How to deal with anxiety at work जॉब की वजह से आने वाले तनाव को दूर करने का कारगर तरीका

0

हमारी लाइफ तेजी से आगे बढ़ रही है ऐसे में कार्य को लेकर हम पर दबाव अक्सर देखने को मिल जाता है. इस तनाव को दूर करने के लिए अक्सर हम दवा भी लेना शुरू कर देते है लेकिन एक सवाल हमारे मन में अक्सर आ ही जाता है does anxiety medication work? इस पोस्ट में हम बता करने वाले है how to deal with anxiety at work यानि काम के दौरान अगर तनाव बढ़ जाए तो उसे कैसे डील करे. पिछले कुछ समय से में anxiety about going to work experience कर रहा था जैसा की अक्सर लोग करना शुरू कर देते है जब वो लम्बे समय से काम में परेशान होने लगते है. work anxiety आज private sector में बहुत बड़ा issue बन चूका है.

Work Anxiety how to deal with it

जब काम का दबाव बहुत ज्यादा बढ़ जाता है तब हम इस तरह की समस्या से गुजरना शुरू कर देते है. आज हर organization इसे लेकर कदम उठा रही है और how to deal with anxiety at work को लेकर सुधार कर रही है जिसमे अपने employee की कंडीशन को समझते हुए उन्हें बेहतर सुविधा और creative work देना शामिल है. अगर आप लम्बे समय से इस तरह की प्रॉब्लम को फेस कर रहे है तो आपको इसे समझना होगा और साथ ही कुछ tips को follow करना होगा. आइये इस बारे में जानते है और काम के दौरान तनाव को दूर रखने से जुड़ी जानकारी को समझते है.

Work Anxiety यानि कार्य क्षेत्र का दबाव

कुछ समय पहले हुए एक सर्वे में Anxiety Disorders Association of America ने ये declare किया है की इस वक़्त diagnosed anxiety disorder की प्रॉब्लम से जूझने वाले लोगो की मात्रा जहाँ 9% है वही 40% लोग ongoing stress or anxiety को अपनी लाइफ में इस वक़्त महसूस करते हुए चल रहे है. ये हमें दर्शाता है की हम आज काम को लेकर किस स्तर के दबाव को झेल रहे है.

Work anxiety काम करने के दबाव की वजह से बने stress की condition को कहते है. इस वजह से anxiety ke symptom दिखना शुरू हो जाते है जिसके solution के लिए आवश्यक कदम उठाने बेहद जरुरी है ऐसा न होना employees and organizations दोनों के लिए ही बेहद ख़राब performance दे सकता है.

Signs of Work Anxiety

हम पहले ही इस बारे में बता चुके है की work anxiety disorder सीधे तौर पर कोई बीमारी नहीं है बल्कि ये कुछ रिलेटेड कंडीशन पर निर्भर होती है. Anxiety disorders में होने वाले कुछ symptom निम्न प्रकार है

  • Excessive or irrational worrying – बहुत ज्यादा या चिडचिडापन लिए हुए फ़िक्र होना.
  • Trouble falling asleep or staying asleep – सोने में दिक्कत होना.
  • exaggerated startle reaction
  • हर समय खुद को चिडचिडा महसूस करना – feeling jittery
  • Tiredness or fatigue – थकावट या आलस महसूस करना.
  • feeling like there’s a lump in your throat
  • Shaking or trembling – अनावश्यक कम्पन बॉडी में महसूस करना.
  • Dry mouth – हर पल प्यास का अहसास होना गला सूखा रहना.
  • Sweating – पसीना आना.
  • a pounding/racing heart

ये सब तो कार्य तनाव के मुख्य लक्षण है जिनके साथ कुछ ऐसे symptom भी add किये जा सकते है जिनके आधार पर हम इस बात का अंदाजा लगा सकते है की कोई व्यक्ति इस वक़्त तनाव से गुजर रहा है या नहीं.

इसके साथ ही कुछ ऐसे anxiety disorder भी है जिनके आधार पर हम कार्य क्षेत्र पर तनाव से ग्रसित व्यक्ति की पहचान कर सकते है.

  1. generalized anxiety disorder
  2. panic disorder
  3. social anxiety disorder
  4. Obsessive-compulsive disorder – किसी चीज को लेकर खुद पर विश्वास न होना.
  5. Specific phobias – हम सबको किसी न किसी एक चीज से बेहद डर लगता है.
  6. Post-traumatic stress disorder – व्यक्ति पहले ही किसी तनाव की स्थिति से गुजर चूका है.

हम काम को लेकर तनाव से क्यों गुजरते है

काम को लेकर तनाव के पीछे बहुत सारे characteristics of the work environment होते है जो इसमें अहम् रोल निभाते है. कई बार कुछ छोटी छोटी बाते बड़े बदलाव की वजह बन जाती है. हम जब एक जगह पर लम्बे समय तक टिके रहते है तो हमें उसकी आदत हो जाती है ऐसे में अगर परिस्थिति हमारे अनुकूल नहीं रहती है तो हमें तनाव होना आम बात है.

नई जॉब शुरू करते समय या फिर पुराने घर को छोड़कर नए घर में जाना हमें temporary skittish feel करवा सकता है. हम जॉब में अपना काफी सारा वक़्त बिताते है ऐसे में अगर condition हमारे अनुकूल ना रहे तो झुंझलाहट होना स्वाभाविक है. ये एक नार्मल कंडीशन है लेकिन ongoing anxiety का पहला स्टेप भी हो सकती है.

काम को लेकर अगर हम किसी के साथ बात करे तो ऐसा करना हमें feel constantly anxious about work करवा सकता है. आइये ऐसी कुछ कंडीशन के बारे में जानते है जिनकी वजह से हम तनाव की स्थिति से गुजरते है.

  1. dealing with work conflicts
  2. meeting deadlines – कार्य को ख़त्म करने का एक खास समय
  3. दुसरे काम करने वालो के साथ हमारे सम्बन्ध कैसे है relationships with coworkers
  4. दुसरे लोगो को मैनेज करना – managing staff
  5. Long working hours – काम करने के लम्बे घंटे होना.
  6. जैसा की हर जगह होता है having a demanding boss
  7. काम करने का प्रेशर a workload that is overly high
  8. काम बहुत सारा है लेकिन उसे कैसे करना है इस बारे में कोई आईडिया न होना – lack of direction on tasks
  9. lack of perception of fairness
  10. Lack of control over the work environment – कार्य क्षेत्र में किसी तरह का कण्ट्रोल न होना.
  11. काम ज्यादा लेकिन मेहताना बहुत कम होना – Low reward (not enough pay, benefits, etc.)

कार्य तनाव के परिणाम side effect of work anxiety

work place पर अगर कोई व्यक्ति तनाव से गुजर रहा है तो इसके side effect उसके आसपास देखे जा सकते है. इसमें व्यक्ति या उसके काम करने के तरीके पर बुरा असर पड़ता है जिसे साफ़ तौर पर महसूस किया जा सकता है जैसे की

  • reduced job performance and quality of work
  • दुसरे लोग और अपने सीनियर के साथ बिगड़ते रिश्ते
  • effects on personal life
  • हमारे आसपास के लोगो पर इसका negative effect देखा जा सकता है.
  • problems with concentration, fatigue, irritability, reduced productivity
  • turning down opportunities due to phobias (e.g., fear of flying, fear of public speaking, fear of speaking in meetings)
  • जॉब को लेकर संतुष्टि न मिलना – reduced job satisfaction
  • Reduced confidence in your skills – स्किल को खोना शुरू कर देना.
  • हम जो भी करे उससे कोई बदलाव नहीं हो सकता ऐसी धारणा बना लेना.
  • reduced goal setting and achievement
  • Job loss हो सकता है आप जॉब ही खो दे.
  • less likely to take risks and more likely to plateau in your career
  • खुद को अकेला महसूस करना – feeling isolated
  • development of clinical levels of anxiety (e.g., a diagnosable disorder)
  • आपके कार्य का organization पर बुरा असर पड़ना अगर आप कंपनी का प्रतिनिधित्व कर रहे है.
  • reduced social skills and ability to function within a team
  • कुछ भी सही से प्लान ना कर पाना poor planning skills
  • Avoiding innovation कुछ नया करने की क्षमता खो देना.
दुसरो को बताना न भूले

अगर आप किसी तरह के तनाव की स्थिति से गुजर रहे है तो उसे दुसरे काम करने वाले लोगो के साथ शेयर करना चाहिए या नहीं ये एक महत्वपूर्ण विषय है.स्थिति तब और भी complicated हो जाती है जब आप जानते हो की तनाव की वजह क्या है क्यों की ऐसे में आपको लगता है की दुसरो को बताना सही नहीं रहेगा.

ध्यान दे अगर आप work anxiety से गुजर रहे है और इसे solve करना चाहते है तो Americans with Disabilities Act (ADA) आपको कुछ खास अधिकार प्रदान करता है.

अगर तनाव की वजह आपका कार्य क्षेत्र है तो आप इसमें कुछ बदलाव करने के लिए कंपनी को मना सकते है ये आपका अधिकार है जो आपको और बेहतर काम करने के लिए प्रेरित करता है.

हमें लगता है की अगर हम अपनी समस्या को दुसरो के साथ शेयर करेंगे तो वो हमें कमजोर समझेंगे और दया का पात्र बना देंगे लेकिन एक ही कम्पनी में काम करने वाले लोग आपस में अगर मिलनसार है तो समस्या को सुलझा सकते है. आजकल हर कंपनी में mental health professional का referral और सुझाव दोनों ही मिल रहे है. हर कंपनी अपने employer के काम की स्किल को सप्ताह में या महीने में एक बार चेक करती है जिसके लिए वो खेल खेल में रिफ्रेश feel करने के जैसे टास्क लेती है.

निचे how best to help employees with work anxiety से जुड़े कुछ tips दिए जा रहे है जिन्हें हम आजमा सकते है.

  • काम करने वाले लोगो को respect दे और उन्हें transparent, open communication ऑफर करे.
  • अपने यहाँ काम करने वाले लोगो की पर्सनल matter को जानने की कोशिश करे कही उसकी वजह से काम में कोई बुरा असर तो नहीं पड़ रहा.
  • कार्य तनाव को पहचानने की बजाय काम कैसा चल रहा है और उस पर क्या असर पड़ रहा है ये जानने की कोशिश करे क्यों की काम करने का तरीका आपको इसके बारे में समझने में मदद कर सकता है.
  • अपने यहाँ काम करने वाले लोगो को उनके नजरिये से काम को समझने में मदद करे, उन्हें वक़्त दे ताकि वो चीजो को बेहतर समझ सके.

इन tips को अगर follow करे तो हम लोगो की प्रॉब्लम को अच्छे से समझ सकते है और उन्हें दूर कर सकते है.

पढ़े : Top 10 real paranormal stories In Hindi जिन्हें पढ़कर भी आप यकीन नहीं कर पाओगे

कार्य क्षेत्र तनाव से खुद को बचाए

जब हम इसे समझ चुके है तो चलिए बात करते है कुछ ऐसे general tips on how to cope with work anxiety के बारे में जिन्हें follow कर हम खुद को तनाव से बचा सकते है. तनाव की वजह है लोगो से प्रभावित होना ऐसे में negative लोगो से दूर रहते हुए हम खुद को सेफ रख सकते है.

अगर आप तनाव से गुजर रहे है तो ब्रेक ले और साथ काम करने वालो से बात करे. आप चाहे तो दुसरे लोगो की मदद ले सकते है या फिर एक professional expert की सलाह अगर ये आपके daily work life के साथ साथ personal life को प्रभावित कर रहा है.

ऐसी स्थिति में हमें ऐसी चीजे करने से बचना चाहिए जो हमें और ज्यादा परेशान करती हो जैसे की जरुरत से ज्यादा खाना, caffeine का ज्यादा इस्तेमाल करना या फिर अनचाही दवाई का सेवन करना. आपको ऐसे कुछ tips follow करना चाहिए जो आपको इससे दूर रखे जैसे की

  • कम के अलावा खुद के लिए भी वक़्त निकाले – Be sure to make time for yourself away from work.
  • Find things that make you laugh and smile – मूड फ्रेश करने वाली चीजे खोजे.
  • ब्रेक ले और दुसरो के साथ खाना शेयर करते हुए खाए – Take lunch breaks and share a meal with others outside of your work area.
  • Go for walks outdoors on your breaks when possible जब भी ब्रेक मिले बाहर घूमने जरुर जाए.
  • Change your scenery to get out of an emotional rut.
  • सिर्फ काम में खुद को busy न रखे बल्कि दुसरे शौक भी पुरे करे – Focus on life outside of work such as hobbies and friends.
  • Reflect on the good things in your job and your life – काम को best दे और अच्छा बने.
  • Examine what you fear will happen and ask yourself whether it is an irrational fear.

ये tips आपको ऐसी स्थिति से दूर रखने में मदद करेंगे जो आपके लिए work anxiety की वजह बनती हो.

पढ़े : Greatest Mysteries of Human History जिन्हें विज्ञान भी सुलझा नहीं पाया है – 2019 updated

sachhiprerna की और से कुछ विचार

काम के दौरान अगर तनाव हो तो उसका असर सब जगह देखने को मिल सकता है. ये न सिर्फ काम करने वाले बल्कि उसके साथ वाले लोगो, organization और सीनियर पर भी बुरा असर डाल सकता है. अगर आप ऐसा कुछ महसूस कर रहे है तो अपने साथ काम करने वाले लोगो की मदद ले उन्हें इस बारे बताये ताकि वो आपकी बेहतर help कर सके. work anxiety से जितनी जल्दी हो सके खुद को सेफ करने की कोशिश करे वर्ना इसका असर आपको अपने हर काम पर देखने को मिल सकता है.

आज के समय private sector में काम करने वाले लगभग लोगो की कहानी यही है की वो अपने काम से satisfy नहीं है. ऐसी कंडीशन उन्हें बेहद जल्द ही तनाव की और धकेल देती है जिससे बाहर आना बेहद जरुरी है. अगर आप इन tips को follow करे तो इससे बाहर निकल सकते है. उम्मीद करता हूँ पोस्ट आपको पसंद आई होगी.

पढना न भूले

Never miss an update subscribe us

* indicates required

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here