hajrat sadhna एक ऐसी जादुई गुप्त साधना जो साधक को दिव्य नजर प्रदान करती है

2

इस्लाम धर्म में सुलेमानी ताबीज और पीर पैगम्बर साधना बहुत महत्व रखती है। सुलेमानी तंत्र साधना में से एक है हाजरात साधना जो भविष्य दिखाने के साथ साथ कई ऐसे काम करती है जिनकी आम इंसान कल्पना भी नहीं कर सकता है। simple sulemani tantra sadhna में hajrat sadhna करने वालो की कमी नहीं है। क्यों की ये एक ऐसी साधना है जो साधक को ऐश्वर्य और ज्ञान के मामले में परिपूर्ण करती है। saral pari apsra sadhna करने वाले साधक tantra vigyan में इसका नाम जरूर सुनते है।

hajrat sadhna
ऐसी कई sabar mantra pdf है जिनमे sulemani hajrat sadhna का जिक्र है। hajrat sadhna करने वाले साधक का नियम पालन करना और साधना के दौरान ब्रह्मचर्य का पालन करना बेहद जरुरी है। ऐसी कई साधना है जो काल दर्शन और अदृश्य चीजों को देखने के लिए सिद्ध की जाती है इनमे ही एक है हजरत साधना जिसके बारे में आज हम यहाँ बात करने वाले है। आपने अलिफ़ लैला देखा तो होगा ही जिसमे हीरो एक सुरमा आँखों में लगाता है तो उसे दिव्य नजर प्राप्त हो जाती है। वो गायब चीजों को देख सकता है, मायाजाल को समझ सकता है साथ ही गड़े खजाने को देख सकता है। हाजरात की साधना भी बिलकुल ऐसी ही है।

hajrat sadhna – हाजरात की साधना क्या है ?

भविष्य देखने या फिर अपने सवालों का जवाब पाने के लिए पुराने समय से ही कई प्रयोग करते आ रहे है इनमे सबसे ज्यादा फेमस है एस्ट्रोलॉजी, हस्त-रेखा विज्ञान और टैरो कार्ड रीडर लेकिन क्या आप जानते है की चमत्कारी अंगूठी और नगीने के अलावा त्रिकाल दर्शी दर्पण जैसी कई ऐसी साधना है जो हमारे अतीत और भविष्य से जुड़ी जानकारी मिल सकती है।

hajrat sadhna भी ऐसी ही है आत्माओ का आकर्षण कहो चाहे पहरेदार हमें इस साधना के माध्यम से रहस्यों को समझने में मदद मिलती है। कुछ तांत्रिक इसे अंजन के रूप में बनाते है। चमत्कारी सुरमा और काजल जिसे आँखों पर लगाने के बाद हम अदृश्य चीजों को देख पाते है। गड़े खजाने देखने के लिए ऐसे ही सुरमे का निर्माण किया जाता है।

हिन्दू और मुस्लिम दोनों धर्म में है ये साधना :

हम सबको लगता है की हाजरात साधना एक मुसलमानी साधना है लेकिन ऐसा नहीं है दोनों ही रिलिजन में इसका जिक्र है और कोई भी इसे कर सकता है यही नहीं ये साधना ज्यादा मुश्किल भी नहीं है। हाजरात की साधना का अमल किसी भी मौलाना से मिल सकता है लेकिन इसे सिद्ध करने के लिए आपको मार्गदर्शन की जरूरत पड़ेगी। सुलेमानी शाबर मंत्र के जानकार इस साधना को आसानी सिद्ध कर लेते है।

हाजरात साधना का प्रयोग और साधना लाभ :

hajrat sadhna का amal एक छोटे बालक पर किया जाता है। एक ऐसा माध्यम जिसके जरिये हम हाजरात से बात कर अपने मनचाहे सवालों का जवाब पा सकते है। इस साधना द्वारा गड़े खजाने का पता करना, अतीत की घटनाओ का पता करना, जवाब पाना और भविष्य की झलकियां देखने और उससे रिलेटेड सवालों के जवाब पाने में मदद करती है।

hajrat sadhna और भविष्य दर्शन :

हाजरात साधना में एक ऐसे बालक का चयन किया जाता है जो मन का साफ़ हो और पवित्र हो। उम्र ज्यादा से ज्यादा 8 साल हो। उस बालक को अपने सामने बैठा-कर उसकी आँखों में देखते हुए उसे भावना दे की उसकी आंखे बंद हो रही है और वो ऐसी जगह जा रहा है जो साफ़ सुथरी है। उस जगह पर चार पहरेदार होंगे आप उन्ही में से एक को बुलाकर उसका नाम ले जिससे आपको बात करनी है। थोड़ी देर बाद ही वो उस आदमी को ले आते है जिससे आपको बात करनी है। ये विधि आप आत्माओ से बात करने की खास विधिया में पढ़ सकते है। करामाती अंगूठी के रक्षक और हाजरात का प्रयोग एक जैसा ही है।

हाजरात और प्लेनचिट दोनों एक जैसे ही प्रयोग है

hajrat sadhna और plainchit दोनों में एक खास बात है और वो ये है की इनमे मेस्मेरिज्म विद्या का प्रयोग होता है। मेस्मेरिज्म आकर्षण में फंस कर माध्यम प्रयोगकर्ता के आदेश के अनुसार ही काम करने लगता है। साधक का माध्यम पर आकर्षण होना बेहद जरुरी है। इसलिए आप ऐसी कुछ चीजों का इस्तेमाल कर सकते है जो माध्यम को शिथिल करने का काम करती हो साथ ही माध्यम का साधक पर विश्वास बढ़ाए रखने और उसके निर्देश का बिना किसी हिचकिचाहट के मान लेने के लिए पूरी तरह तैयार हो।

हजरत की साधना में पूर्णता की शर्ते :

इस तरह की साधना मुख्य रूप से साधक के निर्भय होने के साथ साथ उसके बल और ब्रह्मचर्य की परीक्षा लेती है। इसलिए साधना-काल में कुछ बातो का ध्यान जरूर रखे जैसे की

  • सादा और सात्विक लेकिन हल्का भोजन करना चाहिए जिससे की मन साफ बना रहे।
  • ब्रह्मचर्य का खास ध्यान रखना चाहिए जिसके लिए कोशिश करे आप ज्यादा समय साधना में बिताए। आप दिन में अपना ज्यादा से ज्यादा समय भक्ति में बिता सकते है।
  • साधना में पूर्णता से पहले हमें आभास होता है की जैसे साधना पूर्ण हो गई है और अभ्यास की जरुरत नहीं लेकिन वास्तव में ऐसा नहीं होता है। ये एक परीक्षा होती है ताकि साधक भटक जाए।
  • साधना के बाद समय समय पर इस साधना को दोहराते रहना चाहिए। ताकि इसका असर बना रहे। खासतौर से ग्रहण, खास मुहूर्त में।

हर साधना की तरह इस साधना में भी साधक को कई सावधानिया रखनी चाहिए जैसे की संयम, क्रोध पर नियंत्रण और ज्यादा समय में साधना में बिताना इसकी वजह है ज्यादा से ज्यादा सकारात्मक बनना ताकि सही परिणाम मिल सके।

साधना और तंत्र में विश्वास रखते है तो इन पोस्ट पर भी नजर डाले

  1. इस पूर्ण चंद्रग्रहण की रात्री का एक प्रयोग और कर पाओगे सबसे शक्तिशाली वशीकरण
  2. जुआ जीतने और lottery and lotto number के लिए घर बैठे करे ये उपाय सफलता जरुर मिलेगी
  3. क्या आप भी मानते है की बिल्ली वास्तव में अपशकुन और मनहूसियत का प्रतिक है – hidden secret
  4. hamjad sadhna के बारे में जुड़ी ये खास जानकारिया आपकी साधना को बना देगी आसान
  5. हमजाद साधना करने से पहले जान ले इन 5 खास बातो को

last word :

दोस्तों हजरत साधना एक ऐसी साधना है जो साधक को अपने लाइफ में सफल बनाने में मदद करती है। इसके द्वारा आप जीवन की हर ख़ुशी को हासिल कर सकते है। हाजरात की साधना एक सुलेमानी तंत्र साधना है जिसके अपने कड़े नियम है तो ढेरो लाभ भी।

आपको आज की पोस्ट कैसी लगी हमें जरूर बताए ताकि हम आपके लिए आगे भी आपके इंटरेस्ट के अनुसार आर्टिकल ला सके। अब आप हमें अपनी मनपसन्द पोस्ट और आर्टिकल के लिए सुझाव भी दे सकते है। हमें सब्सक्राइब करना ना भूले। जल्द ही वशीकरण और इस्लामी साधनाओ को आपके सामने सरल तरीके और स्वरूप में लाया जायेगा।

2 COMMENTS

  1. bahut hi khubsurti se apne ye post likhi hai. Thanks for sharing. Sadhana ko apne bahut achhe tarike se describe kiya hai.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.