कौवा बन कर नहीं आऊंगा श्राद्ध में जो खिलाना पिलाना है अभी खिला दे – आज के समाज की दुखद सच्चाई

माता-पिता का बुढ़ापे में ख्याल रखना