The Collective Consciousness and basic of personal unconscious in Hindi

0
37

एक समाज में रहने वाले लोग खास तरह के Fundamental beliefs, customs, norms, and values को follow करते है. आखिर ऐसा क्या है जो उन्हें समाज का हिस्सा बनाता है ? The Collective Consciousness यानि सामूहिक चेतना हमें दूसरे लोगो से जोड़ता है. सामूहिक चेतना एक खास तरह के pattern को follow करती है जो लोगो के एक ग्रुप को बनाने में मदद करती है. आज की पोस्ट में हम इस बारे में ही बात करने वाले है.

एक स्कूल में ऐसे कई ग्रुप है जो बच्चो को आपस में जुड़ने में मदद करते है जैसे की एक क्लास, खेल, ड्रेस कोड, स्कूल एक्टिविटी ये सब बच्चो को एक ग्रुप बनाने में मदद करती है जो एक जैसे thought, belief को शेयर करते है. Collective Unconscious / Consciousness को psychoanalyst Carl Jung ने सबसे पहले define किया था. उस समय उन्होंने इसे objective psyche का नाम दिया था और उन्होंने ऐसे आईडिया को लोगो के सामने लाने की कोशिश की जो deepest unconscious mind का एक पार्ट थे ना की किसी एक व्यक्ति के personal experience से लिए हुए थे.

Collective Consciousness

उनके अनुसार collective unconscious हम सभी Human being में common है और आपस में जोड़ने वाले कई विचारधाराओ पर काम करती है. इंसानों में कई चीजे common है जैसे की उनका spirituality, sexual behavior, and life and death instincts ये सब उन्हें आपस में जुड़ने में मदद करती है और यही सामूहिक चेतना उन्हें एक ग्रुप में जुड़ने में अहम् रोल निभाती है.

इसे हम archetypes के जरिये दूसरो के साथ एक्सप्रेस करते है. ये signs, symbols, or patterns of thinking and behaving किसी भी तरह से हो सकती है जो हमें हमारे पूर्वज से मिली है. आइये डिटेल से सामूहिक चेतना के बारे में समझते है.

The Concept of Collective Consciousness

Collective consciousness जिसे कई बार sometimes collective conscience or conscious के नाम से भी जाना जाता है एक ऐसा fundamental sociological concept है जो हमारी set of shared beliefs, ideas, attitudes, and knowledge को दूसरो से जोड़ने का काम करता है.

एक समाज में रहने वाले लोगो के बीच क्या similarity है और उनके विश्वास. ज्ञान में क्या common है जो उन्हें आपस में जोड़ता है इसे समझने का काम Collective Consciousness करती है.

सामूहिक चेतना यानि कलेक्टिव चेतना हमारे संबध, पहचान और हमारे व्यवहार को समझने और respond करने में हेल्प करती है. वो क्या है जो हमें दूसरो से जोड़कर रखता है ?

हम हमारे आसपास के रहने वाले लोगो में कई तरह की समानताए देखते है जैसे की habits, customs, and beliefs of traditional and primitive societies इन्हें हम अपनी लाइफ के साथ compare करते है और समाज की नीव का आधार भी यही है.

समाज में रहने वाले अलग अलग तरह के लोग एक दूसरे के बीच कुछ ऐसा देखते है जो उन्हें आपस में जोड़ता है और इसी से वे समाज का निर्माण करते है. एक ऐसा समाज जिसमे रहने वाले लोगो की विचारधारा, विश्वास और अवधारणा एक जैसी है.

Traditional or primitive society’s में religious symbols, discourse, beliefs, and rituals ये सब collective consciousness के जरिये निर्धारित होते है. जंग ने इसे समझाने के लिए Total 12 types of Instincts and Archetypes को explain किया है. इस पोस्ट में हम इसी के बारे में जानने वाले है.

Social Institutions Produce Collective Consciousness

इन अन्य संस्थानों में शामिल हैं राज्य (जो देशभक्ति और राष्ट्रवाद को बढ़ावा देता है), समाचार और लोकप्रिय मीडिया (जो सभी प्रकार के विचारों और प्रथाओं को फैलाता है, कैसे कपड़े पहनने के लिए, किसको वोट देना है, कैसे तारीख और शादी करनी है), शिक्षा ( जो हमें आज्ञाकारी नागरिकों और कार्यकर्ताओं में ढालता है ), और पुलिस और न्यायपालिका (जो सही और गलत की हमारी धारणाओं को आकार देते हैं, और हमारे व्यवहार को वास्तविक शारीरिक बल के खतरे के माध्यम से निर्देशित करते हैं).

परेड और छुट्टी समारोह से लेकर खेल आयोजनों, शादियों, लैंगिक मानदंडों के अनुसार खुद को संवारने और यहां तक ​​कि खरीदारी ( Black Friday sale के बारे में सोचें ) तक सामूहिक जागरूक रेंज की पुष्टि करने वाले अनुष्ठान . किसी भी मामले में – आदिम या modern society – सामूहिक चेतना कुछ “पूरे समाज के लिए सामान्य” है, जैसा कि Durkheim ने कहा.

यह कोई व्यक्तिगत स्थिति या घटना नहीं है, बल्कि एक social condition है.

एक सामाजिक घटना के रूप में, Collective Consciousness “समग्र रूप से पूरे समाज में फैला हुआ है” और “इसका अपना जीवन है.” यह सामूहिक चेतना के माध्यम से है कि मूल्यों, विश्वासों और परंपराओं को पीढ़ियों के माध्यम से पारित किया जा सकता है.

हालांकि अलग-अलग लोग जीते और मरते हैं, अमूर्त चीजों का यह संग्रह, उनसे जुड़े सामाजिक मानदंडों सहित, हमारे सामाजिक संस्थानों में मजबूत होते हैं और इस प्रकार व्यक्तिगत लोगों से स्वतंत्र होते हैं.

यह समझना सबसे महत्वपूर्ण है कि collective conscience उन Social force का result है जो व्यक्ति के लिए बाहरी हैं, समाज के माध्यम से, और जो इसे बनाने वाले विश्वासों, मूल्यों और विचारों के साझा सेट की सामाजिक घटना को बनाने के लिए मिलकर काम करती हैं.

हम, व्यक्तियों के रूप में, इन्हें आंतरिक रूप देते हैं और ऐसा करके सामूहिक चेतना को एक वास्तविकता बनाते हैं, और हम इसे प्रतिबिंबित करने वाले तरीकों से रहकर इसकी पुष्टि और पुनरुत्पादन करते हैं.

Examples of Collective Consciousness

अगर हम अपने आसपास नजर डाले तो ऐसे कई example हमें देखने को मिल जायेंगे.

  • Gender norms concerning how people dress and act.
  • Laws that socialize people into what is “right and wrong” in their society. कानून जिसका सब पालन करते है.
  • Rituals, such as parades for holidays and weddings. हमारी आध्यात्मिक आस्था और विचारधारा
  • किसी देश के लिए उसका राष्ट्रगान महत्त्व रखता है और उसकी विचारधारा सबको आपस में जोड़कर रखती है.
  • एक स्कूल में पढने वाले बच्चो की Collective Consciousness को क्लास, खेल, एक्टिविटी और हाउस के आधार पर देखा जा सकता है.

अलग अलग जगहों पर रहने वाले लोग अलग तरह की विचारधारा को मानते है, दिनभर में हम अलग अलग ग्रुप को फॉलो करते है जैसे की एक खास जगह पर जाने वाले लोग, एक जगह जॉब करने वाले लोग, एक जैसा खाना खाने वाले लोग ऐसे कई उदाहरण है जो आपको आपके आसपास से मिल जायेंगे.

पढ़े : How to activate Pyrokinesis psychic ability simple effective guide in Hindi

What is collective unconscious in psychology?

सामूहिक अचेतन, मनोचिकित्सक कार्ल जंग द्वारा पेश किया गया शब्द अचेतन के एक रूप का प्रतिनिधित्व करने के लिए (मन का वह हिस्सा जिसमें यादें और आवेग होते हैं जिसके बारे में व्यक्ति को पता नहीं होता है) मानव जाति के लिए सामान्य और मस्तिष्क की विरासत में मिली संरचना में उत्पन्न होता है.

Instincts and Archetypes

जंग के अनुसार Instincts and Archetypes हमें collective unconscious को express करने में हेल्प करते है. Archetypes को हम उन संकेत के रूप में समझ सकते है जो हमें जन्म से मिलते है और पूर्वजो द्वारा मिलते है. समय के साथ इनमे बदलाव आता है और ये कभी भी एक जैसे नहीं होते है. इसके कुछ उदाहरण आप यहाँ देख सकते है.

  • Birth
  • Death
  • Power
  • Rebirth
  • The anima
  • The child
  • The hero
  • The mother

जंग के अनुसार यहाँ पर सबसे अहम् रोल mother archetype निभाती है. हम अपने परिवार में रहने वाले लोगो को अहम् मानते है और वे बदलते नहीं है. लेकिन कुछ ऐसे भी Archetypes है जिनमे समय के साथ बदलाव आता है.

  • A garden
  • A plowed field
  • A spring or a well
  • Country
  • The church
  • The earth
  • The Mother of God
  • The sea
  • The woods

यहाँ पर सबसे ज्यादा हमें mother archetype प्रभावित करता है क्यों की ये Positive or negative दोनों ही aspect में हो सकता है.

पढ़े : prayogic tantra PDF Book Free download

कुछ अलग लेकिन प्रभावित किये जाने वाले मानक

Complex Beliefs: हमारे spirituality and religion को लेकर Deep-seated beliefs जिन्हें collective unconscious में सिर्फ कुछ हद तक ही समझा गया है. जंग को विश्वास था कि विश्व धर्मों की समानता और सार्वभौमिकता सामूहिक अचेतन की अभिव्यक्ति के रूप में धर्म की ओर इशारा करती है.

इसी तरह, नैतिकता, नैतिकता और निष्पक्षता या सही और गलत की अवधारणाओं को उसी तरह समझाया जा सकता है, जिसमें सामूहिक अचेतन आंशिक रूप से जिम्मेदार होता है.

भय : जंग ने सामूहिक अचेतन के अपने सिद्धांत का उपयोग यह समझाने के लिए किया कि बिना किसी स्पष्ट कारण के बच्चों और वयस्कों में भय और सामाजिक भय कैसे प्रकट हो सकते हैं. अंधेरे का डर, तेज आवाज, पुल, या रक्त सभी इस Collective Consciousness में निहित हो सकते हैं, जिसे विरासत में मिली आनुवंशिक विशेषता के रूप में प्रस्तावित किया गया है .

उदाहरण के लिए, एक अध्ययन में पाया गया कि छह साल की उम्र में एक तिहाई ब्रिटिश बच्चे सांपों से डरते हैं , हालांकि ब्रिटिश द्वीपों में सांप का सामना करना दुर्लभ है. बच्चे कभी भी इस तरह की traumatic situation में स्नेक का सामना नहीं किये है फिर भी ये उनके इस तरह का अनुभव बना हुआ है इसकी वजह उनका बिना experience किया हुआ डर था.

सपने : सपनों को सामूहिक अचेतन में महत्वपूर्ण अंतर्दृष्टि प्रदान करने के लिए सोचा गया था. जंग का मानना ​​​​था कि प्रतिनिधित्व किए गए कट्टरपंथियों के कारण, सपनों में विशिष्ट प्रतीक सार्वभौमिक हैं. दूसरे शब्दों में, समान प्रतीकों का अर्थ अलग-अलग लोगों के लिए समान चीजें हैं.

हालांकि, अपने समकालीन सिगमंड फ्रायड के विपरीत, जंग का मानना ​​​​था कि सपने अत्यधिक व्यक्तिगत होते हैं, और सपने की व्याख्या के लिए व्यक्तिगत सपने देखने वाले के बारे में बहुत कुछ जानने की आवश्यकता होती है. दूसरी ओर, फ्रायड ने अक्सर सुझाव दिया कि विशिष्ट प्रतीक विशिष्ट अचेतन विचारों का प्रतिनिधित्व करते हैं.

हमारे मन की दबी हुआ इच्छाए को जाहिर करने से भी ऊपर का काम सपने करते है. ये न सिर्फ हमारी अधूरी इच्छा को पूरा करने में मदद करते है बल्कि इनके जरिये हम उन fantasy को भी एक रूप देते है जो दैनिक जीवन में पूरी नहीं की जा सकती है.

पढ़े : How to Practice Telepathic Hypnosis at Home top 3 Types in Hindi

क्या ये एक वैज्ञानक थ्योरी है ?

ज्यादातर लोगो की तरह हमारे मन में ये सवाल आता है की क्या इसे वैज्ञानिक थ्योरी माना जा सकता है ? काफी समय से इस बात पर चर्चा और विवाद चलता आया है की collective unconscious को किसी तरह के literal or symbolic interpretation की जरुरत है ये विचारधारा के जरिये ही express किया जा सकता है.

Scientific grounding के अनुसार सामूहिक अचेतन की शाब्दिक व्याख्या को छद्म वैज्ञानिक सिद्धांत माना जाता है.

ऐसा इसलिए है क्योंकि वैज्ञानिक रूप से यह साबित करना मुश्किल है कि पौराणिक कथाओं और अन्य सांस्कृतिक प्रतीकों की छवियां विरासत में मिली हैं और जन्म के समय मौजूद हैं.

इसके बजाय, सामूहिक अचेतन की एक प्रतीकात्मक व्याख्या को कुछ वैज्ञानिक आधार माना जाता है क्योंकि इस विश्वास के कारण कि सभी मनुष्य कुछ व्यवहारिक स्वभाव साझा करते हैं.

What is personal unconscious and collective unconscious? final thought

जैसा की नाम से साफ़ है यहाँ पर जब हमारी consciousness को दूसरे के द्वारा दबाया जाता है तो वो personal unconscious होती है और Collective Consciousness वो है जिसे हम दूसरो के साथ शेयर करते है.

व्यक्तिगत चेतना सिर्फ एक व्यक्ति तक सिमित होती है लेकिन सामूहिक चेतना को फॉलो करने के लिए एक ग्रुप होता है. हमारे वो memories and emotions जिन्हें दूसरो ने ठुकरा दिया था या ठुकरा रहे है वो सिर्फ हम तक सिमित रह जाती है.

इसके ठीक विपरीत सामूहिक चेतना किसी एक व्यक्ति individual aspect से ली हुई नहीं होती है जिसकी वजह से एक ग्रुप उसे फॉलो करता है. एक उदाहरण के लिए हमारी वो यादे और एक्टिविटी जो हमें पूर्वजो से मिली है ये सब collective unconscious का हिस्सा है.

सामूहिक चेतना में वो सब विचार, अवधारणा शामिल है जो हमें दूसरो से जोडती है. ये दोनों ही एक दूसरे के विपरीत है.

Never miss an update subscribe us

* indicates required
Previous article100% Working Guaranteed Mahila or Pursh Vashikaran ke Upay In Hindi
Next articleHow to Chant Shreem Beej Mantra to Attract Money and wealth Hindi Guide
Nobody is perfect in this world but we can try to improve our knowledge and use it for others. welcome to my blog and learn new skill about personal | psychic | spiritual development. our team always ready to help you here. You can follow me on below platform

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here