पिरामिड में ध्यान लगाने के इन फायदों को जानकार आप हैरान हो जाओगे – प्राण उर्जा अभ्यास

2

ध्यान लगाने की हजारो विधिया है और इन सबके अपने फायदे है. अगर बात की जाए उच्च स्तर के अनुभव वाले ध्यान प्रणाली की तो pyramid meditation इनमे से एक है. पिरामिड में ध्यान क्या लगाना चाहिए और इसके फायदे क्या है ये आज हम जानने वाले है. amazing benefit and use in medical science to cure problem and diseases in hindi ध्यान द्वारा उन प्रॉब्लम से छुटकारा पाया जा सकता है जो हमें मानसिक रूप से परेशान करती है. अगर आप खुद को प्राण शक्ति यानि life force से भरपूर बनाना चाहते है तो आपको पिरामिड में ध्यान जरुर लगाना चाहिए.

pyramid meditation

पिरामिड ध्यान एकसरलतम और प्राण शक्ति से प्रचुर बनाने वाला अभ्यास है। इसमें ध्यान लगाने से प्राण शक्ति का क्षय रुकता है और हम खुद को ज्यादा से ज्यादा से प्राणवान महसूस करते है। अगर हमें आलस रहता है या फिर किसी काम में रूचि कम रहती है तो हमें पिरामिड ध्यान अवश्य करना चाहिए। इसके लिए हम घर पर ही पिरामिड का निर्माण कर सकते है। ये किस चीज का ये मायने नहीं रखता है। इसके लिए डिग्री, कोण और उसकी स्थिति मायने रखती है।

  1. सुखासन / पद्मासन में लगाया गया ध्यान
  2. आनापानसति ध्यान
  3. सवासन में लगाया गया ध्यान
  4. पिरामिड ध्यान
  5. भ्रकुटी ध्यान

त्राटक ध्यान का एक अंग है क्यों की इसका कार्य ध्यान की तरह ही है. आज बात करते है

pyramid meditation – पिरामिड में ध्यान

पिरामिड में ध्यान लगाने के लिए आपके पास पिरामिड की shape का डिज़ाइन होना चाहिए जिसे आप लकड़ी, धातु या फिर कारीगर द्वारा बनवा सकते है. पिरामिड का कोण 52 डिग्री के आसपास होता है और ये सरंचना आपको प्राण ऊर्जा एकत्रित करने में सहायक है. इस तरह की सरंचना का महत्त्व आप वास्तु-शास्त्र की किताब में देख सकते है. आप महसूस कर सकते है कुछ जगह ऐसी होती है जहां पर आपको सुकून मिलता है.

कुछ जगह जाते ही आपका मस्तिष्क विचारशून्य होकर ध्यान की स्थिति में आ जाता है. ये सब उस जगह के निर्माण पर निर्भर करता है. इसलिए पिरामिड इतना बड़ा होना चाहिए की आप की ऊंचाई से थोड़ा सा ऊपर ही रहे ताकि जब ध्यान लगाने बैठे तब उसमे cosmic energy का flow बढ़ा हुआ हो. और सीधा आपके मस्तिष्क पर इसका असर हो. ये आपको ध्यान में जल्दी पहुँचाने का कार्य करता है. ध्यान के लिए सुखासन और वज्रासन की मुद्रा का इस्तेमाल कर सकते है।

पिरामिड की सरंचना और इसका महत्व क्या है :

पिरामिड की सरंचना और मिश्र के इतिहास में काफी गहरा सम्बन्ध है दूसरा इसका निर्माण वास्तु शास्त्र के नियम पर आधारित है. मिश्र से जुडी दो बाते है जो पुरे विश्व में प्रशिद्ध है। पहला इसके पिरामिड जो इतने बड़े होते थे और इस तरह बने थे की इनका निर्माण आज भी एक रहस्य है क्यों की गुरुत्वाकर्षण के नियम के अनुसार ये संभव नहीं था।

मिश्र और ममी का रहस्य

दूसरा मिश्र के राजा की ममी जो उनके मौत के बाद शरीर को सुरक्षित करने के लिए बनाकर रखी जाती थी. उनका मानना था की एक दिन ये ममी जीवित होगी उनका विश्वास सूर्य से आने वाली प्राण शक्ति पर था जिसे STORE करने के लिए वो इस तरह की सरंचना का निर्माण करवाते थे. ये पिरामिड प्राणदायी शक्ति के STORE HOUSE के सबसे बड़े स्रोत थे. इसी वजह से पिरामिड की सरंचना को महत्त्व दिया जाता है क्यों की ये हमें एक माध्यम उपलब्ध करवाती है जल्दी ध्यान में उतरने का दूसरा ये हमें प्राणदायी ऊर्जा को ज्यादा से ज्यादा मात्रा में सोखने का अवसर देती है.

अगर आपको दोगुना जल्दी RESULT चाहिए तो आप पिरामिड के नुकीले सिरे पर CRYSTAL लगवा सकते है. इससे प्राण शक्ति एक जगह पर केंद्रित होना शुरू हो जाती है जो सीधे आपके मस्तिष्क पर असर करती है और अवचेतन मस्तिष्क को जल्दी जाग्रत करती है दूसरा आपको स्वस्थ बनाती है.

स्थिति

पिरामिड में ध्यान लगाने के लिए सबसे पहले सीधे बैठ जाये अपनी रीढ़ को सीधा कीजिये और अपनी मुद्रा को सुखासन में लाइए बिलकुल तनाव रहित. आप चाहे तो ज्ञान मुद्रा ( गोद में दोनों हाथ LOCK ) करके बैठ जाइये. ध्यान का प्रभाव बढ़ाने के लिए आप ध्यान से जुड़े म्यूजिक लगा सकते है बिलकुल हल्की आवाज में अब सुखासन में बैठ कर सांसो को नियत करे और धीरे धीरे साँस की गति को शुन्य करने का प्रयत्न करे.

मन शांत होने की वजह से जल्दी ही आपकी सांसे कम होने लगती है. इसमें आगे विचारशून्य की स्थिति बनने लगती है. अंत में आपकी चेतना लुप्त होने लगती है और आप ब्रह्मांड में व्याप्त हो जाते है.

pyramid meditation कैसे करे :

पिरामिड में प्रवेश करने के बाद के बाद ध्यान रखे की आपके अंदर और इससे बाहर ऊर्जा के संचार होने न पाए इन दोनों के बिच किसी तरह का कोई कांटेक्ट न हो. आरामदायक आरामदायक स्थिति में आते ही शरीर तनाव रहित होने लगता है. आपका पूरा ध्यान सिर्फ सांसो पर केंद्रित होना चाहिए। जब आपकी साँस विचारशून्य अवस्था में चली जाती है तब आप ध्यान की गहराई में उतरने लगते है और विचारों का प्रवाह रुक जाने की वजह से आपके पुरे शरीर में प्राण शक्ति का प्रवाह होने लगता है।

pyramid meditation के क्या क्या फायदे है।

पिरामिड में ध्यान लगने के शारीरिक और मानसिक दोनों ही फायदे है आइए देखे ये फायदे क्या क्या है.

  • आँखों के देखने की क्षमता में वृद्धि होती है.
  • सुनने की क्षमता बढ़ती है .
  • रक्तचाप नियत्रित होता है इसकी वजह से उच्च रक्तचाप की समस्या दूर होती है.
  • अनिद्रा की समस्या दूर होती है. और पिरामिड में सोने से आपको अच्छी नीदं आती है दूसरा आपके मस्तिष्क की सक्रियता बढ़ जाती है क्यों की प्रचुर मात्रा में प्राणशक्ति सोखी जाती है.
  • पिरामिड ध्यान से रीढ़ की हड्डी की प्रॉब्लम दूर होती है और कमर दर्द में आराम मिलता है.
  • घाव भरने की हमारी रोग प्रतिरोध क्षमता में इजाफा होता है.
  • शरीर तेजस्वी बनता है शारीरिक सुंदरता बढ़ती है और अगर आप दवा को पिरामिड के अंदर रख कर इस्तेमाल करे तो असर दोगुना हो जाता है.
  • आप पिरामिड के अंदर पानी रख कर इस्तेमाल करे ये पानी ऊर्जा युक्त और हानिकारक तत्वों से रहित होगा पानी का प्राकृतिक शुद्धिकरण का ये तरीका बेमिशाल है.
  • अगर आपको सिरदर्द की बार बार शिकायत रहती है तो आप पिरामिड ध्यान द्वारा उससे छुटकारा पा सकते है.

पिरामिड ध्यान विद्यार्थी के जीवन में काफी महत्त्व रखता है ये उनकी यादाश्त तेज करता है जिससे उनकी स्मरण क्षमता बढ़ती है.
जिन्हे HARMON UNBALANCING की PROBLEM रहती है वो पिरामिड ध्यान द्वारा इससे छुटकारा पा सकते है।

pyramid meditation – amazing technique

ध्यान लगाने के अलग अलग तरीको में आपको अलग अलग फायदे मिलते है. अगर आप खुद को प्राण शक्ति से भरपूर बनाना चाहते है तो आपको पिरामिड में ध्यान जरुर लगाना चाहिए. मानसिक तनाव, अवसाद और थकान को दूर करने के लिए भी आप pyramid meditation कर सकते है, ये बेहद आसान और घर पर बनाये जा सकने वाले पिरामिड में बैठकर किया जा सकता है जरुरत है तो बस इसे अपने व्यावहारिक जीवन में उतारने की जरूरत मात्र है, हमें subscribe करना ना भूले।

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.