4 Stage and Powerful way to Heal Episodic Migraine Naturally माइग्रेन को रोकने के कुछ आसान टिप्स

1
9

आज के Busy daily life schedule में काम का बोझ हमें अक्सर सर दर्द देता रहता है. अगर आपको अक्सर इस तरह का सरदर्द रहता है तो सावधान हो जाइए क्यों की ये Episodic migraine का symptom हो सकता है. Sinus issues, muscle spasms, a primary eye problem, temporomandibular dysfunction, or arthritis within the neck जैसे और कुछ संकेत है जो Migraine Episode के अलग अलग संकेत है.

माइग्रेन को हम pain, sensitivity to light, sensitivity to sound, nausea, vomiting, and disability के आधार पर अलग अलग वर्ग में बाँट सकते है. माइग्रेन सिर्फ एक सरदर्द तक सिमित नहीं है बल्कि इसके अलग अलग फेज है लेकिन इसे कभी भी हलके में नहीं लेना चाहिए. ये आपके लिए जिंदगीभर की तकलीफ बन सकता है. इस तरह की Disorder को Presence Or Absence Of Neurological Symptoms के आधार पर बाँट सकते है.

How to heal Episodic migraine naturally

इस आर्टिकल में हम बात करने वाले है माइग्रेन के बारे में और अगर आप उन लोगो में से है जिन्हें लम्बे समय से problem रह रही है तो ये पोस्ट आपके लिए ही है. इस तरह की स्थिति में कैसे इसकी पहचान की जाए और कब medical help लेनी चाहिए इन सबके बारे में जानते है.

सर में होने वाले दर्द से लेकर इसके अलग अलग तरह के symptom की पहचान और उसके solution के बारे में आपको बेसिक जानकारी होनी चाहिए. आज दुनिया भर में कम से कम 40 Million case सिर्फ migraine के मिल रहे है क्यों की हम दिनभर के कामो की वजह सेऔर Future stress लेकर खुद की हेल्थ पर negative impact डाल रहे है.

What Are the Stages of an episodic migraine?

migraine आज के समय में बड़े स्तर पर लोगो को प्रभावित कर रहा है जिसमे बच्चे भी शामिल है. ये सिर्फ एक सर दर्द तक सिमित नहीं है बल्कि neurological condition with neurological symptoms से जुड़ी हुई Medical condition है. माइग्रेन में हम कई तरह के symptom को नोटिस कर सकते है. जैसे की

  • Severe throbbing pain, typically on one side of the head माइग्रेन को भारत के गाँवो में आधा-शीशी के नाम से जानते है इस तरह की स्थिति में सर के आधे भाग में दर्द रहता है.
  • Visual disturbances किसी तरह की mental disturbance की वजह से कुछ भी देखने में समस्या का सामना करना.
  • nausea
  • vomiting उलटी या मन घबराना
  • dizziness थकान का अहसास
  • Heightened sensitivity to light, smell, and touch इस स्थिति में हमें लाइट को देखने, किसी स्मेल को अनुभव करने, और छूने में तकलीफ का सामना करना.
  • Tingling or numbness in the face or extremities दिमाग में घंटियाँ जैसा बजना और आसपास के माहौल से इस तरह की आवाजो का अहसास होना.

ये अलग अलग तरह की स्थिति में हमें प्रभावित करता है जिसमे chronic condition हमारे दिनभर के कामो में डिस्टर्ब करता है. अलग अलग तरह की स्टेज के बारे में जानने के बाद शायद आप इसे बेहतर समझ पाए.

Episodic vs chronic migraine

दोनों के नाम से ही साफ है की ये दोनों अलग अलग तरह की स्थिति है जिसमे episodic migraine में स्थिति एक पीरियड तक बनती है वही chronic migraine लम्बे समय तक बनी रहने वाली स्थिति है. हम पहली स्थिति को प्राथमिक स्तर पर रोक सकते है लेकिन क्रोनिक माइग्रेन को नहीं, इसके लिए आपको सही दवा चलानी पड़ती है. क्रोनिक माइग्रेन के बारे में हम पहले ही बता चुके है जिन्हें आप यहाँ पढ़ सकते है.

Read : Migraine treatment and solution

Different Stages of an episodic migraine

एपिसोड माइग्रेन के कुल 4 स्टेज है जिसमे अलग अलग तरह की Medical condition का सामना करना पड़ता है. अगर आप डिटेल से अलग अलग स्थिति को समझना चाहते है तो यहाँ निचे दी गई Migraine episode symptoms से जुड़ी कुछ बेसिक जानकारी को आप पढ़ सकते है.

The prodrome stage

इसे हम premonitory phase भी कह सकते है जो की एक मेडिकल कंडीशन है और Migraine headache से कुछ दिन पहले देखने को मिलती है. इसका टाइम पीरियड headache से 1-3 दिन पहले का होता है जिसमे निम्न तरह की स्थिति देखने को मिलती है.

  • food cravings खाने को लेकर जी मचलना
  • fatigue थकान
  • depressed mood बार बार मूड ख़राब रहना
  • hyperactivity अचानक से हाइपर हो जाना
  • irritability किसी तरह की चिडचिडाहट
  • neck pain or stiffness गर्दन में अक्सर दर्द रहना
  • trouble concentrating फोकस रहने में समस्या का सामना करना
  • sensitivity to light or sound लाइट में निकलने में तकलीफ होना
  • yawning

इस तरह के symptom तब होते है जब आपको Migraine होने वाला होता है. इसके रोकने के लिए आपको कुछ टिप्स को फॉलो करना चाहिए जैसे की इनकी पहले से पहचान करना और जिस तरह की तकलीफ से आप गुजर रहे है उसके according ही solution को अप्लाई करना.

इन सब के बारे में हम पहले से ही बात कर चुके है और सबसे आसान उपाय mindfulness meditation जिसे आप आसानी से खुद practice कर सकते है.

Read : Mechanism of Psychological Projection आखिर क्यों लोग खुद को दूसरो से अलग कर लेते है ?

Aura stage of Episodic migraine

जरुरी नहीं की हर माइग्रेन case में आपको औरा का संकेत मिले लेकिन ये आपको Episodic migraine with aura हर 3 में से 1 case में मिल जायेगा. जिन लोगो को migraine with aura के symptom मिलते है उन्हें neurological symptoms मिलने शुरू हो जाते है जिसका टाइम पीरियड एक headache से लगभग 30 मिनट पहले का है. इसके दूसरे Migraine episode symptoms भी देखे जा सकते है जैसे की

  • numbness or tingling in the face or limbs चेहरे या लिम्बस में रेंगने का अनुभव
  • impairments or disturbances in taste, smell, or touch किसी भी तरह टेस्ट, स्मेल या फिर छूने में होने वाली तकलीफ
  • weakness in the face or limbs चेहरे या फिर मांसपेशियों में होने वाली थकावट
  • partial vision loss कुछ देर के लिए दिखाई देने में कमी का सामना करना
  • changes in speech बोलने में होने वाले बदलाव

इस तरह के संकेत हमें सरदर्द से ठीक आधे घंटे पहले मिलना शुरू हो जाते है. इस तरह की स्थिति में आप प्राथमिक उपचार कर सकते है जैसे की सर के दर्द वाले हिस्से पर कुछ ठंडी चीजे रखना, आँखों पर चम्मच रखना. अगर आपको कोई दवा दी गई है तो उसे लेना इसका solution कर सकता है.

इन सब के अलावा Episodic migraine में कुछ और समाधान आप कर सकते है जैसे की

  • over-the-counter (OTC) drugs like acetaminophen (Tylenol) खास तरह की दवा का सेवन करना
  • triptans like rizatriptan and sumatriptan
  • dihydroergotamine
  • anti-nausea drugs
  • gepants like ubrogepant or rimegepant
  • ditans like lasmiditan

ये कुछ ऐसी दवा है जिन्हें आप इस दौरान अपने पास रखे और समय पर ले ले. Credit : verywell health

Headache Phase of Episodic migraine

सर में रहने वाला एक असहनीय दर्द इसका सबसे बड़ा लक्षण है. ये स्थिति पूरे दिन में कम से कम 4 घंटे तक रह सकती है. सामान्य दर्द से अलग इस तरह की स्थिति में सबसे बड़ी तकलीफ किसी भी तरह के काम को करने में होती है.

  • Increased sensitivity to light and sound इस दौरान लाइट को लेकर सबसे ज्यादा sensitivity बढ़ जाती है और हलकी भी लाइट बर्दास्त से बाहर हो जाती है.
  • Nausea, vomiting, or both जी घबराना या उलटी जैसा लगना या फिर दोनों ही तरह की स्थिति का सामना करना.
  • Dizziness लगातार महसूस होने वाली थकान
  • Pulsing or throbbing head or neck pain सर में या गर्दन में झटके लगते हुए महसूस होना ऐसा लगता है मानो कोई हथोड़े से पीट रहा हो.
  • Mood changes बार बार मूड ख़राब रहना.
  • difficulty sleeping सोने में तकलीफ होना

हालाँकि अलग अलग लोगो में अलग अलग संकेत देखे जाते है और इनमे बदलाव भी हो सकते है लेकिन, ज्यादातर लोगो को इस तरह की स्थिति का सामना करना पड़ता है.

Read : How to Manage Financial Stress in Hindi कोरोना के बाद से अपने बजट को प्लान कैसे करे ?

Postdrome

ये सबसे अंतिम स्टेज है जिसे migraine hangover भी कहते है. Phase of Episodic migraine के दौरान जब दर्द कम होना शुरू होता है तब इस पीरियड में होता है. ये वो समय है जब पूरी बॉडी परेशान रहती है. ये स्थिति 24-48 घंटे तक बनी रह सकती है. ये हर किसी को प्रभावित नहीं करती है और जरुरी नहीं की हर बार headache के बाद इस तरह की स्थिति बने.

अलग अलग तरह की स्थिति में हमें इसका अलग अलग अनुभव होता है. इसके ज्यादातर होने वाले Symptom को आप नोटिस कर सकते है जैसे की

  • Fatigue पूरी बॉडी को थकान का सामना करना पड़ता है.
  • body aches
  • mental “fogginess” दिमाग में चलने वाली उलझन
  • dehydration गला सुखना या फिर बॉडी में पानी की कमी महसूस होना
  • depressed mood तनाव से भरा हुआ मन
  • euphoric mood
  • trouble concentrating किसी भी तरह की स्थिति में फोकस होने में होने वाली problem

इस तरह की स्थिति में आपको जितना हो सके आराम करना चाहिए. अगर ये समस्या लम्बे समय तक अपना असर छोड़ रही है तब आपको Medical help की जरुरत पड़ सकती है.

Read : The 11 Signs of Death in Hinduism कौनसे संकेत बताते है की अंतिम समय है नजदीक

Episodic migraine treatment and Primary solution

अगर आप Migraine episode symptoms से गुजर रहे है तो इस दौरान खुद को जितना हो सके खुद को पानी की कमी से दूर रखे. सरदर्द के बाद कुछ starching exercise, light activity करना आपको हल्का महसूस करवाता है.

जितना हो सके खुद को stress से दूर रखे और अपना पसंदीदा एक्टिविटी करे ताकि आपका मूड किसी अच्छी जगह पर माइग्रेट हो सके. ऐसी किसी भी तरह की स्थिति से खुद को दूर रखे जो Migraine trigger करती है.

अगर आप इसे शुरुआत से ही रोकना चाहते है तो इसके शुरुआती स्टेज में ही migraine medication ले ले ताकि ये आगे ना बढे. इसे आप रोक नहीं सकते है और आपको दवाई के जरिये ही इसे रोकना पड़ता है. शुरुआती समय में आपको दवाई पर निर्भर रहना पड़ता है लेकिन धीरे धीरे आप खुद को दूसरे ट्रीटमेंट के जरिये बेहतर कंडीशन बना सकते है.

डॉक्टर की सलाह कब लेनी चाहिए

ये एक Mental condition है जिसमे अगर आप सही समय पर समाधान नहीं कर पाते है तो ये आपके लिए बड़ी समस्या बन जाती है. Episodic migraine की स्थिति अचानक से नहीं बनती है बल्कि धीरे धीरे दूसरे संकेतो और disorder की वजह से बनती है इसलिए बगैर दवा के रोकना चाहते है तो उन वजहों की पहचान करे जो माइग्रेन की स्थिति में ले जाती है.

इन सब उपाय से आपको राहत नहीं मिल रही है तब आप medical help and treatment ले सकते है.

  • अगर आपको 1 महीने में बार बार सरदर्द हो रहे है जिनका असर घंटो तक बना रहता है.
  • इस Headache की वजह से work, home life, or school functioning प्रभावित हो रही है.
  • सरदर्द के साथ साथ nausea, vomiting, or sensory disturbances जैसी स्थिति बन रही हो.
  • headache के साथ साथ गर्दन में दर्द और जकड़न महसूस हो रही हो.
  • आँख और कान के आसपास के हिस्सों में दर्द महसूस होना

इस तरह की स्थिति में आपको Medical help लेना बेहद जरुरी बन जाता है क्यों की ऐसी स्थिति में कंडीशन आपकी पहुँच से दूर हो जाती है. स्थिति को आप जब अकेले कण्ट्रोल नहीं कर पाते है तब आपको मेडिकल मदद लेने की जरुरत बन जाती है.

How to heal Episodic migraine naturally final conclusion

एपिसोड का मतलब है वह स्थिति जो अलग अलग Time of period में बनती है. अगर आप इसे रोकना चाहते है तो इसके अलग अलग स्टेज की पहचान करे और समाधान हो जायेगा. आप इस स्थिति को रोक सकते है जिसके लिए आपको सबसे पहले Stress को कम से कम रखना होगा.

सब की लाइफ में बहुत सारी problem है लेकिन इसका मतलब ये नहीं की बेकार की टेंशन लेकर हम इसका समाधान कर सकते है.

ऊपर जितने भी Migraine Episode के बारे में हम बता कर रहे है वो अलग अलग स्थिति पर निर्भर करते है इसलिए आप इनकी आसानी से पहचान कर सकते है. Migraine episode symptoms के जरिये हम इन्हें heal कर सकते है क्यों की इसके अलग अलग संकेत तभी सामने आते है जब हम किसी Particular condition का सामना करते है.

उम्मीद है की अगर आप भी किसी तरह की Episodic migraine सामना कर रहे है तो अब आपको मालूम होगा की इसका समाधान कैसे करना है.

दिनभर के 24 घंटे में सिर्फ आधा घंटा आप Physical workout, Yoga and pranayam के लिए निकाले ताकि दिनभर के Work load and stress को आसानी से handle कर सके. अगर आप खुद को स्टेबल रख सकते है तो आसानी से किसी भी तरह के तनाव से खुद को दूर रख सकते है.

Never miss an update subscribe us

* indicates required
Previous articleNeuro-linguistic programming NLP in Hindi अवचेतन मन को active करने की सबसे आसान तकनीक
Next articleTop 11 Astrological remedies for love marriage in Hindi Vedic Mantra for Marriage
Nobody is perfect in this world but we can try to improve our knowledge and use it for others. welcome to my blog and learn new skill about personal | psychic | spiritual development. our team always ready to help you here. You can follow me on below platform

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here