Top 5 Reiki principles that help to learn Reiki easily Hindi Guide

1
174

Mikao Usui जिन्हें Reiki spiritual practice का Founder भी कहा जाता है ने इसके लिए top 5 Reiki principles की स्थापना की थी. इन सिद्धांत का मकसद आपको healthier and happier life जीने में मदद करना था. Reiki level 1 के अभ्यास में आपकी शुरुआत इन्ही 5 सिद्धांत के साथ होती है. रैकी के अलावा इसका मकसद आपकी लाइफ को आसान और चिंतामुक्त बनाना है साथ ही दूसरो के साथ आपके relationship को strong करना है.

अगर नोटिस करे तो पाएंगे की इनमे से कुछ सिद्धांत दूसरो की तुलना में आसान है और डेली लाइफ में आसानी से अपनाए जा सकते है. किसी भी तरह के negative thoughts, emotion से खुद को दूर रखते हुए दिनभर खुद को positive बनाए रखने के लिए जरुरी है की आप वर्तमान में बने रहे इसलिए, इसके अभ्यास में mindful meditation practice का अभ्यास करना आपके अभ्यास को न सिर्फ आसान बना देता है बल्कि कई तरह की problem से दूर भी रखता है.

Reiki principles

reiki practice as a beginner level के लिए आपका इन 5 सिद्धांत को फॉलो करना आवश्यक है. अगर इन्हें डेली लाइफ का हिस्सा बना लिया जाए तो न सिर्फ अभ्यास के लिए आसानी रहती है बल्कि आप दिनभर में भी आप खुद को बेहतर महसूस करने लगते है. अगर आपको गुस्सा आ रहा है तो इसकी वजह बाहरी चीजो में तलाशने की बजाय अपने अन्दर के उस feeling को पहचाने जो इसे trigger कर रहा है.

आइये जानते है रैकी के अभ्यास के लिए जरुरी और शुरुआती 5 सिद्धांत के बारे में जो अभ्यास में सफलता के लिए आवश्यक है.

What are the Reiki principles?

The philosophy of Reiki को 5 main principle के जरिये समझा जा सकता है. इसके जरिये आप Reiki energy को healing and balancing करना सीखते है. अगर Reiki practice के दौरान इसका ध्यान रखा जाए तो अभ्यास को सीखने में आसानी होती है साथ ही अभ्यास को परफेक्ट बनाया जा सकता है.

ये 5 principle निम्न है.

  • release angry thoughts
  • release thoughts of worry
  • I’m grateful
  • expand my consciousness
  • gentle with all beings

अगर हर रोज अभ्यास की शुरुआत इन 5 सिद्धांत के साथ की जाए तो सफलता मिलती है.

  1. Just for today, I release angry thoughts

दिन में कई बार हम ऐसी स्थिति से गुजरते है जब गुस्सा आ जाता है. इसकी वजह कोई भी हो सकती है फिर चाहे वो घर की हो, ऑफिस की हो या फिर कोई और कंडीशन और गुस्से जैसे इमोशन आ ही जाते है. लेकिन आपको ये जान कर हैरानी होगी की Reiki principles के अनुसार हमारे गुस्से का किसी भी बाहरी कंडीशन से कोई connection नहीं है.

हमारा गुस्सा या ऐसा कोई भी इमोशन हमारे अन्दर की feeling या किसी thoughts से ही जुड़ा हुआ है. अगर हमारे अन्दर गुस्सा है तो इसका मतलब हमारे अन्दर Angry energy पहले से मौजूद है. body के अन्दर की energy किसी भी इमोशन से ट्रिगर हो सकती है जिसकी वजह से हम उसी तरह रिएक्शन देने लगते है.

एक सिंपल सा उदाहरण लेते है. आपको गुस्सा क्यों आता है ?

क्या इसकी वजह ये नहीं की कोई ओर व्यक्ति वो काम करता है जो हमें पसंद नही. या फिर कोई काम हमारे मन मुताबिक नहीं हो पाता है. अगर इसकी वजह ये है तो उस feeling की पहचान करे की क्या वाकई ऐसा करना जरुरी है. हम किसी ओर व्यक्ति को अपने मन के मुताबिक चलने के लिए मजबूर नहीं कर सकते है. अगर आपको किसी और का काम पसंद नहीं है तो उस पर गुस्सा दिखाने की बजाय खुद उस काम को करे.

ऐसा करने से आपको अपने गुस्से को बाहर निकालने की वजह ही नहीं मिलेगी.

इस Reiki principles के अनुसार हमें इस Anger feeling or energy को release करना है. अपने अन्दर के उस feeling को पहचाने जो आपके anger को trigger करती है. उसे release करे ताकि उसकी जगह happiness ले सके.

  1. Release thoughts of worry

ज्यादातर लोग भविष्य की उन घटनाओं को लेकर परेशान रहते है जो अभी तक हुई भी नहीं है. ज्यादातर इस तरह की चिंता external source से ही मिलती है. हमारी energy किसी भी इमोशन पर अगर फोकस होती है तो वो उसका रूप लेती है जैसे की चिंता करने, ज्यादा सोचने पर energy अपने आप worry energy में transform हो जाती है.

ये energy बार बार trigger होती रहती है और waste होने के साथ साथ हमे distract करती रहती है. ज्यादातर हमारी सोच भविष्य में होने वाली इवेंट से जुडी होती है और इसमें लगभग सोच Negative emotion पैदा करती है क्यों की हम रिजल्ट की चिंता में खुद को positive बनाए रख सके ऐसा बहुत कम देखने को मिलता है.

इसका सबसे सही समाधान वर्तमान में रहना है और उसे बेहतर करना है. भविष्य में हमारे साथ क्या होगा, क्या मिलेगा या फिर क्या करेंगे ये निर्भर करता है हम आज क्या कर रहे है इसलिए, बैठे बैठे भविष्य को लेकर परेशान रहने की बजाय अपने आज को बेहतर बनाने पर ध्यान दे. Mindfulness meditation का अभ्यास करना Reiki principles में इसके लिए बेहतर विकल्प है.

पढ़े : कनक परी वशीकरण सिद्धि साधना एक सरल और कम समय की साधना

  1. Just for today, I’m grateful

अगर खुद को ज्यादा से ज्यादा positive बनाए रखना है तो उन चीजो पर ध्यान दे जो आपके पास है और जिनकी वजह से आप अच्छे लाइफ को एन्जॉय कर रहे है. हमारे पास क्या है उसे सोचकर संतुष्ट रहने की बजाय क्या नहीं है ये सोच कर परेशान होना हमारे लिए problem create करता है. जो हमारे पास है उसे लेकर grateful रहना और god को उसके लिए gratitude देना हमें ख़ुशी देता है.

जब हम ऐसा करते है तो Positive vibes, energy recreate होती है और हम ज्यादा से ज्यादा हैप्पी रहते है.

  1. I expand my consciousness

किसी भी मानसिक अभ्यास को करने के लिए आपका वर्तमान में रहना बेहद जरुरी है. इसके लिए Mindfulness meditation practice करना compulsory है. ये अभ्यास हमें न सिर्फ Present moment में रखता है बल्कि हम क्या कर रहे है, क्या अनुभव हो रहे है इसको लेकर हमारी Conscious को expand करता है ताकि अनुभव को वर्तमान स्तर पर अनुभव करने के साथ साथ एकाग्र रहा जा सके.

किसी भी Reiki, trataka gazing meditation, spiritual practice के दौरान सबसे ज्यादा problem हमारी concentration को लेकर आती है. Mindfulness practice हमें वर्तमान में रहते हुए जो हमारे आसपास हो रहा है उस पर फोकस करने में मदद करता है जिसकी वजह से सबसे बड़ा फायदा हमारे Consciousness को लेकर होता है. spiritual practice में ये Reiki principles सबसे अहम् माना जाता है.

परेशान करने वाले Unwanted intrusive negative thoughts को आने से रोकता है और हम सिर्फ वर्तमान में होने वाली एक्टिविटी पर खुद को फोकस करते है जिसकी वजह से आसपास हो रही घटनाओं को micro level पर विश्लेषण करना शुरू कर देते है. इन सबसे हमें चेतना को मजबूत करने में मदद मिलती है.

  1. I’m gentle with all beings

न सिर्फ खुद के साथ बल्कि दूसरो के साथ भी जेंटल बने रहना हमें ज्यादा से ज्यादा Positive energy recieve करने में मदद करता है. आपकी spiritual health को बनाए रखने के लिए जरुरी है की आप खुद को साथ जेंटल बने रहे. आपके व्यवहार में जितनी नम्रता रहेगी आप दूसरो के साथ जुड़ाव को उतना ही बेहतर महसूस करने लगते है. यही आपके खुद के साथ लागू होता है.

जितना हो सके खुद को calm, grateful और नम्र बनाने की कोशिश करे. किसी भी positive energy को recieve and return करने के लिए आपका ऐसा होना बहुत जरुरी है.

डेली लाइफ में इन Reiki principles को कैसे लागू करे ?

अपने दिनभर की गतिविधि में आप इसका इस्तेमाल अपने thoughts and actions को गाइड करने के लिए कर सकते है. Reiki practitioner’s के अनुसार अपने spiritual and personal growth को मजबूत करने और दूसरो के साथ जुड़ाव को बेहतर बनाने के लिए ये 5 सिद्धांत आपकी डेली लाइफ का हिस्सा बने इसका ध्यान रखे.

अपने दिनभर की गतिविधि की शुरुआत आप इस तरह कर सकते है जैसे की

  • अपने इमोशन की पहचान करे जैसे की गुस्से को बाहर निकालना आपके अपने इमोशन के साथ connection को strong करने में मदद करता है.
  • सुबह उठने के बाद अपने past की उन event को सोचे जिनमे आपने anger को experience किया था. इसकी वजह क्या रही होगी ? क्या ये लास्ट आप्शन था या फिर इसे हैंडल कैसे किया जा सकता था इन सबके बारे में सोचे.
  • भविष्य की घटनाओं को लेकर ज्यादा सोचते है तो खुद के लिए कुछ समय निकाले और अपने बीते कल की घटनाओं के बारे में सोचे जिन्हें लेकर आपने बहुत चिंता जाहिर की थी. क्या वो जायज थी या फिर वैसा ही हुआ जैसा आप सोच रहे थे. अक्सर ऐसा होता है की हम किसी भी काम को लेकर बहुत ज्यादा चिंता करने लगते है जबकि इसकी जरूरत ही नहीं थी. सबकुछ नार्मल होता है.
  • दिनभर में उन लोगो को थैंक कहना ना भूले जो आपकी हेल्प करते है. हम हर रोज अपने आसपास उन लोगो को पाते है जो हमारे लिए चिंता करते है. अगर आप ऐसे लोगो से मिलते है तो उन लोगो के प्रति अपने Gratitude को जाहिर करे. ये न सिर्फ आप दोनों के बीच के रिश्ते को मजबूत करता है बल्कि energy transformation को भी आसान बनाता है.
  • अपने खुद की Consciousness की पहचान करे. इसके लिए खुद को वर्तमान मे रखना, मैडिटेशन का अभ्यास करना और लोगो के प्रति सम्मान को जाहिर करना जैसी गतिविधि कर सकते है.
  • किसी भी परिस्थिति में दूसरो के साथ गलत व्यवहार न करना और जुड़ाव को मजबूत करने से जुड़ी गतिविधि को करना आपके अन्दर की emotional attunement को strong बनाता है.

ये सभी Reiki principles सुनने में जितने आसान लग रहे है इनका प्रभाव उतना ही गहरा पड़ता है. Reiki practice के लिए हमारा energy को feel करना जरुरी है और इसके लिए हम खुद को ज्यादा से ज्यादा sensitive बनाते है. ये हमें दूसरो से जुड़ने उनके इमोशन को फील करने और heal करने में मदद करता है.

How these 5 Reiki principles help us in daily life

ऊपर जिन का यहाँ जिक्र हुआ है उन सबका उदेश्य आपके Reiki energy की natural healing capacity को improve करना है. किसी भी तरह की energy को experience करने और काम करने के लिए आपका उसके प्रति sensitive बने रहना जरुरी है.

ये तभी हो सकता है जब आप Mindful बने रहे. इनका महत्त्व सिर्फ रैकी ही नहीं हमारी डेली लाइफ में भी है क्यों की ये हमें अनचाहे विचारो से बचाता है जिसकी वजह से mental and spiritual health पर positive effect देखने को मिलता है.

अगर आप Reiki attunement का अभ्यास कर रहे है और energy को experience करने में सफल नहीं हो पा रहे है तो इसका अभ्यास करे. किसी भी Spiritual practice के लिए ये बेहद जरुरी है की हमें emotion and feeling को लेकर conscious बने रहे. अगर इस आर्टिकल को लेकर किसी तरह की Query है तो हमें कमेंट में पूछना ना भूले.

Never miss an update subscribe us

* indicates required
Previous articleTibetan singing bowls how to use, benefit and hidden risk in Hindi
Next articleHow to Develop Skills and Build Competencies with Hypnosis and NLP
Nobody is perfect in this world but we can try to improve our knowledge and use it for others. welcome to my blog and learn new skill about personal | psychic | spiritual development. our team always ready to help you here. You can follow me on below platform

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here