इन बदलाव को पहचान कर आप भी ऊर्जा को चोरी होने से बचा सकते है

3

औरा क्षेत्र के दुर्बल होने की वजहकई बार ऐसा होता है की हम किसी से बातचीत के दौरान खुद में कमजोरी और निर्बलता का अनुभव करने लगते है। कई बार तो हद हो जाती है जब हम बीमार भी पड़ जाते है। लेकिन इसकी वजह हमारे स्वास्थ्य में गिरावट आना नहीं होता है। औरा क्षेत्र के दुर्बल होने की वजह और आपकी ऊर्जा को दूसरे के द्वारा चुराए जाने की वजह से आप ऐसा महसूस कर सकते है। कई बार आपके औरा क्षेत्र के दुर्बल होने की वजह से आप जल्दी जल्दी बीमार पड़ने लगते है या फिर लोगो से मिलते वक़्त खुद में उत्साह की कमी महसूस करने लगते है। ये सब स्वाभाविक नहीं है इसकी वजह आपका औरा दुर्बल होना है।

आपके औरा के दुर्बल होने और ऊर्जा की चोरी की वजह से खुद में कई बदलाव को महसूस कर सकते है जैसे की बार बार बीमार पड़ना, लोगो से मिलते वक़्त आत्मविश्वास की कमी महसूस करना, लोगो को किसी बात के लिए मना ना कर पाना या फिर जल्दी ही दुसरो के दबाव में आ जाना। सबसे हैरत करने वाली बात की ये है की

कुछ लोग सिर्फ फोन के माध्यम से आपसे बात करते वक़्त भी आपकी ऊर्जा चुरा लेते है।

ये बिलकुल सत्य है और कई लोग इसे महसूस कर चुके है लेकिन इन्हे इग्नोर करते रहते है। औरा क्षेत्र के दुर्बल होने की वजह को हलके में लेकर इग्नोर करना आपको मुश्किल में डाल सकता है। इसलिए आभा मंडल को मजबूत करने के लिए हमें आरम्भ से ही कुछ उपाय अपना लेने चाहिए। सबसे पहले बात करते है कुछ ऐसी वजह की जिनकी वजह से औरा क्षेत्र दुर्बल हो जाता है। औरा क्या है और आभा मंडल को आकर्षक बनाना कैसे हमारे लिए फायदेमंद है ये पिछली पोस्ट में पढ़ चुके है।

औरा क्षेत्र के दुर्बल होने की वजह :

  1. खानपान में लापरवाही
  2. व्यायाम में कमी या नजरअंदाज करना।
  3. साफ वायु की कमी।
  4. आराम में कमी
  5. तनाव
  6. उत्तेजक और नशे के पदार्थो का सेवन
  7. तम्बाखू
  8. गलत आदते
  9. दिनभर में कोई भी शारीरिक गतिविधि वाले काम ना करना।

पढ़े  : मानसिक शक्तियों को विकसित करने के सरल अभ्यास

क्या हमारी ऊर्जा को कोई चुरा सकता है ?

बेशक ! हमारी ऊर्जा को कोई भी चुरा सकता है। कई बार ऐसा अनजाने में भी हो सकता है तो कई बार जान-बुझ कर अगर इसे दैनिक जीवन में देखे तो आपने औरा क्षेत्र के दुर्बल होने की वजह को महसूस किया होगा की कुछ लोगो से बात करते वक़्त यहाँ तक की फोन पर भी आप धीरे धीरे खुद को कमजोर महसूस करने लगते है। इसमें मानसिक कमजोरी और निराशा या उदासी भी शामिल है। आप जब बात करके वहा से हटते है तो खुद को बेहद कमजोर महसूस करने लगते है जबकि वो व्यक्ति जिससे आप बात कर रहे थे इसके बाद खुद को बेहतर और ऊर्जावान महसूस करने लगता है।

ये बिलकुल वैसे ही जैसे किसी ऊपरी ऊर्जा का आपको अपने गिरफ्त में ले लेना और आपको पता भी नहीं चले। इसीलिए कई लोग बुरी नजर से बचने के सरल उपाय अपनाते है। आपकी ऊर्जा का आपकी मर्जी के बगैर खींचा जाना आपके कमजोर होने को साबित करता है। इसलिए जब भी आपको लगे की आपकी ऊर्जा को किसी अनजान शक्ति या व्यक्ति द्वारा चुराया जा रहा है आप ऊर्जा शक्ति को चुराने से बचाने के लिए सरल उपाय अपना कर इनसे बच सकते है।

पढ़े  : रैकी से जुड़ी कुछ खास बाते जो आपको पता होनी चाहिए

अगर आपको लगता है की किसी से बात करना बंद करने से आप खुद की ऊर्जा को चोरी होने से रोक लेते है तो ऐसा करना गलत है ऐसा करने से आप उस व्यक्ति को खो देते है। इससे बचने के लिए आप उन व्यक्ति के बारे में गहराई से सोचने से बचे। जो की आपकी ऊर्जा की चोरी की कुछ हद तक रोक लेता है।

औरा क्षेत्र के दुर्बल होने की वजह से कैसे बचे :

आमतौर पर जब ऐसा होता है तब हमें खुद को ज्यादा से ज्यादा पवित्र कर्म करने की सलाह देते है। इनमे मंदिर जाना, भगवान् का स्मरण और खुद को अच्छे कामो में लगाना शामिल है। लेकिन क्या आपने कभी सोचा है की कई बार जब हम बीमार पड़ते है तब झाड़फूंक वाले मोरपंख से हमारा इलाज करते है। पढ़े लिखे लोग शायद इसे अन्धविश्वास माने लेकिन चंदवे वाला मोर-पंख बहुत चमत्कारिक है। खासतौर से हमारे औरा क्षेत्र को मजबूत करने और नकारात्मक ऊर्जा को दूर करने में बहुत शक्तिशाली माध्यम है। ये चुंबकीय ऊर्जा से भरपूर होता है जिस पर हमारी पृथ्वी के दोनों केंद्र काम करते है। इसके अलावा कुछ तकनीक है जिनसे हम औरा क्षेत्र को मजबूत करने के साथ साथ कमजोर होने से बचा सकते है।

पढ़े  : रैकी द्वारा पास मार्जन की क्रिया से हीलिंग

1.) औरा क्षेत्र के दुर्बल होने की वजह से बचने की तकनीक

जब आपको लगे की आपकी ऊर्जा चुराई जा रही है और आपके औरा क्षेत्र में दुर्बलता आ रही है तो आप कुछ उपाय अपना सकते है जिनसे आप औरा क्षेत्र को कमजोर होने से बचा सकते है। इसके लिए आपको सिर्फ कुछ स्टेप फॉलो करने है।

  • सबसे पहले तो सुखासन में बैठ जाइये और दोनों पैरो को घुटने तक मोड़ लीजिये।
  • अब दोनों हाथो को अपने गोद में लाइए और अंगूठे तथा अनामिका अंगुली आपस में जोड़ लीजिये।

ये तरीका आपके आपके ऊर्जा तंत्र को बंद करने के काम आता है इससे आपके औरा क्षेत्र को हम खुद तक सिमित रखने और घनत्व प्रदान करने के लिए काम में ला सकते है।

पढ़े  : रैकी से जुड़ी कुछ खास बाते जो आपको पता होनी चाहिए

2.) आभामंडल को मजबूत करने की तकनीक

दूसरे तरीके को आप उस जगह प्रयोग में ला सकते है जहा आपको साफ हवा की कमी की वजह से समस्या आ रही हो। इसका सही तरीका नाक द्वारा साँस लेना है कई बार गलत तरीके से साँस लेने से भी औरा कमजोर हो सकता है। इसके लिए स्वर विज्ञान सबसे खास है। स्वर विज्ञान को ध्यान में रख कर आप इस समस्या से समाधान पा सकते है।

इसके लिए आधुनिक तकनीक साँस द्वारा ज्यादा से ज्यादा प्राण को अवशोषित करने पर जोर देती है। जिसके लिए नाक के टिप पर और साँस लेने की प्रकिर्या पर हमें चैतन्य होना पड़ता है। माना जाता है की खुद को साँस की प्रक्रिया से जोड़ने से हम ज्यादा से ज्यादा प्राण ऊर्जा को साँस द्वारा वायु में से अवशोषित कर सकते है।

प्राणायाम में कुछ खास विधिया भी है जिनके माध्यम से हम स्वर विज्ञान को ध्यान में रखते हुए प्राण ऊर्जा का संचरण करते है। अनुलोम और विलोम विधि द्वारा भी हम प्राण ऊर्जा को बढ़ा कर औरा क्षेत्र को मजबूत कर सकते है।

पढ़े  : आध्यत्मिक झुकाव को और भी करीब से महसूस करे गुरु मूर्ति त्राटक द्वारा

3.) आभामंडल को मजबूत करने की तकनीक

आभा मंडल को मजबूत बनानाऔरा क्षेत्र के दुर्बल होने की वजह की पहचान करने और इससे बचने की तीसरी तकनीक हमारे कल्पना पर आधारित है। ये विधि बहुत ही ज्यादा प्रभावी है और इसे करने में ज्यादा से ज्यादा आधा घंटा या फिर 5 मिनट लगते है। इस विधि द्वारा हम खुद के औरा क्षेत्र की सफाई करते है और ये करने का सबसे अच्छा समय शाम के अंत का होता है। शाम के वक़्त एक आरामदायक स्थिति में कुर्सी पर बैठ जाइये और खुद को रिलैक्स करने की कोशिश करे।

जब आप शिथिल हो रिलैक्स की स्थिति में आ जाये तब खुद से कुछ ऊपर एक आध्यत्मिक ऊर्जा को महसूस करे। ये सिर्फ आपको कल्पना करना है। इस आध्यतमि ऊर्जा को आप खुद के सहस्रार तक पहुँचते हुए महसूस कीजिये और कल्पना करे की ये ऊर्जा आपके अंदर ऊपर से निचे गति कर रही है बिलकुल धीरे धीरे। आपको महसूस होने लगता है की जैसे जैसे ये ऊर्जा आपके शरीर के औरा क्षत्र को छू रही है वैसे वैसे आपके अंदर की नकारात्मक ऊर्जा ख़त्म हो रही है।

ये अनुभव बिलकुल वैसा ही जैसे किसी कमरे की सफाई करना। आपकी कल्पना इसे एक साकार रूप देती है और आपका मस्तिष्क इसे वैसे ही महसूस करता है जैसे आपकी गाइड लाइन होती है। इसलिए जितनी ज्यादा अच्छी कल्पना शक्ति होगी आपका अनुभव उतना ही बढ़िया होगा। ये क्रिया कुछ हद तक रैकी से मिलती है जिसमे आपको रैकी मास्टर वही सब महसूस करवाता है जो आप इस अभ्यास में करते है। ऊर्जा आपके सर से गुजरते हुए आपके निचले हिस्से तक गति करती है और धरती में आपकी नकारात्मक उर्जाए समा जाती है। और आप खुद में अच्छे बदलाव महसूस करने लगते है।

पढ़े  : क्या होता है जब आप पहली बार ध्यान करते है जानिए कुछ अनदेखी बातो को

ऊर्जा को चोरी होने से बचाने के लिए दुसरो को इग्नोर करना :

कुछ लोग सोचते है की अगर किसी व्यक्ति द्वारा उनकी ऊर्जा चोरी हो रही है तो उससे बचने के लिए वो उससे बात करना ही बंद कर दे तो ? जब बात ही नहीं होगी तो ऊर्जा चोरी ही नहीं होगी। लेकिन ये अच्छा आईडिया नहीं है क्यों की ऐसा करने से आप उस व्यक्ति को खो देते है। या फिर दुसरो की नजर में खुद को कमजोर साबित करने लगते है। इस लिए जब भी आपको लगे की ऐसा कुछ आपके साथ हो रहा है तो अपने औरा क्षेत्र पर ध्यान दे ना की उससे संबंध तोड़ने पर। क्यों की कुछ लोग जानबूझ कर आपकी ऊर्जा नहीं चुराते है।

दोस्तों औरा क्षेत्र के दुर्बल होने की वजह और आभा-मंडल मजबूत बनाने पर आज की पोस्ट उम्मीद करता हूँ आपको अच्छी लगी होगी। कमेंट के माध्यम से अपनी राय जरूर दे। अगर आपने भी किसी तरह का आभामंडल से जुड़ा अनुभव किया है तो आप अपने अनुभव हमारे साथ शेयर कर सकते है।

3 COMMENTS

  1. बहुत खूब!

    अब एक पोस्ट आपके खुद के बारे में भी कीजिये, ताकि आपको और बेहतर तरीके से जान सकें.

    मसलन, आपकी आध्यात्मिक यात्रा की शुरुआत, वर्तमान में प्राप्त सिद्धियां, अनुभव, लक्ष्य आदि.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.