Ouija board’s mysterious origins आप इसके बारे में कितना जानते है ?

0

आप सब ने औइजा बोर्ड के बारे में तो सुना ही होगा एक बोर्ड जो ये दावा करता है की वो हमें आत्माओ से जोड़ सकता है. आज western culture इसे मनोरंजन और रोमांच के तौर पर करती रहती है. क्या आप Ouija board’s mysterious origins के बारे में कुछ जानते है की आखिर कैसे ये पोपुलर हुआ और अंत में sinister reputation के तौर पर जाना जाने लगा. इसके From parlor game to portal into hell बनने की एक लम्बी कहानी है जो आपको Ouija: Origin of Evil नाम की फिल्म के जरिये जानने को मिल जाएगी.

Ouija board's mysterious origins

इस फिल्म में साफ तौर पर ये बताया गया है की किस तरह काम के सिलसिले में परेशान होकर एक औरत इस बोर्ड के जरिये अपना पाखंड फैलाती है और दावा करती है की वो इसके जरिये आत्माओ से बात करती है. शुरू में उसके लिए ये काफी रोमांचक था क्यों की उसका धंधा काफी जोर से चल पड़ा था. अंत में मुश्किलें तब शुरू हुई जब अनजाने में ही उसकी बेटी ने इस खेल को शुरू कर लिया और तब portal into hell ने उनकी लाइफ को बर्बाद कर दिया.

शुरू शुरू में औइजा बोर्ड को पार्लर गेम के नाम से जाना जाता था जो की अक्सर पार्टी में मनोरंजन के तौर पर खेला जाता था लेकिन बाद में इसका नाम औइजा बोर्ड रखा गया. ऐसा माना गया था की ऐसा नाम खुद बोर्ड ने सुझाया था. आइये जानते है की कैसे मनोरंजन करने वाला एक बोर्ड लोगो के लिए Paranormal activity tool बन गया और इसकी Mysterious history क्या रही है.

Ouija board’s mysterious origins

आपने Ouija board के बारे में सुन ही रखा होगा जो आज के समय में ये दावा करता है की इसके जरिये connecting with spirits process को पूरा किया जा सकता है. ये एक ऐसा बोर्ड है जो हमे आत्माओ से जुड़ने में मदद करता है. लेकिन क्या आप ये जानते है की आज जिसे हम Paranormal activity summon tool की तरह काम में ले रहे है वो एक समय में मनोरंजन का एक साधन था.

20th century में Spiritualism’s की जगह Ouija board लोगो को बरगलाने की वजह बन गया था. उस समय Work of frauds काफी ज्यादा बढ़ गए थे क्यों की civil war के बाद spiritualism लोगो में काफी बढ़ गया था. इसकी एक वजह ये भी थी की उस समय सिविल वार के समय हर किसी ने कुछ न कुछ खोया था. ऐसे समय में हर कोई चाहता था की वो अपने बिछड़े से मिलने का एक मौका उसे मिले.

ऐसे समय में लोगो को peace of mind देने के लिए जो लोग spiritual path पर थे उन्होंने इस तरह के खेल का इजाद किया. आध्यात्म धीरे धीरे पैसो का एक खेल बन गया.

पढ़े : Ouija board planchette से जुड़ी खास बाते और theory आखिर ये काम कैसे करता है ?

इसका नाम Ouija board क्यों पड़ा

इस खेल का ये नाम rooming house in Baltimore की वजह से पड़ा था. वहां पर talking boards के नाम से इसे जाना जाता था और इसे औइजा बोर्ड का नाम Helen Peters ने दिया जो अपने brother-in-law Elijah Bond के साथ 1890 में इसका अभ्यास करती थी. हेलेन एक मीडियम थी और वो आत्माओ से बात करने का दावा करती थी. एक रात वो अभ्यास करते करते हुए बोर्ड से पूछती है की उसे इसका नाम रखना चाहिए लेकिन क्या ?

Ouija ऐसा उस बोर्ड ने कहा जिसका मतलब था गुड लक यानि वो लोगो की तक़दीर बदलने वाला एक माध्यम था. उन्होंने उसी समय उस बोर्ड को इस नाम से रजिस्टर करवा लिया लेकिन जल्दी ही William Fuld नाम के एक शख्स ने उसे एक बिज़नस की तरह इस्तेमाल करना शुरू कर दिया.

अब तक औइजा बोर्ड काफी पोपुलर हो चूका था और लोगो में इसका अच्छा खासा क्रेज था. यही वजह थी की ये International level पर लोगो में फ़ैल गया. इतना सब होने के बावजूद Ouija board’s mysterious origins पर किसी का ध्यान नहीं गया बल्कि सबको ये एक खेल की तरह लगा था.

अब इसे नाम मिला Ouija – The Magic Game यानि ये एक जादुई खेल बन चूका था. इस खेल में सबकुछ था जैसे की Remarkable, interesting, and mystifying game जिसे लोगो द्वारा काफी पसंद किया गया. समय के साथ ये इतना चलन में आ गया की अब इसे पार्टी में शामिल कर लिया गया. अनसुलझे सवालों के जवाब पाना और अपने अतीत वर्तमान और भविष्य से जुड़ी जानकारी हासिल करना इन सबकी वजह से ये काफी ज्यादा बढ़ गया.

हेलेन पीटर का क्या हुआ ?

जैसे जैसे बोर्ड की popularity बढती गई हर कोई चाहता था की लोग उसे उसके रोल के लिए जाने. ऐसी स्थिति में सिर्फ हेलेन ही थी जो ऐसा कुछ नहीं चाहती थी क्यों की इस खेल ने उसके परिवार को तबाह कर दिया था. इस खेल की वजह से उसकी फॅमिली को काफी नुकसान उठाना पड़ा था. जब कुछ civil war family heirlooms ( परिवार के सदस्य ) पीटर के घर से गायब होने लगे तो हेलेन ने उसे इसके बारे में पूछा.

जवाब में बोर्ड ने घर के एक मेम्बर की तरफ इशारा कर दिया. ये पहली बार था जब पीटर को ये खेल रहस्यमयी लगा. घर के आधे सदस्य इस पक्ष में थे की ये बोर्ड रहस्यमयी है और आधे लोग इसे बकवास मान रहे थे. जब तक हेलेन की मौत न हुई वो सबसे ये कहती रही की इस बोर्ड पर विश्वास मत करो ये कभी सच नही बोलता है.

पढ़े : Charlie Charlie Challenge Game – आत्माओ से बात करने के सबसे सरल माध्यम की सच्चाई और रिव्यु

The mysterious death of William Fuld

विलियम जिसने इस बोर्ड को एक बिज़नस की तरह पेश किया था उसकी खुद की कुछ Ouija-related family troubles चल रही थी. सन 1919 में उसने अपने भाई के हिस्से को बिज़नेस से अलग कर दिया और अकेला इन सबका मालिक बन गया था. वो एक साल बेहतर गुजरा क्यों की उस समय world war and a flu epidemic काफी ज्यादा बढ़ चुकी थी और लोग आसानी से अँधा विश्वास कर रहे थे.

1920 के एक आर्टिकल में the New York Times ने popularity of the Ouija board को bubble gum से compare किया था. इसके बाद 1927 में एक आर्टिकल में ये दावा किया गया की अकेले इस बोर्ड के खेल की वजह से विलियम ने 1 मिलियन की आय बना ली है. यहाँ पर भी Ouija board’s mysterious origins को लेकर किसी ने सोचा न था की ये एक परेशानी का सबब बन जायेगा जिस तरह हेलेन के लिए बना था.

उसने इस बात से प्रभावित होकर Baltimore में ही कई जगह इस बिज़नेस को आगे ले जाने का सोचा. उसके अनुसार खुद औइजा बोर्ड ने उसे इसके बारे में कहा था. 1927 के एक दिन वो अपने नए फैक्ट्री में छत पर चढ़े हुए थे. वो छत के किनारे के पास ही खड़े थे और झंडे के लिए एक पोल लगा रहे थे. अचानक ही फ़िल्मी तरीके से वो निचे की और गिरे. उनके बचने की उम्मीद तब तक थी जब तक की एक रोड उनके जिस्म को पार न कर गई.

ये सब बिलकुल हॉलीवुड की मूवी फाइनल डेस्टिनेशन की तरह हुआ था. इसके बाद उसकी फॅमिली ने 1965 तक इस बिज़नेस को चलाया और बाद में इसे Parker Brothers को बेच दिया. यहाँ से Hasbro नाम के एक शख्स ने इसे ख़रीदा और एक वार्निंग दी.

Handle the Ouija board with respect and it won’t disappoint you!”

उन्होंने साफ तौर पर इसे paranormal object करार दिया था.

Ouija board’s mysterious origins final conclusion

दोस्तों औइजा बोर्ड अपने शुरुआती समय में मनोरंजन का एक साधन था जो लोगो के लिए मनोरंजन करता था. धीरे धीरे लोगो के लिए Ouija board’s mysterious origins को जानना जरुरी नहीं रहा क्यों की इसकी असली हक़दार हेलेन आज गुमनाम हो चुकी है बचे है तो सिर्फ वे लोग जिन्होंने इसे बिज़नस बना लिया था. इसकी एक वजह ये भी हो सकती है की जो अभ्यास पहले spiritualism से प्रभावित था वो अब work of fraud बन चूका था.

हालाँकि लोगो को शुरू में बेवकूफ बनाकर काफी पैसा बनाया गया लेकिन आगे चलकर लोगो ने ये महसूस करना शुरू कर दिया की वाकई ये किसी तरह का पोर्टल है जो आत्माओ को वाकई इस दुनिया से जोड़ता है. ऐसे कई रहस्यमयी केस सामने आने लगे जो कभी सुलझाए नहीं जा सके है. अगर आपको लगता है की औइजा बोर्ड वास्तव में किसी तरह की शापित चीजो से जुड़ा हुआ है तो हमें कमेंट कर बताना न भूले.

Never miss an update subscribe us

* indicates required

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here