Lucid Dream Myths we must aware कितना जानते है आप मनचाहे सपनो के बारे में ?

0

मनचाहे सपने देखना एक तरह से हमारी अधूरी इच्छा को पूरा करने के जरिया है. आपको याद हो तो बचपन में हम जिस चीज के लिए दिनभर तरसते थे सपने में हम उसे पा लिया करते थे. जैसे जैसे बड़े होते जाते है हमारा Conscious mind हमें इसके बारे में deeply जाने से रोकना शुरू कर देता है. अपने Subconscious mind को explore ना कर पाने की वजह से हम Lucid Dream Myths का शिकार हो जाते है.

Lucid dreaming कोई कल्पना नहीं है. आज वैज्ञानिक तरीके से इसे prove किया जा चूका है. समय है इसका सही फायदा लेने का लेकिन इससे पहले आपको इसके बारे में सही जानकारी के बारे में जानना होगा. Lucid dream यानि सपनो को अपने मन के अनुसार देखना ये एक ऐसा अभ्यास है जिसमे हम सपनो को अपने इच्छा के अनुसार देख और बदल सकते है.

Lucid Dream Myths we must aware Hindi

बहुत से लोग इसका अनुभव सही तरीके से नहीं कर पाते है जिसकी वजह उनके बीच फैली कुछ गलत अवधारणा है. अगर आप इसका सही अनुभव करना चाहते है तो जरुरी है की आप इसके बारे में जान ले की ये काम कैसे करता है और इसका सही तरीका क्या है.

कुछ लोग मानते है की astral travel और Lucid dreaming एक जैसा अभ्यास है जब की ऐसा नहीं है और इसका डायरेक्ट किसी भी तरह से Sleep paralysis से भी कनेक्शन नहीं है. आइये जानते है कुछ ऐसे ही भ्रम और उनसे जुडी सच्चाई के बारे में की आखिर मनचाहे सपने देखने के अभ्यास को लेकर हमारे मन में आज भी डर क्यों फैला है.

Lucid Dream Myths we must aware Hindi

lucid dreaming में अनंत संभावनाए छिपी हुई है. इसके जरिये हम unconscious mind को explore कर सकते है, अलग अलग तरह के लोगो से बात कर सकते है ( जो भौतिक नहीं है ) और तो और अपनी किसी भी बड़ी से बड़ी समस्या का समाधान भी हम इसके जरिये पा सकते है.

इतनी संभावनाए होने के बावजूद हम इसकी ओर इतना प्रयास नहीं करते है जिसकी वजह कुछ lucid dreaming myths है जो हमें सच को समझने से रोकती है.

इस article में हम जानने वाले है मनचाहे सपने देखने की तकनीक से जुडी कुछ गलत अवधारणा के बारे में जिसकी वजह से हम इसे लेकर इतना ज्यादा aware नहीं है. ये एक ऐसी तकनीक है जो हमारे Subconscious mind से जुड़ी है. हमारी आन्तरिक चेतना को समझने के लिए इससे बढ़िया अभ्यास शायद ही कोई ओर हो.

मनचाहे सपने देखने की तकनीक से जुड़े भ्रम और हकीकत

हमारा दिमाग इस ब्रह्माण्ड ( कम से कम इस दुनिया ) की सबसे बड़ी पहेली बना हुआ है. हमारा मस्तिष्क भी इस ब्रह्माण्ड की तरह अनंत है और उतना ही अनंत है इसका ज्ञान. आज भी कई ऐसे रहस्य है जिनके बारे में जानना बाकि है और Lucid dream उनमे से एक ही है.

सपने देखने और मनचाहे सपने देखना दोनों अलग अलग स्थिति है. इसमें हम जो अनुभव करते है वो सामान्य समझ से बाहर है.

आज दुनियाभर में ऐसे कई Lucid Dream Myths फैले हुए है जो हमें इससे दूर करते है. इन भ्रम के अनुसार मनचाहे सपने देखना सिर्फ एक छलावा है और इसका हम पर नुकसान भी हो सकता है. अगर आप मनचाहे सपने देखना चाहते है लेकिन डर रहे है तो आपको इन myth के बारे में जानना होगा.

1हम पूरी रात इस तकनीक को अनुभव कर सकते है

ज्यादातर लोगो का मानना है की हम पूरी रात जब तक सोते है तब तक इसका अनुभव कर सकते है लेकिन ये सच नहीं है. अगर आप Sleep pattern को समझते है तो आपको अच्छे से पता होगा की बिस्तर पर सोने के ठीक 90 minute बाद हम Rapid eye movement यानि REM की stage में पहुँचते है.

इस अवस्था में हम पहला सपना देखते है और इसका duration लगभग 10 minute ही होता है इससे ज्यादा नहीं. जैसे जैसे रात गहराती है हमारे सपने देखने के टाइम में भी बढ़ोतरी होती है और सुबह तक जाते जाते हम 20-25 minute की duration तक सपना देख पाते है.

expert के अनुसार हम हर रात को लगभग 90 minute तक सपने देखते है यानि 7 से 8 घंटे की नींद का सिर्फ 90 minute ही हम सपना देखते है. कई बार यही सपने lucid dreams में convert हो जाते है जिन्हें कुछ लोग हर रात को तो कुछ लोग सिर्फ कुछ खास condition में ही experience कर पाते है.

अगर आप मनचाहे सपने की तकनीक के टाइम को बढ़ाना चाहते है तो इसके लिए आपको अपने शरीर को जितना हो सके थकाना होगा. जितना ज्यादा आपका शरीर थकेगा ( लेकिन brain नहीं ) उतना ही ज्यादा chance आपके Lucid dreaming के बनने लगते है.

अगर आप notice करेंगे तो पाएंगे की Sleep paralysis, lucid dream, astral projection and out of body experience ये सब अनुभव आपको तब ज्यादा होते है जब आपका brain active रहता है लेकिन शरीर थक जाता है. ऐसी स्थिति में ये सोचना की हम पूरी रात इसका अनुभव कर सकते है ये संभव नहीं है.

2आप दूसरो के साथ lucid dream को share कर सकते है

अगर आपने Inception Hollywood movie देखी है तो आपके mind में ये ख्याल जरुर आया होगा की हम सपनो को share कर सकते है और lucid Dreaming को भी. इसमें कोई शक नहीं की ये मूवी बहुत ही बढ़िया मूवी है.

लेकिन जो इसमें बताया है वो सिर्फ एक Fantasy work है और कुछ नहीं. आप सपनो को share नहीं कर सकते है. जिन लोगो को ऐसा लगता है वे सिर्फ Lucid Dream Myths का शिकार है और कुछ नहीं.

जो भी आप आप lucid dream के दौरान अनुभव करते है उसे किसी के साथ भी share करना संभव ही नहीं है. अभी तक ऐसी कोई तकनीक नहीं बनी है जिसके जरिये हम मनचाहे सपने देखने के साथ साथ उन्हें किसी और के साथ share भी कर सके.

3आप अपने ही सपने में फंस कर रह जाओगे

ये अवधारणा भी इस मूवी से ही पैदा हुई है. जैसा की इस मूवी में दिखाया गया है की हम अपने आसपास की Creation को इतना Real बना लेते है की सपने और हकीकत में फर्क नहीं कर पाते है. आसानी से mystical world of lucid dreams में enter होने के लिए खास तरह का इंजेक्शन लिया जा सकता है.

अभी तक कुछ ऐसे केमिकल की खोज हुई है जिनके हमारी body में जाने के बाद शरीर और दिमाग का तालमेल अलग किया जा सकता है. इसका इस्तेमाल अक्सर झूठ को पकड़ने के लिए किया जाता है. व्यक्ति को ऐसी स्थिति में ले जाना की वो सच बोले ये तकनीक बन चुकी है लेकिन अगर हमने reality और dreams में फर्क पता नहीं किया तो अपने ही सपने में फंस कर रह जाए ऐसा अभी तक कोई केस सामने नहीं आया है.

कई बार हमें ऐसा लगता है मानो हम काफी लम्बे समय से अपने सपने में फंसे हुए थे लेकिन हकीकत में हम ज्यादा से ज्यादा इस तरह की स्थिति में 20 minute तक ही होते है इससे ज्यादा नहीं. कुछ लोग शिकायत करते है की वे लम्बे समय तक मनचाहे सपने को अनुभव नहीं कर पाते है तो वही कुछ लोग ये भी अनुभव करने की दावा करते है की उन्होंने खुद को dream world में फंसा हुआ महसूस किया.

हकीकत में ये सिर्फ और सिर्फ Lucid Dream Myths है और कुछ नहीं.

पढ़े : कच्चा कलवा मसान की साधना विधि वशीकरण और तांत्रिक अभिचार के लिए

4Lucid dreaming is not real

ये सब ज्यादातर लोगो को सिर्फ कल्पना या व्यक्ति का खुद का भ्रम लगता है लेकिन हमेशा ऐसा सही नहीं है. कुछ लोगो को इसका अनुभव हर रोज होता है वो भी बिना किसी कोशिश के. हालाँकि आज भी एक बड़ा हिस्सा इसका अनुभव नहीं कर पाता है सिवाय किसी खास परिस्थिति के.

Lucid Dream real होते है या नहीं इसे लेकर सबसे पहले 1975 में Dr. Keith Hearne ने अपना पहला कामयाब experiment किया. इसके अलावा Dr. Hearne ने ये दावा किया की उन्होंने इस दौरान वे अपने lucid dream के दौरान लोगो को observe कर रहे थे. इसके लिए उन्होंने Electro-oscillograph का सहारा लिया था और उनका ये अनुभव सफल रहा.

5अनुभव के लिए आपको spiritual person बनना पड़ेगा

जो लोग meditation and deep breathing का अभ्यास करते है वे आसानी से अपने subconscious mind के साथ जुड़ सकते है. ये Process कुछ लोगो के लिए बेहद intuitive होती है और उनके अनुभव अलौकिक बन जाते है. अगर आप Lucid dreaming का अनुभव करना चाहते है तो इसके लिए आपको किसी भी तरह के Spiritual person or group से जुड़ना जरुरी नहीं है.

बहुत सारे लोगो ने बिना किसी कोशिश के भी conscious dreams का अनुभव किया है. बच्चे जो बहुत ज्यादा कल्पनाशील होते है बड़ी आसानी से इसका अनुभव कर सकते है. अगर आप natural lucid dreamer नहीं है तो भी आप इसके लिए किसी खास तकनीक या फिर Group of technique का सहारा लेकर इसका अनुभव कर सकते है.

ये तकनीक आपके observational awareness को बढ़ाती है जिसके रिजल्ट में हम अपने Subconscious mind को explore करना शुरू कर देते है. कुछ खास तकनीक निचे दी गई है जैसे की

  1. Dream Initiated Lucid Dream (DILD)​
  2. Mnemonic Induction Of Lucid Dreams (MILD)
  3. Wake Initiated Lucid Dream (WILD)​
  4. Dream Exit Induced Lucid Dream​ (DEILD)
  5. Finger Induced Lucid Dreams (FILD)

आप इनमे से किसी एक तकनीक का सहारा ले सकते है.

6You can always control your dreams

लोगो में ये भी एक Lucid Dream Myths फैला हुआ है की सपनो को control किया जा सकता है. अगर आप अपने thoughts and actions को maximum level तक भी control कर पाते है तब भी आप सपनो को 100% control नहीं कर सकते है.

इसमें एक लम्बा समय लगता है तभी आप इसमें अनुभवी बनते है. अपने सपनो में आप different characters and environments को imagine कर सकते है लेकिन उन्हें control नहीं. ये बिलकुल वैसे ही जैसे की एक मूवी को देखना जहाँ आप सिर्फ एक दर्शक बन कर देखते रहते है. आप सिर्फ मूवी देख सकते है लेकिन उन्हें control नहीं कर सकते है.

अगर आप अपने सपनो पर control पाना चाहते है तो इसके लिए आपको एक लम्बे समय की मेहनत चाहिए. इसमें भले ही समय लगे लेकिन एक दिन आप अपने सपनो को control करने में कामयाब हो ही जाते है.

पढ़े : Ouija board’s mysterious origins आप इसके बारे में कितना जानते है ?

7It is only a religious practice

आपको ये जानकर हैरानी होगी की The history and origin of lucid dreams काफी पुराना है लगभग 1000 BCE और आज भी ये रहस्यमयी बना हुआ है. हिन्दू धर्म ग्रन्थ Upanishads में भी इसका जिक्र है और वहां इसे समझाया गया है.

इसके अलावा Greek philosophers इसे अपने डायरी के जरिये समझाते है. ये किसी भी प्रकार से एक धर्म या समुदय तक सिमटा हुआ नहीं है. अलग अलग लोगो द्वारा इसका अनुभव किया जाता आ रहा है और उनके अर्थ भी अलग अलग ही रहे है.

पशे : Types of Jinn Possession जिन्नात इंसानों के शरीर पर किस तरह कब्ज़ा करते है

8Lucid dreaming can be mentally exhausting

ये सबसे top Lucid Dream Myths में से एक है. Natural lucid dreamer’s जिन्हें Parma lucid dreamer’s के नाम से भी जाना जाता है ये दावा करते है की हालाँकि वे हर रात को इसका अनुभव करते है लेकिन उनके लिए normal dream का अनुभव करना बेहद मुश्किल है. इसकी वजह से वे अपने ड्रीम्स को याद नहीं कर पाते है जो उन्हें मेंटली काफी ज्यादा परेशान करता है.

अगर आपके साथ ऐसा हो रहा है तो घबराने की जरुरत नहीं है. ये एक प्राकृतिक क्रिया है और समझने से हम इसके द्वारा होने वाली समस्या को टाल सकते है.

9It can have negative effects on your mental health

Liat Aviram and Dr. Nirit Soffer-Dudek द्वारा की गई एक रिसर्च में ये बात सामने आई है की हालाँकि कुछ लोग अपनी गलती की वजह से इसका सही अनुभव नहीं कर पाते है लेकिन इसका मतलब ये नहीं है की इसका हमारी मेंटल हेल्थ पर किसी तरह का कोई नुकसान होता है. ये अभ्यास पूरी तरह सेफ है और प्राकृतिक है.

कुछ लोगो ने तो ये दावा किया है की इसका उनके mental health पर positive effect देखने को मिला है.

10Sleep paralysis is vital for lucid dreaming

एक नार्मल नींद के दौरान Sleep paralysis का अनुभव होना हो सकता है लेकिन Lucid dream के दौरान ऐसा नहीं हो सकता है. जो लोग मानते है वे सिर्फ Lucid Dream Myths का शिकार है. जब हम रिलैक्स होते है तब हमारी मसल्स भी रिलैक्स हो जाती है. ऐसा हमारे लिए जरुरी है ताकि सोने के दौरान हमारा शरीर किसी भी तरह की हरकत करने से बचे.

Sleep paralysis की स्थिति तब पैदा होती है जब हमारा शरीर रिलैक्स रहता है और brain active हो जाता है. हालाँकि इस बात से इनकार नहीं किया जा सकता है की कुछ lucid dream techniques ऐसी है जो Sleep paralysis की वजह बनती है लेकिन ज्यादातर तकनीक में ऐसा नहीं होता है और वे 100% सेफ होती है.

11Heal various diseases and illnesses through lucid dreams

हम इस अवस्था में अपनी mental problems को पहचान सकते है लेकिन किसी तरह के chronic diseases को ठीक नहीं कर सकते है. ज्यादातर लोगो को लगता है की वे इस अवस्था में अपनी किसी भी बीमारी को ठीक कर सकते है लेकिन हकीकत में ऐसा नहीं है.

मनचाहे सपने देखने की तकनीक के जरिये हम emotional issues को पहचान तो सकते है लेकिन अपने आप ठीक नहीं कर सकते है. Lucid dream techniques सिर्फ एक जरिया है ना की कोई healing technique इसलिए इस तरह के भ्रम में फंसने से बचे.

12Astral projection and lucid dreaming are the same things

ज्यादातर लोगो को लगता है की Astral projection and lucid dreaming ये दोनों एक ही है लेकिन ऐसा नहीं है. Astral projection के दौरान हमारा astral body इस भौतिक शरीर को छोड़कर different worlds and dimensions को explore करना शुरू कर देती है. आपको अपने brain को लगातार इस बात को लेकर अहसास करवाते रहना है की आपका astral body इस शरीर को छोड़ रहा है.

ये सब अचानक ही होता है और आपका शरीर सोने लगता है. आज भी ये एक ऐसा concept है जिसे scientifically prove नहीं किया जा सका है. इस तरह के Lucid Dream Myths से बचे की ये दोनों एक ही है.

इसके विपरीत मनचाहे सपने देखने की तकनीक को scientifically proven किया जा चूका है. ये हमारे खास सपने है और कुछ नहीं जो हमें explore करने का मौका देते है. ये वो सपने है जिसमे हमें पता होता है की हम सपने देख रहे है. हमारी चेतना इस शरीर में ही रहती है और समय के साथ अभ्यास करते करते हम मनचाहे सपने देखना शुरू कर देते है.

13Lucid dreaming can harm your body

कुछ लोग ऐसे है जिनके मन में इस बात का डर बैठा हुआ होता है की अगर वे Lucid dreaming करते है तो इसका उनके शरीर पर बुरा असर पड़ सकता है. इसकी वजह से या तो उन्हें अनुभव नहीं होते है या फिर अगर होते भी है तो उस तरीके से नहीं जिस तरीके से होना चाहिए.

भला मनचाहे सपने देखना हमारे शरीर और मस्तिष्क पर किस तरह से बुरा असर डाल सकता है. ये सिर्फ एक तरह की alter condition of our brain and its consciousness है जिसमे हम सामान्य नींद की जगह मनचाहे तरीके से सपनो को देखते है.

क्या इस तरह से सपना देखना सही है ? निष्कर्ष

दोस्तों Lucid dreaming के हमारी लाइफ में कई अलग अलग प्रयोजन हो सकते है. एक्सपर्ट इसे एक तरह की therapeutic skill की नजर से देखते है जिसे कोई भी सीख सकता है. कोई भी व्यक्ति चाहे किसी भी उम्र का हो, किसी भी जगह का हो या फिर किसी भी मेंटल कंडीशन का हो इसका अनुभव कर सकता है.

हालाँकि इसके बुरे प्रभाव से इनकार नहीं किया जा सकता है लेकिन इसके फायदे देखे तो इसके सामने ये कुछ भी नहीं है. इसकी वजह कुछ Lucid Dream Myths है जो हमें अभ्यास में आगे बढ़ने से रोकती है. किसी भी चीज का पूरा ज्ञान न होना ही डर और गलतफहमी की वजह बनता है. उम्मीद करता हूँ इससे डरने की बजाय इसे समझकर आगे बढ़ने की कोशिश करेंगे.

Never miss an update subscribe us

* indicates required

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here