महाराणा प्रताप से जुड़े रोचक तथ्य और उनकी जीवनी का इतिहास आपको जरुर जानना चाहिए

महाराणा प्रताप से जुड़े रोचक तथ्य और उनकी जीवनी का इतिहास आपको जरुर जानना चाहिए

प्राचीन भारत सम्पूर्ण विश्व में  गुरु था इसकी वजह थी हमारा गौरवमयी इतिहास. जिसे आज हम बेतुकी बाते और अन्धविश्वास मानते है प्राचीन काल से उनके वैज्ञानिक कारण रहे है. sachhiprerna पर एक नयी कड़ी की शुरुआत करते हुए आज से हम भारत के वीरो का इतिहास के बारे में जानेंगे. top 10 interesting fact about maharana pratap in hindi की इस पोस्ट में हम वीर महाराणा प्रताप के बारे में 10 रोचक तथ्य जानने वाले है जैसे की उनका व्यक्तित्व, वजन जीवनी और उनके अस्त्र-शस्त्र के बारे में.

fact about maharana pratap

किताबो में बहुत कम ही महाराणा प्रताप जैसे महावीर की जीवनी के बारे में पढने को मिलता है. इस पोस्ट में हम some great fact about maharana pratap, chetak and ramprasad के बारे में जानेंगे. क्या आप जानते थे की वीर प्रताप के ना सिर्फ घोड़े बल्कि उनका हाथी भी बहादुर था. उनके जीवन की महानता का अंदाजा सिर्फ इस बात से ही लगाया जा सकता है की जो अकबर पूरी जिंदगी उन्हें अपना गुलाम बनाने के लिए युद्ध करता रहा उसकी आँखों में भी आंसू आ गए. ऐसे ही वीर महाराणा प्रताप के बारे में आइये जानते है कुछ बेहद महत्वपूर्ण बाते.

interesting fact about maharana pratap in Hindi

महाराणा प्रताप बहुत ही बहादुर और वीर थे इसका अंदाजा उनकी personality के आधार पर ही लगाया जा सकता है. आइये जानते है उनके बारे में कुछ खास और रोचक बाते.

    • महाराणा प्रताप का वजन – 110 KG.
  • कद – 7’5”

उनके हथियार में से खास हथियार और उनका वजन

    • दो म्यान वाली तलवार
    • भाला – 80 KG
  • कवच – 80 kg

ढाल और हाथ की तलवार को मिलाकर सभी का वजन – 270 kg.

महाराणा प्रताप की युद्ध शिक्षा

उनको युद्ध शिक्षा “श्री जैमल” जी मेडतिया ने दी थी. इनके बारे में प्रसिद्द था की इन्होने युद्ध में 8000 राजपूत वीरो को लेकर 60,000 मुसलमानों से लड़े थे. इस युद्ध में 48,000 जिसमे से 40,000 मुसलमान थे, मारे गए.

मेवाड़ के आदिवासी महाराणा प्रताप को अपना बेटा मानते थे. जब युद्ध हुआ तब भील समाज ने अकबर की सेना को अपने तीरों से रोका था. महाराणा भी बिना किसी भेदभाव के उनके साथ रहते थे जिसका प्रमाण आज भी मेवाड़ के राज-चिन्ह के रूप में देखने को मिल जाता है. इसमें एक तरफ राजपूत है तो दूसरी तरफ भील.

unbelievable fact about maharana pratap में से एक के अनुसार कहा जाता है की महाराणा प्रताप अपने दुश्मन को उसके घोड़े समेत एक झटके में ही काट डालते थे.

“book of president U. S. A. के अनुसार जब अब्राहम लिंकन India के दौरे पर थे तब उनकी माँ ने उन्हें कहा था की भारत से जब लौटो तब हल्दी घाटी से आते वक़्त एक मुठ्ठी धुल लेकर आना. लेकिन बाद में वो दौरा रद्द हो गया और ऐसा नहीं हो पाया. ऐसी महान भूमि के वीर थे महाराणा प्रताप.

महाराणा प्रताप के भाले और कवच दोनों का ही वजन 80KG था. ये दोनों चीज आज भी उदयपुर के संग्रहालय में देखी जा सकती है. है ना ये great fact about maharana pratap में से एक.

महाराणा प्रताप और अकबर से जुड़े रोचक तथ्य

  1. भारत पर शासन करने वाले अकबर ने भी maharana pratap को लालच देने की कोशिश की. उसने कहा था की अगर महाराणा मेरे सामने झुकते है तो उन्हें आधा हिंदुस्तान दे दिया जायेगा, लेकिन बादशाहत उनकी ही रहेगी. अकबर का ये ऑफर उन्होंने ठुकरा दिया और अधीनता स्वीकार नहीं की. जब महाराणा प्रताप का देहांत हुआ तब अकबर भी रो पड़ा था.
  2. जिस समय हल्दीघाटी का युद्ध हुआ उस समय मेवाड़ में 20,000 सैनिक थे जब की अकबर की सेना में सैनिको की संख्या 85,000 थी फिर भी मेवाड़ की सेना ने बहादुरी से युद्ध में दुश्मनों का सामना किया.

महाराणा प्रताप का वफादार घोड़ा चेतक जिसका मंदिर हल्दीघाटी में बना हुआ है. चेतक ने एक टांग टूट जाने के बावजूद महाराणा प्रताप के एक इशारे पर 26 फीट का दरिया पार करवा दिया था.जहा वो घायल हुआ वहाँ आज खेडा ईमली नाम का पेड़ है. असल में महाराणा प्रताप के पास 2 घोड़े थे हेतक और चेतक दोनों ही बहुत ताकतवर जिनके आगे दुश्मनों के हाथी को भ्रमित करने के लिए हाथी की सूंड लगाई जाती थी.

महारण प्रताप और उनके त्याग का महान उदाहरण

  1. अपनी मृत्यु के समय महाराणा प्रताप ने 85% खोया हुआ साम्राज्य जीत लिया था फिर भी सोने और महल को छोड़ कर 20 साल तक वे जंगलो में फिरते रहे.
  2. महाराणा प्रताप के जंगलो में भटकने के समय लुहार जाति के हजारो लोगो ने अपना घर छोड़ दिया था. कहा जाता है की युद्ध के समय उन्होंने ही राणा जी को हथियार की सामग्री उपलब्ध करवाई थी. उसी एक वचन के कारण ये लोग आज भी एक जगह से दूसरी जगह घूमते हुए घुम्कड़ जीवन यापन करते है. नमन ऐसे गाड़िया लुहार जाति के लोगो को.
  3. fact about maharana pratap and haldi ghaati battle का आपसी सबंध के अनुसार हल्दी घाटी का युद्ध कितना भयंकर था इसका अंदाजा इस बात से ही लगाया जा सकता है की इतने समय के बाद भी वहा खुदाई में तलवारे मिलती रहती है. सबसे आखिर में खुदाई 1985 के समय की गई थी.

महाराणा प्रताप के हाथी रामप्रसाद की कहानी

बहुत कम लोग ही जानते है की maharana pratap के पास सिर्फ चेतक और हेतक जैसे वीर और बहादुर घोड़े ही नहीं एक हाथी भी था जिसका जिक्र अल-बदायुनी जो हल्दीघाटी के युद्ध में अकबर की तरफ से लड़ा था ने अपने एक हस्त लिखित ग्रन्थ में किया था. उस हाथी का नाम रामप्रसाद था और वो भी महाराणा प्रताप की शान था. आइये जानते है fact about maharana pratap के साथ साथ उस वीर हाथी की कहानी.

युद्ध में अकबर की दो ही मांगे थी

जब महाराणा के साथ अकबर ने युद्ध किया था तब उसकी दो ही मांगे थी पहला खुद महाराणा प्रताप और दूसरा उनका हाथी रामप्रसाद. रामप्रसाद इतना बहादुर और समझदार था की उसने अकेले ही अकबर के 13 हाथियों को मार गिराया था.

उस हाथी को पकड़ने के लिए अकबर को भी रण निति बनानी पड़ी थी. 7 हाथियों के एक चक्रव्यूह पर 14 महावत को बिठाया तब कही रामप्रसाद को वो बंदी बना पाए थे. अकबर ने उसका नाम पीरप्रसाद रखा और खाने के लिए गन्ने और पानी दिया, लेकिन रामप्रसाद ने अपनी स्वामिभक्ति दिखाते हुए 18 दिन तक कुछ भी नहीं खाया और ना ही कुछ पिया जिससे उसकी मौत हो गई.

महाराणा प्रताप के घोड़े की तरह उनका हाथी भी स्वामिभक्त था. अपने स्वामी को दुश्मनों के सामने निचा दिखने की बजाय अपना बलिदान देने वाले ऐसे बहादुर और स्वामिभक्त साथी की गाथाए कई पीढ़िया गाती रहेगी.

  1. sleep paralysis से जुड़े top 10 amazing fact जानिए हकीकत कैसे आपकी सोच से परे है
  2. क्या आप जानते है रैकी और इससे जुड़े कुछ ऐसे fact जो आपके लिए फायदेमंद है
  3. सुलेमानी काले हकिक की माला से जुड़े ये फायदे आपको जरुर जानने चाहिए – साधना सिद्धि विशेष
  4. यूनिवर्स से जुड़े टॉप अमेजिंग फैक्ट जो सुनने में जितने में मजेदार है उतने ही खतरनाक
  5. मानव मस्तिष्क और ब्रह्मांड से जुड़े आश्चर्यजनक तथ्य

maharana pratap amazing fact – अंतिम शब्द

आज हमें अकबर के बारे में पढाया जाता है की वो कितना महान था, लेकिन कही भी आजादी के लिए संघर्ष करते हमारे महान महाराणा प्रताप जैसे वीरो के बारे में कुछ भी नहीं पढाया जाता है. एक दार्शनिक के अनुसार “अगर किसी देश को नष्ट करना है तो उसकी संस्कृति को नष्ट कर दो वो अपने आप अज्ञानी होकर अपना विनाश खुद कर लेंगे” मुगलों, बाहरी ताकतों और अंग्रेजो का लम्बे समय तक हम पर शासन करना इसकी सच्चाई का सबसे बड़ा उदाहरण है. उम्मीद करता हूँ fact about maharana pratap पढ़ कर आपको अपनी संस्कृति और इतिहास पर गर्व हुआ होगा.

अपनी संस्कृति को, उसकी महानता को समझे और आगे बढे. पुरातन हिन्दुस्तान का इतिहास सम्पूर्ण विश्व में गौरवमयी है और इसकी गरिमा को वापस लाया जा सकता है. इसलिए कुछ समय निकाल कर हमारा प्राचीन भारत कितना महान था और हमारी रीतिया महज अन्धविश्वास नहीं बल्कि एक वैज्ञानिक कारण है इसे  समझे.

Never miss an update subscribe us

* indicates required

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.