इस दीवाली वशीकरण के इन मंत्रो द्वारा अपनी इच्छा पूर्ति का है बेहतरीन मौका – आजमा कर देखो

इस दीवाली वशीकरण के इन मंत्रो द्वारा अपनी इच्छा पूर्ति का है बेहतरीन मौका – आजमा कर देखो

दिवाली की रात की जाने वाली तंत्र मंत्र साधना इतनी खास क्यों होती है क्या इसकी कोई खास वजह है की दीप माला की रात्रि को किये गए वशीकरण के प्रयोग 99% कामयाब होते है. आज हम बात करने वाले है दीवाली पर वशीकरण के प्रयोग की जिसमे हम कुछ खास उपाय के बारे में बतायेंगे. वैसे तो मंत्र सिद्धि का समय दिवाली, होली, ग्रहण या फिर अमावस का ही होता है लेकिन हम चाहे तो शुभ महूर्त पर भी अभ्यास कर सकते है. दिवाली पर वशीकरण मंत्र को सिद्ध करने के सबसे बढ़िया उपाय देख रहे है तो इन मंत्र के बारे में जरुर पढ़े.

दीवाली पर वशीकरण के प्रयोग

दिवाली की रात किये जाने वाले वशीकरण के प्रयोग या फिर किसी अन्य मंत्र साधना को सिद्ध करना दीपमाला की रात्रि को सरल पड़ता है क्यों की इस वक़्त माना जाता है सभी नक्षत्र अच्छे स्थिति में होते है और मंत्र सिद्धि में सहायता करते है. अगर आपने कही पर चोरी की गई वस्तु का पता लगाने के लिए कांसे की कटोरी का प्रयोग के बारे सुना है तो ये आपको यहाँ जानने को मिल जायेगा. ये सभी मंत्र इंद्रजाल की पुस्तक से लिए हुए है.

दीवाली पर वशीकरण के प्रयोग

दीवाली पर गहन अंधकार धरती पर फैला रहता है और तांत्रिक इस दौरान अपने खास पूजा पाठ करते है. ऐसा माना जाता है की इस समय अगर पूजा की जाए तो वो जल्दी सफल होती है वही कुछ लोग इस दौरान पारलौकिक शक्तियों की पूजा भी करते है ताकि उन्हें उनकी सहायता मिलती रहे. अगर आप गाँव या शहर साइड से है तो आपको इस रात्रि में काफी ज्यादा मात्रा में टोटके, उतारा जैसी चीजे मिल जाएगी. आइये अब बात करते है कुछ ऐसे दीवाली पर वशीकरण के प्रयोग के बारे में जो हम कर सकते है.

ज्वालामुखी वशीकरण मंत्र साधना

ज्वालामुखी मंत्र वशीकरण के शक्तिशाली मंत्रो में से एक माना जाता है. इसे कार्य सिद्धि में हम प्रयोग में ला सकते है. दिवाली का पर्व आ रहा है तो इस मौके पर हम आसानी से तंत्र मंत्र सिद्धि के प्रयोग कर सकते है. दीपमाला की रात्रि का समय ऐसे कामो के लिए शुभ माना गया है क्यों की इस दौरान अमावस में सिद्धि का चांस बढ़ जाता है. इस खास दीवाली पर वशीकरण के प्रयोग में से एक ज्वालामुखी वशीकरण मंत्र का प्रयोग आप कर सकते है.

आवश्यक सामग्री –

  • चमेली के फूल
  • बर्फी
  • सिगरफ ( पारे का अयस्क पंसारी की दुकान पर मिल सकता है )
  • दशांश हवन सामग्री

मंत्र

ॐ ह्री क्ली सिंहेश्वरी ज्वालामुखी ज्रंभिनी स्तम्भनी मोहिनी वशीकरणी परघनमोहनि सर्वारिष्टनिवारिणी शत्रुगणसंहारिणी सुबुद्धि दायिनी ॐ आं क्रो ह्रा त्राहि त्राहि अक्षोभय अक्षोभय अमुकं में वश्यं कुरु कुरु स्वाहा

विधि – ये मंत्र दीपमाला की रात्रि को किया जाता है. सबसे पहले ऊपर बताई गई सामग्री को भोग के रूप में सामने रखे और इस मंत्र का जाप 10,000 बार करते रहे, दशांश हवन करे. ये प्रक्रिया दीपमाला की रात्रि से 15 दिन बाद तक करनी है. साधना में सफलता आपके अन्दर बढती आकर्षण शक्ति के रूप में दिखती है. इसके बाद आपको जब कोई कार्य हो ( वशीकरण ) आप इस मंत्र का 10,000 जाप करे इससे आपको जल्दी सफलता मिलेगी.

दीवाली पर वशीकरण के प्रयोग मंत्र साधना – 2

ये मंत्र कार्य सिद्धि प्रयोग मंत्र है. इसे आप अपने कार्य की सिद्धि हेतु प्रयोग में ला सकते है और ये सरल भी है. जब भी ग्रहण या अमावस ( दीवाली ) हो इस मंत्र का जाप यथासंभव करे 108 माला का विधान है लेकिन 10,000 जाप से भी सिद्धि होती है. मंत्र को आप खास पर्व पर ही सिद्ध कर सकते है इसलिए दीवाली पर वशीकरण के प्रयोग में इसे भी आप कर सकते है.

मंत्र

ॐ नमो कट कट घोर रूपिणी अमुकं में वशमानय स्वाहा

प्रयोग विधि – जब भी इस मंत्र का प्रयोग करना हो रविवार को इस मंत्र की एक माला जप से भोजन को अभिमंत्रित कर ले और खाते समय उसका नाम लेते जाए जिसे वश में करना है. ऐसा 3 सप्ताह में यानि 3 रविवार तक करने पर आपको सामने वाले पर अपने प्रभाव का पता चल जाता है.

दीवाली पर वशीकरण के प्रयोग – मोहिनी मंत्र प्रयोग

इस मंत्र को हनुमंत दुहाई वशीकरण प्रयोग भी कहते है. ये मंत्र शाबर मंत्र की तरह प्रभाव दिखाता है. इस मंत्र को सिद्ध करने के लिए दीपमाला की रात को एक थाली में 11 दीपक जला ले और भोजपत्र पर सिंदूर से इस मंत्र को लिख दे. भोजपत्र कटा हुआ नहीं होना चाहिये, कोशिश रखे की ये अखंड हो. भोजपत्र पर मंत्र लिखने के बाद इसे अपने सामने स्थापित कर दे और धूप दे. इस मंत्र की 1 माला जपे. इस दौरान अपना सारा ध्यान यंत्र की तरफ रखे.

मंत्र

तेकसोमें तेल राजा परजा पावे मेल कछु पानी मसक ल्यान छःसै वीर मेरे पाय लगाव हाथ खड़ग फूलोंगी माला जानि विजाने गोरख जाने मेरी गति को कहे न कोय

हाथ पछानो मुख धोऊँ सुमिरो निरंजनदेव हनुमंत यति हमारी पति राखो मोहिनी दोहनी दोनों बहन आव मोहनी

रावल चले मुख बोले तो जिह्वां मोंहू आस मोहू पास मोहू सब मोहू सब संसार में निकलू टिका देय ललाट

आवे तो नहीं पकड़ बांध ले आवे दुहाई अंजनीके पूत की दुहाई, लक्षमण जतीकी दुहाई, गुरु गोरखनाथ की दुहाई

निरंजन भगवानकी मेरी भक्ति गुरु की शक्ति फुरो मंत्र इश्वरोवाच

प्रयोग विधि – जब भी इस मंत्र का प्रयोग करना हो साध्य व्यक्ति के सामने 3 बार इस मंत्र का जाप करे और इसका प्रभाव देखे. इस दौरान हनुमान जी की पूजा पाठ करना न भूले.

दीवाली पर वशीकरण के प्रयोग – चोरी की जगह का पता लगाना

आपने कई जगह पढ़ा होगा की कुछ लोग मंत्रो द्वारा चोरी की जगह का पता लगा लेते है या फिर अनाज / पैसा उड़ा लेते है. सुनने में ये भी आया था की खुद डॉ. नारायण दत्त श्री माली जी ने इसका परीक्षित प्रयोग करके दिखाया था. इसमें मुख्य है एक कटोरी पर प्रयोग जिसमे हम मंत्र पढ़ कर कटोरी छोड़ देते है और वो चोरी वाली जगह जाकर रुक जाती है. आइये ऐसे ही कुछ प्रयोग देखते है.

ॐ नमो सत्तरसौं पीर चौसठसौ योगिनी बावनसौ वीर बहतरसौ भैरो तेरहसौ तंत्र चौदहसौ मंत्र अठारहसौ पर्वत सत्तरसौ पहाड़ नौसौ नदी निन्यानवसौ नाला हनुमन्त यति गोरख रखवाला कांसीकी कटोरी अंगुल चारि चौड़ी कहो वीर कहांते चलाईगिरिनारपर्वतसे चलाई अठारह भार बनस्पति चल लीना चमारी की बाचा फुरे कानी कुम्हारी चाक ज्यों फिरे कहाँ जाय

चोरके जाय चंडालके जाय कहाँ ल्यावै चोरको चंडालको ल्यावै गडौ धनको जाय बतावै चाल चाल रै

हनुमंत वीर जहाँ चले तहां रहे न चले तो गंगा यमुना उलटी बहे || शब्द ||

विधि – एक कांसे का पैसा बनवाए जो तीन भार ( वजन ) और चार अंगुल चौड़ी हो. दीवाली की रात को कटोरी पूजन करे और इस पैसे को उसमे डाल दे. ऊपर दिए गए मंत्र से उड़द को अभिमंत्रित करे. चौक में इस कटोरी को स्थापित कर दे. कटोरी चलना शुरु कर देगी.

मंत्र सिद्धि के लिए आप इसे 101 दिन में सिद्ध कर सकते है रोज धूप देकर 108 बार जाप करे. जल्दी करना चाहते है तो रोज 1000 बार जाप करे 21 दिन तक. मंत्र सिद्ध हो जायेगा.

दूसरा मंत्र

ॐ नमो नाहर वीर चलते तेगमें तेर सीर बहता चलता थाम्बे नीर सोये अनपै लागे तीर ज्यों ज्यों चाले तू धर धरी चाले

नीर ज्यो चाले नाहरसिंह वीर चित चोर का धरै न धीर चोर का हाथ कांपे सिर कांपे छाती थर्रावे जहाँ धरै चुराया धन तहांसु हटन ना पावै

दुहाई गुरु गोरखनाथ की दुहाई चौरासी सिद्ध की दुहाई पूरन पूत की शब्द सांचा पिंड कांचा फुरो मंत्र इश्वरोवाचा

सत्यनाम आदेश गुरु को

विधि – मंत्र को ग्रहण या दीप माला की रात को एक लाख बार जप कर ले या ऊपर बताई विधि से सिद्ध कर ले. जिस किसी की चोरी निकालनी हो उत्तर दिशा की ओर मुख कर बैठ जाइये. कांसे की कटोरी सामने रख ले और मंत्र पढ़ उस पर चावल के दाने मारे. कटोरी अपने आप ही चलने लगेगी और चोरी वाली जगह रुक जाएगी.

दीवाली पर वशीकरण के प्रयोग – अंतिम विचार

दीवाली के पर्व को देखते हुए हमने दीवाली पर वशीकरण के प्रयोग के कुछ उपाय यहाँ शेयर किये है. ये सभी मंत्र इंद्रजाल की पुस्तक से लिए गए है जो विश्वसनीय है न इसके बाद भी ये कितना सही काम करेंगे इस बात की कोई गारंटी नहीं. प्रयोग विश्वास और श्रधा से किया जाए तो सफलता हासिल होती है वर्ना कुछ नहीं. इंद्रजाल की पुस्तक मंगवानी हो तो इस लिंक पर विजिट करे. आज की पोस्ट आपको कैसी लगी हमें जरुर बताए. इन पोस्ट को पढना ना भूले

Never miss an update subscribe us

* indicates required

4 thoughts on “इस दीवाली वशीकरण के इन मंत्रो द्वारा अपनी इच्छा पूर्ति का है बेहतरीन मौका – आजमा कर देखो”

    • अजय जी ये सभी मंत्र इंद्रजाल की सबसे पुरानी पुस्तक में से लिए हुए है. इन्हें पुरे विधान से किया जा सकता है.

    • सुझाव देने के लिए धन्यवाद सर
      कोशिश करूँगा जड़ी ही आपको इससे जुड़ी जानकारी मिले.

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.