Suicidal feelings and thoughts how to overcome this condition Hindi Guide

0
56

आमतौर पर हम अपनी emotion के जरिये कुछ भी हासिल कर सकते है लेकिन क्या हो अगर हमारे emotion इतने कमजोर हो जाए की हम suicide करने को मजबूर हो जाए. अगर आपके मन में ऐसे ही विचार आ रहे है तो इसका मतलब है की आपके मन में कुछ ऐसे emotion and thoughts है जो overwhelming and permanent बनते जा रहे है. जब आपके emotion, pain में बदल जाते है तब आपको Suicidal Feeling परेशान करने लगती है. Suicidal thoughts and feelings को overcome कर life को फिर से normal कैसे करे ये जानना हमारे लिए बेहद जरुरी बन जाता है.

हमने अपने पिछले आर्टिकल में आत्महत्या करने के पीछे की वजह के बारे में बात की थी. आज हम इतने प्रेशर के साथ लाइफ स्टाइल को जी रहे है की pressure और stress कब Suicidal thoughts and feelings में बदल जाता है पता ही नहीं चलता है. लाइफ में प्रेशर हर किसी के होता है लेकिन एक limit तक हम उसे overcome कर लेते है.

Suicidal feelings

limit cross होने के बाद यही emotional ऐसी feeling में बदल जाते है जो हमें ये अहसास करवाने लगते है की लाइफ meaningless हो चुकी है. धीरे धीरे हमारा Confidence down होने लगता है और हमारे मन में सिर्फ एक विचार रह जाता है हमारी लाइफ का अब कोई महत्त्व नहीं सिर्फ इसे ख़त्म करके ही सब problem से दूर हुआ जा सकता है.

आपके मन में इस तरह का ख्याल आने की वजह आपका मानसिक असंतुलन नहीं है बल्कि आपका बढ़ा हुआ दर्द है जिससे आप खुद की सुरक्षा नहीं कर पा रहे है. आइये जानते है इस बारे में और ज्यादा डिटेल से और बचाव के लिए उठाये जाने वाले स्टेप्स के बारे में.

What is Suicidal feelings and thoughts in Hindi

इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता है की आपके अन्दर कितना pain है क्यों की आज की लाइफ में हर कोई इस तरह की feeling से गुजर रहा है. हमारी लाइफ में कई ऐसे मोड़ आये है और आयेंगे जब हम हमें suicidal thoughts आये है. इस तरह का विचार आना हमारे character defect, crazy, or weak, or flawed की निशानी नहीं है बल्कि ये दर्शाता है की emotion हमारे प्रेशर को सहन करने की क्षमता से उपर जा चुके है.

कुछ समय और अपनों का सपोर्ट आपको अपने emotion को काबू करने में मदद कर सकता है जिसकी वजह से suicidal feelings से खुद का बचाव किया जा सकता है. ज्यादातर लोग जब हर तरफ से हताश हो जाते है और उनके पास कोई और रास्ता नहीं बचता है तब वे अपनी लाइफ को ख़त्म करने का सोचते है. इसकी वजह depression और हर तरफ से निराशा से भर जाना है.

अगर आपको लगता है की आपके चले जाने से किसी को कोई फर्क नहीं पड़ेगा तो आप गलत है. किसी न किसी को आपकी भी जरुरत है और ऐसे कई जगह और काम है जहाँ आप बदलाव ला सकते है तो सबसे पहले खुद को importance देना शुरू करे. हमेशा याद रखे की

  • आपके emotion कभी भी permanent / fixed नहीं होते है. कुछ भी करने से पहले खुद को जितना हो सके समय दे.
  • आपके ना होने से आपके करीबी और दोस्तों की लाइफ पर गहरा असर पड़ेगा.
  • ऐसी कई चीजे और मौके है जिन्हें आप अब भी हासिल कर सकते है.
  • ऐसे कई sights, sounds, and experiences है जिन्हें लाइफ में हासिल करना अब भी बाकि है.
  • आपके pleasurable emotions को enjoy करने की क्षमता और distressing emotions को experience करना दोनों ही एक जैसी क्षमता रखते है.

Why do I feel suicidal?

ऐसे काफी सारे emotional pain है जो thoughts of suicide की वजह बनते है. हर व्यक्ति के अन्दर आने वाले विचार और उनसे बचने के तरीके व्यक्ति से व्यक्ति में अलग होते है. वैसे कुछ ऐसे Common reason है जो experience suicidal thoughts and feelings की वजह बनते है.

suicide करना ही last option क्यों बचता है ?

अगर आपको sucide करने के अलावा कोई और solution नहीं मिल रहा है तो इसका ये मतलब नहीं है की कोई और solution है ही नहीं. इसकी वजह है आपका इतना ज्यादा परेशान होना की आपको कोई और समाधान दिखे ही नहीं. कई बार intense emotional pain इतना ज्यादा बढ़ जाता है की ये आपके सोचने की क्षमता को प्रभावित करता है.

जब आपके सोचने समझने की क्षमता प्रभावित होती है तो आप ना तो ठीक से न तो सोच पाते है ना ही उन लोगो की सहायता ले सकते है जो आपकी हेल्प और सपोर्ट कर सकते है. Therapists, counselors, friends, or loved ones आपकी Suicidal feeling से बचने में हेल्प कर सकते है इसलिए अगर वो आपकी मदद करना चाह रहे है तो उन्हें ऐसा करने दीजिये.

A suicidal crisis is almost always temporary

हमें लगता है की pain and unhappiness कभी ख़त्म नही होने वाले है लेकिन वास्तव में ये सब कुछ समय के लिए ही होता है. solution निकाले जा सकते है, feeling को change किया जा सकता है और unexpected positive event कभी भी आ सकता है. आत्महत्या करना हमारी सभी temporary problem का permanent solution होता है.

अपने आप को समय दे ताकि आप जरुरी चीजो को सही कर सके और दर्द को दूर कर सके. आपका दिया हुआ कुछ समय आपके सभी Suicidal feelings and thoughts को दूर करने में हेल्प कर सकता है.

हर problem का एक solution जरुर होता है

कई बार हमें लगता है की हमारी problem इतनी बढ़ गई है की अब हम hopeless हो चुके है. आपको मालूम होना चाहिए की उन problem का भी जिसमे हम उम्मीद छोड़ देते है कोई न कोई solution जरुर होता है. जरुरत है तो कुछ समय खुद को देने की ताकि हम उसे देख और समझ सके.

कई तरह की Mental health conditions जैसे की depression, schizophrenia, and bipolar disorder जैसी problem को हम अपने lifestyle therapy, and medication में बदलाव कर सही कर सकते है.

अगर आपने इसके लिए पहले भी प्रयास किये है तो अलग अलग approaches को try करना होगा जब तक की सही समाधान ना मिल जाए. हम कई बार कोशिश करते है लेकिन रिजल्ट मनचाहे नहीं निकलते है तो इसके लिए उम्मीद ना छोड़े बल्कि अपने तरीको में बदलाव करते रहे ताकि सही solution निकल कर सामने आये और रिजल्ट आपका मनचाहा हो.

अगर आपको पता चल जाता है की Suicidal feeling की problem को कैसे face करना है तो निचे शेयर किये जाने वाले स्टेप और एक्शन लेकर आप इससे बचाव कर सकते है.

समस्या का पता चलने पर तुरंत इन एक्शन पर काम करना शुरू कर दे

ऐसे 5 एक्शन है जिन्हें आप इस दौरान कर सकते है.

  • तुरंत कुछ ना करे बल्कि खुद को समय जितना दे सकते है देने की कोशिश करे : चाहे कितनी भी तकलीफ में हो लेकिन आपके thought और action के बीच जितना हो सके distance को बनाए रखने की कोशिश करे. जितना ज्यादा हो सके तुरंत किसी एक्शन पर काम करने से बचे. याद रखे Thoughts and actions ये दोनों अलग अलग स्थिति है.

Suicidal thoughts को कभी भी reality ना बनने दे. इसके लिए ना तो कोई deadline होती है ना की कोई आपको फ़ोर्स कर सकता है. जितना हो सकता है suicidal thoughts and suicidal action दोनों के बीच distance को बनाए रखे.

  • Avoid drugs and alcohol: ज्यादातर लोगो का मानना है की नशा हमें गम को भुलाने में मदद करता है लेकिन हकीकत तो ये है की अगर आप तनाव से भरे है और उम्मीद छोड़ चुके है तो ऐसे में drugs and alcohol का इस्तेमाल करना आपके अन्दर के Suicidal feelings and thoughts को और भी ज्यादा strong बना देता है. जब भी तनाव जैसी स्थिति में हो इसका use करने से बचे.
  • अपने घर को सुरक्षित बनाए : ऐसी चीजो से खुद को दूर कर ले जो आपको harm पहुंचा सकती है. अगर आप घर से इन चीजो को दूर नहीं कर सकते है तो ऐसी जगह या लोगो के बीच चले जाए जहाँ आप खुद को safe feel कर सके.
  • ऐसी feeling को सिर्फ अपने तक सिमित ना रखे : अगर गौर करे तो coping with suicidal thoughts and feelings की first step है इस तरह के विचारो को अपने अन्दर दबाए ना रखना. जिन लोगो पर आप ट्रस्ट करते है उनके साथ अपने विचारो को शेयर करे जिसकी वजह से आपके अन्दर आत्महत्या करने के विचार आ रहे है या फिर आपके पास इसके अलावा कोई और option ही नहीं है.

दोस्तों के साथ अपने emotion and feeling को share करना आपके लिए उन solution को create करता है जो आप खुद सोच नहीं पाते है.

  • Take hope – people DO get through this: कभी भी उम्मीद ना छोड़े क्यों की उन लोगो ने भी खुद को survive करने के लिए उम्मीदे कायम रखी है जिनके मन आपकी तरह ही Negative and hopeless thoughts भरे हुए थे.

अपनी उम्मीदों के सहारे अच्छे समय तक पहुँचना आपके लिए सही मौका साबित हो सकता है. इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता है की आप कितने self-loathing, hopelessness, or isolation से भरे हुए है आपकी उम्मीद आपके लिए हर problem का solution निकाल ही लेगी.

खुद को जितना हो सके समय दे और हर चीज को खुद से सही करने की कोशिश ना करे. दोस्तों की मदद ले ताकि आपको सपोर्ट मिले और जितना जल्दी हो सके आप Suicidal feeling and thoughts से बाहर निकल सके.

दूसरो से मदद कैसे ले सकते है

इस तरह की कंडीशन में हमारे आसपास ऐसे कई लोग होते है जो हमारी मदद कर सकते है. अगर आपने खुद से promise किया है की आप कम से कम 1 हफ्ते तक रुकेंगे तो किसी ऐसे व्यक्ति की तलाश करे जिस पर आप सबसे ज्यादा भरोसा करते है. उसे अपने दिल की सारी बाते बताये और उनकी राय ले की इस समय आपको क्या करना चाहिए.

How to talk to someone about your Suicidal feeling

वास्तव में ये इतना आसान नहीं है यहाँ तक की आप सोच चुके हो की किस पर भरोसा करते है और किसे बताना है बावजूद इसके अपने suicidal thoughts को दूसरो के साथ शेयर करना इतना आसान नहीं है. ऐसे में उन्हें बताये की सही सही आपके दिमाग में क्या चल रहा है और किस तरह का suicide plan आप कर रहे है.

अगर आप किसी को बता नहीं पा रहे है तो किसी पेपर पर लिखकर भी आप अपने नजदीकी व्यक्ति को दे सकते है. आप चाहे तो email message या किसी भी और माध्यम से अपने दिल की बात दूसरो तक पहुंचा सकते है. अगर पहला व्यक्ति जिसे आप बताना चाह रहे है वो आपकी बात समझ नहीं पा रहा है तो टेंशन ना ले और किसी और व्यक्ति को बताने की कोशिश करे.

पढ़े : Suicidal feelings and thoughts how to overcome this condition Hindi Guide

How to cope with suicidal thoughts

हमेशा ध्यान रखे की suicidal thoughts and feelings कभी ख़त्म नहीं होने वाले कंडीशन है लेकिन इसका मतलब ये नहीं की ये permanent condition है. हम खुद को बेहतर बना सकते है यहाँ तक की कुछ बाते है जिन्हें ध्यान में रखे तो हम इससे बाहर निकल सकते है.

अगर आपके मन में suicidal feelings and thoughts आ रहे है तो निम्न बातो का ख्याल रखे

  • किसी व्यक्ति को हर रोज अपने मन की बात बताये और कोशिश करे की आप ये सब मिलकर उन्हें ये सब बताए. आप अपने किसी करीबी दोस्त को अपने साथ टाइम spend करने के लिए पूछ सकते है.
  • ऐसा कोई प्लान बनाए जिससे suicidal crisis से बाहर निकलने में मदद मिल सके. इसमें आप अपने करीबी दोस्त का नंबर save कर सकते है जिन्हें आप emergency के दौरान सबसे पहले बुला सके.
  • अपने schedule को fix करे ताकि आपका समय ज्यादा से ज्यादा busy रहे और आपको कम से कम समय मिल सके. आत्महत्या करने के विचार आपको तभी परेशान करते है जब आप अकेले पड़ जाते है. जितना ज्यादा आप खुद के और दूसरो के साथ busy रहेंगे उतना ही आपका मन बाहरी चीजो में लगा रहेगा.
  • अपने दिन का एक छोटा सा हिस्सा जैसे की 30 मिनट का समय प्रकृति के साथ बिताने की कोशिश करे. इससे आपको Suicidal feeling से बचने में काफी हद तक हेल्प मिलती है.
  • हर रोज कुछ समय एक्सरसाइज के लिए निकाले. शरीर और मन दोनों को एक्सरसाइज के जरिये develop करे ताकि आप खुद को स्ट्रोंग कर सके.
  • उन चीजो पर ज्यादा focus करे जिनसे आपको ख़ुशी मिलती है.
  • अपने personal goals को हमेशा याद रखे और उन पर काम करे. ये कुछ भी हो सकता है जैसे की कही घूमना, बुक पढना या कुछ भी अलग करना जिसे आप करना चाहते है.

Suicidal feelings and thoughts के दौरान क्या करने से बचे

अगर आपकी मानसिक स्थिति कमजोर है और बार बार ऐसे thought आपके ऊपर हावी हो रहे है तो आपको कुछ चीजे करने से बचना होगा जैसे की

  • अकले रहने से बचे क्यों की जब आप अकेले होते है तभी ये feeling ज्यादा हावी होने की कोशिश करती है.
  • अगर आप इस तरह की स्थिति से गुजर रहे है तो किसी भी तरह के नशे से बचे.
  • ऐसी activity न करे जो आपको अवसाद की ओर ले जाए जैसे की sad music सुनना, पीछे के फोटो को देखना, पुराने ख़त पढना या अपने past में की गई गलतियों को याद करना.
  • Thinking about suicide and other negative thoughts कई बार ऐसा होता है की हम खुद को अकेला कर लेते है और जब कभी मन दुखी होता है तब हम negative think को बार बार दोहराते जाते है जिसकी वजह से मन दुखी होता जाता है.

इस तरह की स्थिति में खुद को ऐसे suicidal thoughts से जितना हो सके distract करने की कोशिश करे ताकि कुछ समय के लिए ही सही आप पर ये सोच हावी ना हो सके.

Recovering from suicidal thoughts

आत्म-हत्या करने का विचार बार बार मन में आना आपके अन्दर के छिपे हुए दर्द को दर्शाता है जिसे अनुभव करना किसी traumatizing experience के बराबर है. अगर आप बार बार इस तरह की स्थिति से घिर रहे है तो इस तरह की स्थिति में आपको कुछ बातो का ध्यान रखना चाहिए ताकि Suicidal feelings and thoughts की कंडीशन से बाहर आया जा सके.

हालाँकि इससे रिकवर होने में समय लगता है लेकिन अगर आपने किसी ऐसे व्यक्ति को ढूंढ लिया है जो आपको समझे तो आपको काफी हद तक हेल्प मिल जाती है. ऐसी कुछ बाते है जिनका ख्याल रखकर आप इससे बाहर निकल सकते है. आपको बस 5 steps to recovery को ध्यान में रखना होगा जैसे की

  • उस वजह का पता लगाना जिसकी वजह से Suicidal feeling जैसी स्थिति बन रही है : आपके मन Suicidal thoughts आ रहे है उसकी वजह क्या है ? किसी तरह का नुकसान, लाइफ में बार बार फ़ैल होते जाना या फिर जरुरत से ज्यादा तनाव ऐसी क्या वजह है जो आप इस तरह का फैसला लेने को मजबूर हो रहे है.
  • अपना ख्याल रखना शुरू कर दे : सुनकर अजीब लगेगा लेकिन अगर आप अपने आप को समय देना शुरू कर दे तो आपको ख़ुश रहने से कोई नहीं रोक सकता है. आज के lifestyle में हम सब करते है लेकिन खुद के लिए थोडा सा भी समय नहीं निकाल पा रहे है जिसकी वजह से ये स्थिति बनती जा रही है.
  • अपने आसपास support network को जितना हो सके मजबूत करे ताकि आपको हमेशा उनका सपोर्ट मिलता रहे और जल्दी ही आप Suicidal feeling की स्थिति से बाहर निकल सके. जितना ज्यादा आपके आसपास का माहौल पॉजिटिव होगा उतना ही आप खुद को स्ट्रोंग बना पाएंगे.
  • Develop new activities and interests: हमेशा एक तरह का रूटीन और schedule अपनाकर कर हम खुद को बोरिंग बना लेते है. इससे बाहर निकले और एक समय के बाद नयी activity करे ताकि आपको sense of meaning and purpose मिलता रहे और आप खुद को और आगे ले जाने को लेकर प्रेरित रहे.
  • Deal with stress in a healthy way हमें तनाव का सामना किस तरह करना है इसे सीखना होगा. Stress management में हमने इसके बारे में काफी डिटेल से बताया है. इससे आपको अपने तनाव के दौरान कैसे react करना है और कैसे इससे बाहर निकलना है इन सबके बारे में सही नॉलेज मिलती है.

अगर आप इन्हें step by step follow करते है तो जल्दी ही आप Suicidal feelings and thoughts से खुद को recover कर लेते है.

How to deal with Suicidal feelings and thoughts in healthy way final word

अगर आप अवसाद की स्थिति से गुजर रहे है और इससे बाहर आना चाहते है तो कई तरह की activity जैसे की exercising, meditating, sensory strategies to relax, practicing simple breathing exercises, and challenging self-defeating thoughts इसमें आपकी हेल्प कर सकती है. ये सब ऐसे अभ्यास है जो आपको अन्दर से motivate करते है और ऐसी हर कंडीशन से बचाते है जो आपको depress करती है.

दूसरो शब्दों में कहे तो Suicidal feelings and thoughts की सबसे बड़ी वजह आपका अकेलापन, खुद के बारे में ज्यादा से ज्यादा नेगेटिव बनना है. अगर आप इन दोनों स्थिति को recover कर लेते है तो किसी भी तरह की depression से बाहर निकल सकते है. अगर आपके मन में कभी भी इस तरह का ख्याल आया है तो कमेंट करके हमें बताना ना भूले की आपने इससे बाहर निकलने में किस तरह के तरीके अपनाए.

Never miss an update subscribe us

* indicates required
Previous articlesound bath meditation How to practice at home simple Guide
Next articleTibetan singing bowls how to use, benefit and hidden risk in Hindi
Nobody is perfect in this world but we can try to improve our knowledge and use it for others. welcome to my blog and learn new skill about personal | psychic | spiritual development. our team always ready to help you here. You can follow me on below platform

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here