वशीकरण के लिए काम-पिशाचनी साधना जो बेहद चमत्कारिक लेकिन खतरनाक है – सावधान

1

सबसे जल्दी सिद्ध की जाने वाली साधना कौनसी है जिसके अनुभव हमें बेहद आसानी से हो सकते है और कम समय में वो सिद्ध भी की जा सके ? kaam pishachni sadhna for vashikaran in hindi यानि वशीकरण के लिए काम-पिशाचनी साधना सिद्धि का विधान करने से पहले इसके बारे में आज इस पोस्ट में बताने जा रहे है कुछ जरुरी बाते जो आपको समझनी चाहिए. top 10 powerful and easy ritual sadhna क्या है और अगर बात करे चमत्कारिक खतरनाक साधना के बारे में तो कर्ण पिशाचनी  ( karn pishachni sadhna ) और काम पिशाचनी ( Kaam pishachni sadhna ) सबसे ऊपर आती है. वशीकरण के लिए काम-पिशाचनी साधना करना कितना सही है ? क्या हमें ये करनी चाहिए ? ऐसी ही कुछ बातो के बारे आज जानते है.

वशीकरण के लिए काम-पिशाचनी साधना

काफी समय पहले एक ऐसी क्लाइंट ने हमसे contact किया था जिसके पति उसे छोड़ने वाले थे. कई फ्रॉड बाबा के चक्कर काटने के बाद वो ना तो किसी तरह का खर्च करने में सक्षम थी ना ही उसके पास ज्यादा समय था. expert ने उसे वशीकरण के लिए काम-पिशाचनी साधना के बारे में हिदायत देते हुए कहा की इसे करना गलत है लेकिन तुम कर सकती हो. किसी तरह के नुकसान के लिए में हूँ. उस महिला ने इसका अनुभव पहली रात्रि से ही कर लिया था और कुछ दिन इसे किया भी. साधना विधान पूरा न होने की वजह से उसे 100% result तो नहीं मिला लेकिन इसके बाद उसके पति का स्वभाव उसके प्रति नरम पड़ गया.

उस महिला को हालाँकि डर की अनुभूति कुछ दिन हुई जरुर थी लेकिन धीरे धीरे आध्यात्मिक पूजा पाठ और spiritual activity की वजह से सब कुछ सही हो गया. आज की पोस्ट में हम ऐसी कुछ जरुरी बातो के बारे में बताने जा रहे है जो आपको ध्यान रखनी चाहिए. इन्टरनेट पर बताई जाने वाली साधना खासतौर से youtube पर करने से पहले आपको किसी जानकार से इसकी पूरी जानकारी ले लेनी चाहिए ताकि कोई नुकसान ना हो. अगर आप किसी साधना के बारे में जानना चाहते है तो हमें कमेंट बॉक्स में जरुर बताए.

वशीकरण के लिए काम-पिशाचनी साधना

वशीकरण का प्रयोग हर किसी पर प्रभावी नहीं होता है. इसकी कई वजह होती है जैसे की सामने वाले का आपके thoughts को accept ही नहीं करना, strong mentality personality का व्यक्ति होना. लेकिन क्या हो अगर किसी तरह सामने वाले की वासना को भड़का दिया जाए तो ? काम – वासना एक ऐसी फीलिंग है जो दबाई नहीं जा सकती है, यही वजह है की काम-पिशाच की साधना असफल नहीं होती है.

ये एक lust spell ritual है जिसमे माध्यम के mind में वासना से भरे विचार डाले जाते है. ये विचार किसी ऐसी शक्ति के जरिये डाले जाते है जो प्रयोग करने वाला का प्रतिरूप ले कर माध्यम को attract करती है. दूसरी किसी भी प्रोसेस में किसी के mind में विचार डालने पर वो असर करेगा या नहीं ये निर्भर करता था की उसका आज्ञा चक्र और औरा क्षेत्र कैसा है लेकिन इसमें ऐसा नहीं है. इसका असर सामने वाले पर जल्दी ही देखने को मिलता है.

सबसे जल्दी कार्य की सिद्धि करने वाला प्रयोग

ऐसे कई लड़के और लडकिया है जो वशीकरण करवाने को लेकर गूगल पर हजारो फ्रॉड बाबा से contact कर लेते है और बाद में पता चलता है की उन्होंने सिर्फ आपसे पैसे लिए है किया कुछ नहीं. ताजा रिसर्च के अनुसार Google पर Search किये जाने वाले top keyword में वशीकरण सबसे ऊपर है. Black magic and voodoo अभी इतने ट्रेंड पर नहीं है. क्या वाकई vashikaran इतना easy है की कोई भी इसे कर सके ?

वशीकरण फ़ैल क्यों होता है पर हम पहले ही लिख चुके है लेकिन आने वाली पोस्ट में हम आपको बतायेंगे की आपने वशीकरण करवाया है वो सामने वाले पर हुआ है या नहीं इसका कैसे पता चलेगा ? इसलिए blog के साथ बने रहिये. काम पिशाच या काम पिशाचनी साधना जल्दी सफलता दिलाने वाली ritual है क्यों की इसमें हम negative power को attract करते है.

हम देवी देवता की पूजा पाठ करते है और हमें इसका फल काफी देर से मिलता है लेकिन अगर हम किसी लोक देवी देवता की पूजा पाठ करे तो हमें उसका रिजल्ट जल्दी मिलता है. कुछ शक्तिया जल्दी काम करती है लेकिन इसका मतलब ये नहीं की वो हमेशा आपको सही रिजल्ट देगी. हमेशा spiritual power की पूजा करे उनका असर देरी से मिलता है लेकिन इसका नुकसान नहीं होता है, जबकि कुछ पॉवर की पूजा पाठ सिर्फ शक्ति अर्जन और कार्य सिद्धि के लिए की जाए तो चूक होने पर नुकसान भी होता है.

ना करे तो ही अच्छा है

आपने चौराहे वाले देवी चोगान माता के बारे सुना होगा, हर जगह अपने लोकल देवी देवता होते है या फिर बेहतर समझने के लिए आप अपने पित्तर को ही ले लीजिये. आप उनकी जब तक पूजा करते है वो आप पर अपनी कृपा बनाए रखते है और चूक होने पर आपका नुकसान भी करते है. क्या देवी देवता ऐसा करते है ? नहीं सिर्फ पृथ्वी के नजदीक विचरण करने वाली शक्तिया ही ऐसा करती है वो चाहती है की आप उनकी पूजा करते रहे और वो अपनी कृपा आप पर बनाए रखे.

अगर आप वशीकरण के लिए काम-पिशाचनी साधना करने के बारे में सोच रहे है ताकि कम समय में आपको रिजल्ट मिल जाए तो पहले इसके नुकसान के बारे भी सोच विचार कर लीजिये. इस बात की कोई गारंटी नहीं की आप वशीकरण के लिए काम-पिशाचनी साधना कर रहे है और आपका उदेश्य पूर्ण होने के बाद वो शक्ति आपको छोड़ देगी.

काल ज्ञान साधना के लिए लोग कर्ण पिशाचनी साधना करते है लेकिन उसके नुकसान के बारे में पहले विचार नहीं करते है और बाद में पछताते है. ये साधना भी आपको उसी स्थिति में ले जा सकती है.

वशीकरण के लिए काम-पिशाचनी साधना के नुकसान

kaam pishachni sadhna for vashikaran in Hindi करने से पहले इसके नुकसान के बारे में जान लेना चाहिए. ऐसे कुछ पॉइंट आपको बताने जा रहे है जहा पर आपको नुकसान पहुँच सकता है इसलिए सोचे समझे और फिर करे.

  1. वशीकरण के लिए काम-पिशाचनी साधना करने से पहले आपको गुरु मंत्र या इष्ट की पूजा की विधि का ध्यान होना चाहिए.
  2. ये शक्ति रात्री में काम करती है और इस दौरान अगर आपकी एकाग्रता भंग होती है तो इसका असर उल्टा हो सकता है, काम पिशाचनी का अटैक आप पर भी हो सकता है.
  3. इस साधना का सीधा सबंध आपकी खुद की काम वासना से है और आप खुद इस शक्ति का जरिया बनते है तब ये शक्ति आपकी और आकर्षित होती है.
  4. ये साधना इतनी उग्र है की आपको इसका असर पहले ही रात्रि देखने को मिल सकता है, लेकिन डर कर इसे बिच में छोड़ देने से ये शक्ति नाराज हो सकती है.
  5. इस साधना को करना बेहद सरल है लेकिन पीछा छुड़ाना बेहद मुश्किल क्यों की ये शक्ति सिर्फ अपना जरिया ढूंढती है. आपको लगता है की आपका काम हो रहा है लेकिन वास्तव में ये devil more powerful होती है.

काम-पिशाच साधना का काला सच और सच्ची कहानी

मध्य युग के समय की बात है एक गाँव में 22 साल का नवयुवक रहता था. उसका रंग सांवला होने की वजह से उसकी शादी नहीं हो रही थी और इसकी वजह से वो बेहद परेशान रहता था. बात सिर्फ शादी तक नहीं थी क्यों की वो काम वासना से पीड़ित रहता है और ऐसे हालात में वो कुछ गलत कदम और व्यभिचार की तरफ भी आकर्षित होने लगा था जिसकी वजह से उसे गाँव से बाहर निकाल दिया गया.

भटकते भटकते वो युवक एक जंगल में पहुँच गया और वहां उसे एक अघोरी मिला जो शव साधना में व्यस्त था. उस युवक गोकुल ने उसकी बड़ी सेवा की जिसकी वजह से वो उससे खुश था. जब अघोरी की साधना पूर्ण हो गई तब उसने गोकुल को भोजन ऑफर करना चाहा. गोकुल की सहमती के बाद अघोरी ने जल हाथ में लिए मंत्र बुदबुदाया और हवा में छिड़क दिया. हवा में एक सुंदरी प्रकट हुई और उसने दोनों को भोजन प्रदान किया.

उसकी की नजर उस सुंदरी से हट ही नहीं रही थी जिसे अघोरी समझ गया और उसने उस सुंदरी को निर्देश दिया की वो एक रात्रि के गोकुल के पास रहे. पूरी रात उस सुन्दरी के साथ बिताई और हर सुख का आनंद लिया. दुसरे दिन सुबह ही वो सुंदरी गायब हो गई.

काम-पिशाचनी को सिद्ध करना

गोकुल उस सुंदरी के बिना तडपने लगा था जिसे अघोरी समझ गया और उसने उसका रहस्य गोकुल को बता दिया. गोकुल ने अघोरी के निर्देश के अनुसार फिर से वशीकरण के लिए काम-पिशाचनी साधना करना शुरू किया. काम पिशाची प्रकट हो गयी लेकिन उसकी समस्या थी की वो सिर्फ गोकुल के साथ सिर्फ रात्री को ही आ सकती थी. पुरे दिन गोकुल के साथ रहने के के लिए उसे एक शरीर चाहिए था जिसके लिए गोकुल को एक लड़की के शव पर साधना करनी थी.

गोकुल ने वैसा ही किया और फिर काम पिशाचनी उसके सामने प्रकट हो गई. काम पिशाची अब किसी सुंदरी के रूप में नहीं बल्कि अपने पिशाची स्वरूप में थी जो की गोकुल को भयभीत करने वाली थी. एक दिन घूमते घूमते गोकुल एक नगर में चला गया और वहां उसने एक सुन्दर कन्या को देखा. गोकुल उसके आकर्षण में खो गया और खाने पिने का सामान लेकर जैसे ही वो घर पहुंचा वो सुन्दर कन्या उसके घर के आगे खड़ी मिली.

गोकुल को जैसे कोई खजाना मिल गया उसने उस रात्री को अपनी इच्छा पूर्ण की. काम पिशाची ने उसके सामने ये ऑफर रखा की अब से तुम जिस लड़की को भी देखोगे में उसे तुम्हारे पास ला सकती हूँ. गोकुल ने ये ऑफर accept कर लिया, लेकिन वो ये नहीं जानता था की ये सब काम पिशाची उसके लिए नहीं बल्कि अपने लिए कर रही थी.

वशीकरण के लिए काम-पिशाचनी साधना और गोकुल का पतन होना

गोकुल अब जहां भी जाता जिसे भी पसंद करता वो लड़की उसके पास आ जाती और धीरे धीरे लोगो को इसका पता चलने लग गया. लोगो ने उसका पीछा किया और जब वो सो रहा था तब उसे मार दिया. लोगो को हैरत तब हुई जब वो उसके शरीर को जलाने की कोशिश कर रहे थे. गोकुल के शरीर को आग लगाने की लाख कोशिश के बावजूद उसका शरीर जलाया नहीं जा सका.

उसी समय वो अपने नगर के पहुंचे हुए संत के पास गए और अपनी बात रखी. संत जान गए थे की गोकुल ने वशीकरण के लिए काम-पिशाचनी साधना की थी और अब वो इतनी शक्तिशाली हो चुकी है की उसके शरीर की रक्षा कर रही है ताकि उसकी आत्मा पर अपना कब्ज़ा जमाए रख सके. संत ने एक अनुष्ठान संपन किया और लोगो को कहा की आप उसके शरीर को 8 अलग अलग टुकड़ो में विभाजित कर दो.

गोकुल का शव इतने दिन के बावजूद ना तो सड़-गल रहा था ना ही उसमे बदबू आ रही थी, लोगो को डर था की कही ये फिर से जिन्दा ना हो जाए इसलिए उसके शरीर को आग अलग हिस्सों में विभाजित कर 8 अलग अलग नदियों में बहा दिया जहा पर उसे मछलियों द्वारा निगल लिया.

साधना से जुडी इन पोस्ट को भी पढ़े
  1. तंत्र मंत्र यंत्र से जुड़ी top हस्तलिखित पुस्तके जो पूरी विधि और विधान के साथ लिखी गई है
  2. hajrat sadhna एक ऐसी जादुई गुप्त साधना जो साधक को दिव्य नजर प्रदान करती है
  3. वीर बेताल की ये साधना साधक को बनाती है हर तरह से शक्तिशाली
  4. हमजाद साधना करने से पहले जान ले इन 5 खास बातो को
  5. पुरातन भारत के ऋषि मुनि माहिर थे इन अलौकिक साधना की शक्ति और सिद्धियों में

वशीकरण के लिए काम-पिशाचनी साधना क्या इसे करना सही है ?

आज के युग में सात्विक शक्तिया जल्दी असर नहीं दिखा पाती है क्यों की पृथ्वी का आवरण ऐसी शक्ति से भर चूका है जो उन्हें धरती तक पहुँचने से रोकने लगा है. प्यार में पागल लड़के और लड़किया सिर्फ कुछ दिन या यूँ कहो घंटो में रिजल्ट चाहते है और मजबूर होकर उन्हें इसकी साधना बताई जाती है. चूँकि ये साधना पहले ही दिन से प्रत्यक्षीकरण देती है इसलिए लोग घबरा कर इसे बिच में ही छोड़ देते है जिसके बाद उन्हें ऐसा लगता है की उनके साथ कुछ गलत नहीं हो रहा है लेकिन अन्दर ही अन्दर समय आने पर उन्हें नुकसान पहुंचना शुरू हो जाता है. वशीकरण के लिए काम-पिशाचनी साधना करना बेहद गलत कार्य है लेकिन आज के युग में लोगो को सिर्फ चमत्कार दिखाकर ही भरोसा दिलाया जा सकता है इसलिए इसका प्रयोग करने से पीछे नहीं हटते है.

मैंने इसकी कहानी बचपन में आज से 12-15 साल पहले सुनी थी और कुछ समय पहले ही you tube पर इसके बारे में मिलती जुलती कहानी सुनी तो सोचा लिखू. आप इसका विडियो निचे देख सकते है. इसी तरह की जानकारी के लिए हमें support करना ना भूले. पोस्ट को शेयर और subscribe जरुर करे ताकि हर लेटेस्ट अपडेट आप तक पहुँच सके.

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.