जाने अनजाने में किये जाने वाले ऐसे mystical experience जो लाइफ को बदल देते है

0

क्या आप जानते है की एक particular state of consciousness जो हमारी लाइफ को पूरी तरह बदल सकती है. ये एक ऐसी अवस्था है जिसमे हमें लाइफ की खूबसूरती दिखती है. इतिहास में अब तक के mystical experience को हमने  “religious” or spiritual experience के तौर पर देखा है. वास्तव में ये एक एक ऐसी अवस्था को दर्शाता है जिसमे हमारा Ego and divine दोनों आपस में merge हो जाते है. आमतौर पर इस तरह का अनुभव एक पलक झपकने जैसा होता है जिसका अहसास कुछ समय के लिए ही होता है.

आपने देखा होगा की हमें अचानक ही कुछ हटकर अनुभव होता है या फिर जब हम ध्यान में बैठे होते है तब कुछ समय के लिए हमारी Consciousness मानो जैसे रुक जाती हो और एक अलग तरह का अनुभव होता है. ये अवस्था सिर्फ कुछ देर के लिए होती है और इस पर हमारा control भी नहीं होता है. इस तरह के क्षणिक अनुभव को रहस्यमयी अनुभव के नाम से जाना जाता है जो असल में हमारे brain की state of consciousness में shift का एक प्रभाव होता है.

mystical experiences

आमतौर पर जब Consciousness में बदलाव होता है और ये Conscious to subconscious की तरफ shift होती है तब हमें कुछ देर के लिए एक अलग अवस्था का अहसास होता है. रहस्यमयी अनुभव को कुछ लोग Psychic ability से भी compare करते है जिसमे हम अनजाने अनुभव करते है और इन पर हमारा control नहीं होता है. ये अनुभव हमें positive बनाते है और कई बार तो ऐसा भी देखा जाता है की हम खुद को Spiritualism के लिए भी ready कर पाते है.

What is a mystical experience?

रहस्यमयी अनुभव को हम Mystical इसलिए कहते है क्यों की ये ऐसे अनुभव होते है जो अनजाने होते है और इन्हें simple भाषा में explore या समझा नहीं जा सकता है. इनका होना क्षणिक होता है और ये अचानक ही हो जाते है. आमतौर पर ये हमें कुछ न कुछ संकेत देते है जो हमारे भविष्य से जुड़े होते है.

मेने जब त्राटक की शुरुआत की थी तब मुझे आमतौर पर अभ्यास के 10 मिनट बाद ही अचानक कुछ सेकंड के लिए ऐसा लगता था की मानो ये शरीर है ही नहीं, फिर अचानक जब में Consciousness से जुड़ता तब तब वापस खुद को कमरे में पाता था.

बहुत सारे लोगो ने तो spontaneous mystical experiences किये है जिनके अनुसार उन्होंने खुद को एक अलग ही realm में पाया या फिर खुद को लाइफ में लगातार बदलता हुआ महसूस किया. ये एक ऐसी अवस्था है जिसमे perceptions and thoughts सबसे ज्यादा clear होते है और हम एक Brightness को feel करते है.

आध्यात्म में रहस्यमय अनुभव

जब हम लम्बे समय तक secular practice करते है तब इस बात के चांस बढ़ जाते है की Spontaneous mystical experiences हो. ऐसा इसलिए क्यों की इस तरह के अनुभव हमें तब होते है जब हम Consciousness में बदलाव करते है. गहन पूजा पाठ, ध्यान में गहरे उतरने या फिर त्राटक का अभ्यास ये सब ऐसे तरीके है जिनसे हम इस तरह का अनुभव जाने अनजाने में कर सकते है.

ज्यादातर अध्य्तामिक अभ्यास में हमें किसी एक बिलीफ को अपने अन्दर उतारने के लिए खुद को ready करना पड़ता है. हर धर्म की अपनी मान्यता होती है जिसे उसके मानने वाले अपने Core belief में accept करते है. यही वजह है की लगातार एक भावना को trigger करने से हम खुद को एक ऐसी अवस्था में ले जाते है जहाँ हमारी सोच ही कल्पना को सच बनाती है.

जानते है Spiritual experience and awakening के बारे में ताकि इसे और clear समझा जा सके.

The Spiritual Experience

Spiritual experience और mystical experience ये दोनों कुछ मायनो में अलग अलग कांसेप्ट है. एक और जहाँ हम आध्यात्मिक अनुभव में हमारी Soul or spirit के अनुभव करते है वही दूसरी और रहस्यमयी अनुभव अपने अन्दर nature or universal reality को समेटे हुए होते है.

Spiritual experience में कुछ divine being के साथ आपसी connection को experience किया जा सकता है जो इसे एक religious element बनाते है. इस तरह के अनुभव हमेशा life-affirming, joyous, and beautiful होते है.

A Spiritual Awakening

ये एक फीलिंग होती है जिसमे हमें realization or awareness का अहसास होता है. ये अवस्था mystical or spiritual experience के बाद प्राप्त होती है और आध्यात्म में इसे spiritual enlightenment के नाम से जानते है. जागरण की प्रक्रिया मुख्य रूप से हमारे अपने बारे में कुछ ultimate awareness of some divine truth को explore करती है.

जब हमें अपने लाइफ में क्या बदलाव करना है और हमारा मकसद क्या है जैसे सत्य का अनुभव होना शुरू हो जाए तब समझ जाए की हमने spiritual enlightenment की अवस्था को पा लिया है. यहाँ आपको ये जान लेना बेहद जरुरी है की अनेको बार mystical or spiritual experience होने का ये मतलब भी नहीं है की आपको Spiritual Awakening का अहसास हो.

ये अवस्था हासिल करने के लिए आपको mindfulness and self-awareness के लिए खुद को लम्बे समय तक train करना पड़ता है. जब ऐसा होता है तब आप अपने Full potential का न सिर्फ इस्तेमाल कर पाते है बल्कि अनुभव भी कर पाते है. ऐसा करने के लिए अनेको तरीके है जिनका आप चुनाव कर सकते है जैसे की

  • खुद को आध्यात्मिक और धार्मिक कार्य में ज्यादा से ज्यादा शामिल करना.
  • secular spiritual practice जैसे की sound baths, chanting circles, men’s or women’s groups, or non-religious meditation meet ups को ज्वाइन करना.

Characteristics of the Mystical Experience

क्या आपने कभी जानने की कोशिश की है की हमें जो अनुभव हो रहे है वो Mystical Experience है या कुछ और ? ऐसे कुछ संकेत होते है जो बताते है की हमारे अनुभव रहस्यमयी है या फिर आध्यात्मिक आइये जानते है.

Conscious Unity

जब हम इस तरह के अनुभव करते है तब हमें लगातार Conscious Unity का अनुभव होता है. हम खुद को ईगो से दूर पाते है जहाँ पर हमें किसी से न कोई द्वेष होता है ना किसी से attachment और यही वजह है की धीरे धीरे हम खुद को किसी भी thoughts से दूर पाते है.

There Is No Time or Space: जब हम Mystical Experience का अनुभव करते है तब इस दौरान हमें समय का पता ही नहीं चलता है. आमतौर पर इस तरह के अनुभव में हमें Consciousness का अहसास नहीं होता है. जब तक हम विचारो में उलझते है या फिर इसमें interfere करते है तभी हमें समय का अहसास होता है. उदाहरण के लिए जब हम ध्यान में बैठते है तब अचानक ही हमें ऐसा लगता है मानो समय ठहर सा गया हो.

हालाँकि हम कुछ पल के लिए ही इस अवस्था में रहते है लेकिन इस दौरान हम खुद को लम्बे समय तक महसूस करते है या फिर लम्बे समय तक बने रहने के बावजूद ऐसा लगता है मानो कुछ ही समय हुआ हो.

Objective Reality: हम जिंदगी को जिस नजरिये से देखते है वैसे ही reality हमारे लिए बन जाती है. यही वजह है की हमारी सोच बदलने की वजह से जब Mystical Experiences किया जाता है तो हमारे आसपास की reality को और ज्यादा क्लियर बनाता है.

Gratitude: जब हमारे अन्दर अहम् का भाव ख़त्म हो जाता है तब एक गुण पैदा होता है और gratitude का अनुभव आपको Spiritualism के नजदीक ले जाता है.

Life Is Seen As Sacred

जब हमारा sense of gratitude अपने विस्तार में होता है तब हमें लगता है की हम इस तरह का अनुभव करने के लिए लायक नहीं है बावजूद इसके इस तरह की miracle हमारे साथ हुई तो इसके पीछे कही न कही हम स्पेशल है या फिर खास शक्तियां हमारे साथ है.

जब ऐसा होता है तब हम अपनी लाइफ के प्रति धन्यवाद प्रकट करना शुरू कर देते है जो आज हम इतनी स्पेशल लाइफ को जी पा रहे है.

हम Paradox को समझना शुरू करते है

हमारे होने का अहसास या फिर हमारी पहचान में जब अंतर पैदा होना शुरू होता है तब हमें एक और reality के होने का अहसास होता है. आगे चलकर एक अवस्था ऐसी आती है जब इस तरह का अंतर दूर हो जाता है. इस समय हम non-dual reality की स्थिति में होते है जहाँ एक के बाद एक paradox हमारे सामने उभरते है.

घटनाए या फिर हमारे देखने का नजरिया ही इस तरह का बन जाता है की हर पल हमें कुछ न कुछ नया और अनोखा अहसास होता है. अगर इसे समझने बैठे तो समय का पता नहीं चलता और उसी में खो कर रह जाते है.

उदाहरण के लिए एक पल के लिए हमें लगता है की सबकुछ सामान्य है और हमारे सामने है या फिर हम सबकुछ समझ चुके है लेकिन अगले ही पल कुछ ऐसा होता है की हमें खुद की सोच पर एक बार फिर से सोचना पड़ता है.

The Experience Is Indescribable

अनुभव के दौरान होने वाले overwhelming magnitude of emotions and intuitive understanding को शब्दों में दर्शाना असंभव सा लगता है. इस तरह के अनुभव को अगर शब्दों से नापने की कोशिश की जाए या फिर इसे शब्दों की सीमा में रखा जाने की कोशिश करे तो ये इसकी insult करने जैसा है. लेकिन, आपको एक बात और याद रखनी चाहिए की

The Experience Is Temporary: इस तरह के mystical experience लाइफ में हमेशा बने नहीं रहते है ये क्षणिक होने वाले अनुभव होते है जिसके बाद हमारी लाइफ एक बार फिर से normal हो जाती है लेकिन इस तरह के अनुभव अपने पीछे एक गहरा अनुभव और सबक छोड़ जाते है.

इस तरह के Life-Changing Experience के बाद हमारी लाइफ और हमारे देखने समझने का नजरिया सबकुछ बदल जाता है. हमें जीने या मरने का डर सताता नहीं है बल्कि हम हर तरह के attachment से खुद को अलग पाते है.

रहस्यमयी अनुभव सिर्फ एक स्टेट है

आध्यात्म को मानने वाले लोगो के अनुसार

हम इश्वर की कृपा और प्यार पाते है क्यों की वे चाहते है इसलिए नहीं की हम इसके लायक है और इसे deserve करते है.

इस तरह के भाव की वजह से हम खुद को इश्वर के प्रति समर्पण show करते है. ज्यादातर लोग mystical/spiritual experience को लेकर कंफ्यूज रहते है क्यों की उनके लिए सबकुछ नया नया होता है और इसे समझना हर किसी के लिए आसान नहीं होता है.

यहाँ समझने वाली बात ये है की इश्वर की कृपा को हम किस तरह accept कर रहे है. एक उदाहरण के लिए अगर यही कृपा 10-12 साल के बच्चे को प्राप्त होती है तो बिना किसी तर्क के वो इसे एन्जॉय करता है लेकिन किसी तरह की maturity न होने की वजह से वो इसका मतलब नहीं समझ पाता है.

एक समझदार व्यक्ति को अगर इस तरह के अनुभव होते है तो वो इसके लिए एक ऐसे बीज का काम करते है जो आगे चलकर उसके spiritual path में आगे बढ़ने में मदद करता है.

Inner Work

अगर आप spiritual liberation जैसे goal की इच्छा रखते है तो आपको सबसे पहले अपने inner work पर काम करना होगा. बगैर किसी तरह के blockage को दूर किए आप mystical experiences को अनुभव नहीं कर सकते है. अगर इस तरह के अनुभव हो भी गए तब भी आप उसे लम्बे समय तक अहसास बनाए नहीं रख पाएंगे.

हमारा सबसे पहला उदेश्य अपने अन्दर के work को समझना होता है. जब हम अंतर को समझते है तभी हम गहराई में उतरने के लायक बनते है और अनुभव कर सकते है.

How to mystical experiences work for us final conclusion

दोस्तों अब तो आप समझ ही गए होंगे की mystical experiences कोई अनुभव नहीं है बल्कि एक अवस्था है जिसमे हमें Spiritual experience होते है या फिर अपनी वास्तविक reality का अहसास होता है. ये एक ऐसी अवस्था है जो हमें समय और स्थान का अहसास नहीं होने देती है और जब हम इस पर आगे बढ़ते है maturity के साथ साथ spiritual experience को और गहराई से समझने लगते है.

अगर आपने कभी इस तरह का अनुभव किया हो की ध्यान के दौरान अचानक ही आप मानो सुन्न पड़ गए हो या फिर आपको याद ही ना रहे की ध्यान के दौरान कुछ पल के लिए आप कहाँ थे तो समझ जाए की आप एक अलग ही अवस्था में जाकर वापस आये है.

Never miss an update subscribe us

* indicates required

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here