बार बार किसी चीज को चेक करना आपकी इस छिपी हुई बीमारी का संकेत है इसे अनदेखा करना हो सकता है खतरनाक

5

कई मौको पर हम कुछ जरुरी चीजों को बार बार चेक करते है की कही कोई कमी तो नहीं रह गई या फिर कुछ पीछे तो नहीं छूट गया। जैसे शादी में जाते वक़्त घर के लाइट और दरवाजे को बार बार चेक करना की वो सही तरीके से बंद तो है। लेकिन क्या हो जब ये आपकी आदत बन जाए ? एक विचार को लेकर बार बार बैचेन रहना और फिर उस एक विचार को बार बार रिपीट करते रहना ocd symptom के मुख्य लक्षण है। Obsessive compulsive disorder एक ऐसी बीमारी है जो हमारे अन्दर की आदतों से जुडी है. आपको लग सकता है की आप जो कर रहे है वो एक सामान्य सी क्रिया है लेकिन वास्तव में ऐसा नहीं है. इस पोस्ट को पूरा पढने के बाद आप जान जाओगे की इसका treatment करना क्यों बेहद जरुरी है. ये कोई anxiety disorder नहीं है लेकिन इसे ignore करना आपके लिए खतरनाक हो सकता है.

ocd symptom
मनोवैज्ञानिक बीमारियों में ज्यादातर बीमारिया भावनाओ से जुड़ी है। इसलिए Obsessive compulsive disorder को हम इस तरह समझ सकते है की किसी एक काम को करने का आपके मन में बार ख्याल आना फिर बैचेनी की हालत में उस कार्य को दोहराना जिससे आपको temporary relief मिल जाए लेकिन कुछ देर बार फिर से वही आदत दोहराने का ख्याल मन में आने लगता है। ये एक ऐसी स्थिति है जिसमे व्यक्ति खुद पर भरोसा खोने लगता है. जिस काम को वो कर चूका है उसे लेकर वो सिक्योर महसूस कर पाता है. इसके लक्षण इस पोस्ट में और डिटेल से जरुर पढ़ ले

what is ocd :

एक ख्यालो से जुड़ी बीमारी है जिसमे अनचाहे विचारो पर बार बार रिएक्शन करना मुख्य लक्षण है। मरीज के दिमाग में सबसे पहले

  1. अनचाहा विचार आता है।
  2. फिर उसके अंदर बैचेनी बढ़ने लगती है।
  3. वो मजबूर होकर उस काम को करने लगता है।
  4. एक temporary relief मिल जाती है।

ये घटनाक्रम बार बार चलता रहता है। और मरीज इन घटनाक्रम में ही सिमट कर रह जाता है। ये दो तरह से हो सकता है जिसमे सबसे पहला जेनेटिक है यानि वंशानुगत दूसरा किसी तरह के इन्फेक्शन से।

पढ़े : इंटरनेट पर बाबा लोगो का बढ़ता तंत्र मंत्र का बिज़नेस

वंशानुगत :

अगर आपके घर में पहले से कोई इस समस्या से गुजर रहा है तो संभव है की आप भी इसकी चपेट में आ जाए। इसके लक्षण आप उन लोगो से देखते हुए महसूस करते है जो इस समस्या से पहले से ही गुजर रहे है।

चोट लगने या साइड इफ़ेक्ट :

कभी कभी किसी तरह के घाव लगने से भी साइड इफ़ेक्ट के तौर पर ये समस्या हो सकती है। समय रहते हुए हर तरह की चोट का सही इलाज करना इसका सही इलाज है। अगर आपको किसी तरह की चोट लगती है और आपका उसका समय पर सही इलाज नहीं लेते है तो सम्भावना है की आपको उसका इन्फेक्शन मानसिक रूप से प्रभावित करे. इस स्थिति में आप जो काम कर चुके है उसे लेकर sure नहीं होते है. आपको लगता है की इसे दोबारा चेक करना चाहिए लेकिन ऐसा करना आपका खुद का अपने ऊपर विश्वास न होना दर्शाता है.

ocd symptom –

अगर आप किसी आदत को दिनभर कई बार दोहराते है तो ये OCD है जरुरी नहीं ocd तब होती है जब आप इस आदत के दौरान झुंझलाने लगते है या फिर stress महसूस करने लगते है। मान लो की आप दिनभर बार बार गैस चेक करते है की वो बंद है या नहीं और इसी दौरान कोई आपसे बात करे तो आप झुंझलाने लगे या तनाव और खुद को अलग थलग महसूस करे। ये सब ocd के symptom हो सकते है।

पढ़े : स्वर्ण प्रदान करने वाली यक्षिणी की साधना का अभ्यास

O C D most common example :

  • बार बार हाथो को धोना और सुनिश्चित करना की वो साफ हो गए है।
  • खुद का दुसरो पर से कण्ट्रोल खोता हुआ महसूस करना जब दूसरे आपकी बात ना माने तो उन पर झुंझलाने लगना।
  • खुद को धार्मिक कार्यो से जोड़ लेना और बार बार उसे दोहराना और खुद को बैचेन महसूस करना।
  • ऐसी चीजों को खोने का डर जो आपकी कल्पनाओ में है ना की हकीकत में।
  • सब लोग आपकी बात माने और आपके कण्ट्रोल में रहे इस तरह के ख्याल को लेकर बैचेन करना।
  • लकी और unlucky जैसी चीजों में हद से ज्यादा विश्वास करने लगना।

इसके अलावा भी ऐसी कई आदते है जिन्हे हम ocd से जोड़ कर देख सकते है। ज्यादातर example में आप मरीज को ये हरकते करते हुए तनाव और झुंझलाहट से भरा हुआ देख सकते है।

पढ़े : multiple personality और माता की सवारी से जुड़ी खास बाते जो आपको जाननी चाहिए

ocd symptom – बचाव के लिए अपनाये इन टिप्स को :

ocd से बचाव के लिए कई तरीके है जिन्हे हम डेली लाइफ में भी आजमा सकते है। इससे बचाव के लिए हम खुद की देखभाल, व्यायाम, दूसरे लोगो से जुड़े रहना, पर्याप्त नींद लेना, और खुद को आराम देने के लिए कई तकनीक को आजमा सकते है। ocd symptom and ocd diet in hindi में जानते है खास उपाय के बारे में।

1.) व्यायाम :

नियमित व्यायाम करना आपको ना सिर्फ शारीरिक बल्कि मानसिक रूप से भी तरोताजा बनाता है। इसके लिए कम से कम सुबह के आधे घंटे तो आप एक्सरसाइज के लिए निकाल ही सकते है। ये ना सिर्फ आपको लम्बे जीने में मदद करता है बल्कि एक हैप्पी माइंड का व्यक्तित्व भी बनाता है।

2.) लोगो से जुड़े रहिये :

दूसरे लोगो से जुड़ना और उन्हें जानना समझना आपको कुछ समस्याओ से छुटकारा दिला सकता है। खासतौर से तनाव, किसी समस्या के समाधान और आपसे जुडी अच्छी आदतों को बाहर निकालने में इसलिए दिन का कुछ हिंसा अपने और अपने आसपास के लोगो के साथ गुजारना सीखे।

3.) पर्याप्त नींद ले :

जब आप अच्छी नींद ले लेते है तो सुबह की शुरुआत ना सिर्फ अच्छी होगी बल्कि एक बैलेंस भी आप उसमे महसूस कर सकते है। दिन भर अगर आपको अनावश्यक तनाव से बचना है तो अच्छी नींद जरूर ले।

4.) तनाव से बचने की तकनीक

सच्ची-प्रेरणा ब्लॉग पर ऐसी कई ध्यान और त्राटक की तकनीक है जिनसे आप खुद के दिमाग को कण्ट्रोल और कमांड कर सकते है। न्यास ध्यान और शवासन से बढ़कर और कोई विधि नहीं जिसमे हम शरीर को कण्ट्रोल करना सीख सकते है। सहज ध्यान भी अच्छा विकल्प है जो अच्छा लगे उसे आजमाकर आप खुद को रिलैक्स कर तनाव से बचने के लिए कमांड कर सकते है।

पढ़े : उपभोक्ता अदालत बन गयी है और भी सुविधाजनक जानिए कैसे

डर का सामना / विरोध करे :

अगर आप O C D की समस्या से गुजर रहे है तो घबराइए नहीं कुछ ऐसी टिप्स है जिनसे आप इस समस्या से बच सकते है।

1.) डर को अवॉयड मत करो

इस समस्या में एक गतिविधि को बार बार दोहराते रहने की बजाय धीरे धीरे उसमे देने वाले समय को कम से कम करने की कोशिश करे। बचा हुआ समय दूसरे काम में दे। इससे आप ocd को avoid नहीं कर रहे है बल्कि उसका विरोध कर रहे है। धीरे धीरे ही सही लेकिन बाद में आप पूरी तरह इससे बाहर निकल सकते है।

2.) खुद को refocus करना :

जब भी आपको लगे की आ ocd की प्रॉब्लम से गुजर रहे है या फिर ऐसा कोई ख्याल आपको बार बार परेशान कर रहा है तो उसी वक़्त खुद को ऐसे कामो में बिजी करे जो आपके दिमाग को फ्रेश करे जैसे घूमना, गाने सुनना। इससे आप जब भी डाइवर्ट होने लगते है आप खुद को दोबारा फोकस कर सकते है। अगर किसी कार्य को करने के बाद भी आपके मन में ख्याल आता है की एक बार चेक करना चाहिए तो खुद पर फोकस करे. उदाहरण के लिए आप जानते है की आपने दरवाजा अच्छे से लॉक किया है लेकिन फिर भी बार बार मन में आ ही जाता है की आपको एक बार तो दरवाजा चेक करना चाहिए.

ऐसी स्थिति में आंखे बंद करे और याद करे की आपने कब दरवाजा बंद किया था और कैसे किया था. ऐसा करने से एक याद आपके मन में बसने लगती है जो आपको sure करती है की हाँ आपने दरवाजा बंद किया था और बार बार चेक करने की कोई जरुरत नहीं है.

3.) ocd symptom – ख्यालो को कैसे रोके शुरुआत में :

जब भी आपको लगे की आप अमुक काम को बार बार चेक करने वाले है जैसे दरवाजा बंद करना, या फिर हाथो को धोना। आप सबसे पहले ये काम कर ले वो भी आराम से पूरी तन्मयता से। इससे आपके अंदर अनचाहे ख्याल आने का सवाल ही पैदा नहीं होगा। ocd symptom की पहचान करने पर इससे बचने के उचित उपाय अपना सकते है।

इसके अलावा जब भी ऐसे काम करे पुरे होशो हवास में करे भागदौड़ या परेशान होकर नहीं। साथ ही अपने माइंड में एक स्ट्रांग इमेज बना ले की आप ये काम कर चुके है। इससे भी आपको काफी मदद मिल सकती है।

पढ़े : उपभोक्ता अदालत बन गयी है और भी सुविधाजनक जानिए कैसे

ocd symptom – thought को challenge करना

आप इस स्थिति से गुजर रहे है तो भी कोई परेशानी नहीं है आप इस स्थिति से रूबरू होकर इससे उभर सकते है। इसके लिए आप ऐसे ख्यालो को लिख सकते है फिर चाहे वो कोई भी माध्यम क्यों ना हो खासतौर से ऐसी चीजे जो आपके सामने ही रहती हो।

  • ऐसी बातो को लिख ले जो आपको परेशान करती है या ocd जैसी समस्या से गुजरने की वजह होती है।
  • अब उन चीजों को लिखे को इस स्थिति से बाहर निकलने में आपकी मदद कर सकती है जैसे सुझाव, विकल्प या कोई ऐसा काम जो पुख्ता होने का सबूत हो।
  • उस समय को भी लिखना ना भूले जब आप कोशिश करने के बावजूद इसमें फंस जाते है। अगली बार ऐसी स्थिति से बचने में ये काफी मददगार होगा।

ocd symptom उपचार :

ocd की समस्या से बाहर निकलने के लिए आप निम्न टिप्स को फॉलो कर सकते है जो आपको आसानी से धीरे धीरे लेकिन स्थाई तौर पर इस समस्या से बाहर निकाल सकता है।

1.) ध्यान और योगा :

ध्यान द्वारा हम खुद को माइंड और बॉडी लेवल पर एकाग्र करते है और इस स्थिति से बचने में ये काफी मददगार साबित हो सकता है इसलिए नियमित ध्यान करना काफी मददगार साबित हो सकता है।

2.) परिवार में छुपा है हर समस्या का समाधान :

परिवार के साथ वक़्त बिताए इससे आपको और उनको अच्छा लगेगा। जब माइंड दुनिया में बिजी रहेगा तब तनाव और ocd जैसी प्रॉब्लम आने का सवाल ही पैदा नहीं होगा। परिवार के साथ वक़्त बिताना आपको mature बनाता है और आप दिमागी तनाव से दूर रहना शुरू कर देते है. परिवार में रहने के कारण आपके अन्दर भरोसा करने की क्वालिटी पैदा होने लगती है क्यों की आप परिवार के साथ कार्य को बाँट कर करना सीखते है. दुसरो पर भरोसा करना समझते है. इन सबकी वजह से आप धीरे धीरे खुद पर विश्वास बना पाते है.

3.) बनाए खास लोगो का समूह :

आप अपने खास दोस्तों का ग्रुप बना सकते है जिसमे आप उन बातो को शेयर कर सके जो आमतौर पर दुसरो से आप कह नहीं पाते है। इससे न सिर्फ एक दूसरे पर विश्वास बढ़ेगा बल्कि समस्या का समाधान भी बेहतर ढंग से मिलने लगेगा।

अगर आपके आसपास भी ऐसे लोग है जो एक हरकत को बार बार दोहराते है, जल्दी ही आप पर गुस्सा होने लगते है क्यों की आप उनके अनुसार काम नहीं करते या फिर बुजुर्ग लोग जिन्हे घुलना-मिलना पसंद नहीं हो तो आप उनकी मदद कर सकते है। ocd sympton और ocd diet पर लिखा आज का लेख अगर आपको पसंद आए तो इसे शेयर करना ना भूले।

5 COMMENTS

  1. अपने आस – पास के कई लोगों में मैने यह समस्या देखी है । पर इसके बारे में मेरी आधी अधूरी जानकारी आपके लेख को पढकर आज पूरी हो गयी ।धन्यवाद कुमार जी ।

  2. OCDएक कॉमन बीमारी है पर ज्यादातर लोगों को पता ही नहीं होता की वो इस बिमारी से जूझ रहे हैं | बस एक उलझन भरी जिंदगी बिताते रहते हैं , आपकी पोस्ट से उन्हें फायदा होगा |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.