दुसरो को कण्ट्रोल करने के लिए आज ही आजमाइए इन टिप्स को

1

दुसरो का माइंड कण्ट्रोल कैसे करेहजारो वजह हो सकती सकती है दुसरो के माइंड को कण्ट्रोल करने की जिसमे सबसे ज्यादा है अपनी बात को मनवाना। क्या आप भी यही सोचते है की काश में दुसरो के mind पर control कर सकता। या फिर दुसरो के दिमाग को कण्ट्रोल कर उनसे अपनी बात मनवा सकता। ज्यादातर बाते खुद के personal स्वार्थ से जुड़ी है लेकिन फिर भी दुसरो के बिच पॉपुलर कैसे बने इस पर बात करेंगे। इसमें शामिल है आकर्षक व्यक्तित्व और दुसरो का माइंड कण्ट्रोल कैसे करे साथ ही साथ उनको समझना ताकि वो आपको अपने लिए खास मानने लगे।

दुसरो के Mind को control करना एक psychological विषय है। यानि लोगो के psychic को समझ कर हम उन पर हावी हो सकते है। यहाँ पर कोई वशीकरण जैसे विषय पर बात नहीं की जा रही है जिसमे हम खुद के लाभ के लिए दुसरो को अपने कण्ट्रोल में करते है। मनोवैज्ञानिक तरीके से ये संभव है की हम लोगो की बातो को समझ कर उन्हें respect दे और उनके लिए खास बने जिससे हम उन्हें कोई काम कहे तो वो मना ना कर सके। लोगो को समझकर हम उनसे अपनी बाते मनवा सकते है वो भी बिना उनके ego को hurt किये। इसके लिए आपको थोड़ा सा झुकना पड़ता है लेकिन सामने वाला पूरा झुक सकता है। अपने सुना ही होगा

मीठी बोली बोलने वाले अपना काम कैसे भी करके निकाल ही लेते है। 

दुसरो का माइंड कण्ट्रोल कैसे करे

दुसरो को कण्ट्रोल करने या उनकी सोच पर काबू पाने के लिए आपको उन्हें समझना बेहद जरुरी है। ऐसी कई बाते है जिन्हे ध्यान में रख कर आप आसानी से दुसरो से अपनी बाते मनवा सकते है आइये जानते है ऐसी ही कुछ बातो को।

दूसरे लोगो को समझना :

दूसरे लोगो को समझने का मतलब है उनकी nature को समझना वो किस प्रकृति के है और कैसे हम उनसे अपना काम निकलवा सकते है। क्यों की हर इंसान खुद के आदर्श बना कर behave करता है। उसके आदर्श या यु कहे की उसके personality के पैमाने पर अगर आप खरे उतरे तो वो आपकी बात मानेगा। इसलिए लोगो को कण्ट्रोल करने की बजाय उन्हें किसी काम के लिए कन्वेंस करना ज्यादा बेहतर रहता है इससे आप अपनी बात मनवा भी सकते है और सामने वाले का ईगो भी बना रहता है। इस तरीके से आप लोगो के ऐटिटूड को बदल सकते है उनकी इज्जत और भावनाओ में किसी बदलाव के बगैर।

पढ़े  : मानव मस्तिष्क और ब्रह्मांड से जुड़े आश्चर्यजनक तथ्य

सही तरीके का चुनाव :

अगर आप सही तरीके का चुनाव नहीं कर पाएंगे तो आप लोगो की भावनाओ को हर्ट कर सकते है। ऐसे में लोगो को कन्वेन्स करना आपके लिए काफी प्रेशर भरा काम हो जायेगा। इसलिए पहले दुसरो की भावनाओ को समझे की वो किस तरह से आपकी बाते मान सकते है। इसके लिए ध्यान की की कभी लोगो को आपके काम के लिए फाॅर्स न करे ना ही उनसे अपनी बात जबरदस्ती मनवाये। लोग कभी नहीं चाहेंगे की कोई उन्हें उनकी मर्जी के बगैर change के लिए force करे।

लोगो की प्रेरणा-स्त्रोत की पहचान करे :

आप लोगो से force काम नहीं करवा सकते लेकिन अगर आपको पता हो कौनसी बाते उन्हें motivate करेगी काम करने के लिए तो आप आसानी से उन्हें प्रेरित ही सही काम करने के लिए मनवा सकते है। कहने का मतलब है लोगो के नजरिये से काम को देखो क्यों की किसी भी काम को वो 2 तरीके से ही करेंगे पहला उनका कोई स्वार्थ या भले का काम हो, उन्हें उनसे क्या फायदा होगा। इसलिए आप लोगो को convince कर सकते है दुसरो का माइंड कण्ट्रोल कैसे करे इसके लिए उन बातो को जानिये जिनसे उन्हें प्रेरणा मिलती है।

आप लोगो के प्रेरणा-स्त्रोत की आसानी से पहचान भी कर सकते है जैसे की आप उनसे पूछे की वो इस काम को क्यों करना चाहेंगे या नहीं करना पसंद करेंगे। उनके तर्क और दलील पर ध्यान देंगे तो उन्हें समझने में आपको ज्यादा मदद मिलेगी। आपको बस उनके फायदे और अपने काम के बिच तालमेल बिठाना है।

पढ़े  : आत्मज्ञान ध्यान की विधि से कम समय में जाग्रत करे चेतना को

उदाहरण से समझे प्रेरणा-स्त्रोत को

इस बात को आप example के तौर पर ऐसे भी समझ सकते है जैसे आपकी team में 5 आदमी है और उनमे से एक member उतना काम नहीं कर रहा है जितने की आप expect कर रहे है। इसकी 2 वजह हो सकती है या तो उसे लगता है की वो पहले से ही काफी काम कर चूका है यानि खुद को limit में बांध कर काम कर रहा है या फिर आलस के मारे काम नहीं कर रहा है।

और दूसरी वजह उसका आत्मविश्वास कमजोर होना जिसकी वजह से उसे लगता है की वो काम को उतना अच्छा कर ही नहीं सकता जितना करना चाहिए। अगर वो पहला तर्क सोचता है तो उसे आप मोटीवेट कर सकते है। दूसरे तर्क में आप को उस पर ध्यान देकर उसे और ऊपर उठाना होगा। साथ काम कर उसे बताये की वो और बेहतर कर सकता है। दोनों ही कंडीशन में motivation की अनिवार्यता है।

पढ़े  : आत्माओ को बुलाने का सरल टेबल विज्ञान का तरीका

सबसे ज्यादा स्ट्रांग मोटिवेशन की पहचान :

हमारे जीवन में वक़्त के साथ हमारे आदर्श बदलते जाते है क्यों की वक़्त के साथ हमारा मोटिवेटर बदलता जाता है जिससे हम प्रभावित होते है। आपने महसूस किया तो होगा की जब हम किसी को मोटीवेट करते है तो किसी एक टॉपिक पर वो सबसे ज्यादा प्रभावित होता है। ऐसा इसलिए क्यों की वो उसे अपनी जिंदगी के बेहद नजदीक महसूस करता है। आपने पता कर लिया की लोगो को प्रेरणा किन चीजों से मिलती है लेकिन उनमे से किस स्त्रोत से वो सबसे ज्यादा प्रभावित होंगे उसकी तलाश भी बेहद जरुरी है। क्यों की इसमें लोगो का mind change करने की power है।

आप लोगो को तब आसानी से कन्वेंस कर सकते है जब आप उन्हें उन बातो को समझाओ जिनसे उनकी जिंदगी में सबसे गहरा असर पड़ता है। उदहारण के तौर पर एक व्यक्ति किसी दूसरे व्यक्ति को अपना मत सिर्फ इसलिए देने की सोचने लगता है क्यों की वो टीवी में उसके काम देखता है और सोशल मीडिया पर उसके बारे में सुनता है। ऐसे में अगर आप उनसे अपनी बाते मनवाना चाहते है तो आपको दूसरे व्यक्ति के साथ जुड़े अपने अनुभव शेयर करने चाहिए और उनके आसपास हुए काम को लेकर उदहारण देना चाहिए। ऐसे में आप आसानी से उनका विश्वास जीत सकते है।

पढ़े  : गुस्से और दिमाग पर नियंत्रण पाने में कारगर है ये 6 उपाय

सिर्फ मोटिवेशन ही नहीं कमियों को भी समझे :

आपको अपनी बात मनवाने के लिए इस बात पर भी ध्यान देना चाहिए क्यों की लोग जल्दी से किसी other people की बात पर believe नहीं करते है। इसके लिए उन्हें पूरी तरह से अपनी बातो के आईडिया में उतारना पड़ता है। इसलिए कभी भी लोगो को motivate करने वाले factor को ध्यान में रखने के साथ साथ उन बातो की ओर भी ध्यान दे जिनसे वो पीछे हटने लगते है। जैसे की एक सेल्समेन किसी ग्राहक को कोई वस्तु खरीदने के लिए मना लेता है फिर भी लास्ट टाइम ग्राहक का मूड बदल जाता है।

यहाँ पर ध्यान देना चाहिए उन बातो को जिनकी वजह से वो ग्राहक पीछे हटा। हो सकता है जो अपने बताया है उसमे कोई limit या कमी उसे नजर आ गयी हो। इसलिए हमेशा उन बातो को भी importance दे जो लोगो के लिए risk पैदा करती हो। अगर आप लोगो के दिमाग में वही भरना चाहते है जो आप चाहते है तो ये एक बहुत ही bad idea साबित हो सकता है। क्यों की दूसरे लोग अपने विचारो से इससे जुड़ी रिस्क को भी गौर करते है।

पढ़े  : एकाग्रता पर top 18 अनमोल विचार

आत्मविश्वास और संबंध स्थापित करे :

लोगो के बिच self-confidence और आपसी relationship मजबूत करने के पीछे सिर्फ उन्हें ये भरोसा दिलाना है की वो कर सकते है। हर कोई उम्मीद करता है की उसे किसी काम में हीरो वाला रोल मिले। इसके लिए आप उन्हें आसानी से विश्वास दिला सकते है की किस तरह वो आपसे जुड़ कर खुद को एक अच्छा और रोल मॉडल साबित कर सकते है।

लोगो को समाज और पहचान दे : कोई भी आपसे जुड़ कर ख़ुशी ख़ुशी तभी काम कर पायेगा जब आप उसे अपनी टीम का एक हिस्सा समझेंगे। या फिर उसे लगेगा की वो आपके काम में एक महत्वपूर्ण भाग निभा रहा है। हर कोई किसी से जुड़ कर काम करना पसंद करेगा बशर्ते उसे भी एक पहचान मिले।

पढ़े  : सेक्स से जुड़े आश्चर्यजनक तथ्य

दुसरो के लिए काम करने से गुरेज ना करे :

लोगो के लिए निस्वार्थ भाव से मदद करना एक अच्छा माध्यम साबित हो सकता है आपके लिए लोगो से जुड़ने में। इससे लोग आपको respect के नजरिये से देखेंगे और अगली बार जब आप किसी को कोई काम कहेंगे तो वो उसे ना ही नहीं कर पायेगा। लेकिन इसके लिए आपको लोगो से जुड़ना होगा और उनकी हेल्प करनी होगी।

लोगो को भी उतना ही सम्मान दे जितना आप चाहते है :

कुछ लोग दुसरो का मजाक उड़ाने से बाज नहीं आते है। शायद उन्हें लगता है की दूसरे उनसे निम्नतर है। लेकिन क्या आप जानते है की हर कोई इस जीवन में महत्वपूर्ण है और सबके काम आने वाला है। अगर आप emotionally रूप से किसी के सम्मान को चोट पहुंचाते है तो संभव है की वो आगे चलकर आपको किसी भी काम के लिए ना कर दे। इसके बजाय जब भी किसी को लगे की वो निम्नतर है उसे मोटीवेट करे इससे वो आपके लिए सम्मान की भावना रखेगा और आपको कभी ना नहीं करेगा। दुसरो का माइंड कण्ट्रोल कैसे करे इसके लिए हमेशा दुसरो को सम्मान देना सीखे।

पढ़े  : त्राटक में सफलता के लिए जरुरी है प्राण का प्रचुर मात्रा में होना

दुसरो का माइंड कण्ट्रोल कैसे करे-अपनी भाषा में लाये बदलाव :

बोलने का अंतर कई बार आपकी बातो के मतलब पर असर डालता है। एक औरत उस बात को आसानी से मनवा लेती है जिसमे एक मर्द फ़ैल हो जाता है। क्यों ? फर्क है बोलने में और बोलने के तरीके में। इसलिए वाणी में कभी भी आर्डर वाली भावना ना आने दे। इसके बजाय किसी को अपील करने वाले लहजे में आप ज्यादा बेहतर तरीके से अपनी बात मनवा सकते है।

बातो को जोड़े लॉजिक के साथ :

कई बार आपकी बाते काफी request से भरी होती है लेकिन फिर भी आप सामने वाले को आपकी बातो के लिए राजी नहीं कर पाते है क्यों की आपकी बातो में logic की कमी होती है। जिस काम को लेकर आप दूसरे से बात करते है आपको उससे जुड़े कुछ लॉजिक का भी पता होना चाहिए जैसे की इसका काम क्या है, ये क्या फायदा कर सकता है, सामने वाले को ये क्यों करना चाहिए वगैरह वगैरह इससे सामने वाले पर आपकी बातो का असर जल्दी पड़ेगा ही वो आसानी से आपकी बात को मान भी लेगा।

साथ ही अपनी वाणी में बोलने के तरीके में आत्मविश्वास से भरे शब्दों का इस्तेमाल करे ये जानते हुए भी की आपको इस काम में नाकामी हासिल हो सकती है। दुसरो का माइंड कण्ट्रोल कैसे करे खासतौर से तब जब आपकी लैंग्वेज में दम ही ना हो इसलिए बॉडी लैंग्वेज का भी ध्यान रखे।

पढ़े  : आपके सम्पूर्ण व्यक्तित्व का विकास करता है ध्यान

अपने आईडिया को बनाये लोगो का आईडिया :

दुसरो का माइंड कण्ट्रोल कैसे करे और कैसे अपने आईडिया को उनका आईडिया बनाये। क्या आप ऐसा कर सकते है। इसे दूसरे शब्दों में अपने काम को दुसरो से करवाना भी कहते है। लोगो को पता नहीं होता है की उन्हें ये काम करना चाहिए या नहीं। लेकिन आप उन्हें अपने विश्वास में ले लेते है और अपने आईडिया को उनके दिमाग में भर देते है। आप जानते है की इससे सबसे ज्यादा फायदा आपको ही होगा लेकिन आप दुसरो को ऐसा दिखाते है की इससे उन्हें ही लाभ होगा। और फिर जब किसी काम को लालच से जोड़ दे तो काम बनते देर ही कितनी लगती है।

लोगो को किसी बात के लिए चिंतित करना भी जरुरी है :

ज्यादातर ऑनलाइन शॉपिंग में आप क्या पाते है। online shopping में पहले किसी product की इतनी marketing की जाती है की आपको लगने लगता है की वो तो आपके पास होना ही चाहिए। और सबसे अंत में उसकी सीमा भी तय कर देते है जैसे की only 55 product left in cart इससे आप उस प्रोडक्ट को खरीदने से पहले उसके बारे में ज्यादा सोच ही नहीं पाएंगे। और जल्दी से जल्दी order भी कर देंगे बगैर ये जाने की ये वास्तव में कैसा होगा। ये आईडिया लोगो को आपकी बात जल्दी से मानने पर महबूर कर देगा।

इसमें 2 चीजे गौर करने वाली है पहली दिमाग में किसी product के लिए जरुरत पैदा करना जैसा की मेने बताया की अपने आईडिया को लोगो का आईडिया कैसे बनाये और दूसरा उन्हें सोचने का मौका ही ना देना की वो उससे जुड़ी risk पर ध्यान दे सके। इसलिए इनके बिच तालमेल बैठा कर आप ज्यादा बेहतर तरीके से लोगो से अपनी बाते मनवा सकते है।

पढ़े  : मानसिक शक्तियों को विकसित करने के सरल अभ्यास

अपने अनुभव का विश्लेषण करे :

आप दुसरो को कण्ट्रोल करना पसंद करते है सिर्फ अपनी बाते मनवाने के लिए या खुद को उनसे बेहतर साबित करने के लिए लेकिन क्या वो आपको कण्ट्रोल करना पसंद नहीं करेंगे। दुसरो का माइंड कण्ट्रोल कैसे करे इंसानी सोच इसमें सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण रोल निभाती है और उसमे सबसे इसकी वजह है की हमारा दुसरो की लाइफ पर कण्ट्रोल नहीं होता है। यही वजह है की की दूर लोग कभी भी आपको अपने दिमाग पर कण्ट्रोल करना पसंद नहीं करेंगे। यही सबसे बड़ी प्रॉब्लम है क्यों की आपका दुसरो के हालत और स्थिति पर नियंत्रण नहीं है।

ऐसा इस वजह से भी हो सकता है की जब आपकी लाइफ में स्थिति आपके कण्ट्रोल से बाहर हो जाती है तब आप दसरो को कण्ट्रोल कर खुद को secure करने की कोशिश करते है। इसलिए कभी भीहमेशा ध्यान रखे की दुसरो को कण्ट्रोल कर आप खुद की स्थिति में कभी बेहतर महसूस नहीं कर सकते इसके लिए उन विकल्प का चुनाव करे जो आपकी स्थिति को बेहतर बनाये।

इसका एक उदहारण आप देख सकते है की किस तरह बोर्ड के एग्जाम में एक लड़का जो दूसरे होशियार लड़के को पढाई में पीछे रखने के लिए सिर्फ इसलिए कोशिश करता है क्यों की उसे लगता है की वो उससे बेहतर कर लेगा। ऐसे में वो पढ़ने पर ध्यान देने की बजाय दुसरो का माइंड कण्ट्रोल कैसे करे इस पर ज्यादा सोचेगा। क्या ये इस प्रॉब्लम का सलूशन है। नहीं दुसरो को पीछे रखने की बजाय खुद को आगे बेहतर बनाने की कोशिश करना ही इसका सही समाधान है।

पढ़े  : रैकी से जुड़ी कुछ खास बाते जो आपको पता होनी चाहिए

दुसरो का माइंड कण्ट्रोल कैसे करे-क्या करे :

खुद की कमियों को बाहर निकाले। आपमें क्या कमिया है और आप कहा पर पीछे रह सकते है उसे दूसरे के सहयोग से भी दूर कर सकते है। आत्मविश्वास बढ़ाना आपकी कमियों को लगभग आधा हल कर देता है।

  • आपको ऐसा क्यों लगता है की ये आपके रास्ते में आ सकती है। या फिर आपको इससे नुकसान पहुँच सकता है जबकि हकीकत में ऐसा हो भी सकता है नहीं भी इसलिए प्रॉब्लम को इग्नोर करना सीखे।
  • दुसरो का माइंड कण्ट्रोल कैसे करे आपकी मज़बूरी है जरुरत नहीं ऐसे में अगर वो मज़बूरी ही ना रहे तो ! कोशिश करे की ऐसी नौबत आये ही नहीं की आपको दुसरो को कण्ट्रोल करना पड़े। इसके बजाय लोगो को अपनी टीम का हिस्सा बनाकर काम करवाना एक बेहतर ऑप्शन है।
  • जीवन के उतार-चढाव को समझे और उसके साथ चलने की कोशिश करे। वक़्त को आप कण्ट्रोल नहीं कर सकते लेकिन अच्छा तो बना ही सकते है। इसी की कोशिश करे।

पढ़े  : क्या आप जानते है इन संकेतो को जो बताते है की आप Law of attraction में एक्सपर्ट बन रहे है

 बेहतर विकल्प का चुनाव

दूसरे विकल्प का चुनाव भी एक बेहतर सुझाव है। इसके लिए आपको बस उन अवसर की तलाश करनी है जिसमे आप खुद को बेहतर बना कर ऐसी स्थिति ही ना आने दे की आप मजबूर हो जाये। जैसे की एक schedule बनाकर work करना बजाय इसके की आप जल्दबाजी में काम करे और बाद में ऐसी स्थिति पैदा हो जाए की आपको दुसरो की सहायता लेनी पड़े।

दोस्तों आज की पोस्ट दुसरो का माइंड कण्ट्रोल कैसे करे मेरे विभिन्न लेखो से लिए गए विचार है जिसमे Wiki-how का सबसे बड़ा योगदान है। ऊपर दिए गए सभी टिप्स आपको अपने जीवन को नए नजरिये से देखने और समझने में मदद करेंगे। अगर आपको लगता है की पोस्ट में कही कुछ कमी है जिसे सुधारा जा सकता है तो आप कमेंट में अपने विचार जरूर रखे।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.