आखिर क्यों काउंट ड्रेकुला वैम्पायर जैसे काल्पनिक किरदार ने लोगो को भयभीत किया

0

काउंट ड्रेकुला की कहानीअँधेरी रात में जब चारो और सुनसान सन्नाटा छा जाता है तब एक बड़ा सा चमगादड़ आकाश में मंडराता हुआ दिखता है अगर कोई गलती से उस वक़्त बाहर भटक जाता है तो उस चमगादड़ का शिकार बन जाता है। जवान लड़कियों का गर्म गर्म खून इस पिशाच चमगादड़ की खुराख थी जो इसे हमेशा जवान बने रहने के साथ साथ शक्तिया देती है। ये पिशाच इतना शक्तिशाली है की इसकी आँखों में देखने के बाद आप इसके गुलाम बन कर रह जाएंगे और फिर आपको इसका शिकार बनने से कोई नहीं रोक सकता है। क्या वाकई कोई इतना शक्तिशाली और खतरनाक पिशाच हो सकता है ? बिलकुल हम बात कर रहे है काउंट ड्रेकुला की कहानी की।

दोस्तों ये सिर्फ एक काल्पनिक रचना है एक आयरिश ऑथर ब्रेम स्टोकर की जिन्होंने अपनी कल्पनाओ को सबसे पहले नावेल के माध्यम से लोगो के सामने रखा। जिसने भी उनके नावेल को पढ़ा दहशत से भर गया। इसकी एक वजह काउंट ड्रेकुला नाम के काल्पनिक किरदार को एक ऐसे पिशाच के रूप में पेश करना था जो कब किस को अपना शिकार बना ले किसी को पता नहीं। इससे बचना बहुत मुश्किल था और इसकी शक्तिया अनंत। यही वजह रही की काउंट ड्रेकुला पर ना सिर्फ नावेल बने बल्कि फिल्मे भी और कॉमिक्स में भी इसका किरदार शामिल किया गया।

काउंट ड्रैकुला कौन था ?

काउंट ड्रेकुला एक महान राजा था जो ट्रांसलेवेनिया पर राज करता था। उसका सपना था की वो पूरी दुनिया पर हुकूमत करे लेकिन जब वो अपने महल से बाहर युद्ध में व्यस्त था तभी कुछ लोगो ने उसकी रानी को गलत सुचना दी की उसके प्रिय राजा की मौत हो गयी है और रानी ने इसे सच मान कर खाई में कूद कर अपनी जान दे दी। चूँकि उसने आत्महत्या की थी तो उसकी आत्मा को शांति नहीं मिली थी। इधर जब काउंट वापस लौटा तो उसे रानी की मौत का समाचार मिला उसने उसी पल से पवित्र निशानों से बगावत कर दी। यही वजह थी की वो सिर्फ खून पर जिन्दा रहा और पवित्र निशानों से उसको तकलीफ होती थी।

पढ़े  : तुल्पा एक ऐसी नकारात्मक ऊर्जा जो बन जाती है परछाई

काउंट ड्रेकुला की कहानी :

ड्रेकुला एक ऐसे राजा के रूप में पेश किया गया था जो लोगो के लाशो पर उनके खून से नाश्ता और भोजन करता था। यही नहीं वो लोगो को क्रूरता से मारने के लिए प्रसिद्ध था जिसमे वो माँ बेटे को एक भाले पर लटका देता था। धीरे धीरे लोगो को मरता देखने में उसे बेहद मजा आता था। इतना सब होने के बावजूद वो बहुत बड़ा धार्मिक था और अपनी रानी से बेहद प्यार भी करता था। जब वो युद्ध में व्यस्त था तब उसके दुश्मनो ने उसकी रानी को गलत सन्देश पहुंचवा कर आत्महत्या करने पर मजबूर कर दिया। मरने से पहले रानी ने काउंट को पुनर्जन्म में फिर से मिलने का वायदा किया था इसलिए काउंट ने हमेशा अमर बने रहने के के लिए देवताओ से बगावत कर दी और खून पीकर जिन्दा रहने को अपना मकसद बना लिया।

रानी का पुनर्जन्म

इधर काउंट की रानी का पुनर्जन्म हो चूका था लेकिन उसे कुछ याद नहीं था। दूसरी तरफ काउंट को पता चल गया की इंग्लैंड में उसकी प्रिय रानी का पुनर्जन्म हो चूका है। उसने इंग्लैंड में जाने का निश्चय किया और इससे पहले उसने अपनी रानी के मंगेतर और प्रेमी को अपने महल में कैद करवा लिया। इन सबसे बेखबर उसकी मंगेतर और पुनर्जन्म की रानी काउंट से मुलाकात करती है जिसके बाद वो उसके सम्मोहन जाल में फंस जाती है। जब उसे अपनी गलती का अहसास होता है तो वो काउंट को भूल जाने का कह कर अपने मंगेतर से शादी कर लेती है।

काउंट ये सब बर्दास्त नहीं कर पाता है और वो लोगो में दहशत फैलाना शुरू कर देता है। चूँकि उसने अपनी रानी को जो इस जन्म में किसी और की मंगेतर की थी के अंदर अपने खून को पहुंचा दिया था तो दोनों आपस में जुड़ चुके थे। इसी का फायदा उठा कर सम्मोहन में फंसा कर वो उसे वापस वही बुला लेता है जहा से सारा खेल शुरू हुआ था यानि ट्रांसलवेलसनिया का महल। ड्रेकुला को ख़त्म करने की जब सारी कोशिश नाकाम हो गई तो उसकी रानी ड्रेकुला को वही ले गई जहा उसने देवता के पवित्र चिन्ह से बगावत की थी। देवता से माफ़ी मांगने पर उसे अनंत जीवन से मुक्ति मिलती है और उनकी प्यार कहानी अमर हो जाती है।

पढ़े  : तंत्र मंत्र अगर आपको खेल लगता है तो इसे एक बार जरूर पढ़े

आखिर क्यों ड्रैकुला दहशत का दूसरा नाम बन गया

ड्रेकुला अपने वक़्त में दहशत का दूसरा नाम इसलिए बन गया था क्यों की दुनिया के सामने एक ऐसा किरदार आया था जो सम्मोहन की शक्ति में माहिर था इसके साथ साथ उसके पास रूप बदलने की शक्ति थी। कुछ समय के लोगो में ड्रेकुला का इतना खौफ फैला की उन्होंने शाम के बाद घर से बाहर निकलना बंद कर दिया। काउंट ड्रेकुला की कहानी को लोगो में इस तरह से पेश किया गया की लोग इसे भयभीत हुए बगैर नहीं रह सके।

काउंट ड्रेकुला की कहानी में खून की प्यास :

काउंट ड्रेकुला ने जब देवताओ के पवित्र निशान के खिलाफ जब बगावत की थी तभी उन्होंने प्रतिज्ञा ली थी की वो सिर्फ खून के बल पर हमेशा जिन्दा रहेंगे और इन्तजार करेंगे अपनी प्रिय रानी के पुनर्जन्म का। इसलिए काउंट ड्रेकुला को हमेशा खून की प्यास रहती थी। दूसरा इस काल्पनिक किरदार की शक्ति का मुख्य स्त्रोत सिर्फ खून दर्शाया गया जिससे की लोगो में गलत सन्देश फैला और रिसर्च के मुताबिक विश्व के कुछ हिस्से खासतौर से रोमानिया में आज भी वैम्पायर का अस्तित्व माना जा रहा है। लेकिन इनमे काउंट ड्रेकुला जैसी कोई शक्ति नहीं है इन्होने सिर्फ इससे प्रेरित होकर खून को अपना खुराख बना लिया है।

पढ़े  : डरावनी होने के साथ साथ असली घटनाओ से जुड़ी है ये फिल्म

क्या खून पिने से क्या अमर बना जा सकता है

खून पीकर अमर बनने की हकीकत से जुड़ा कोई प्रमाण आज तक किसी को नहीं मिला है। और वैज्ञानिक भी मानते है की खून पीकर कोई व्यक्ति किसी तरह की शक्ति प्राप्त नहीं कर सकता है। लेकिन कयास लगाए जा रहे है की ड्रेकुला का खून पीना किसी तरह की तांत्रिक विधि का कोई तरीका रहा होगा। जाहिर है क्यों की आज भी तांत्रिक विधि में बलि और खून के पान की कई मान्यताए प्रचलित है। काउंट ड्रेकुला की कहानी में दिखाया गया की खून पीकर कैसे काउंट ने लम्बे समय तक अमरत्व प्राप्त किया था। इससे प्रेरित होकर लोगो में खून पिने का क्रेज़ बढ़ा जिसमे कुछ का मानना था की इससे उन्हें तरोताजगी फील होती है वही कुछ को लगता है की इससे हम लम्बे समय तक सुंदरता और जवानी को बरकरार रख सकते है। क्लियोपेट्रा इसका ही एक उदहारण है।

क्या वास्तव में ड्रैकुला जैसा कोई पिशाच है :

वास्तव में ऐसा कोई व्यक्ति अस्तित्व में नहीं है जिसमे ड्रेकुला जैसे किसी पिशाच के लक्षण मौजूद हो। माना जाता है की वैम्पायर कभी मरते नहीं है ये अपने मायाजाल द्वारा हमेशा लोगो को आकर्षक व्यक्तित्व का दिखावा करते है। आज अगर ड्रेकुला या वैम्पायर जैसी कोई चीज है तो वो सिर्फ एक अलग दिखने वाले सामान्य लोग ही है जिन्होंने ड्रेकुला से प्रेरित होकर या तो खुद को उसके किरदार में ढाल लिया है जैसे दांतो की बनावट, खून पिने की लालसा, या फिर व्यव्हार यहाँ तक की सर पर नकली सींग जैसा दिखावा करना।

लेकिन हकीकत में ऐसा कुछ नहीं है जो ये साबित करता हो की ड्रेकुला जैसा कोई पिशाच आज भी लोगो के बिच में है। काउंट ड्रेकुला की कहानी को कुछ लोग हकीकत में अपना रहे है और इसका असर लोगो में देखने को मिला है जिसमे एक औरत ने खुद को वैम्पायर जैसा दिखाने के लिए नकली दांत लगवाए और माथे के ऊपर नकली सींग की सर्जरी भी करवाई।

पढ़े  : क्या आप भी इन संकीर्ण मानसिकताओं से घिरे हुए है

काउंट ड्रैकुला पर बनी फिल्मे और उनकी सफलता

काउंट ड्रेकुला पर सबसे चर्चित 3 उपन्यास Dracula, ड्रेकुला की वापसी और ड्रेकुला की बेटी ने विश्वभर में अपनी अलग पहचान बनाई है। लोगो में इसका क्रेज़ कितना महशूर है की आज भी आप चाहो कितनी भी बार इसे पढ़े भयभीत हुए बगैर नहीं रह सकेंगे। इसे लिखने का अलग ही अंदाज है और हर बार पढ़ने के बाद भी ऐसा ही लगेगा की पहली बार पढ़ा है। इस पर बनी फिल्मे भी लोगो में काफी पॉपुलर रही है जिसमे ड्रेकुला, द ब्लेड, ट्वाईलाईट सागा जो इसी से प्रेरित है कुछ हेर-फेर के अलावा और भी बहुत सारी फिल्मे और सभी देखने में रोमांचक है

दोस्तों काउंट ड्रेकुला की कहानी वाकई बेहद रोमांचक है। काल्पनिक किरदार होने के बावजूद ड्रेकुला का खौफ रियल लाइफ में भी देखने को मिला है जो आपको रोमानिया और ट्रांसवेलनिया जैसी जगहों पर देखने को मिल सकता है। यहाँ माना जाता है की ड्रेकुला के वंशज या उससे प्रेरित लोग रहते है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.