Yoga nidra meditation and astral projection Guide in Hindi 2020 updated

4

Yoga nidra meditation यानि Yogic sleeping एक ऐसा अभ्यास है जिसमे हमारा शरीर शिथिल हो जाता है लेकिन हमारा brain पूरी तरह Consciousness में रहता है. आसान शब्दों में कहे तो ये जागते हुए सोने का अभ्यास है. हम अपने body को relax करते हुए मस्तिष्क की Awareness को बढाते है. जितना ज्यादा हमारा मन और शरीर शांत होता है हम उतना ही awareness की state में रहते है. ये अभ्यास हमारी unconsciousness को बढाता है जिसकी वजह से हम अपने body और mind को बेहतर explore कर पाते है. इसके कई सारे benefits है जिन्हें Yoga nidra training Online course के जरिये ले सकते है.

yoga nidra meditation

 

इन कोर्स को लेने वाले ज्यादातर लोग yoga nidra for insomnia या फिर Insomnia ( sleeping disorder ) के पेशेंट होते है. इसका spiritual path से भी connection जोड़ा जा सकता है जिसमे Inner peace को explore करना शामिल है. अगर आप इसका अभ्यास कर रहे है तो आपको मालूम होना चाहिए की Astral projection के लिए भी yoga nidra guided meditation का अभ्यास किया जा सकता है.

आज हर जगह Yoga nidra online training course शुरू किये जा रहे है जिनका मकसद शरीर और मन की शांति है. योग निद्रा का अभ्यास बिना किसी तकनीक जानकारी के भी किया जा सकता है क्यों की जितना ज्यादा हम खुद को relax करने पर ध्यान देंगे उतना ही ज्यादा हम खुद को explore कर पाएंगे. आइये जानते है योग निद्रा ध्यान के बारे में.

Yoga nidra meditation

पूरी दुनिया में Yoga nidra, or yogic sleep आज एक immensely powerful meditation technique के रूप में popular हो चुकी है. इस Yoga practice को हम savasana ( शवासन ) के अभ्यास के जरिये कर सकते है. साधक इस प्रक्रिया में अपने pancha maya kosha ( पांच माया कोष यानि 5 लेयर ) से गुजरते है.

Yoga nidra guided meditation एक ऐसा अभ्यास है जिसे insomnia से पीड़ित लोगो द्वारा किया जाता है. योग निद्रा का अभ्यास इसके अलावा Astral projection के लिए भी किया जा रहा है और ये सबसे सरल अभ्यास है. इसके ऐसे कई benefits है जो हमें अभ्यास के दौरान मिलते है जिसमे तनाव से छुटकारा, खुद को समझना और spiritual experience शामिल है.

इसका अभ्यास step by step guide में दिया गया है लेकिन अभ्यास से पहले हमें yoga nidra benefits के बारे में पहले जान लेना चाहिए.

Amazing Yoga nidra Guided Benefits

यहाँ हमने कुछ खास फायदे के बारे में बात की है जो हमें Yoga nidra meditation के अभ्यास के दौरान मिलते है. ये अभ्यास जितना सरल है उतना ही flexible भी है. कोई भी बिना किसी expert knowledge के खुद को explore कर सकता है. आइये जानते है की Yoga nidra के अभ्यास के खास फायदे क्या क्या है.

Anyone can do yoga nidra

योग और प्राणायाम की कई विधि में लम्बे समय तक बैठे रहना हर किसी के बस की बात नहीं है. Yoga nidra meditation जैसी योग विधि को किसी भी उम्र में किया जा सकता है फिर चाहे वो 8 साल से ऊपर के बच्चे हो या फिर 60 साल के senior citizen हर उम्र के लोगो द्वारा इसे किया जा सकता है.

ये अभ्यास बिलकुल आसान है आपको सिर्फ अपने body को floor पर relax करना है. अगर आप अपने body को floor पर नहीं लिटा सकते है तो बैठ कर भी अभ्यास किया जा सकता है.

किसी तरह के खास गाइड की जरुरत नहीं

जब भी आप योग निद्रा का अभ्यास करते है आपको किसी तरह की special guide की जरुरत नहीं होती है. आपको शवासन में लेटना है और आवाज के गाइड को फॉलो करना है. जब आप अभ्यास करते है तब आप अपने अभ्यास के कुछ भाग को याद रख पाते है तो कुछ भाग को याद नहीं रख पाते है. ये सब होता है अभ्यास के दौरान body और mind के relax होने की वजह से. हम जब भी अभ्यास करते है हमें हर बार नया experience करने को मिलता है.

अगर ऐसा होता है तो कुछ भी गलत नहीं है. ज्यादातर लोगो को लगता है की शवासन के अभ्यास के दौरान सो जाना सही नहीं है लेकिन वास्तव में हमें तब भी इसके benefit मिलते है. अभ्यास के दौरान शुरुआत में हमें जो नींद आती है वो शरीर और मस्तिष्क के शांत होने की वजह से होता है. अभ्यास के दौरान हमारा unconscious mind काम करना शुरू कर देता है जिससे कुछ समय बाद नींद आने जैसी समस्या नहीं होती है.

योग निद्रा को आप दैनिक लाइफ में अपना सकते है

Seated meditation यानि बैठ कर किये जाने वाले ध्यान के अभ्यास हमें परेशान कर सकते है. ध्यान के अभ्यास के दौरान सांसो पर खुद को एकाग्र करना, ध्यान भटकने पर वापस सांसो पर लौटना और किसी माध्यम पर खुद को जोड़ना ये जल्दी ही हमें boring लगने लगता है. Yoga nidra guided meditation हमेशा से गाइडेड होता है. इसका अभ्यास 5 minute से लेकर जितना चाहे उतना लम्बा रख सकते है.

Yoga nidra meditation को आप अपने दैनिक लाइफ का हिस्सा बना सकते है. चाहे तो सुबह उठने के बाद या फिर रात को सोते समय आप इसका अभ्यास कर सकते है. सोते समय हैडफ़ोन लगाए और YouTube से किसी भी Yoga nidra guided meditation mp3 or video को select कर अभ्यास शुरू कर सकते है. हालाँकि ऐसा करना सही तरीका नहीं है लेकिन आप शुरुआत इस तरह से भी कर सकते है.

तनाव दूर करने के लिए सबसे आसान उपाय

Yoga nidra meditation के जरिये deep rest and relaxation को achieve किया जा सकता है. आमतौर पर meditation practice के दौरान ऐसा करना संभव नहीं हो पाता है. शवासन के दौरान खुद की body के एक एक पार्ट को relax करते हुए महसूस करना अभ्यास को आसान बनाता है और हम Deep relax का अनुभव करते है.

आमतौर पर जब हम ये अभ्यास करते है तब जैसे जैसे हम body parts को relax करते है वैसे वैसे हमें नींद आना शुरू हो जाती है और जल्दी ही हम गहरी नींद ले पाते है. यही वजह है की yoga nidra for insomnia का अभ्यास गहरी नींद के लिए किया जाता है.

हम खुद को बेहतर जान पाते है

Yoga nidra Guided meditation के अभ्यास के दौरान शरीर और मस्तिष्क के शांत होने की वजह से हम खुद को बेहतर explore कर पाते है. लम्बे समय से जिन emotion को हम अपने अन्दर दबाए हुए रहते है एक एक कर वे बाहर निकलने लगते है और यही से हम खुद को जानने की क्रिया की शुरुआत करते है.

हम अपने भावनाओ को जब समझना शुरू करते है तब हमें बेहतर पता होता है की हमें क्या चाहिए और किस तरह के विचार पर काबू पाना है वो भी बिना उनमे उलझे. शवासन का मुख्य उदेश्य खुद को explore करना और emotion को बिना उलझे समझना है. बिना किसी शारीरिक तनाव में उलझे हम खुद को फ्री रहते हुए explore कर पाते है.

Guided Yoga nidra online training

आज जगह जगह पर yoga nidra online training दी जा रही है जिसकी फीस काफी महंगी होती है. अगर आप किसी महंगे Online coaching center की तलाश कर रहे है तो आपको पता होना चाहिए की इनकी फीस 15000 से शुरू होती है. ज्यादातर जगह पर ये दिन के हिसाब से कोर्स होता है.

Yoga nidra meditation का कम से कम ये 4 सप्ताह का कोर्स होता है जिसकी फीस Indian currency के अनुसार लगभग 28000 होती है. इसमें हर सप्ताह एक साधना करवाई जाती है. इन साधना में an asana practice, a pranayama practice, and a Yoga Nidra (approximately 1.5 hrs/week) का schedule होता है.

इसके साथ ही 1 Yoga Nidra Philosophy Recording जो की हर सप्ताह होती है और उसका टाइम 90-120 minute हर सप्ताह होता है.तीसरा चरण विडियो का है जिसमे 1 Yoga Nidra Technique Video जिसका समय हर सप्ताह 90 minute का होता है ये सब आपको online Yoga nidra training में मिलेगा.

10 Steps of Guided nidra meditation

योग निद्रा का अभ्यास करना बेहद आसान अभ्यास है. इसके लिए आपको yoga nidra for sleep female voice audio पर meditation करने की जरुरत है. ज्यादातर इसका अभ्यास stress release करने और better sleep के लिए किया जाता है. Yoga nidra guided meditation के लिए आपको एक Yoga mate चाहिए अगर ना मिले तो कम्बल ले और अभ्यास करे.

योग निद्रा के अभ्यास के लिए आपको 10 steps को follow करना होता है जो निम्न है. बेहतर नींद के लिए किया जाने वाला ये अभ्यास 3 चरण में है. पहले की तैयारी, अभ्यास और फिर अनुभव. स्टेप में किया जाने वाला Yoga nidra meditation का अभ्यास आपको बेहतर नींद लेने में help करता है साथ ही आपके body और mind को भी relax करता है.

अभ्यास से पहले की तैयारी

1 Connect to Your Heartfelt Desire अभ्यास से पहले आपको पता होना चाहिए की आप अभ्यास किसलिए कर रहे है और आपका उदेश्य क्या है. ये heartfelt desire कुछ भी हो सकती है जैसे की health, well-being, or awakening या फिर कुछ भी जिसे आप सबसे ज्यादा चाहते है. ज्यादातर इसकी वजह Astral travel होती है क्यों की Yoga nidra के अभ्यास में ही हम Deep sleep or Astral travel experience कर सकते है.

आपको यह इच्छा पूरी body को explore करते हुए imagine करना है. जैसे जैसे आप body को explore करते है वैसे वैसे आपका body खुद relax feel करना शुरू कर देता है.

2. Set an Intention आपका उदेश्य आपके अभ्यास में झलकना चाहिए. अभ्यास के दौरान जो भावना आप मन में रखते है वह अभ्यास में reflect होने लगती है. अगर आपका Intention खुद को relax or rest करना है तो आपको अभ्यास के दौरान वो अनुभव होना भी चाहिए.

3. Find Your Inner Resource किसी बाहरी सोर्स से जुड़ने की बजाय हमें अपने अन्दर की सोर्स पर ध्यान देना चाहिए. ऐसा करने से हम ज्यादा खुद को secure feel कर पाते है. जब भी आप खुद को विचारो में उलझा हुआ feel करे Yoga nidra meditation का अभ्यास daily life में कभी भी करे आपको yoga nidra benefits मिलना शुरू हो जाता है.

Yoga nidra for sleep guided meditation

4. Scan Your Body अभ्यास के दौरान हम पूरी body को explore करते है. ये एक ऐसा अभ्यास है जिसमे हम खुद को स्कैन करते है. Yoga nidra guided meditation को धीरे धीरे experience किया जाता है जैसे की body के एक एक parts को बिना देखे मन से महसूस करना. हम शरीर के हर अंग को अलग अलग मानते हुए उन्हें महसूस करते है जिसमे अंगो को महसूस करना, लेफ्ट और राईट को महसूस करना और उनमे हो रही हरकत को महसूस करना ये सब शामिल है.

5. Become Aware of Your Breath अभ्यास में जब शरीर पूरी तरह शांत हो जाता है तब हम पूरा ध्यान सांसो पर लगा देते है. हमारी body किस तरह साँस ले रही है, सांसे अन्दर और बाहर हो रही है या फिर अन्दर इनकी मूवमेंट किस तरह हो रही है ये सब हम अभ्यास में महसूस करते है.

6. फीलिंग को समझे बिना किसी तरह के हस्तक्षेप के जो भी हो रहा है उसे महसूस करे. इस दौरान मन 2 तरह के बदलाव होते है जैसे की sensations जिसमे heaviness, tension, or warmth शामिल है और emotions जिसमे sadness, anger, or worry शामिल है के बदलाव को हम महसूस करते है.

Yoga nidra Guided meditation experience

7. Witness Your Thoughts अभ्यास के दौरान thoughts, memories, and images को mind में आने दे इन्हें रोकने की कोशिश न करे. बिना किसी Judgement के जो विचार आ रहे है उन्हें बदलने की कोशिश करे. अगर कोई विचार ऐसा है जो आपको negative बना रहा है तो उसे judge न करे बल्कि emotion को बदलने की कोशिश करे.

8. आनंद को महसूस करे हमारा नाभि केंद्र सभी भावनाओ का केंद्र माना जाता है. जब body पूरी तरह relax हो जाती है और कोई भी emotion बदलाव नहीं होता है तब उस स्थिति में हमारे शरीर में कौनसा emotion चलता है उसके जॉय को महसूस करे.

9. Observe Your Self अब जब हम खुद को पूरी तरह relax कर चुके है तब हमें अपने आप को observe करना है. किस तरह के विचार से हमारी body में क्या फीलिंग आती है इन सबसे हम खुद को observe करते है. जब किसी फीलिंग से हम खुद को जोड़ते है तब हम क्या महसूस करना शुरू कर देते है ये सब इस स्टेप में हम जानते है.

10. Reflect on Your Practice अभ्यास पूरा होने के बाद उसके असर को दिन भर की गतिविधि में महसूस करे. दिनभर में दूसरे कामो में busy रहते हुए feeling of pure Being, or pure Awareness को experience करे. बिना किसी बदलाव के आप खुद को इस अवस्था में कितने समय तक रख पाते है ये आपके अभ्यास की सम्पूर्णता को निर्धारित करता है.

Difference between astral projection and yoga nidra

yoga nidra का मुख्य उदेश्य sleeping state में awareness को बनाए रखना होता है. हम सोते हुए भी अपनी consciousness से बने रहते है जिसकी वजह से सोते समय हम Dreaming or sleep में खोने की बजाय पूरी तरह चेतना में बने रहते है. जो भी हमारे अनुभव रहते है वो पूर्ण चेतना से जुड़े रहते है. अलग अलग लोग इसे waking experience, dream, astral experience के नाम से जानते है.

yognidra and astral projection

अनुभव तो अनुभव होता है फिर चाहे हम इसे कोई भी नाम दे इसमें कोई मायने नहीं रखता है. यहाँ Yoga nidra meditation में ये मायने नहीं रखता है की आप क्या अनुभव कर रहे है मायने ये रखता है की इस दौरान आप किस state of thought में रहते है. यहाँ पर conscious and aware, or unconscious and ignorant. Enlightenment कोई अनुभव नहीं है बल्कि एक state है. हम जिस state में रहते है वही हमारे लिए अनुभव बनाना शुरू कर देती है.

Yoga nidra guided meditation पूरी तरह permanent state of wakefulness में घटता है फिर चाहे आप कुछ भी अनुभव करे.

योग निद्रा बंद आँखों से चेतना में बने रहते हुए deep relaxation को experience करना है वही दूसरी और astral projection एक अनुभव है जो हम Astral body के जरिये Astral dimension में किया जाता है. ज्यादातर लोग इसे अनुभव करने की बजाय इसमें फंस जाते है और hallucinations experience करने लगते है.

अगर आप इसमें फंसना नहीं चाहते है तो आपको Astral travel and hallucinations experience के बिच फर्क पता होना चाहिए. जब ऐसा होगा तभी आप सही तरह से अनुभव कर सकते है.

Astral Projection Methods

वैसे तो conscious OBE and astral projection को लेकर Different kind of method है लेकिन मुख्य रूप कुछ आसान तरीके है जिन्हें आप अपना सकते है. शरीर के सोने के बाद भी मस्तिष्क को चेतन रखे जैसे की Yoga nidra meditation जिसमे हमारा शरीर पूरी तरह relax हो जाता है लेकिन हमारा brain फिर भी active रहता है.

शरीर से बाहर होने का अनुभव करने के लिए आपको अपने शरीर को जितना हो सके relax करना है और अपने आसपास होने वाले गतिविधि को sense करना है. इसके साथ ही आपकी body में जो vibration होना शुरू होता है उसे experience करना है. जल्दी ही ये vibration इतना ज्यादा बढ़ जाता है की आपका subtle body आपके Physical body से अलग होने लगता है.

How to Astral Project/Travel

7 आसान स्टेप में आप योगनिद्रा के जरिये Astral travel कर सकते है. ये अभ्यास Yoga nidra meditation पर based है जिसमे शरीर और मस्तिष्क को शांत करते है.

  • सबसे पहले body ओर mind को पूरी तरह relax कर ले.
  • जब body ओर mind पूरी तरह relax हो जाता है हम hypnagogic state, or half-sleep में enter करते है.
  • इस अवस्था को और ज्यादा गहरा बनाते जाए. इसके लिए आप भौतिक अहसास की जगह मानसिक अहसास करना शुरू करे जैसे की भावनाओ के जरिये शरीर को महसूस करना.
  • अपने आसपास के environment में presence of vibration को महसूस करना शुरू कर दे. ऐसा करने पर आप state of deep attention में इसका अहसास करना शुरू कर देते है.
  • भौतिक शरीर में हो रहे वाइब्रेशन को महसूस करे. जब आप Subtle body में ये vibration महसूस करने लगते है तो ये आपके Physical body के अलग होने का पहला चरण होता है.
  • अपना पूरा focus शरीर से बाहर निकलने में लगा दे.
  • जब आप शरीर से बाहर निकलने का अभ्यास कर रहे होते है तब आपका ध्यान अपने body के अन्दर हो रहे vibration पर होना चाहिए. ऐसा करना आपकी body में कम्पन पैदा करता है और आप बाहर निकलने की शुरुआत करते है.

शरीर से बाहर Astral projection के लिए आपको ये स्टेप follow करनी है. जब आप ऐसा करेंगे तब आप अपने शरीर से बाहर होने का अनुभव करना शुरू कर देते है.

Yoga nidra meditation and astral projection final conclusion

अब तक आप जान चुके है की Yoga nidra meditation के जरिये Astral projection को possible किया जा सकता है. जब हमारा शरीर और मन अपने चरम पर शांत हो जाते है तब हम अपने subtle body को शरीर से अलग महसूस कर सकते है. इस पूरी प्रक्रिया में Yoga nidra Guided meditation हमें body and mind को relax होने में मदद करता है जिसकी वजह से हमारी awareness बढती है और हम अपने आसपास के environment को लेकर ज्यादा से ज्यादा Conscious रहते है.

शरीर के सो जाने के बावजूद भी अगर हमारी चेतना जाग्रत रहती है तो हम आसानी से शरीर को छोड़कर बाहर निकल सकते है. योग निद्रा का मुख्य उदेश्य शरीर और मन को शांत करना है साथ ही खुद को explore करना भी है. अगर आप Yoga nidra benefit लेना चाहते है तो आपको इसके लिए लम्बे अभ्यास की जरुरत होगी. आप चाहे तो ये yoga nidra for sleep female voice music सुन कर अभ्यास कर सकते है.

Never miss an update subscribe us

* indicates required

4 COMMENTS

  1. विज्ञान मेँ ‘सूक्ष्म’ का अर्थ ‘बहुत छोटा’ होता है लेकिन अध्यात्म मेँ ‘सूक्ष्म’ का अर्थ क्या होता है? कृपया बतायेँ

    • आध्यात्म में सूक्ष्म का अर्थ उस से है जो एक अंश के रूप में दूसरे रूपों में विद्यमान है और अलग किया जा सकता है सिर्फ शरीर ही नहीं जीवात्मा भी एक अंश के रूप में शरीर के अंदर विद्यमान है और उसे अलग किया जा सकता है इसी तरह सूक्ष्म शरीर, प्रकाश शरीर और स्थूल शरीर है

  2. Dear sir,

    Bhut achhi post h sir. Main bhi jldi hi svasn ko shuru kr rha hu. Thanks sir itne achhe trike se post me smjhane ke liye

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here