क्या आप भी नकारात्मकता से घिरे हुए है जानिए कैसे पहचाने इसे और दूर करे basic tips

0

क्या आपके साथ कभी ऐसा हुआ की आप अच्छे खासे ठीक होते होते अचानक बीमार पड़ जाते है. या फिर suddenly ही आपका mood off हो जाता है. ये सब negative energy के sypmtom है, हम सभी जानते है की संगत का असर पड़ता है. जो जैसा होता है उसका effect वैसा ही देखने को मिलता है. अगर आप अच्छे लोगो के साथ रहते थे तो positive energy से खुद को charge हुआ महसूस करेंगे same negative energy वाले लोगो के साथ आप negative energy effect को महसूस करेंगे. ज्यादातर लोग ये महसूस ही नहीं कर पाते है की वो negative energy से घिरे हुए भी है क्यों की इस दौरान उन्हें reality भी काफी negative लगती है. चलिए जानते है negative vicharo se chutkara कैसे पाए hindi में.

negative vicharo se chutkara

अक्सर जब ऐसे लोग परेशान होते है तब वो दुसरो से अलग थलग पड़ जाते है यही नहीं वो जो भी प्लान करते है उसके negative result ही mind में घूमते है. ये हमारे लिए सबसे dangeres problem है क्यों की हम कभी आगे नहीं बढ़ पाते है.

हम negativity को recognize नहीं कर पाते है

हम नकारात्मक ऊर्जा को अन्य लोगों की तरह के रूप में देखते हैं। बेशक, कभी-कभी हम नकारात्मक महसूस करते हैं– “दूर चले जाओ और मुझे अकेला छोड़ दो” लेकिन क्या आप जानते हैं कि नकारात्मकता इतनी गहरी हो सकती है और हमारा इस पर ध्यान ही नहीं जा पाता है.

इसका कारण यह है कि कभी-कभार negativity ‘reality’ नामक mask पहनती है। यह तर्कसंगत बनाना आसान है कि आप सपने पर कार्य करने के लिए हिम्मत न करने में ‘यथार्थवादी’ हैं – और इसे मानें!

आप मान सकते हैं कि positive people are not realistic – कि वे बेवजह हो रहे हैं, वे रेत में सर तक धंस गए है फिर भी मुस्कुरा रहे है ? या फिर वो कठिन हालात में फंसे है लेकिन फिर भी आराम से ऐसे शो कर रहे है जैसे ये कोई बड़ी बात नहीं है.

इस पर गौर करें: जब ‘यथार्थवादी’ होने का मतलब जरूरी है कि चीजें गलत हो जाएंगी और आपको यह सत्य मानना होगा?

negative vicharo se chutkara – सकारात्मक सोच कैसे लाये

इसका अर्थ यह नहीं है कि यथार्थवादी होना स्वतः ही नकारात्मक है जब आप दुनिया को ‘यथार्थवादी’ दृष्टिकोण से देखते हैं, तो आप मदद नहीं कर सकते लेकिन नकारात्मक हो सकते हैं यदि वास्तविकता का आपका संस्करण नकारात्मक है

यदि वास्तविकता का आपका संस्करण ऋणात्मक है, तो आप यह मान सकते हैं कि जो कुछ भी गलत हो सकता है, गलत हो जाएगा और जो कुछ भी सही हो सकता है, शायद गलत भी होगा आपके अनजाने में रखी हुई भक्ति आपको किसी नकारार्थी व्यक्ति के बारे में जागरूक किए बिना आपको बना देती हैं!

तो – यदि यह नकारात्मकता आप में इतनी गहरी है कि आप इसे ध्यान नहीं देते हैं, तो आप यह कैसे निर्धारित करते हैं कि आप नकारात्मक ऊर्जा के बादल में फंस गए हैं जो गलत लोगों, गलत स्थितियों और गलत भावनाओं को आकर्षित कर रहा है? और आप यह कैसे सुनिश्चित कर सकते हैं कि आप उस नकारात्मकता को कायम नहीं रख सकते हैं? negative vicharo se chutkara पाने से पहले ये जान लेना जरुरी है की वास्तव में आप नकारात्मक विचारो से घिरे हुए है या नहीं.

how to check i am in negativity or not ?

इससे पहले की हम negative energy से बचाव के बारे में बात करे हमें पहले ये जान लेना आवश्यक है की हम negative energy से घिरे हुए है एक बार हम मानसिक रूप से इसके लिए तैयार हो जाए तो बचाव करना बेहद आसान बन जाता है तो चलिए देखते है की कही आप भी तो negative energy से घिरे हुए नहीं है?

  • क्या आप अक्सर किसी ना किसी बात को लेकर शिकायत करते रहते है या कभी कभी?
  • क्या आप अक्सर इस बात पर चर्चा करते हैं कि दुनिया में क्या गलत है उससे अधिक गलत है? इसमें ‘भयावह’ मौसम, ‘भयानक’ यातायात, मूर्खतापूर्ण ‘सरकार’, ‘घटिया’ अर्थव्यवस्था, ‘बेवकूफ’ ससुराल आदि शामिल हैं।
  • क्या आप अक्सर अक्सर दुसरो की आलोचना करते रहते है ? खासकर कुछ लोगो की
  • क्या आप नाटक और आपदा के प्रति आकर्षित हैं (जब आप एक आपदा के समाचार की कहानी कह रहे हैं और आप बेकार की मशहूर हस्तियों के जीवन में शामिल होने से बच सकते हैं?)
  • क्या आप दोष देते हैं? हर समय या सिर्फ कुछ स्थितियों?
  • अगर आप मानते हैं कि आपके अधिकांश परिणामों पर आपका कोई नियंत्रण नहीं है?
  • अगर आप पीड़ित की तरह महसूस करते हैं? क्या आप लोगों को चीजों के बारे में बात करते हैं?

कैसे पहचाने की नकारात्मक सोच क्या है ?

पहला क्या आप इसके लिए आभारी हैं या आप क्या आभारी रहेंगे जब चीजें आपके लिए सही हो जाएंगे? दूसरा फिर या आपको लगता है कि चीजें अपने आप ही हो रही हैं? या क्या आपको लगता है कि वे आप के माध्यम से हो रहे हैं?

यह पिछले दो अंक महत्वपूर्ण हैं: यदि आप सही नहीं होने के बावजूद आभारी नहीं हैं, तो आप नकारात्मक हैं आभार सकारात्मक है यदि आप इसके लिए आभारी हैं (जीवन पाठ के अप्रिय स्कूल सहित), तो आप अपने जीवन में अधिक से अधिक सकारात्मक ऊर्जा आमंत्रित कर सकते हैं।

अगर आप भी ये विश्वास करते है की जो कुछ हो रहा है वो वास्तव में आप पर थोपा गया है? ऐसा सोचना ही आपके unlimited power of subconscious mind को give up यानि हतोत्साहित करने के लिए काफी है. अगर ऐसा है तो उन परिस्थिति के लिए कौन responsible है जब आपके साथ कुछ अच्छा और positive होता है. इसलिए आपके लिए जरुरी हो जाता है की आप जल्द से जल्द negative vicharo se chutkara पाना शुरू कर दे.

negative सोच कैसे दूर करे

हमारे साथ अक्सर ऐसा देखने को मिलता है की जब कुछ अच्छा होता है तो उसका क्रेडिट हम खुद लेते है जैसे की मेने इतना hard work किया या फिर इतना earn कर किया तब में success हुआ वगेरह वगेरह और अगर कुछ गलत होता है तो उसका जिम्मेदार दुसरे जैसे की भगवान् चाहते ही नहीं थे. मेरे साथ ये नहीं हुआ नहीं तो में failure नहीं होता.

अगर आपके साथ कुछ अच्छा होने के जिम्मेदार आप है तो negative होने के जिम्मेदार और दुसरे कैसे हो सकते है? ये आपकी सबसे बड़ी गलतफहमी या यू कहे negativity है. कोई भी ये सुनना पसंद नहीं करता लेकिन ये सच  है

“आप अपना जीवन अपने अनुभव के आधार पर बेहतर बनाते है ना की किसी के भाग्य के आधार पर”

अगर आपको लगता है की ऊपर खुद से पूछे गए सवालों में से एक भी आप के साथ हो रहा है तो आप negative energy से घिरे है और negative vicharo se chutkara पाने के लिए आपको vibration बढाने की जरूरत होगी जिसके लिए आपको एक बार फिर से प्रशिक्षित होने की जरूरत होगी.

सकारात्मक लोगो की सबसे बड़ी खासियत यही है की वो life को उसी नजरिये से देखते है जैसा वो चाहते है. चीजे उनके अनुसार होती है तो ठीक और ना भी हो तो भी life को enjoy करते है जबकि negative people कुछ भी गलत होते ही वही थम जाते है और बार बार उस एक negativity को इतना repeat करते है की आगे जो कुछ अच्छा होना होता हाई वो भी गलत होने लगता है और सिर्फ एक छोटी सी negativity उनके पुरे टाइम को ख़राब कर देती है जब तक की वो इसे accept ना कर ले.

negative vicharo se chutkara पाने के simple tips hindi में

negativity से chhutkara पाने के लिए आपको निचे दिए कुछ tips अजमाने चाहिए क्यों की negativity कभी आपके life को normal नहीं बनने देती है इसलिए आज ही सबसे पहले इन 3 steps को follow करे. आइये जानते negative vicharo se chutkara पाने के 3 simple मगर effective tips क्या है.

1.) आप negative thoughts से घिरे है इसे स्वीकारे :

जब तक हम इस बात को accept ही कर सकते की हम negativity से परेशान हो रहे है तब तक हम कुछ नहीं कर सकते है. सबसे पहले तो आपको ये accept करना होगा की आप negativity से घिरे हुए है इसके बाद खुद को मानसिक स्तर पर तैयार कर ले यानि सबसे पहले आपको इसे accept करना होगा की आपकी life में किन कारणों से negativity आ रही है. negative vicharo se chutkara पाने से पहले आपको ये मानना पड़ेगा की आप वाकई इससे परेशान है.

2.) negative की जगह positive thought को replace करे.

नकारात्मक विचारों को रद्द करें और उन्हें सकारात्मक विचारों के साथ बदलें। यह अभ्यास, समर्पण और “क्या गलत हो सकता है” के बजाय “सही क्या हो सकता है” की आंखों के माध्यम से दुनिया को देखने का निर्णय लेती है। आपको किसी भी वक्त अपने आप को पकड़ना होगा या अपनी नकारात्मकता को बोलना होगा, और तुरंत अपना धुन बदल दें।

3.) positive बनने के लिए love और spiritual experiment को लागू करे.

अपनी ऊर्जा को साफ करने के लिए love या spiritual practice प्रयोग करें और अपने जीवन में अधिक प्रकाश और प्रेम लाएं; negative thinking की बजाय positive सोच रखे. अतीत में क्या हुआ पर ध्यान देने की बजाय वर्तमान में क्या अच्छा करना है पर ध्यान दे. अपनी कल्पना में एक नई, desired vision बनाएं और बाहरी दुनिया में इसे प्रकट करें।

कोई भी नकारात्मक ऊर्जा को अपने जीवन में प्रवेश नहीं करना चाहता है, फिर भी हम में से बहुत से लोग इसे अनुमति देते हैं। हम अतीत की कंडीशनिंग के आधार पर अनजाने में इसे अनुमति देते हैं जो कुछ स्थितियों के लिए negative result जो इतने बुरे भी नहीं हो सकते थे को सुझाते हैं। इसलिए negative vicharo se chutkara बेहद जरुरी बन जाता है.

जब आप उस कंडीशनिंग को पार करते हैं और महसूस करते हैं कि अतीत को बदला नही जा सकता लेकिन भविष्य हमारे आज पर निर्भर करता है तब हम आज को और भी बेहतर बनाने पर ध्यान देते है. आपकी सकारात्मक ऊर्जा चुंबकीय रूप से उन अवसर को आकर्षित करती है जो आप के लिए अच्छा और सही मानते हैं: लोगों, स्थितियों, चीजें … और आप अपनी खुशी और आंतरिक शांति में भारी वृद्धि, विशाल वृद्धि देखेंगे।

क्यों नहीं सकारात्मक ऊर्जा चुनें? अंदर कुछ बदलाव करें, और आप अपने जीवन में सकारात्मक बदलाव देखेंगे। अच्छी भावनाओं और बहुतायत का आनंद लें!

final word – negative vicharo se chutkara पा कर सकारात्मक कैसे बने

उम्मीद करता हूँ अब आप अच्छे से ये बात समझ गए होंगे की negative vicharo se chutkara पा कर सकारात्मक बनना किस तरह हमारे लिए बेहद जरुरी है. अगर आपको भी  लागता है की आप कही न कही खुद को नकारात्मक विचारो से घिरा हुआ महसूस कर रहे है तो आज से ही इन बदलाव को खुद पर लागू करे और फर्क खुद देखे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.