कच्चा कलवा मसान की साधना विधि वशीकरण और तांत्रिक अभिचार के लिए

0

कच्चा कलुआ एक ऐसी शक्ति है जो तांत्रिक अभिचार से भी ऊपर है. जिन लोगो के पास ये शक्ति होती है उनके लिए किसी भी तरह का तंत्र कर्म करना मुश्किल नहीं है. मुख्य रूप से वशीकरण और बड़े स्तर का तांत्रिक अभिचार करने के लिए कलवा साधना का प्रयोग किया जाता है.

इस साधना के फायदे अनेको है जिनकी वजह से लोग इसे हासिल करने की इच्छा रखते है. तांत्रिक इस शक्ति के बल पर खजाने की तलाश करते है और अचूक वशीकरण भी. इसके अलावा इस शक्ति के जरिये मारण कर्म भी किया जाता है जिसमे ये मुख्य रूप से छोटे बच्चो और औरतो को अपना निशाना बनाती है.

कलवा साधना विधि और विधान

मेने पुरानी पोस्ट में इस शक्ति के बारे में बताया है की किस तरह ये शक्ति लोगो को परेशान करती है और आसानी से पीछा नहीं छोडती है. ये शक्ति सिर्फ उच्च स्तर की तांत्रिक साधना के बल पर ही काबू की जाती है बावजूद इसके ये शक्ति आपके प्रति वफादार होगी इसकी कोई गांरटी नही है.

कुछ लोग इसे हासिल करने के लिए ब्लॉग पर request भी भेजते है उनके लिए यहाँ पर साधना share की जा रही है. जब तक आप खुद को नहीं साध लेते हा तब तक कोई भी बाहरी शक्ति आपके लिए काम नहीं करेगी. आइये कलवा मसान साधना के बारे जानते है.

कलवा साधना विधि और विधान

अगर आप इस साधना को करना चाहते है तो आपको बता दे की ये आसान साधना तो बिलकुल नहीं है. दूसरा ये साधना एक तांत्रिक साधना है इसलिए जब तक आपको self protection shield spell यानि आत्म रक्षा मंत्र की सिद्धि ना हो तो ये साधना ना ही करे. साधना के दौरान और बाद में आपको छलावे का अनुभव होगा जिससे आपको बचना है. निचे कलवा साधना मंत्र दिया गया है आप देख सकते है.

कलवा कलवा गां गि गु

आहि आहि को काल कमानी

आव आव रह रह देश विदेशा खींचे आव

बाते मोरी अब पतिआव

अगर आपका मन स्थिर है तभी ये साधना करे नहीं तो मन विचलित होने की स्थिति में आप छलावे के जाल में फंस सकते है और साधना बंद हो सकती है. किसी लालच को लेकर अगर ये साधना करते है तो साधना के दौरान आपको लगेगा की आपकी wish पूरी हो रही है लेकिन ऐसा नहीं होगा. स्थिर मन से इस साधना को पूरे 11 दिन करना होगा.

साधना विधि

किसी नाबालिग बच्चे के शव का कफ़न ले आये और शव के मुह के थूक को कफ़न पर लपेट दे. आधी रात के समय किसी एकांत जगह पर बबूल के पेड़ का चुनाव करे. इस कफ़न को उसके निचे बिछा दे. इस पेड़ से कुछ ही दूरी पर मल त्याग करके आये और गुदा साफ किये बगैर ही उस कफ़न पर आसन लगाकर बैठ जाए.

एक पाव कच्चा मांस परोसे और आँखे बंद कर ऊपर दिए गए मंत्र को 108 बार जप करे. अब परोसे गए मांस के टुकड़े में से छोटा सा टुकड़ा ले और उसे अपने जीभ के निचे दबा कर मानस जाप में फिर से 108 बार मंत्र का जप करे. अब उस मांस के टुकड़े को मुह से निकाल कर मस्तक पर लगा ले और फिर वहां से कफ़न लेकर चले जाए.

ये साधना 11 दिन तक चलती है. इसमें ध्यान दे की साधना के दौरान और बाद में लौटते समय आपको किसी से बात नहीं करनी है. अगर आपको लगे की कोई वहां ;पर है और आपको आवाज लगा रहा है तब भी आपको उस पर ध्यान नहीं देना है. जब कलवा आपके सामने आकर आपसे बात करे और आवाज लगाए तभी जवाब दे. ऐसा होने पर मांस और मदिरा परोसे और वचन लेकर घर लौट आये.

मसान साधना का मुख्य उदेश्य

कच्चा कलवा साधना का मुख्य उदेश्य उन कामो को पूरा करना है जो आम तांत्रिक साधना से भी संभव नहीं होते है. कलवा साधना इसलिए भी की जाती है की क्यों की कलवा पर बड़ी बड़ी तांत्रिक साधना का कोई भी कोई बंधन नहीं होता है. कलवा साधना निम्न उदेश्य से भी की जाती है

  • जहाँ पर तांत्रिक अभिचार फ़ैल हो जाते है वहां ये शक्ति काम करती है.
  • इस शक्ति का मुख्य निशाना गर्भवती औरते और छोटे बच्चे होते है कई बार ये पुरुषो को भी अपना निशाना बना लेते है.
  • किसी संपन घर के कुल का नाश करना हो या फिर लम्बे समय तक का श्राप लगाना हो.
  • कलवा पर दैवीय शक्ति भी काम नहीं करती है जब तक की कोई शक्तिशाली अनुष्ठान ना किया जाए. हालाँकि कलवा को हटाने की साधना का उपाय भी होता है.
  • कलवा को आमतौर पर पुराने समय में खजानों की सुरक्षा में लगाया जाता था. अगर आप किसी खजाने को हासिल करना चाहते है तो आपको कच्चे कलवा यानि मसान को काबू में करना होगा.
  • कलवा साधना वशीकरण में भी काम आती है कलुआ वीर की साधना करने वाले साधक बड़े से बड़ा वशीकरण प्रयोग कर सकता है.

इन सबके बावजूद कलवा मसान की साधना बेहद खतरनाक होती है. उच्च कोटि के तांत्रिक के अलावा इस साधना को करना न सिर्फ दुष्कर है बल्कि इसका असर साधक पर उल्टा भी हो सकता है.

खजाने की सुरक्षा में कलवा का अहम् रोल

ऐसा माना जाता है की खजाने के आसपास 3 शक्तियां होती है पहली जिन्नात, दूसरी तक्षक और तीसरी मसान इसलिए अगर आप कही पर गड़ा हुआ खजाना देखते है और उसे हासिल करना चाहते है तो आपको इन 3 में से एक शक्ति को काबू में करना होता है. ऐसा माना जाता है की पुराने टाइम में राजा महाराजा अपना खजाना जहाँ पर गाड़ते थे उसकी रक्षा के लिए छोटे छोटे बच्चो की बलि देते थे.

बलि और तांत्रिक शक्ति साधना के बल पर उनकी आत्मा को उस खजाने के आसपास कैद किया जाता था जिस पर सिर्फ राजा के वंशज ही control कर सकते थे. अगर उनके अलावा कोई खजाने को हासिल करने की कोशिश करता तो उसे ये शक्तियां नहीं छोडती है फिर चाहे वो कितना बड़ा तांत्रिक ही क्यों न हो.

जैसा की मैंने आपको अपनी पिछली पोस्ट गड़े हुए खजाने को हासिल करने के खतरे में बताया था की किस तरह लोग अपनी जान पर खेल कर खजाने को हासिल करने की कोशिश करते है. एक बाबा है जो इसमें लोगो की help करते थे लेकिन फिर उन्होंने ये छोड़ दिया क्यों की ये शक्तियां काफी खतरनाक थी और ये तंत्र बंधन को काटने के बावजूद लोगो को नुकसान पहुंचा रही थी.

कलवा साधना और छिपे हुए खतरे – निष्कर्ष

कलुआ वीर के बारे में सुनने के बाद ब्लॉग पर काफी सारी request हमें मिली थी जिसमे कलुआ वीर की साधना, कलुआ सिद्धि transfer जैसे request शामिल थी. कुछ लोगो को बिना साधना किये कलवा चाहिए जो उनके लिए काम कर दे. दोस्तों जिन्न और कलवा उन शक्तियों में से है जो transfer नहीं होती है.

आपको खुद को इस शक्ति के लायक बनाना पड़ता है. आप साधना करे ना करे लेकिन सच तो ये है की आपको खुद को इस शक्ति के लायक बनाना पड़ता है तभी ये आपके लिए काम करती है वर्ना फायदे की जगह नुकसान ही होना है.

कभी भी लालच के चलते इन साधनाओ को ना करे वर्ना आपका लालच आपको ही हानि पहुंचा सकता है. किसी भी साधना को बिना साधे हासिल करना अनाड़ी के हाथो में तलवार देना है जो दुसरे से पहले खुद को ही नुकसान पहुंचा लेता है.

नोट : कुछ समय में हम ब्लॉग पर online कोर्स शुरू करने वाले है जिसमे tratak मैडिटेशन, Power of your subconscious mind, tantra mantra ritual and islamic amal ritual मुख्य कोर्स और service है. अगर आपकी रूचि इसमें है तो हमें contact कर सूचित कर सकते है.

Never miss an update subscribe us

* indicates required

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here