21 21 दिनों में बनाये 17 अच्छी आदते

1
2571

अच्छी आदत बनाएआपमें से बहुत से लोग हर रोज तरह तरह के संकल्प या प्रण लेते है और उन्हें पूरा करने की कसम खाते है। लेकिन कुछ दिन बाद आपको ये भी याद नहीं रहता है की आपने क्या संकल्प लिया है। फिर आप सोचते है की कोनसा इकरारनामा भरा था ! संकल्प ही तो था असल में आप यही सबसे बड़ी गलती करते है। हम पूरी दुनिया को बेवकूफ बना सकते है पर अपने मन को नहीं। अगर आप चाहते है की आपका मन आप पर विश्वास करे तो उसे बेवकूफ बनाने की कोशिश न करे। क्यों की संकल्प लेने से पहले से जरुरी है उसकी आवश्यकता पर गौर करना। ये आपने कर लिया तो कोई भी ताकत आपका संकल्प पूरा होने से नहीं रोक सकती। अच्छी आदत बनाए 21 दिनों के नियम के इस खास तरीके से.

नए नए प्रण लेना पर पूरा ना होना

नए साल का पहला सप्ताह चल रहा है। बहुतो ने प्रण लिए होंगे खुद को बेहतर बनाने, कुछ नया सीखे के लिए। पर क्या अपने पिछले वर्ष का आकलन किया की उसमे क्या किया, उस वर्ष ने क्या दिया, क्या सिखाया ! वैसे भी इस बार की तरह प्रण अपने पिछले साल भी लिए थे, वह कितना पूरा हुआ ! हो सकता है कुछ लोगो के पास इसके लिए सकारात्मक जवाब ही, परंतु अधिकांश लोग अक्सर मंथन ही करते रहते है। ऐसे में नए साल की शुरुआत आपके लिए एक और मौका है, इस वर्ष आप खुद को और बेहतर बना सकते है। सच्ची-प्रेरणा आज आपको ऐसा ही एक तरीका शेयर करने जा रहा है की कैसे अच्छी आदत बनाए जिससे आप खुद में बहुत कुछ पा सकते है। इन्हें आप आसानी से कर सकते है और अपने प्रण को पूरा कर सकते है।

पढ़े  : मानसिक शक्तिया विकसित करने के शुरुआती अभ्यास

हमारे नए वेबसाइट पर हम हर रोज तंत्र मंत्र साधना, पर्सनल डेवलपमेंट, आध्यात्म और कॉमिक्स के साथ साथ नोवेल्स जैसे बुक अपलोड कर रहे है.
अगर आप हर रोज नए बुक पढना चाहते है तो हमारे नए ब्लॉग Books verse पर विजिट करना ना भूले.

प्रण लेने के बाद पूरा करना कितना आवश्यक है।

अगर आप सोचते है की प्रण लेने के बाद पूरा न करने से आपको कोई नुकसान नहीं होता है तो आप गलत है। क्यों की जब भी आप कोई प्रण लेते है वो आपके अवचेतन मन तक प्रभाव छोड़ता है ये बात अलग है की आप दिनभर हजारो विचार सोचे और उनमे कोई पूरा न हो। प्रण लेना अपने आप में हमारे मन और शरीर दोनों को उस कार्यसीमा में बाँधना है, जिसमे हमें हर हालत में उसे पूरा करना होता है। आपने पौराणिक कहानियो और किस्सो में पढ़ा और सुना होगा की प्रण चाहे गलत हो या सही लेने के बाद उसे पूरा किया गया चाहे उसके लिए प्राण ही क्यों ना खोने पड़े। यही वजह है की प्रण लेने के बाद हमें हर हालत में उसे पूरा करना चाहिए।

अच्छी आदत बनाए 21 दिनों के नियम से:

21 दिनों का नियम अपने आप में बहुत मायने रखता है। चीनी मान्यता है की यदि कोई व्यक्ति लगातार 21 दिन तक किसी काम को कर लेता है तो ये उसकी आदत बन जाती है। यानि अपने सोचा की मुझे सुबह 5 बजे उठना है और व्यायाम करना है तो अगर ऐसा आप लगातार 21 दिन कर पाए तो ये आपकी दिनचर्या का हिस्सा बन जाता है। इसके बाद निर्धारित वक़्त पर आपकी नींद स्वतः ही व्यायाम के लिए सुबह 5 बजे खुल जाएगी। इसके लिए बस लक्ष्य यही बनाना है की 21 दिन आप किसी काम को लगातार कर पाए। और ये आसान भी है क्यों की अक्सर शुरू में असफलता मिलने पर हम इच्छाशक्ति खो देते है और फिर लगातार नहीं कर पाते है, इसके लिए 21 दिन बस किसी काम को लगातार करके देखे।

पढ़े  : क्या मेस्मेरिज्म एक औझा विद्या है जानिए इससे जुड़ी खास बाते

पुराने नियम में नए नियम को जोड़े

अब इसी नियम में एक और नयी चीज जोड़नी है, वह यह की पहले 21 दिन एक आदत पर काम करने के बाद अगले 21 दिनों के लिए दूसरी आदत चुने। यानि पहले 21 दिन आप सुबह जल्दी उठने का प्रयास करते है तो अगले 21 दिन में आप इसमें अपने आप में ध्यान, त्राटक, या पढ़ने की आदत डाले। इसी तरह आप हर 21 दिन बाद नयी आदत जोड़ते चले, और इसे बनाये रखे। इससे आपकी न सिर्फ आदते सुधरती है बल्कि वो आपकी दिनचर्या का हिस्सा बन जाती है। खुद के व्यक्तित्व विकास के लिए अच्छी आदत बनाए.

चिंता छोड़े बस जारी रखे

आमतौर पर  साल के प्रण तब धराशायी हो जाते है जब सोचा गया कार्य रुक जाता है या कुछ दिन हो नहीं पाता है। ऐसे में आप यदि किसी काम को लगातार नहीं कर पा रहे है या 21 दिन बाद करने का मन नहीं कर रहा है तो उसे छोड़ दे। इस पर परेशान होकर लगातार नए काम करने के प्रण को न तोड़े। हम इंसान है पर इस तरह का प्रयोग जारी रखना चाहिए।

पढ़े  :  सच्ची-प्रेरणा में जोड़े गए कुछ नए बदलाव क्या आप जानते है

और सभी प्रण होंगे पुरे :

इस 21 दिन के नियम के कई फायदे है। जैसे नए नए काम सिखने को मिलेंगे, उन्हें  करते करते नए अनुभव होंगे और नए लोगो से मुलाकात भी होंगी। इनमे से कुछ पसंद के काम 21 दिन तक करने से आदत में शामिल हो जायेंगे। बहुत सारे कामो का व्यावहारिक ज्ञान सिखने को मिलेगा।

दूसरी बात ये भी है की नए नए काम करने से हमारे अंदर रचनात्मक शैली का विकास होता है और हमारा दिमाग ज्यादा सक्रिय होता है। साथ ही मानसिक परेशानिया भी कम सताती है। अगर हम ऐसा करने में सफल होते है तो 1 साल में हम 17 नई आदते सीखते है और अपने दिनचर्या में शामिल कर खुद के व्यक्तित्व का विकास करते है। कैसे अच्छी आदत बनाए को लेकर हमारा आज का आर्टिकल आपको काफी मदद कर सकता है खुद में बदलाव लाने में।

Never miss an update subscribe us

* indicates required
Previous articleटोटके का सिद्धान्त और वशीकरण के 42 सरल और अचूक टोटके – simple easy tricks
Next articleVipassana Meditation basic guide and easy way to practice at home
Nobody is perfect in this world but we can try to improve our knowledge and use it for others. welcome to my blog and learn new skill about personal | psychic | spiritual development. our team always ready to help you here. You can follow me on below platform

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here