3 amazing Astral projection meditation technique for beginner in Hindi

0
44

Astral Projection Meditation कोई Modern technique नहीं बल्कि Ancient esoteric practice है जो काफी पहले से ही Out of body travel जैसे experience के लिए popular way में से एक है. हम सब जानते है की हमारी ये बॉडी 8 अलग अलग बॉडी से मिलकर बनी है जिसमे Astral body भी एक है. Meditation and astral travel इन दोनों का आपस में बहुत ही Close connection है.

आज हम ऐसे कुछ Easy and quick meditation technique for astral projection के बारे में ही बात करने वाले है. हमारी बॉडी और माइंड को जोड़ने वाली Consciousness ही है जो हमें इस physical world and realm में बनाये रखती है. इसका दायरा जैसे जैसे बढ़ता जाता है हम अपने अंतर में उतरना शुरू कर देते है.

Astral Projection Meditation

हम अपनी चेतना को हर पल project करते है फिर चाहे हम किसी से बात कर रहे है या फिर कोई काम कर रहे है. Astral projection के लिए सबसे जरुरी है consciousness का अपने Alter state में पहुंचना जिसे Trance state कहते है.

अगर आप Astral projection through meditation की सोच रहे है तो आपके मन में कुछ छिपे हुए डर का बाहर आना आम बात है. Astral travel एक Spiritual practice भी है और meditation technique भी लेकिन, इसके फायदे के साथ साथ काफी सारे Hidden risk भी है जिनसे हमें पहले ही अवगत होना चाहिए.

हम अपने बॉडी में वापस आ पाएंगे या नहीं ? अगर किसी ने हमारी बॉडी पर कब्ज़ा कर लिया तो या फिर क्या इस दौरान मेरा खुद पर पूरा कण्ट्रोल रहेगा भी या नहीं जैसे कई सवाल है जो हमें परेशान करते है.

किसी भी अभ्यास को 100% effective way में पूरा करने के लिए आपका ऐसे सवालों से ऊपर उठाना बेहद जरुरी है. आइये जानते है इसके बारे में डिटेल से.

Astral Projection Meditation in Hindi

हमारी बॉडी 10 अलग अलग बॉडी से मिलकर बनी है इसमें सबसे ज्यादा Astral body, Aura energy field के बारे में हम लगभग सभी जानते है.

Astral Projection Meditation एक तरह का ऐसा ध्यान अभ्यास है जिसमे हम अपने consciousness यानि चेतना के स्तर को develop करते है. Dr. strange की मूवी अगर आपने देखी है तो आपको Astral body के बारे में Idea हो चूका होगा.

हमारी एस्ट्रल बॉडी उन Dimension and Realm में ट्रेवल करती है जिन्हें हम physical body के रहते explore नहीं कर सकते है. ये हमारे चेतना के स्तर में सुधार करती है. consciousness और belief system के दायरे को और भी बड़ा करती है. इससे हम उन चीजो के बारे में सोचना शुरू करते है जो आमतौर पर हमें एक कल्पना जैसा लगती है.

ये एक रोमांच का अनुभव है जिसे मैंने बचपन में काफी बार किया है क्यों की 8-15 साल तक की उम्र में इसका हम आसानी से अनुभव कर सकते है.

आज ऐसा करना बेहद मुश्किल हो चूका है क्यों की अब हमारा brain ज्यादातर Smartphone में बिजी रहता है. हम हर चीज को लॉजिक पर रखकर देख रहे है जिसकी वजह से हमारी visualization करने की क्षमता काफी ज्यादा प्रभावित हुई है.

Astral projection guided meditation के जरिये हम अपने चेतना के स्तर में विकास के नए नए रास्ते खोलते है और अब हम जादू को एक विज्ञान की तरह देखना शुरू कर देते है. आइये जानते है किस तरह मैडिटेशन हमें Astral travel में हेल्प करता है.

Meditation and astral travel

कई बार रात को अचानक हमारी नींद खुल जाती है और हम Sleep paralysis state में चले जाते है. रात को सोने के बाद अक्सर हम The mind awake body asleep state (MABA) इस अवस्था में होते है.

ये एक vibration state है जो हमें sense of separation का अनुभव करवाती है. Astral travel के लिए ये सबसे जरुरी है. अगर आप Astral Projection Meditation का अभ्यास कर रहे है तो ये जानना बेहद जरुरी हो जाता है.

इस तरह का अनुभव हम पूरे sense में रहते हुए करे यानि Intentional out-of-body experience को जागरूक रहते हुए अनुभव करना तभी संभव है जब हम इन 2 स्टेट को पूरे कण्ट्रोल के साथ अनुभव करे.

  • The mind awake body asleep state ये वही स्टेट है जो sleep paralysis की वजह बनती है.
  • Sense of separation एक ऐसी स्टेट जिसमे हमारी पूरी बॉडी वाइब्रेशन महसूस करना शुरू कर देती है.

इन दोनों ही स्टेट को पूरे होश के साथ अनुभव करना तभी संभव है जब आप लम्बे समय तक इसका अभ्यास करे.

हम रात को सोते समय Sleep cycle and pattern के दौरान एक अवस्था में पहुँचते है जिसका इसके साथ connection है. इस अवस्था को Hypnagogic and Hypnopompic States कहते है. आपको इस अवस्था को जानना बेहद जरुरी है.

Hypnagogic and Hypnopompic States

एक ऐसी अवस्था जिसमे हमारा brain active होता है और बॉडी sleep स्टेट में यानि mind awake, body asleep की अवस्था और कुछ नहीं alter state of consciousness का ही परिणाम है.

Astral Projection Meditation की तरह ये अवस्था trance state की तरह ही है. जब भी हम बेहद ज्यादा थक जाते है और किसी आरामदायक स्थिति में होते है तब हमारी बॉडी बेहद जल्दी सो ( Relax ) जाती है.

इसके विपरीत हमारा brain पूरी तरह relax होने में कुछ वक़्त लेता है. इस दौरान आप क्या अनुभव करते है ? ज्यादातर लोग इस दौरान एक ऐसी स्टेट को अनुभव करते है जो नींद से बिलकुल अलग होती है. इस दौरान हमारा brain एक transitional state of consciousness से गुजरता है.

ऐसा हर रोज 2 बार होता है. पहला जब आप लगभग सोने वाले होते है और दूसरा जब आप नींद से तुरंत उठे ही हो. इस अवस्था को hypnagogic and hypnopompic state के नाम से जाना जाता है.

इसमें hypnagogic, falling asleep के दौरान होता है और hypnopompic स्टेट को awakening के साथ जोड़ा जाता है.

The Goldilocks Condition

ये एक अवस्था है जिसमे हमारा बॉडी और माइंड दोनों आपस में अलाइन नहीं होते है. आपने इस अवस्था को काफी बार महसूस किया होगा जब आप ऐसी जगह होते है जहाँ सुबह और रात के वातावरण में बहुत ज्यादा अंतर होता है.

Astral Projection Meditation के लिए ऐसे वातावरण का होना जरुरी है.

एक आसान उदाहरण के लिए गाँव में बाहर सोना, छत पर या फिर खेत में सोना. जब हम सुबह उठते है तब हमें मीठी मीठी नींद आती है. ऐसी जगहों पर सोने के दौरान आप आसानी से Astral travel and lucid dream experience को enjoy कर सकते है.

इस तरह के अनुभव के लिए बॉडी और माइंड की स्टेट काफी ज्यादा महत्वपूर्ण है और आसपास का वातावरण इसमें अहम् रोल निभाता है.

ज्यादातर लोग इस दौरान ही अलग तरह के सपने को अनुभव करते है. जब हम नींद से उठते है लेकिन उठने का मन नहीं करता है और फिर से सो जाते है तब बॉडी बहुत तेजी से sleep state में चली जाती है.

हमारा brain कुछ समय लेता है और इसी दौरान हम मनचाहे सपनो को अनुभव करना शुरू कर देते है.

How to practice simple Astral Projection Meditation

मैडिटेशन खुद को जानने के पावरफुल तरीको में से एक है. मैडिटेशन हमें भौतिक जगह से छिपाता नहीं बल्कि वास्तविकता से अवगत करवाता है.

अगर आप Astral projection guided meditation की शुरुआत कर रहे है तो सबसे पहले आपको खुद को hypnagogic state में ले जाना होगा. इसके लिए सबसे आसान अभ्यास योग निद्रा का अभ्यास है जो आपके brain को active रखते हुए बॉडी को sleep स्टेट में ले जाता है.

इसका alternative option है mindfulness जिसमे हम खुद को सिर्फ वर्तमान स्थिति में रखते हुए भी आसानी से इस अवस्था को प्राप्त कर सकते है.

जब हम खुद को Unwanted intrusive thoughts से अलग कर लेते है तो इस दौरान हमारा brain काफी ज्यादा शांत हो जाता है.

खुद को वर्तमान से जोड़ लेना आपको बहुत ज्यादा शांत बना सकता है और जब ऐसा होता है तब आप हर स्थिति को बारीकी से समझना शुरू कर देते है. ऐसे में आपके लिए हर चीज को डिटेल से समझना आसान हो जाता है.

इस अवस्था को पाने के लिए किया जाने वाला अभ्यास hypnagogic mindfulness a beditation एक artificial technique है जो काफी आसान है और जल्दी ही आपको काफी अच्छे परिणाम हासिल करने में मदद करती है.

Hypnagogic mindfulness a beditation step by step Guide

इस तकनीक को चरण में पूरा किया जाता है जिसके अलग अलग लेवल पर आपको बॉडी और माइंड को खास अवस्था में ले जाना होता है.

Step 1: Breathe अगर आप Astral Projection Meditation में सफलता हासिल करना चाहते है तो सबसे पहले आपको the 4-7-8 breathing technique में पकड़ बनानी होगी. यहाँ पर डिजिट वक़्त को दर्शाती है या फिर ये मूवमेंट हो सकती है. इसकी 3 स्टेज है जिसमे

  1. सांसो को अन्दर लेना
  2. होल्ड करना
  3. बाहर निकालना

Astral Projection Meditation की ये काफी ज्यादा अमेजिंग तकनीक है जिसके फायदे आपको हैरान कर सकते है. brain focus and concentration बढाने के लिए ये आसान मगर प्रभावी तकनीक है. हर रोज सिर्फ 10 मिनट ही इसका अभ्यास करे और खुद में आ रहे बदलाव को महसूस करे.

Step 2: Observe दूसरे चरण में हम पूरा ध्यान विश्लेषण पर लगाते है. हमारे आसपास क्या हो रहा है इसे बारीकी से समझना और अगर आँख बंद है तो फिर सांसो को महसूस करना या फिर बॉडी में अलग अलग हिस्से पर फोकस हो कर उस हिस्से में हो रहे बदलाव को अनुभव करना इसका हिस्सा है.

आप जो भी कर रहे है उसके प्रति पूरी तरह जागरूक होना ही इसका अभ्यास है.

Step 3: Enter your sweet spot तीसरे चरण में जब हमारी बॉडी और माइंड पूरी तरह शांत अवस्था में होते है तब हमें इस अवस्था में जाना होता है. Sweet spot वो स्टेट है जहाँ हमारी बॉडी रिलैक्स होती है और माइंड पूरी तरह active. ध्यान रहे की माइंड में किसी तरह के अनचाहे विचार ना हो और ये पूरी तरह सोचने समझने को लेकर फ्री हो.

इन 3 चरण में किया गया अभ्यास आपको आसानी से trance state or alternative state of consciousness में जाने में हेल्प करता है.

Read : Top 5 The Negative Effects of Social Media on Relationship

7 Astral Projection Meditation technique for better result

अब तक आप Astral projection guided meditation का बेसिक रुल समझ गए होंगे. हमें किसी भी तरह अनचाहे विचारो से खुद को अलग करना है और सिर्फ बॉडी को sleep स्टेट में रखना है.

हमारा brain पूरी तरह active होना चाहिए ताकि हम जो भी अनुभव कर रहे है उसे लेकर अपनी चेतना को कण्ट्रोल कर सके. हम Beginner’s Guide To Astral Projection Meditation के बारे में ऊपर पढ़ चुके है.

इसके अलावा ऐसी कुछ तकनीक है जिनके जरिये भी बेहतर परिणाम हासिल किये जा सकते है.

  • Astral Projection Visualization Techniques कल्पना करना भी हमें astral travel experience करवा सकता है. अगर आप beginner meditator में से एक है और अभ्यास में मुश्किलों का सामना कर रहे है तो Astral Projection Visualization Techniques का अभ्यास करे. ये आपको सिर्फ और सिर्फ आपके अंतर पर फोकस करने में हेल्प करता है.
  • Binaural Beats For Astral Projection सबसे आसान तरीको में से एक है Binaural Beats के साथ अभ्यास करना. ये आपको delta and theta waves से connect होने में मदद करती है जो astral travel के लिए बेहद जरुरी है. ये आपके brain को trance like state में ले जाने में हेल्प करती है.
  • Astral Projection Guided Hypnosis सम्मोहन और कुछ नहीं heightened attention and focus की एक अवस्था है. इस दौरान हम अपने आसपास से जुड़े हुए रहते है साथ ही हमारा consciousness level काफी ज्यादा बढ़ जाता है.

Astral Projection Meditation के साथ साथ self-hypnosis and hypnosis का किया गया अभ्यास आपको astral realm में जाने में हेल्प करता है.

  • Chakra Activation Technique अगर बात करे ancient meditation practices की और चक्र के बारे में सुनने को ना मिले ऐसा हो ही नहीं सकता है. चक्र वास्तव में हमारे बॉडी के energy centers है जो उर्जा का बैलेंस शरीर में बनाए रखते है.

हमारे physical, emotional, and spiritual well-being के लिए यही energy centers वर्क करते है. शरीर के सभी चक्रों पर ध्यान का अभ्यास करना आपके बॉडी में energy के level को बनाये रखता है और आप जल्दी ही Astral Projection Meditation के लिए खुद को तैयार पाते है.

इसके अलावा भी काफी सारे तरीके है जिनका एक ही मकसद है आपके बॉडी को रिलैक्स रखते हुए brain को active रखना.

How to practice safe Astral Projection Meditation final conclusion

जो लोग Spiritual path से जुड़े हुए है उनके लिए astral travel का अभ्यास करना उनके consciousness में सुधार करता है.

अगर आप different dimension and realm को explore करना चाहते है तो Astral Projection Meditation का अभ्यास करना आपको इसमें हेल्प कर सकता है. Meditation and astral travel का आपसी connection आपके बॉडी और माइंड से जुड़ा हुआ है.

जब आपका brain खुद को conscious रखते हुए अपने आसपास को समझना शुरू कर देता है तब आप आसानी से अपने Astral body को physical body से अलग कर दूसरे आयाम को समझ सकते है. अपने चेतना के स्तर में सुधार करने के लिए ये बहुत जरुरी है की आप खुद को alternative state of consciousness पर मनचाहे तरीके से स्विच कर सके.

अगर आप इसकी शुरुआत करना चाहते है तो आर्टिकल में शेयर किये गए तरीको से अभ्यास करे आपको आसानी से इसमें ना सिर्फ सफलता मिलेगी बल्कि इस दौरान किया गया अभ्यास पूरी तरह आपके कण्ट्रोल में रहेगा.

Never miss an update subscribe us

* indicates required
Previous article5 Powerful tips for Clinical Child Psychology in Hindi युवा को भविष्य निर्माण में कैसे हेल्प करे जानिए
Next articleSimple but Powerful Protection Magic 10 tips to Safe from Black Magic Effect in Hindi
Nobody is perfect in this world but we can try to improve our knowledge and use it for others. welcome to my blog and learn new skill about personal | psychic | spiritual development. our team always ready to help you here. You can follow me on below platform

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here