क्या आप जानते है सिर्फ सोचते रहने से भी आप अनचाहे विचारो से छुटकारा पा सकते है

9

get rid from unwanted thoughts के लिए meditation सबसे बड़ा उपाय है. meditation से हम विचारों को कम करते हुए उन्हें control करते है. लेकिन क्या अपने कभी सोचा है की फालतू विचारो से छुटकारा पाने की बजाय विचारों की मात्रा बढ़ाते हुए mind को relax करे. सोचने में अजीब लग सकता है की एक बड़ा आईडिया आपको सिर्फ सोचते रहने से ही मिल पाता है।

get rid from unwanted thoughts

लेकिन ये सच भी है क्यों की जब हम सोचते रहते है तो कुछ समय तक ही हमारे मन में फालतू विचार आते है। इसके बाद हमारा मस्तिष्क साफ और शांत तरीके से सोचने लगता है। इन्ही वजह से हम एक बड़ा आईडिया विचारो में से निकाल पाते है। human mind लगातार सोचता रहता है. जिस वजह से हमारी energy उस जगह लग नहीं पाती है जहां काम आनी चाहिए. इसलिए ध्यान में विचारों को निम्न तरह से control करना सिखाया जाता है.

  • 1. ध्यान कर विचारों को एक जगह केंद्रित करना.
  • 2. ध्यान कर विचारों को कम करना.
  • 3. ध्यान कर विचारों से रहित मन मस्तिष्क का सर्जन

सबसे ज्यादा कठिन है सीधे तौर से मन को शुन्य करना. मनुष्य का मस्तिष्क हमेशा सोचता रहता है.इसलिए ऊपर की विधि द्वारा या तो उसे कम करे या एक जगह केंद्रित कर उसे दिशा प्रदान करे जो concentration कहलाती है.

get rid from unwanted thoughts या मानसिक थकान

ध्यान में इन विधि के इस्तेमाल से हम विचार को न्यून करने का प्रयास तो करते है लेकिन जब mind ही थक जाये तो क्या फायदा ध्यान करने का. मस्तिष्क का थकना हमारे विचारों को जबरदस्ती न्यून करने की कोशिश का नतीजा है. इसमें मस्तिष्क थक जाता है और फिर ध्यान की इच्छा खत्म होने लगती है. मानसिक थकान शरीर पर प्रभाव डालती है और कम करने की रूचि कम हो जाती है, आराम करने की इच्छा बार बार होने लगती है.ऐसे में हमें ध्यान की दूसरी डायरेक्शन पर ध्यान देना चाहिए.

हम एकाएक विचारों से रहित मस्तिष्क का निर्माण तो नहीं कर सकते लेकिन चाहे तो विचारों को दिशा और guide कर illusion की स्थिति का निर्माण कर आसानी से मन लगने लायक ध्यान की स्थिति का निर्माण कर सकते है. थकान इसमें भी आती है लेकिन वो तब होता है जब हम इस स्थिति में ज्यादा देर तक रहने लगे और illusion बनता रहे.

how to get rid from unwanted thoughts

फालतू विचारो से छुटकारा पाना है तो हमें खुद को विचार शून्य करने पर जोर कभी ना दे। बदलते वक़्त के साथ ऐसी कई तकनीक का इस्तेमाल होने लगा है जिनसे हम बगैर मानसिक थकावट के खुद को फालतू विचारो से छुटकारा दिला सकते है। आज हम बात करेंगे ऐसी ही कुछ आसान और कारगर तकनीक जो आपको फालतू विचारो से छुटकारा दिलाने में हेल्प करेगी।

illusion क्या है :

illusion hypnotherapy जैसा है इसमें जाग्रत रहते हुए हम विज़न बनाते है बिलकुल मूवी की तरह.उन दृश्य का निर्माण हम खुद करते है. इससे मंद में stress नहीं होता है और हम आसानी से मस्तिष्क को वो दिखा सकते है जो हम चाहते है इससे फालतू विचारों से छुटकारा मिल जाता है और हम मस्तिष्क में विचारों को दिशा प्रदान करने में सक्षम हो जाते है.

प्रयोग सोते हुए किया जाता है. बचपन में मेने खुद ये खूब किया था जब कोई fantasy प्रोग्राम देखता था या फिर फिल्म. इससे नींद अच्छी आती थी और stress ख़त्म होके mind भी relax हो जाता था.

विचारो को दे दिशा :

इसके बाद हम चाहे तो विचारों को एक दिशा में guide कर उसे विचार शुन्य या फिर concentrate कर सकते है. दूसरा तरीका इससे similar है. जैसे हम विचारों को रोकते है और वो ज्यादा से ज्यादा दिमाग में उमड़ते है. इसलिए रोकने के बजाय लेट कर उन्हें ज्यादा से ज्यादा सोचे, जितना आप सोचते जाते है वो दबे हुए विचार बाहर निकलने लगते है जो हमारे लिए जरुरी है जैसे कई ऐसी बाते जो हम याद नहीं रख पाते फिर कुछ देर बाद हम पाएंगे की विचार अपने आप कम होने लगते है और हम सोने लग जाते है.

इससे मस्तिष्क पर दबाव कम होता है शरीर में नई स्फूर्ति का अहसास होता है. ये दोनों प्रयोग सोते हुए लेट कर करे इससे विचार तो कम होंगे साथ ही याद करने की क्षमता में इजाफा होता है. ये उनके लिए फायदेमंद है हो विचारों को रोक नहीं पाते है या जिनका मन चंचल होता है

get rid from unwanted thoughts में मददगार है दैनिक लाइफस्टाइल

हमारी दिनचर्या व्यवस्थित ना होने की वजह से हमारे मस्तिष्क पर इसका सबसे ज्यादा इफ़ेक्ट पड़ता है। इसे एक उदाहरण से समझे : हम दिन भर अलग अलग काम करते है तो बगैर प्लानिंग और प्लानिंग से करने पर हम क्या फर्क महसूस करेंगे। हम पाएंगे की बगैर प्लानिंग के काम करने में हमें ज्यादा सोचने की जरूरत पड़ती है और ये ज्यादा थकाने वाला काम भी होता है। इसलिए दैनिक दिनचर्या में कुछ बातो को फॉलो कर हम इसे मजेदार बना सकते है।

Tricks make you Cool in Daily routine

  • काम में रूचि जगाये और ये तभी संभव है जब आप अपने काम को पूरी तरह समझ लेते है। इसलिए काम को समझे और बेहतर तरीके से करे।
  • हमेशा विकल्प तैयार रखे क्यों की वही काम उबाऊ होता है जो सदियो से एक ही तरीके से चलता आ रहा है और पारम्परिक तरीके से होता है। काम में विकल्प हमें कार्य को बेहतर तरीके से करने के अवसर देता है।
  • कार्य की शुरुआत से कुछ वक़्त पहले ध्यान दे और सही समय की बजाय कुछ देर पहले का वक़्त निकाल कर उसे तैयार करे ताकि आपको एक्स्ट्रा वक़्त मिले और सही तरीके से कम वक़्त में आप उसे पूरा कर सके।
  • जब आप पहले काम को वक़्त से पूरा कर लेंगे तो आपके पास वक़्त बचता है जो दूसरे कामो में इस्तेमाल किया जा सकता है यानि सुबह की शुरुआत पुरे दिन आपके काम को बेहतर बना देगी।

इन तरीको पर अमल करने से आपको दो फायदे होंगे पहला आपको ज्यादा मेहनत नहीं करनी पड़ेगी दूसरा आपके पास वक़्त बचेगा कुछ नया करने का जो आपको get rid from unwanted thoughts में मदद करेगी।

get rid from unwanted thoughts – final thoughts

दोस्तों ये थी आज की पोस्ट जो get rid from unwanted thoughts in hindi आपको अनचाहे विचारो से छुटकारा पाने में मददगार साबित होगी. अगर आपके पास ध्यान से जुडी बढ़िया पोस्ट, जानकारी, अनुभव है तो आप हमारे ब्लॉग पर इसे शेयर कर सकते है। आपके नाम के साथ हम इसे पब्लिश करेंगे। आज की पोस्ट पर कमेंट कर अपनी राय जरूर दे।

इन पोस्ट को पढना ना भूले

  1. ब्रेकअप होने के बाद क्या करे क्या नहीं ताकि इसके दर्द से बाहर निकल सके – love guru tips 2018
  2. छटी इंद्री जाग्रत करने के लिए daily life में शामिल करे इन आदतों को फिर देखिये मैजिक
  3. भावुक होना कमजोरी नहीं ताकत है जानिए भावुक लोगो की सबसे बड़ी powers के बारे में
  4. अनचाहे और एक ही बात बार बार सोचने की प्रॉब्लम से कैसे छुटकारा पाए ?
  5. डेली लाइफ में की जाने वाली इन मिस्टेक का आप पर क्या असर पड़ता है जानिए

9 COMMENTS

  1. ध्यान करने से दिमाग को संतुलित और केन्द्रित किया जा सकता है ….nice article on meditation to stop negative things….

  2. आपका पोस्ट अच्छा है।
    ध्यान करने से जो थकान आती है उसका और भी कोई उपाय हो तो जरूर बताएं। धन्यवाद।

      • धन्यवाद।
        एक और प्रश्न है…शुरुआत में ध्यान में मैं गहरा उतर रहा था….सबकुछ सही था पर किसी जानकार की राय लेकर और आगे बढ़ना मैन सही समझा, क्योंकि मैंने पढ़ा था कहीं की ध्यान बिना गुरु के नही करना चाहिए , तो जिनसे मैन वीडियो कॉल के माध्यम से सम्पर्क किया कई बार,सोच कुछ गलत ना करदूँ। उनसे संपर्क करने के बाद ध्यान करने पर ध्यान करना धीरे धीरे बहोत मुश्किल होता गया।ऐसा लगा जैसे किसी ने मेरी सारी शक्ति खीच ली हो।मुझे कुछ समझ नही आ रहा है।कृपया मार्गदर्शन करें। धन्यवाद।

  3. meditation hamare dainik jivan me ek bahut hi mahatvpurn bhag hai. kyoki maditation karne se hamara mastishk bhi sant hota hai or hamare dimag me bhi achhe vichar aate hai|

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.