. भारत जैसे देश में जहाँ पर इसका उद्भव हुआ आज सिर्फ online black magic fraud ही चल रहा है. सही एक्सपर्ट भी है लेकिन हमें जरुरत है इसमें सावधानी रखने की इसलिए सोच समझकर चुनाव करे.

आने वाली पोस्ट में हम बात करेंगे शैतानी पूजा के बारे में और ये कितनी effective है और इसके परिणाम क्या क्या हो सकते है. अगर आप चाहते है की इसके बारे में लिखा जाए तो कमेंट में अपने विचार जरुर रखे.

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.