Blackouts medical condition causes and treatment in Hindi

0

कई बार चलते चलते ही हमें सबकुछ धुंधला धुंधला दिखाई देने लगता है या फिर शरीर या दिमाग कुछ देर के लिए सुन्न हो जाता है. इस दौरान हमें किसी तरह का होश नहीं रहता है और न ही हम खुद को कण्ट्रोल कर पाते है. ऐसा अक्सर उन लोगो के साथ होता रहता है जिन्हें पानी की कमी या खून की कमी होती है. इस वजह से कुछ समय के लिए जब दिमाग सही तरह से काम नहीं कर पाता है तो blackouts period का सामना करना पड़ता है. ये एक ऐसी medical condition है जिसमे हम कुछ समय के लिए खुद पर कण्ट्रोल खो देते है.

Loss of consciousness or complete or partial memory loss ऐसे कुछ लक्षण है जो इस पीरियड में notice किये जा सकते है. आमतौर पर चक्कर आना या बेहोश हो जाना ये दोनों ही ब्लैक-आउट की जैसी स्थिति लगती है लेकिन ब्लैकआउट में हमारा brain सही तरह से function नहीं कर पाता है जो या तो पानी की कमी के कारण होता है या brain तक खून की regular supply की कमी की वजह से होता है.

blackouts

शुरू में ये कुछ सेकंड के लिए होता है जो आगे चलकर मिनट तक बना रह सकता है और इस दौरान हम क्या करते है या आसपास क्या होता है इसका हमें कोई होश नहीं रहता है.

अगर आप इसे एक छोटी सी बात मानकर ignore कर रहे है तो ऐसा करना आपके लिए घातक हो सकता है क्यों की ये हमारे लिए memory loss or unconscious state की problem create करता है जो की serious medical problem होती है. आज हम बात करेंगे इसके लक्षण, बीमारी या घटक जिनकी वजह से ऐसा होता है और इसके सही ईलाज के बारे में.

What are blackouts?

ब्लैक-आउट एक periods of unconsciousness or memory loss होता है जिस दौरान हम खुद पर conscious or unconscious control नहीं रख पाते है. इस समय हम unconsciousness or lack of awareness की state में होते है जिस दौरान हमें होश नहीं रहता है की क्या हो रहा है या फिर हम क्या कर रहे है.

इसकी कई सारी वजह हो सकती है जैसे की brain damage, drug side effects, excessive alcohol consumption या फिर  कुछ ऐसे disorders जो brain function को affect करते है जैसे की epilepsy. Blackouts को Fainting जिसे मेडिकल भाषा में syncope के नाम से भी जाना जाता है. ये ऐसी कंडीशन को दर्शाता है जो ब्लैक-आउट के दौरान होती है.

अगर बात करे शारीरिक तौर पर तो इसकी कई सारी वजह सामने आती है जैसे की

  • Cardiac arrhythmias (abnormal heart rate or rhythm) धड़कन में अनियमित उतर चढ़ाव
  • Abnormalities of the heart muscle or valves दिल का ठीक तरह से function ना कर पाना.
  • Condition called postural hypo-tension जिसमे हम अचानक बैठे बैठे ही उठ जाते है तब दिमाग तक Blood supply में आने वाली problem की वजह से अचानक ही सुन्न पड़ जाना.

ब्लैक-आउट की मुख्य वजह है हमारे दिमाग तक खून का सही सप्लाई ना हो पाना. ये समस्या उन लोगो के साथ अक्सर होती है जिनमे खून की कमी होती है, लम्बे समय तक बैठे काम करते है या फिर Physical workout ना के बराबर करते है. इसके अलावा ऐसे कई symptom होते है जो memory loss जैसी स्थिति के साथ होते है.

What other symptoms might occur with blackouts?

ब्लैक-आउट के साथ होने वाले symptom कई disease, disorder or condition पर निर्भर करते है जैसे की Nervous system symptoms और लगभग 70% symptom आपको nervous breakdown की वजह से होते है.

  • Changes in hearing, taste or smell सुनने में, टेस्ट में या फिर स्मेल में बदलाव
  • mood, personality or behavior में बदलाव
  • Depression तनाव
  • Difficulty speaking बोलने में परेशानी
  • Dizziness or vertigo
  • Head injury सर में किसी तरह की चोट
  • Headache सरदर्द
  • Loss of vision or changes in vision देखने में समस्या होना
  • Memory loss चीजो को याद ना रख पाना
  • Muscle twitching, spasms or seizures मांस-पेशियों में जकड़न
  • Perspiration

कुछ ऐसे लक्षण भी है जिन्हें आप Blackouts के दौरान notice कर सकते है जैसे की Body aches, Fever सरदर्द, Nausea with or without vomiting जी घबराना, Palpitations, Weight loss वजन में कमी जिसमे सबसे ज्यादा आप जी घबराने की समस्या को देख सकते है. ऐसे भी कुछ Serious symptoms है जिन्हें समय रहते सही ना किया जाए तो हमारे लाइफ के लिए ख़तरा बन सकते है.

banner-1
  • Level of consciousness or alertness में बदलाव जैसे की passing out or unresponsiveness यानि ऐसी स्थिति जिसमे हम पूरी तरह अपने आसपास से unaware होते है.
  • mental status या फिर sudden behavior change होना जैसे की confusion, delirium, lethargy, hallucinations and delusions
  • Chest में दर्द या दबाव को महसूस करना
  • बोलने में असमर्थ हो जाना
  • अचानक ही बुखार का उच्च स्तर पर हो जाना
  • Paralysis या फिर किसी एक बॉडी पार्ट को मूव न कर पाना
  • साँस ना लें पाना जैसे की shortness of breath, difficulty breathing or inability to breathe, labored breathing, wheezing, or choking
  • Seizure
  • रह रह कर सर दर्द होना

इन लक्षण को समय रहते सही ना किया जाए तो हमारे लिए permanent injury भी बन सकते है.

What causes blackouts?

मुख्य रूप से इसका संबध brain से है. ऐसी problem जिनकी वजह से brain function खासकर nervous system and blood supply पर असर पड़ता है ब्लैक आउट की स्थिति को पैदा करती है. कई बार traumatic event या फिर Past life regret की वजह से भी ब्लैक आउट जैसी कंडीशन सामने आ सकती है.

इसकी कई वजह है जिन्हें अगर मुख्य रूप से देखे तो Traumatic causes, Substance-related causes, Disease and disorder causes of blackouts के अलावा Serious or life-threatening causes शामिल है. आइये जानते है इनके बारे में.

Traumatic causes

  • किसी तरह की Complications of brain surgery
  • Concussion
  • Electroshock therapy
  • Injections and innoculations
  • Mild head injury
  • Phlebotomy (drawing a blood sample)
  • Traumatic emotional event

Substance-related causes of blackouts

ऐसी कई चीजे है जिनकी वजह से ब्लैकआउट की स्थिति बनती है जिसमे Alcohol intoxication, Medication side effects, जैसे की the side effects of cancer treatments or seizure medications, या फिर anesthesia, Poisons जैसी दवाई का इस्तेमाल करना.

कई बार cleaning chemicals or pesticides, Recreational drug की वजह से भी nervous breakdown जैसी स्थिति देखी जा सकती है जो Blackouts का कारण बनती है.

 बीमारिया और डिसऑर्डर जिनकी वजह से ब्लैकआउट होता है

  • खून की कमी Anemia
  • Brain or spinal cord injury or tumor
  • Cardiac arrhythmia
  • पानी की कमी Dehydration
  • Dementia
  • ज्यादा तनाव Depression
  • Encephalitis
  • Epilepsy (disorder characterized by recurrent seizures)
  • Infections of the brain दिमाग में किसी तरह का इन्फेक्शन
  • Nutrient deficiency
  • Parkinson’s disease
  • Postural hypotension
  • Vasovagal syncope

अगर आप इनमे से किसी भी तरह की मेडिकल कंडीशन से गुजर रहे है तो इस बात के चांस बढ़ जाते है की आपको ब्लैकआउट की स्थिति का सामना करना पड़े.

ब्लैक-आउट से जुड़ी कुछ खतरनाक वजह

  •  irregular heartbeats
  • दिल की मसल्स का कमजोर होना
  • Epilepsy
  • Heart valve में किसी तरह की कमी
  • Myocardial infarction (heart attack)
  • Seizures
  • Severe infection
  • Stroke खून के ब्लॉक होने की वजह से स्ट्रोक आना
  • Traumatic injury

इस तरह की बीमारी या लक्षण बहुत ज्यादा सीरियस कंडीशन होते है. अगर आप इन मेडिकल कंडीशन से गुजर रहे है तो बेहतर होगा की आप कुछ खास सवालों की पहचान कर ले.

  • क्या Blackouts की स्थिति के टाइम आप चीजो को, घटनाओं को याद रख पा रहे है ?
  • इसके तुरंत बाद आप क्या करते है क्या ये आपको याद रहता है ?
  • ब्लैक आउट के ठीक पहले आप क्या कर रहे थे ?
  • किस तरह की दवाई आप इस्तेमाल कर रहे है ?
  • आपने लास्ट टाइम ड्रिंक कब लिया था ?

ये कुछ ऐसे सवाल है जिनके जवाब के आधार पर Blackouts के बारे में ज्यादा जानकारी प्राप्त कर सकते है.

कुछ जटिल परेशानी जिनका सामना करना पड़ सकता है

ऐसी कई complications of blackouts है जिनकी वजह से भी हमें serious problem हो सकती है. ये अलग अलग कारण और लक्षण पर निर्भर करता है. कई बार serious diseases जिनका सही समय पर समाधान नहीं हो पाए तो permanent damage की वजह बन सकता है. इससे बचने के लिए health care professional द्वारा सुझाया गया सही ईलाज लेते रहे.

Brain damage, blackout episode के दौरान होने वाली दुर्घटना, Neurological problems जैसे की memory loss and confusion, Permanent nerve damage जिसमे paralysis शामिल है ये वो serious medical condition है जो सही ईलाज ना ले पाने की वजह से होते है.

ज्यादातर इसकी वजह पानी की कमी या खून के प्रवाह में आने वाली रूकावट होती है. दिमाग के ठीक तरह से function ना कर पाने की वजह से ये problem शुरुआत में temporary होती है जो आगे चलकर permanent damage में बदल जाती है.

How to get help during blackouts period final conclusion

कई बार चलते चलते या काम के दौरान ही हमें दिमाग के सुन्न होने जैसी स्थिति का सामना करना पड़ता है. बैठे बैठे अचानक ही खड़े हो जाने पर दिमाग ठीक से काम नहीं कर रहा है तो जितना जल्दी हो सके health care professional से मिलकर Blackouts treatment ले क्यों की इसमें की गई देरी आपको permanent damage की वजह बन सकती है. शुरुआत में भले ही ये बेहद कम स्तर पर दिखे लेकिन आगे चलकर ये हमारे लिए स्थायी memory loss की वजह बन सकता है.

कई बार इसकी वजह से serious damage or injury जैसी स्थिति का सामना भी करना पड़ सकता है. जब हम blackouts period में होते है हमें किसी तरह का होश नहीं होता है ना ही हमारा खुद पर कोई कण्ट्रोल जिसकी वजह से कोई भी दुर्घटना हो सकती है इसलिए इसे कभी भी ignore ना करे. आमतौर पर पानी की कमी, खून की कमी और सही प्रवाह को कण्ट्रोल कर आप इससे निजात पा सकते है लेकिन अगर ये किसी और वजह से हो रहा है तो समय रहते इसका ईलाज लेने की कोशिश करे.

Never miss an update subscribe us

* indicates required

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here