How to Astral Travel in Dreams top 5 Working tips and safety Guide

0

Astral projection dream travel में हम आज बात करेंगे How to astral travel? हम क्या अनुभव करे जिससे हमारी पहली यात्रा सफल रहे. Astral travel in dreams के दौरान सामान्य इंसान को क्या क्या अनुभव होने चाहिए. क्या हम हमेशा एक सही अनुभव कर पाते है. नहीं क्यों की कोई भी काम जब शुरू में किया जाता है तो बिना किसी Path decide के किया जाता है. यही वजह है की एक और जहा ज्यादातर को असफलता मिलती है वही दूसरी ओर बहुत कुछ सिखने को मिलता है. इसलिए ज्यादातर को अपना पहला अनुभव याद रहता है.

Astral Travel in Dreams

Astral travel tips में हम आज कुछ बेसिक तथ्य की बात करेंगे की हमें Dream travel astral projection के दौरान किन बातो का ध्यान रखना चाहिए, किन किन बातो की उम्मीद करनी चाहिए और किन बातो को समझना चाहिए जिससे हमारा पहला अनुभव एक यादगार अनुभव बन जाये. आइये जाने बेसिक astral travel tips के बारे में.

लेकिन क्या कुछ ऐसा उपाय है जो हमारी success के शत प्रतिशत सफलता की hope बढ़ा दे. हालाँकि sure success के लिए बहुत सी बातो का knowledge पहले से होना जरुरी है लेकिन ये संभव नहीं क्यों की शुरुआत हमेशा अधूरे ज्ञान से होती है जो सफलता का सही मार्ग दिखाती है.

निर्देश और मन की कल्पना सपनो को साकार बनाती है. इसके लिए static mind और शांत मन का होना बेहद जरुरी है. आज की पोस्ट में हम बात करेंगे की कैसे निर्देशो का ध्यान रख कर हम सूक्ष्म की यात्रा को यादगार अनुभव बना सकते है.

How to Astral Travel in Dreams

Astral projection एक ऐसी psychic ability होती है जिसमे हमारी spirit इस physical body को छोड़ कर universe में कही भी घूम सकती है. कुछ लोग meditation or trance states जैसी अवस्था में अपने शरीर से बाहर विचरण का अनुभव करते है जो की एक लम्बे समय के अभ्यास के बाद आता है. वही कुछ लोग इसे सपनो की दुनिया के दौरान भी अनुभव करते है. ये अवस्था Lucid dream की होती है जिसमे उन्हें ये पता नहीं होता है की वे क्या कर रहे है.

अगर आप astral travel in dreams का अनुभव करते भी है तो भी सुबह उठने के बाद आपको कुछ याद नहीं रहता है. इसकी वजह है आपका उठने के बाद रिकॉल ना करना. हम इसी वजह से सपनो को भूल जाते है या फिर रात को सपने में क्या देखा ये सब चीजे भूल जाते है. ऐसे कई tips है जिन्हें follow करते हुए आप Unconscious Astral Projection in Dreams की प्रक्रिया को समझ सकते है.

आपके सपने hyper-real quality के हो सकते है लेकिन अगर आप सोने के बाद खुद को कही किसी जगह गया हुआ और लोगो से बाते करता हुआ महसूस करते है तो ये संकेत है आपके Out of body experience का. अगर इस दौरान आपको लोगो की जगह light body, शरीर के चारो और प्रकाश दिखे तो ये भी एक संकेत है.

कई बार हमें ऐसा महसूस होता है की हम किसी अनजानी जगह पर है और घूम रहे है. अचानक ही हम खुद को बिस्तर पर पाते है. हमें लगता है की ये हमारा सपना है लेकिन हकीकत में ये Dream travel astral projection का एक अनुभव होता है.

पहली बार अभ्यास के दौरान क्या उम्मीद रखनी चाहिए

अगर आप पहली बार अभ्यास कर रहे है तो इसे लेकर बहुत ज्यादा उम्मीद न रखे. इस दौरान जितना हो सके शांत रहे और पलो को महसूस करे. आपके आसपास क्या हो रहा है उन सभी गतिविधि को अनुभव करते रहे. First time astral projection के दौरान आपको क्या उम्मीद रखनी चाहिए अपने आप से पहला सवाल पूछे की

  • क्या आप इस क्षेत्र में एक्सपर्ट है ?
  • क्या आप सूक्ष्म शरीर को कही भी भेजने में सक्षम है ?

पहली बार Astral Travel in Dreams के अभ्यास के लिए बैठे और मन में एक्सपर्ट होने की धारण बैठा ले ये हमारी पहली गलती है. चूँकि एक वक़्त ऐसा भी आता है जब आप सक्षम भी होते है और expert भी, मगर शुरू से ये धारण बनाने से बचे. खुद स्वीकार करे की आपका ये पहला experience है और इसे आप बेहद एन्जॉय करने वाले है.

Astral travel के लिए right time सुबह उठते ही या फिर सोते वक़्त होता है. क्यों की इसी वक़्त आपका मन सबसे ज्यादा शांत होता है. इसका अभ्यास बैडरूम में करे तो सबसे अच्छा रहता है. इसके लिए आपका शरीर जितना हो सके शांत रहना चाहिए और माइंड पूरी तरह एक्टिव तभी आप सही से अनुभव कर पाएंगे.

पढ़े : How to Casting Love Spells on someone without any Negative Effect Hindi Guide

पहली बार अनुभव कैसा रहता है

जब आप पहली बार feel करते है तब आप खुद को बेहद relax महसूस करते है. आप चीजो को चलते, घूमते हुए और प्रकाश के तीव्र घेरे महसूस कर सकते है. हालाँकि हर इंसान को अनुभव अलग अलग होते है जिसके लिए उनकी mentality और मन की अवस्था responsible होती है. इसके negative experience भी हो सकते है. इसलिए शुरू में अपने मस्तिष्क पर अनावश्यक दबाव ना डाले.

कपड़ो का रखे ध्यान

जब आप astral travel in dreams शुरू करे तो ध्यान रखे की आपने कपडे ढीले पहन रखे हो. कोशिश रखे की जहा तक हो सके कम से कम कपडे हो या पहले ही नहीं. जब आप सोते है तो आपके शरीर का तापमान सामान्य से थोड़ा निचे चला जाता है इसलिए आप एक सूती कम्बल जरूर ओढ़ ले. आपका पूरा शरीर इस दौरान किसी तरह की कसावट में नहीं होना चाहिए.

जितना ज्यादा आप खुद को रिलैक्स रख पाते है आपका अनुभव उतना ही बेहतर बन जाता है. एक बेहतर Out of body experience के लिए आपको अपने body को maximum level तक relax रखना होता है जबकि आपका मस्तिष्क पूरी तरह active होगा.

पढ़े : क्या आप भी Emotional Intelligence की कमी से जूझ रहे है ? ध्यान दे इन बातो पर

यात्रा से पहले के निर्देश

जब आप Astral Travel in Dreams के अनुभव करते है उस वक़्त आपका भौतिक शरीर और चेतन मन पीछे रह जाता है सूक्ष्म की यात्रा के दौरान आपके खुद के vibration, experience, test होते है. इसलिए ये harmful नहीं है क्यों की कुछ लोगो का मानना होता है की सूक्ष्म यात्रा के दौरान आपके भौतिक शरीर में कोई अन्य प्रवेश कर सकता है.

इस बात को मन से निकाल दे सुबह कोई भी आपके physical body में enter नहीं कर सकता है सिवाय आपके. जब भी आपको कुछ ऐसा महसूस होने लगता है आपका Astral body वापस Physical body में प्रवेश कर लेता है.

शांत रहे मगर सोये नहीं

खुद को शांत रखना सूक्ष्म की यात्रा का महत्वपूर्ण कदम है जिसके लिए लिखे हुए निर्देश काफी सहायक रहते है जब तक की ये आपकी आदत ना बन जाये. इसके लिए instruction को लिख कर तब तक दोहराना जब तक की वो हमारे daily routine में शामिल न हो जाये. जब साँस लेते और छोड़ते है इस वक़्त भी मन को शांत रखे, ध्यान रखे सो ना पाए.

आपकी आंखे बंद होने लगती है और आप सोने की इच्छा करने लगते है. जब Astral Travel in Dreams की शुरुआत करे तो अपने सूक्ष्म के vibration महसूस करने की कोशिश करे. सूक्ष्म के शुरुआती अनुभव में जब आप अपनी सूक्ष्म में आंखे खोलने का प्रयास करते है तो इसके प्रत्युत्तर में भौतिक शरीर की भी आंखे खुलती है.

मानसिक और आध्यात्मिक स्वास्थ्य का पथ

सूक्ष्म की यात्रा से मानसिक और आध्यात्मिक शांति सुख के नए नए अनुभव होते है. इसलिए अपने लिए वक़्त निकालिये और अनुभव करे आप वहां होंगे जहा आप खुद को देखना चाहते है.

How to Consciously Travel

Conscious dreaming यानि जागते हुए भी सपने देखना. इसे हम Lucid dreaming के नाम से भी जान सकते है और ये सुनने में मुश्किल लग रहा है लेकिन बहुत से लोग है जो लगातार अभ्यास के जरिये खुद को जागते हुए सपने के दौरान अपनी मर्जी से ये Physical body छोड़कर Astral plane में कही भी ट्रेवल कर लेते है.

Astral travel का अनुभव हम जागते हुए भी कर सकते है और सपने के दौरान सोते हुए भी कर सकते है. ये निर्भर करता है की आप खुद को सोने के बाद कितना control और गाइड कर पाते है. आइये कुछ ऐसे खास पॉइंट के बारे में जान लेते है जो अभ्यास के दौरान आपके काम आएंगे.

पढ़े : Astral projection guide and hidden risk जिनके बारे मे आपको पता होना चाहिए

Practice with intentional travel and lucid dreaming separately

Astral travel and lucid dreaming ये दोनों अलग अलग skills है इसलिए सबसे पहले आपको इन दोनों में फर्क पता होना चाहिए. आप इन दोनों को अलग अलग सीख सकते है बशर्ते आप दोनों को मिक्स ना करने लगे. सबसे पहले तो आपको जागते हुए astral travel का अनुभव करना है और फिर जब सोने का टाइम आये तब आप खुद को lucid Dreaming के लिए ready कर ले.

Astral Travel in Dreams का अनुभव हमेशा unconsciousness state में होता है और जरुरी नहीं की ये स्थिति तभी बनती है जब आप सो जाते है. जागते हुए भी इसका अभ्यास किया जा सकता है क्यों की Consciousness में एक state ऐसी भी आती है जब हम खुद को जागते हुए Trance state में लम्बे समय तक बनाए रख पाते है.

जागते हुए इस अवस्था को हम meditation, trance, or hypnosis के दौरान प्राप्त कर सकते है. ये वो अवस्था है जिसमे हमारा अवचेतन मन ज्यादा से ज्यादा फ्री हो जाता है. इस अभ्यास को तब तक दोहराए जब तक की आप दोनों को अलग अलग करने में सफल ना हो जाए.

State your intention every night before sleep

एक बार जब आपको दोनों अभ्यास को अलग अलग करने में सफलता मिल जाए तो अब बारी है दोनों ही अभ्यास को एक साथ जोड़ने की. ऐसा करने के लिए जब भी रात को सोने जाए तब एक Intention सेट कर ले. जब भी सोने से पहले आप खुद को पूरी तरह relax कर ले इस तरह की सोच को दिमाग में डालना शुरू कर दे. आपको एक सोच बनानी है जैसे की

आज की रात में पूरी चेतना के दौरान सपनो में astral travel करूँगा

 ऐसा आपको कई बार दोहराना है ताकि आपका Unconscious mind इस बात को accept कर ले. ऐसा सिर्फ एक या दो रात में करना काफी नहीं है. आपको इसके लिए काफी अभ्यास करना होगा. आप चाहे तो मैडिटेशन या फिर दिनभर के कामो के दौरान जब भी आप खुद के लिए समय निकाले ये भावना दे सकते है.

Once in your lucid dream, leave your body

एक बार आप lucid dreaming state में enter कर जाए तब आपको अपने लिए उस बेस्ट तरीके की तलाश करनी है जो Astral Travel in Dreams में आपकी मदद करेगा. इसके लिए आपको सिर्फ कुछ attempt करने की जरुरत होगी. जब आप lucid dream state में होते है तब आपके लिए ये मुश्किल नहीं रह जाता है क्यों की lucid dream की अवस्था में हम जो सोचते है वो पूरी तरह हमारी चेतना पर निर्भर होता है.

यही एक वजह है की जल्दी ही आप Astral projection dream travel  का अभ्यास आसानी से कर पाते है.

Top 5 Astral travel tips

सूक्ष्म की यात्रा पहली बार जो इंसान अनुभव करता है वही अनुभव एक अनुभवी इंसान करता है इन दोनों के बिच फर्क सिर्फ इतना सा है की beginner experience में हमें स्थिति का पता नहीं होता है की अनुभव किया कैसे जाये और experience को handle कैसे करे.

पांचवे आयाम के इस रोचक अनुभव की यात्रा करने से पहले ये जरूरी है की आपको basic knowledge का और instruction का ज्ञान हो. आइये जानते है उन 5 बातो को जिन्हें ध्यान में रख कर आप भी यादगार सूक्ष्म का अनुभव कर सकते है.

प्रक्रिया को समझना

ज्यादातर लोग शुरुआत करते वक़्त कोरे कागज की तरह होते है. उन्हें प्रक्रिया का सिद्धान्त तक पता नहीं होता है इसलिए यात्रा करने से पहले इससे संबधित आवश्यक जानकारी जुटाना जरुरी है अगर किसी कार्य की बुनियादी बाते पता चल जाये तो अनुभव में आसानी रहती है.

वही दूसरी ओर अगर आपने बिना किसी जानकारी के Astral Travel in Dreams की शुरुआत एक adventure समझ कर की तो हो सकता है की आप फ़ैल हो जाये या फिर किसी मुसीबत में फंस जाये.

सही ज्ञान / निर्देश की पहचान

किसी भी ज्ञान के लिए गुरु की जरुरत होती है. ज्यादातर लोग समझते है की सिर्फ पढ़ लेने मात्र से वो किसी काम में सफल हो सकते है. ये असफलता का सबसे बड़ा कारण है. आपको ये बात अच्छे से समझनी होगी की ये एक कला है हुनर है जिसके लिए आपको गंभीरता से मन और शरीर दोनों की लंबे वक़्त तक अभ्यास की जरुरत होगी.

आपके संयम की असली परीक्षा सही मायने में होती है तब तक जब तक की सही अनुभव ना होने लगे. इसके लिए योग्य गुरु का चुनाव करे जो आपको सही रास्ता दिखा कर पथ प्रदर्शक का कार्य कर सके.

सही निर्देशो का चुनाव करे

सूक्ष्म के अनुभव की प्रक्रिया को तेज करने के लिए आप कुछ माध्यम का चुनाव कर सकते है. Astral travel tips में शुरुआती अनुभव करने वाले निर्देशित आवाज को सुन कर मस्तिष्क को सही दिशा दे सकते है. इसके लिए आप खुद की रिकॉर्ड की गई आवाज को सुन सकते है.

निर्देशो को सही तरीके से मस्तिष्क तक पहुंचा कर आप प्रक्रिया को गति प्रदान कर सकते है. सोने की अवस्था में निर्देशो को सुनकर आप मस्तिष्क में उठने वाले अनावश्यक विचारो को भी दूर कर सकते है.

सुने सुनाये अनुभव करने से बचे

ज्यादातर लोग जब अभ्यास करते है तो उम्मीद करते है की ये अनुभव हो. दुसरो के अनुभव आपको कैसें हो सकते है क्यों की हर इंसान की मानसिकता उसकी समझ अलग स्तर की है. Astral Travel in Dreams ही नहीं किसी भी अभ्यास में असफलता के सबसे बड़े कारण में से एक यही कारण है. जब भी आप अभ्यास में ये सोचते है की ये अनुभव हो आप वापस भौतिक शरीर से जुड़ जाते है. अनुभव में देखे तो

हमारा अनुभव बुलेट ट्रैन की तरह होता है जिसकी गति तो बहुत तेज होती है मगर एक बटन दबाते ही उसकी गति रुक जाती है हमारे साथ इसे देखे तो ट्रैन की गति हमारे अवचेतन मन से जुडी है और जब विपरीत विचार ( चेतन मन ) या तर्क उत्पन होता है तो आप वापस वही आ जाते है जहा से सब शुरू किया था.

ये अनुभव त्राटक में हर किसी के साथ होता है.

सूक्ष्म निर्देशक को सुनने की कोशिश करे

जिस तरह से काम करते वक़्त आपका मस्तिष्क / मन / दिल आपके लिए पथ प्रदर्शक का कार्य करता है ठीक वैसे ही हर किसी का एक सूक्ष्म निर्देशक होता है आवश्यकता है तो बस उसे पहचानने और सुनने की. अपने निर्देशक को Astral Travel in Dreams के अभ्यास के दौरान ढूंढे और पांचवे आयाम में यात्रा का आनंद ले. ज्यादतर निर्देशक आपको बताते है की कैसे अपने लिए सही निर्देशो का चुनाव करे और सही रास्ता चुने.

अब तो आप समझ ही गए होंगे की कोई भी अभ्यास बिना सही निर्देशो के करने की कोशिश कितनी खतरनाक हो सकती है. बिना सही निर्देशो के सफलता के आसार सिर्फ 1% हो सकते है लेकिन नुकसान 100% होता है.

इसलिए अपने लिए खुद सही निर्देशो का चुनाव करे How to dream become true में मेने निर्देशो को साकार करने के उपाय बताये है जिनसे आपको काफी सहायता मिलेगी. खुद भी निर्देश बना सकते है जिन्हें दोहराकर आप बेहतर अनुभव कर सकते बशर्ते कॉपी की कोशिश ना की गई हो.

lucid astral projection dreams

Astral projection dream travel के अभ्यास के दौरान आपको कुछ सावधानियां रखनी होगी. ज्यादातर लोग Out of body experience के खिलाफ होते है क्यों की उनकी नजर में demonic possession या फिर Astral plane में खो जाने का डर हमेशा बना रहता है. इस तरह का होना न के बराबर है. हम कई बार सोते समय जाने अनजाने में इसका अनुभव करते है फिर चाहे हमें उसके बारे में पता हो या ना हो. इसलिए इस बात को दिल से निकाल दे की शरीर से बाहर विचरण के दौरान आप वापस नहीं आ पाएंगे.

Astral projection पूरी तरह से safe process है क्यों की जब भी कुछ गलत होता है या फिर हमें वापस शरीर में जाने की जरुरत महसूस होती हम उसी पल वापस लौट आते है. इसका एक side effect या यू कहे की negative effect देखा जा सकता है. जो लोग इस अनुभव को बार बार करते है उनके लिए भौतिक संसार के मायने बदल जाते है.

आपने देखा होगा की अभ्यास के बाद हम भौतिक दुनिया में खुद का जुड़ाव महसूस नहीं कर पाते है. बार बार मन उसी astral plane, Trance state में लगा रहता है. ऐसा होना सही नहीं है. आप अभ्यास करते हुए उससे कितना प्रभावित होते है ये पूरी तरह से आपका फैसला है.

When Dream Travel Isn’t Astral Travel risk

ज्यादातर लोगो द्वारा Astral Travel in Dreams के दौरान  की जाने वाली सबसे बड़ी गलती यही होती है की वे lucid dream और astral travel में फर्क पता नहीं कर पाते है. dream travel एक अलग concept है और astral travel उससे कही अलग अभ्यास है. आप सपनो में चल सकते है लेकिन ये Astral projection experience नहीं होगा.

अगर आप सपने के दौरान उन यादो को देखते है जो आपके साथ हो चुकी है जैसे की किसी तरह की यात्रा का अनुभव तो ये आपका सपने में यात्रा है ना की सूक्ष्म शरीर की यात्रा.

  • इस तरह के सपने जो बार बार बदलते न हो.
  • आपने जिस जगह लम्बा समय बिताया हो ऐसी जगह को देखना astral projection नहीं हो सकता है.
  • अगर आप ऐसे लोगो को देखते है जिन्हें आप लम्बे समय से देखते आ रहे है और वे जरा सा भी बदले नहीं है तो इसका मतलब आप सपने देख रहे है.
  • daily life की एक्टिविटी को करते हुए खुद को महसूस करना सिर्फ आपका सपना है.
  • अगर आप एक जगह से दूसरी जगह आने जाने के लिए किसी ट्रांसपोर्ट का इस्तेमाल कर रहे है.
  • अगर आपका बात करने का तरीका सपने में भी वैसा ही है जैसा normal life में है तो भी आप सिर्फ सपने में है.

ये सब संकेत है की जो आप अनुभव कर रहे है वो सिर्फ आपका सपना है ना की किसी तरह का कोई अनुभव. इसका आकलन कर आप आसानी से ये पता कर सकते है की जो अपने देखा था वो क्या था.

Traveling in Your Dreams final conclusion

Dream travel on the astral plane एक अद्भुत अभ्यास है. ये हमें खुद को समझने का मौका देता है. हम वो सब समझते है जिसे सामान्य जिंदगी में समझना संभव नहीं होता है. इसका मतलब ये नहीं की आप भौतिक लाइफ को ignore करना शुरू कर दे. Dream travel astral projection के अभ्यास के बाद लाइफ को देखने का नजरिया जरुर बदलता है लेकिन Astral Travel in Dreams का आपके daily लाइफ पर कोई negative impact नहीं पड़ना चाहिए.

जितना महत्त्व आपका अध्यात्मिक होने का है उतना ही आपके इस भौतिक संसार में रहने का है. Spiritual path पर आगे बढ़ना कोई बुरी बात नहीं है लेकिन आपको अपनी लाइफ से भागना भी नहीं चाहिए. अगर आप इन tips को follow करते हुए अभ्यास करते है तो यक़ीनन आपका अभ्यास न सिर्फ सही तरीके से होगा बल्कि अनुभव भी अच्छे होंगे.

Never miss an update subscribe us

* indicates required

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here