ध्यान में आने वाली मुख्य समस्या और उनका सही समाधान का सही तरीका – Top problem and their easy solution

4

ध्यान के फायदे सुनकर हम इसे दैनिक करना चाहते है लेकिन कर नहीं पाते है क्यों की इसके अभ्यास के दौरान हमें physical, mental stress से गुजरना पड़ता है. common problems in meditation जिनसे हर व्यक्ति शुरू में गुजरता है उसके लिए इसमें आगे बढ़ पाना लगभग असंभव सा हो जाता है. अगर आप भी ऐसी समस्याओ से गुजर रहे है जिनकी वजह से आपका daily meditation करना possible नहीं हो पा रहा है तो इस पोस्ट को जरुर पढ़े क्यों की आज हम शेयर करने जा रहे है कुछ ऐसी बाते जिन्हें ध्यान में रख कर आप इन प्रोब्लम से छुटकारा पा सकते है. ये एक meditation for beginner guide in Hindi है जिसमे हम basic बातो पर ध्यान देंगे और उनका संधान करने की कोशिश करेंगे.

common problems in meditation

ध्यान करते वक़्त आप किसी न किसी समस्या से गुजरते है। अक्सर ध्यान ना लग पाना सबसे बड़ी समस्या होती है। इसके अलावा नियमितता का अभाव भी हो जाता है। मन का भटकाव और आपके दिनचर्या का तरीका भी ध्यान में समस्या उत्पन करता है। क्यों की ध्यान करने के बाद अगर मन चंचल है तो भी आप ध्यान में सफल नहीं हो पाएंगे। आज की पोस्ट में हम बात करेंगे ध्यान में आने वाली समस्या और उनका आसान समाधान। हम हमेशा एक प्रण लेते है लेकिन उसे पूरा नहीं कर पाते है अक्सर ध्यान के दौरान भी यही होता है हम सोचते है की शुरू करेंगे ! आज नहीं हुआ कल जरूर करेंगे लेकिन फिर भी कर नहीं पाते है। इस तरह की घटनाएं हमारे साथ होती रहती है जिसकी कई वजह हो सकती है लेकिन सिर्फ मुख्य बातो पर गौर करे तो कुछ ऐसी बाते निकलती है जो हमें सबसे ज्यादा परेशान करती है।

common problems in meditation

सबसे पहले तो ये समझे की ध्यान आखिर है क्या ? ज्यादातर सोचते है की ध्यान विचारों को रोकने का माध्यम है। जबकि ध्यान किसी चीज को महसूस करने का नाम है बजाय इसके की ध्यान किसी चीज को लेकर प्रतिक्रिया करना। इसी वजह से ज्यादातर फ़ैल हो जाते है। ध्यान सिर्फ वर्तमान में रहने का नाम है। अगर आप कभी सूर्यास्त को देखते है तो पाते है की आपका सारा ध्यान सिर्फ अस्त होते रहने पर है ना की पांच मिनट बाद सूर्य कहा होगा इसका मतलब आप भूत और भविष्य भूल कर सिर्फ वर्तमान में उसे देखते है।

वक़्त की कमी biggest common problems in meditation

सबसे बड़ी समस्या जो ध्यान में आती है वो है नियमित ध्यान के लिए वक़्त नहीं मिल पाना। शुरू शुरू में हम कोशिश करते है की सुबह जल्दी उठे और अभ्यास पर ध्यान दे लेकिन जैसा की पहले ही बता चूका हूँ ये सबसे बड़ी common problems in meditation है जिसकी वजह से 95% लोग तो कुछ दिन बाद से ही अभ्यास को वक़्त देना छोड़ देते है. हम सोचते है की ध्यान के लिए सिर्फ सुबह का समय ही सही रहता है जबकि ऐसा नहीं है. वास्तव में देखा जाए तो ध्यान के लिए कोई समय फिक्स नहीं होता है. दिनभर के कामो के बिच में हमें इतना वक़्त मिल जाता है की हम आसानी से इसका अभ्यास कर सके.

ध्यान को समय पर फिक्स करने की बजाय उसे अपने daily routine का हिस्सा बना लेना चाहिए. अगर आप ऐसा कर लेते है तो कोई भी जगह आपके लिए अभ्यास करने लायक बन जाती है. ध्यान को अपने दैनिक जीवन की गतिविधि में लाने के लिए कुछ उपाय है जिन्हे आजमाना चाहिए।

प्रतीक्षा के वक़्त को ध्यान के वक़्त में बदले

हम दिन भर कुछ वक़्त प्रतीक्षा में निकाल देते है इस वक़्त को ध्यान के वक़्त में बदल कर हम इसका सही उपयोग कर सकते है। इसलिए अगले वक़्त जब भी आप कही इंतज़ार कर रहे हो उस वक़्त सांसो पर ध्यान लगा सकते है। याद रखिये सांसो को सिर्फ महसूस करना है उन्हें नियंत्रित नहीं करना है। इसके लिए काफी सारी जगहे है जहाँ आपका वक़्त ऐसे ही निकलता है जैसे की ट्रैफिक, बस से ऑफिस जाते समय, रास्ता तय करते समय. ऐसे समय का हमें सही इस्तेमाल करना आना चाहिए.

ध्यान करने के लिए आसन या फिर किसी जगह की जरुरत नहीं है बल्कि आप चलते समय सिर्फ सांसो पर फोकस करके भी खुद को ध्यान की स्थिति में ला सकते है. ये छोटा सा अभ्यास आपकी यादाश्त को बढाने में सहायक है. सिर्फ एक काम करना है जैसे ही आप कही waiting, walking zone में जाए वहां पर ये अभ्यास करे.

2 second साँस को अन्दर ले 

4 second उसे अन्दर रखे 

2 second उसे बाहर निकालने में दे. 

जब आप ऐसा करते है तो कुछ समय बाद ही आपके सारे विचार आपके नियंत्रण में आने लगते है. शांत स्थिर स्वभाव होने लगता है.

दैनिक गतिविधि को ध्यान से जोड़ना :

  • दांतों को ब्रश करना
  • बर्तन धोना
  • नहाना
  • खाना
  • टहलना
  • प्रेस करना, कपडे सही करना

इन काम को करते वक़्त आप अपनी सांसो पर ध्यान लगा सकते है।

1.3 आप जब भी अपने पालतू को घुमाने ले जाते है तो गौर कीजिये जब आपका पालतू कुत्ता या बिल्ली चलते वक़्त सिर्फ अपनी लय में चलते है उनके चलने के अंदाज को एन्जॉय करे। प्रकृति को महसूस करे अपने आसपास के वातावरण को महसूस करे उसमे खो जाये और उसका हिस्सा बन कर उस खुशी और शांति को महसूस कीजिये।

1.4 जब भी आप गाड़ी चलाते है तो गाड़ी चलाते हुए अपने हाथो की गतिविधि पर ध्यान दे आपका शरीर और मस्तिष्क जो भी गतिविधि करता है उसे नोटिस करे अपना पूरा ध्यान उसमे लगाकर आप उस पल का हिस्सा बन सकते है।

स्वय-अनुशासन की कमी :

ध्यान का सबसे बड़ा नियम है अनुशासन और हमारे दैनिक जीवन में इसी की सबसे बड़ी कमी पाई जाती है। अनुशासन की कमी की वजह से ही हम ध्यान को नियमित नहीं कर पाते है। अगर आपके साथ ऐसा होता है तो आप अपने साथी की तलाश करे जो आपके साथ ध्यान कर सके। फिर उसके साथ सहयोग कर आप ध्यान की शुरुआत करे और धीरे धीरे आपसी सहयोग से ध्यान के प्रति आपका स्वय-अनुशासन अपने आप बन जायेगा।

ध्यान को करने का सबसे बड़ा जरिया है खुद को अनुशाषित करना. अगर आपको common problems in meditation में से एक daily न कर पाना की problem आ रही है तो समझ ले की आपको खुद में सुधार करने की जरुरत है. अगर आप नहीं जानते की खुद को अनुशाषित कैसे बनाए तो हमारी पोस्ट को पढ़े जिसमे 21 दिनों में अच्छी आदत बनाने के बारे में समझाया गया है.

पढ़े : टोटके का सिद्धान्त और वशीकरण के 42 सरल और अचूक टोटके

ध्यान के लिए सही जगह का न मिल पाना

अगर आप सोचते है की हर कही पर ध्यान नहीं किया जा सकता तो आप गलत है ध्यान कोई हौवा या क्रिया नहीं है जो इसके लिए कोई अलग से जगह चुननी पड़े। ध्यान आप कही भी कर सकते है, कभी भी कर सकते है। ध्यान के लिए हर जगह उपयुक्त रहती है अगर आपको लगता है की घर में कोनसी जगह सबसे बढ़िया हो सकती है तो यकीं मानिये सबसे बढ़िया जगह देखे तो आपका टॉयलेट जहां आपको कोई परेशान नहीं कर सकता है। ज्यादातर लोग जब तनाव में होते है तो वो अपना वक़्त टॉयलेट में बिताते है।

आज शहरो में जगहों को ध्यान केंद्र के नाम पर ऐसे सजाया जा रहा है जैसे की वास्तव में हमें अनुभव होंगे. महंगे केन्द्रों में जाने की बजाय खुद के आसपास की जगहों पर नजर डाले.  क्या कोई ऐसी जगह है जहाँ कुछ पल के लिए शांत बैठा जा सके ? आपके आसपास ऐसी कई जगह है जहाँ आप ध्यान लगा सकते है. सही गलत का तर्क सिर्फ दिमाग का होता है क्यों की

[click_to_tweet tweet=”हालात हमारे मुताबिक कभी नहीं होते है हमें ही उनके अनुसार खुद को ढालना होता है.” quote=”हालात हमारे मुताबिक कभी नहीं होते है हमें ही उनके अनुसार खुद को ढालना होता है.” theme=”style5″]

common problems in meditation – ध्यान में निद्रा का आना

ध्यान के दौरान नींद आना स्वाभाविक है क्यों की इस दौरान आप ब्रह्मांड से ऊर्जा प्राप्त करते है जिसके लिए शरीर का शिथिल होना जरुरी है। ज्यादातर लोग मानते है की ध्यान के दौरान सोना गलत है.है। अगर आपके साथ भी बार बार ऐसा होता है तो आप इन उपाय को आजमा सकते है।

  • रात्रि को सोने से पहले ध्यान ना करे क्यों की इस दौरान आपका सोना स्वाभाविक रहेगा।
  • ध्यान सुबह या दोपहर में करने की कोशिश करे जब आप जाग्रत हो।

ध्यान को थोड़े से ज्यादा की तरह करे शुरू में थोड़ी देर तक फिर धीरे धीरे बढ़ाते जाये।

5. ) विचारों का भटकाव

ये सबसे बड़ी और common problems in meditation है जिसकी वजह से हम खुद को फोकस नहीं कर पाते है. अक्सर ऐसा होता होगा की जब भी हम ध्यान करने बैठते है तो मन में अचानक से विचारों की बाढ़ आ जाती है। मन में दूसरे विचार चलने लगते है। अगर ऐसा होता है तो आप इसे रोके नहीं इसे घटने दे ये स्वाभाविक क्रिया है इन्हे रोकने की बजाय इन्हे घटने दे। विचार चलता है तो चलने दे उसे होने दे और कुछ देर बाद आपका ध्यान अपने आप इनसे हट जायेगा। इस वक़्त आपको सिर्फ उन पर ध्यान देने की जरुरत है। और आपका ध्यान अपने आप आपकी सांसो पर चला जायेगा।

6. ) जानते ही नहीं है की कैसे ध्यान करना है

ध्यान की कई विधि प्रचलन में है लेकिन ध्यान किया कैसे जाये ये बहुत कम लोग जानते है। ध्यान का मतलब है गतिविधि को देखना महसूस करना उसे नियंत्रित करना नहीं। इसके अलावा सिर्फ वर्तमान में रहना। इन बातो को ध्यान में रख कर आप अपना जीवन ध्यानमय बना सकते है। अगर आप मानते है की सिर्फ बैठकर ध्यान लगाया जा सकता है तो आपको इसके तरीके को सही से समझने की जरुरत है.

ध्यान सिर्फ बैठ कर ही नहीं लेट कर भी लगाया जा सकता है. लेटते वक़्त हमें ध्यान रखना होगा की नींद न आ जाए. अगर आप खुद को सोने से रोक पाते है तो आप इसे बेहतर तरीके से कर पाते है और अनुभव भी कर सकते है.

common problems in meditation – final word

दोस्तों ध्यान के बारे में भ्रान्ति से बाहर निकले और बहाने बनाने छोड़ दे. अगर इस पोस्ट को पढने के बाद आप खुद को ध्यान के लायक बना सकते है तो पोस्ट बनाने का मकसद सार्थक हो जाता है. common problems in meditation से जुडी ये पोस्ट समय समय पर अपडेट होती रहेगी और आपको आने वाली समस्या भी जुडती जाएगी. अगर इसके अलावा कोई समस्या जो आप ध्यान के समय अनुभव करते है तो हमें जरुर बताये.

आज की पोस्ट आपको कैसी लगी इस पर अपनी प्रतिक्रिया जरूर दे इसके अलावा ध्यान से जुडी अन्य समस्या पर अपने सुझाव् भी आप रख सकते है। आपके सुझाव इस कड़ी में जोड़े जायेंगे।

sources : web, books, experience and people

4 COMMENTS

  1. सर जी आप ने बहुत अच्छी पोस्ट दी है
    मैं आप से एक बात पूछनी थी कि जब मै पालथी मार कर ध्यान मे बेठता हूं तो मेरा बायां पैर का तलवा बहुत गर्म हो जाता है ओर मेरे बेचेनी हो जाती है ध्यान टूट जाता है ऐसा क्यों होता है कृपा समझाये

  2. सर जी मै सुखासन मेंही बैठता हूँ पैर की नस नही दबाती केवल बाये पैर का ही तलवा गर्म हो जाता है सर व्रज आसन मे भी बैठता हूं लेकिन 10व15 मिनटॅ ही बैठा जाता है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.