सम्मोहन की अलग अलग अवस्थाए किस तरह प्राप्त की जाती है और इनका क्या प्रयोग होता है ?

5

सम्मोहन एक ऐसी क्रिया है जिसमे हम सामने वाले के आज्ञाचक्र पर कंट्रोल करते है. सामान्यतः दैनिक जीवन में कई उदहारण है इसके जैसे की कमजोर इच्छाशक्ति, और मानस वाले इंसान को मजबूत इच्छाशक्ति वाले इंसान द्वारा अपनी बात मान लेने के लिए मजबूर कर देना। ये सबसे ज्यादा देखा जाने वाला उदहारण है। सम्मोहन की अवस्थाए हमें माध्यम के मन को समझने में मदद करती है। इसलिए सम्मोहन से पहले आपको निम्न अभ्यास कर लेने चाहिए। पहला त्राटक, दूसरा प्राणायाम और साथ ही में विचार शुन्य साधना. सम्मोहन की अवस्थाए अगर समझना है तो इन्हें समझना बेहद जरुरी है.

इन अभ्यास बगैर आप सम्मोहन में सफल नहीं हो सकते है। इसलिए इनका अभ्यास करना आवश्यक होता है। तभी आप एक मजबूत इच्छाशक्ति और मानस के धनी बन सकते है। सम्मोहन 3 अवस्था में किया जाता है ये अवस्था आपके इच्छा शक्ति और सामने वाले की इच्छा शक्ति पर निर्भर होती है। देखा जाये तो इन अवस्थाओं को आप अपनी जरुरत के अनुसार कर सकते है।

सम्मोहन की अवस्थाए
सम्मोहन में आपने सामने वाले को कितनी मजबूत भावना दी है, उसके मानस पर आपने कितना कब्ज़ा किया है और नींद कितनी गहरी आई ये सब ध्यान में रख कर आप सम्मोहन की अवस्था को समझ सकते है। सम्मोहन से जुडी अन्य पोस्ट यहाँ पढ़ सकते है ये आपको ज्यादा से ज्यादा समझने में मदद मिलेगी। जितनी भी सम्मोहन की अवस्थाए है उनमे अलग अलग गुण है और अलग अलग स्तर का नियंत्रण ये आप तय करे की आप किस स्तर तक मन को आजाद करना चाहते है।

  1. स्व-सम्मोहन और पास्ट लाइफ रिग्रेशन
  2. सम्मोहन के लिए दर्पण त्राटक का अभ्यास
  3. how to develop power in hand for telekinesis in hindi
  4. त्राटक आज्ञाचक्र और सम्मोहन
  5. स्वयं सम्मोहन से बीते कल को कैसे बदले

पढ़े  : छाया पुरुष और समानांतर दुनिया का रहस्य क्या वास्तव में सच है

सम्मोहन की अवस्थाए

सम्मोहन की अवस्थाए समझना ज्यादा मुश्किल नहीं है। हम माध्यम में मन के अंदर कितना उतर पाते है और कितना उस पर नियंत्रण स्थापित कर सकते है ये सब हमें hypnotism द्वारा समझने में मदद मिलती है। आइये जानते है सम्मोहन की अलग अलग अवस्थाए और उनका नियंत्रण।

first stage of hypnotism  :

hypnotism की पहली अवस्था कमजोर इच्छाशक्ति वाले इंसान पर की जा सकती है। इसके अलावा कुछ सामान्य निर्देश का पालन करवाने के लिए ये अवस्था सही है। क्यों इस दौरान उसकी तर्क वितर्क करने की क्षमता ख़त्म हो जाती है। इस दौरान वो बंद आँखों में ज्यादा सहज महसूस करता है क्यों की आँखे खोलने में उसे मुश्किल होती है। ऐसे में हम उसे जो कहते है वो आसानी से मान लेता लेता है।

पढ़े  : तीसरे नेत्र छटी इंद्री और आज्ञा-चक्र जागरण की सबसे सरल ध्यान विधि

अभ्यास :

एक ऐसे कमरे चुनाव करे जिसकी दीवारे नीली रंग की हो ध्यान दे की नीला रंग त्राटक और सम्मोहन में काफी महत्त्व रखता है और हमारे आत्मविश्वास का प्रतिक है। कमरे में मध्यम रौशनी की व्यवस्था हो, तापमान सामान्य हो और कमरे में सामान ना हो साफ सुथरा हो।
माध्यम का चुनाव कर उसे आरामदायक कुर्सी पर बैठा दे और उसे शिथिल होने कहे।

  • माध्यम के सामने गम्भीर मुद्रा में खड़े हो जाये और माध्यम को अपनी आँखों में देखने को कहे।
  • जब माध्यम ऐसा करता है उसी दौरान आँखों में झांकते हुए साथ ही साथ माध्यम के माथे पर भ्रकुटी की जगह अंगुली घुमाते हुए उसे सोने की भावना देते रहे।
  • माध्यम के माथे पर अंगुली फिराते रहने से उसके आज्ञाचक्र पर दबाव बना लेते है जिसकी वजह से वह निद्रा में जाने लगता है।
    इस अवस्था में माध्यम का शरीर शिथिल होता है लेकिन उसका अवचेतन सम्मोहनकर्ता से जुड़ा रहता है। ऐसे में हम जो भी निर्देश माध्यम देंगे वो उसका पालन करता है।

लाभ:

  • अगर सकारात्मक निर्देश साफ साफ दिए तो आप माध्यम की किसी आदत को बदल सकते है,उसकी मानसिकता को बदल सकते है।
  • पढाई में अगर किसी विषय में आप कमजोर है तो उसे आप अपनी मानसिकता में बदलाव अच्छा विषय बना सकते है और उसमे बढ़िया स्कोर कर सकते है।

सम्मोहन की द्रितीय अवस्था

सम्मोहन की पहली अवस्था से ज्यादा गहरी होती है। इसमें निद्रा गहरी होती है,और और शरीर पूरी तरह शिथिल हो जाता है। पूरा बाह्य मन सुप्त होने के बावजूद माध्यम सम्मोहनकर्ता को सुन और महसूस कर सकता है। वो सम्मोहनकर्ता आदेश सुन सकता है मगर तर्कशक्ति के शुन्य होने की वजह से वो उसका विरोध नहीं कर पाता है और वो उसके अंतर्मन में सीधे प्रवेश कर जाते है।

पढ़े  : मस्तिष्क की अनंत क्षमता और आपके सुपरमैन बनने की हकीकत part-1

अभ्यास :

एक साफ कमरे में माध्यम को आराम से कुर्सी पर लेटा दे। उसके सामने एक ऐसे प्रकाश चक्र को लगाए जिसमे से विभिन्न रौशनी निकल कर आपके चेहरे पर पड़ती हो। एक शीशा पीछे की दीवार पर लगा दे. माध्यम के सामने खड़े होकर उसे अपनी आंखे इस प्रकाश चक्र पर फोकस करने कहे। इसमें आँखों के साथ अंगुली का प्रयोग करे और उसे आदेश दे ( ध्यान रखे एकाग्रता से आदेश देना है। ) माध्यम को कहे की उसकी पलके भारी हो रही है और वो सोने जा रहा है !!

जब वो निद्रा में चला जाता है तब उसे और गहरी निद्रा का सुझाव देते रहे। जब माध्यम गहरी नींद में चला जाता है तब उसे आप कुछ भी पूछ सकते है। उसके व्यक्तित्व यहाँ तक की निजी जिंदगी के बारे में भी।

लाभ :

इस अवस्था में मनोवैज्ञानिक बीमार लोगो का उपचार करते है। इस अवस्था में मानसिक समस्याओं समाधान किया जा सकता है।

पढ़े : सम्मोहन सिखने के लिए ध्यान रखे इन खास बातो का

third stage of hypnotism :

सम्मोहन की इस अवस्था में माध्यम का शरीर सुप्त हो जाता है लेकिन उसका उसका अंतर्मन सबसे ज्यादा बलवान हो जाता है इस अवस्था में सम्मोहनकर्ता माध्यम का भूत जान सकता है। इस अवस्था में माध्यम का सम्पूर्ण व्यक्तित्व बदला जा सकता है। PAST LIFE REGRESSION OR PAST LIFE के बारे में हम इस अवस्था में सब जान सकते है। लगभग सभी अभ्यास में सम्मोहन की अवस्थाए जैसे जैसे बढ़ती है हमारी पकड़ उतनी ही मजबूत बनती जाती है।

अभ्यास :

पहली अवस्थाओं की भांति माध्यम को एक कमरे में कुर्सी पर लेटा दे। माध्यम के कानो में हैडफोन लगा दे। माध्यम के सामने पावर डिस्क लगा दे ( प्रकाश चक्र ) माध्यम को प्रकाश चक्र पर फोकस होने का सुझाव दे। इस अवस्था में माध्यम के पीछे खड़े होकर उसके सिर पर अंगुली फिराते हुए उसे निद्रा में जाने का सुझाव दे। सुझाव देते वक़्त कमरे में विशेष म्यूजिक चला दे ताकि प्रभाव जल्दी पड़े. इन म्यूजिक को डाउनलोड कर सकते है।

लाभ :

माध्यम को सम्मोहनकर्ता मानसिक रूप से बदल सकता है उसकी किसी तरह की बुरी आदत को छुड़ा सकता है। या फिर गहरे तौर से मानसिक अवसाद से बाहर ला सकता है। पिछली या गुजरी जिंदगी में भेज सकता है। अनसुलझे रहस्य सुलझा सकते है.

ध्यान देने योग्य :

सम्मोहन में माध्यम का अवचेतन मन किसी का गुलाम नहीं बनता है उल्टा सम्मोहन की अवस्थाए जैसे जैसे बढ़ती है माध्यम का अवचेतन मन उतना ही विस्तृत होता जाता है। इस अवस्था में हम माध्यम को कुछ भी करने के लिए कह सकते है बशर्ते दृढ़ शक्ति से कहा जाये लेकिन सकारात्मक निर्देश ही देने चाहिए। वर्ना दोनों की आत्मशक्ति में टकराव सम्मोहनकर्ता को नुकसान पहुंचा सकता है।

माध्यम को सम्मोहनकर्ता उसकी पिछली जिंदगी में भेज सकता है लेकिन उसी तरह माध्यम को वापस लाना होता है वर्ना वो अपनी पिछली जिंदगी में ही रह जाता है। सम्मोहन की अवस्थाए अलग अलग अनुभव करवाती है. ज्यादा समझने के लिए इन पोस्ट को पढ़े

5 COMMENTS

    • सम्मोहन मानसिक तरंगो के जरिये संभव है इसका उदाहरण वशीकरण समझ सकते है. मानसिक तरंगो के जरिये सम्मोहन करने के लिए आपकी मानसिक शक्ति और तरंगो को भेजने की क्षमता मजबूत होनी चाहिए. जल्दी ही इसके ऊपर भी पोस्ट लिखी जाएगी

    • फ्री में सिखने के लिए blog और youtube पर काफी कुछ भरा पड़ा है आप उन्हें देख कर सीख लीजिये.

    • blog और youtube दोनों ही ऐसी जानकारी से भरे पड़े है आप वहा फ्री में सीख सकते है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.