Astral projection guide and hidden risk जिनके बारे मे आपको पता होना चाहिए

2

जब हम spiritual practice करते है तब अभ्यास के सही न होने की वजह से हमे कुछ side effect का सामना करना पड़ता है। हमारे अनुभव वैसे नहीं होते है जैसे होने चाहिए। सूक्ष्म शरीर या शरीर से बाहर विचरण के दौरान सही तरह से आगे न बढ़ पाने की वजह से हम कई तरह की परेशानी का सामना करते है इन्हे हमे astral projection dangers कह सकते है। इससे बचना चाहते है तो आपको Astral projection Guide के बारे मे पता होना चाहिए।

अभ्यास के दौरान कुछ risk का सामना करना पड़ सकता है जो हमारे मन मे अभ्यास को लेकर डर पैदा कर सकती है। astral projection practice करना एक रोमांचक अनुभव है लेकिन अगर आप इसे शुरू करने से पहले इसके बारे मे अच्छे से जान ले तो अभ्यास मे हेल्प मिलती है।

Astral projection guide

Out of body experience करना चाहते है लेकिन ये मालूम नहीं है की वापस बॉडी मे कैसे आया जाता है तो आपके लिए अभ्यास के दौरान खुद को बनाए रखना संभव नहीं हो सकता है। अगर आप Astral travel का अनुभव करना चाहते है तो आपको इसके बारे मे, कुछ खास सवालो के जवाब के बारे मे मालूम होना चाहिए।

Astral projection guide

इसे हम Astral travel guide के नाम से भी जानते है। मुख्य रूप से ये एक out-of-body experience का phenomenon है जिसमे शरीर से आत्मा के अलग होने पर अध्ययन किया जाता है। जब अभ्यास आगे बढ़ता है तब हम अपनी astral body को दूसरे आयाम मे यानि Fourth Dimension मे भी महसूस करते है।

प्राकृतिक तरीके से इसे किया जा सकता है और चूंकि ये Guided sleep meditation technique का ही एक भाग है तो इसे कई अलग अलग तरीको से अनुभव किया जा सकता है। अगर आप Astral projection for beginners की तरह इसका अभ्यास कर रहे है तो आपको इसके कुछ सवालो के बारे मे पता होना चाहिए।

शरीर से बाहर विचरण की शुरुआत

एक Astral projection guided meditation beginner की तरह out-of-body-experience की शुरुआत करना चाहते है तो आपको सबसे पहले इससे जुड़े कई डाउट को क्लियर कर लेना चाहिए।

  • What is astral projection?
  • Is astral projection safe?
  • What are the astral projection dangers?
  • Can you die from an astral projection?
  • Is sleep paralysis related to astral projection?
  • Astral projection tips (how to turn back to your psychical body, etc.)

इससे पहले की हम शरीर से बाहर विचरण के अनुभव के बारे मे जाने सबसे पहले इन सवालो के जवाब पा लेते है।

1. सूक्ष्म शरीर क्या है

इसे लेकर भ्रम मे न रहे की शरीर से बाहर विचरण और सूक्ष्म शरीर अलग अलग है। ये दोनों एक ही है। इस अभ्यास का मकसद आपके physical body से astral body को अलग करना होता है और जब ऐसा होता है तब हम अपने शरीर से बाहर निकल कर इस universe मे कही भी travel कर सकते है।

ऐसा माना जाता है की consciousness exploration के लिए ये एक सबसे बेहतर अभ्यास मे से एक है। अगर आप Astral projection guided meditation beginner की तरह अभ्यास करते है तब भी आप इसका अनुभव कर सकते है।

2. क्या ये अभ्यास सेफ है

अगर आप ये अभ्यास conscious रहते हुए करते है तो बेशक ये completely natural practice है। कोई भी व्यक्ति इसका अनुभव कर सकता है। अगर आप किसी तरह के psychological problems से गुजर रहे है तो आपको इससे बचना चाहिए। इसके अलावा ये 100% safe है और हम सोते हुए भी इसका अनुभव कर सकते है।

Astral projection dangers

इस बात मे कोई शक नहीं है की ये एक सेफ अभ्यास है लेकिन अगर आप किसी तरह के psychological or mental issue से गुजर रहे है तो आपको psychological side से कुछ नुकसान होने की संभावना से इंकार नहीं किया जा सकता है। कुछ side effect से आप गुजर सकते है जैसे की

वास्तविकता से भागना : इसका अभ्यास आपको इतना ज्यादा अच्छा लगने लगता है की आप हर समय इसमे खोये रहना पसंद करने लगते है। जब भी आप वास्तविकता से परेशान होते है आप ये करना पसंद करेंगे। एक तरह से इसे अपनी दुनिया बना लेना और reality से दूर होना spiritual emergency की condition बना सकता है।

ये आपके लिए खतरनाक नहीं है लेकिन जब ये बाकी दूसरे aspect पर हावी होने लगता है तब आपको productivity and personal growth को लेकर issue का सामना करना पड़ सकता है।

Exhaustion: जिस तरह lucid dream या फिर sleep paralysis के तुरंत बाद हम घुटन महसूस करते है इसके साथ भी ऐसा हो सकता है। हम शारीरिक थकावट को दूर कर सकते है लेकिन mentally drained होने के बाद उसकी भरपाई करना बेहद मुश्किल हो जाता है।

अगर आप लंबे समय तक astral projection करते है तो जब आप उठे तब आप खुद को बहुत ज्यादा थका हुआ पाएंगे। Astral projection guide के दौरान इस बात को ध्यान मे रखे।

Scary Visuals: इसमे कोई शक नहीं की इसके भी कुछ encountering frightening experience है जो आपको डरा सकते है। इस दौरान हम sleep paralysis या फिर very realistic and terrifying visuals का सामना करते है जो हमारे लिए एक डरावना अनुभव बन सकते है।

कई बार ये अनुभव इतने वास्तविक होते है की हम इन्हे हकीकत मान लेते है। उठने के बाद हमे पीटीए होता है की ये सब हमारे दिमाग की उपज है लेकिन फिर भी हम इसके डर को निकाल नहीं पाते है। बेहतर होगा की astral travel से पहले आप complete guide of sleep paralysis को अच्छे से समझ ले।

1 क्या अभ्यास के दौरान हमारी मौत हो सकती है ?

कई साधना या spiritual practice मे अनुभव इतने डरावने होते है की हम non-related bodily failure से मर सकते है जैसे की बहुत ज्यादा mental pressure या फिर heart attack stroke की वजह से शरीर का काम करना बंद कर देना। लेकिन astral travel के दौरान हमारी मौत नहीं हो सकती है।

सही तरह से लिया गया Astral projection guide meditation आपको हर तरह की risk से बचा सकता है। इसे 100% prove करना अभी तक संभव नहीं है।

हम इसकी कल्पना भी नहीं कर सकते है की आखिर कैसे हम एक out of body experience के दौरान मर सकते है। आज तक जीतने भी अनुभव किए गए है उनके आधार पर ये पक्का है की किसी तरह की biological death के कोई प्रमाण नहीं मिले है। अगर आपने Dr strange movie देखी है तो उसमे astral body को खत्म कर physical body को खत्म किया गया था।

वैसे भी ये एक मूवी थी जो हमे astral projection के लिए motivate करती है। लेकिन इस मूवी मे भी किसी की मौत astral projection के दौरान नहीं हुई थी।

क्या Sleep paralysis का सूक्ष्म शरीर से कोई connection है ?

ज़्यादातर लोगो को लगता है की इनके बीच कोई न कोई connection है लेकिन आपको बता दे की ये एक protective mechanism की तरह काम करता है खासकर ऐसी स्थिति मे जब हम अपने सपनों से हटकर act करने लगते है। ये एक अनुभव है जिसमे हम उठ जाते है लेकिन सिर्फ हमारा conscious mind active होता है हमारी body नहीं। Astral projection guide मे हमे इन दोनों के बीच अंतर करना सिखाया जाता है।

बॉडी के active न होने की वजह से हम सबकुछ देख और सुन पाते है लेकिन कुछ भी कर नहीं सकते है। sleep paralysis के अनुभव लोगो मे अलग अलग हो सकते है ये उनकी मानसिकता के ऊपर निर्भर करता है की वे इसे किस तरह फ़ेस करते है। कुछ लोगो को आवाज़े सुनाई देती है, कुछ लोगो को shadow person figure दिखाई देता है तो कुछ लोगो को सिर्फ किसी के होने का अहसास होता है

बहुत ही कम लोगो को ये मालूम है की हम इसका फायदा उठा सकते है और इसी दौरान astral projection की practice कर सकते है। सुनने मे ये रोचक लगता है लेकिन भौतिक शरीर से सूक्ष्म शरीर को अलग करना बेहद मुश्किल काम है और ये अभ्यास हम अपनी मर्जी से तो नहीं कर सकते है ( कम से कम तब तक जब तक हम अपने अंदर आवश्यक संयम पैदा न कर ले )

How to deal with it

अगर आप अभ्यास के दौरान खुद को इन side effect से दूर रखते हुए आगे बढ़ना चाहते है तो आपको कुछ सावधानी और निर्देश का पालन करना होगा।

खुद को sleep paralysis के लिए तैयार करना

अगर आप out of body experience का अभ्यास कर रहे है तो आपको sleep paralysis के लिए भी तैयार रहना चाहिए क्यो की इससे जुड़ा हुआ अनुभव है। आपको पहले इसे समझना होगा क्यो की एक आम व्यक्ति के लिए इसका अनुभव भले ही डरावना हो लेकिन एक साधक अगर इसका अनुभव करता है तो वो इसके advantage उठा सकता है।

अभ्यास को समझे पर करने की कोशिश न करे

अगर आपने इसके बारे मे काफी सारी study कर ली है तो आपको पता चल गया होगा की ये अभ्यास आपके लिए बिलकुल भी नहीं है अगर आप

  1. खुद को लेकर 100% sure नहीं है की आप क्या कर रहे है
  2. अगर अभ्यास के दौरान होने वाले अनुभव को लेकर डर रहे है

अगर आप इस अभ्यास को लेकर खुद को comfortable feel नहीं करवाते है तो अभ्यास ना करे। किसी तरह के अनुभव को लेकर आप खुद को तैयार नहीं कर पा रहे है तब भी इसे न करे बल्कि पहले उन्हे फ़िगर आउट करे और फिर शुरुआत करे।

खुद के शरीर मे वापस आना

अगर आप एक Astral projection guided meditation beginner है तो आपके मन मे ये ख्याल या अनजाना डर हमेशा से बना होगा की astral projection के बाद अपने body मे वापस कैसे आए ? किसी भी साधना की शुरुआत करने से पहले उसे finish कैसे करे उसके बारे मे पता होना चाहिए।

वैसे आपको मालूम होना चाहिए की अभ्यास के बाद astral body को वापस शरीर मे लाने के लिए आपको किसी तरह की खास कोशिश नहीं करनी पड़ती है। इसके लिए आप इन खास तरीको को अपना सकते है जैसे की

जब भी आप अपने शरीर मे वापस लौटना चाहे तो सिर्फ अपने बॉडी के बारे मे सोचे और कुछ नहीं

आपकी पूरी consciousness सिर्फ और सिर्फ आपकी body पर होनी चाहिए और कही नहीं। ये कोई मुश्किल काम नहीं है और ज़्यादातर केस मे जब अभ्यास करने वाला बीच मे ही अपना focus खो देते है या फिर बॉडी के बारे मे सोचने लगते है वे अभ्यास से बाहर हो जाते है।

एक और तरीका है silver cord जिसके जरिये आप अपने शरीर से जुड़े रहते है। हमारा Astral body और physical body एक silver cord से जुड़ा हुआ रहता है जो दिखाई नहीं देता है। जब भी आपका मन वापस अपने शरीर मे लौटने का हो आप इसे खींच सकते है।

हमारा mindset इसमे किस तरह काम करता है

किसी भी अभ्यास के लिए आपका positive mindset होना बेहद जरूरी है। अभ्यास मे quality emotion अहम भूमिका निभाता है इसलिए आपको इस पर ध्यान देना चाहिए। सफलता पाने के लिए आपका mindset अभ्यास के अनुकूल होना चाहिए। अभ्यास से पहले खुद को self-doubt, anger, fear or any other negative emotion से दूर कर लेना चाहिए।

अगर आप ऐसा नहीं करते है तो आप experiencing astral projection के दौरान खुद को फिट नहीं कर पाएंगे।

अभ्यास कितने टाइम तक करना चाहिए

कोई भी तकनीक या अभ्यास बेहतर तरीके से अनुभव करने के लिए आपको 30 मिनट से 1 घंटे तक का समय देना चाहिए। Astral projection technique के दौरान हम न सिर्फ अनुभव सही तरीके से कर पाते है बल्कि अभ्यास के बाद कुछ समय वापस आने मे लगता है वो भी मिल जाता है।

अगर आप Astral projection guide meditation का अभ्यास कर रहे है तो आपको इसके लिए कम से कम 90 मिनट देनी चाहिए। इसमे शुरू की 15 मिनट अभ्यास के लिए तैयार होने मे, 1 घंटा अभ्यास और बाकी के 15 मिनट अभ्यास की स्थिति से फिर से वापस नॉर्मल होने के लिए काफी है।

क्या ये वास्तविक है ?

जैसा की मे कहना चाहूँगा करने वाले के लिए सब संभव है और न करने वाले के लिए ये सब कल्पना सा लगता है। हालांकि astral projection को scientifically proven नहीं किया जा सका है लेकिन इसे मानना या ना मानना सिर्फ इसके अभ्यास करने वाले पर निर्भर करता है।

इसके वजूद को हम नकार नहीं सकते है क्यो की prove न हो पाने के बावजूद भी इसके amazing experiences, and benefits अनेकों लोगो ने अनुभव किए है।

Astral projection dangers final thought

आप चाहे Astral projection guide मे believe करे या ना करे लेकिन ये होता है। अगर हम इसकी तुलना lucid dreaming के साथ करे तो दोनों ही अंत मे हमारे दिमाग को बॉडी की तुलना मे पहले active कर देती है जिसकी वजह से हम इसके अनुभव को समझ नहीं पाते है। अगर आप इसका अनुभव करना चाहते है तो एक best astral projection technique का चुनाव करे और एक महीने मे कम से कम 15 बार इसका अभ्यास करे ताकि आप astral dangers को avoid कर आगे बढ़ सके।

आप इसके अनुभव कभी भी कर सकते है कुछ लोगो को दूसरी कोशिश मे सफलता मिल जाती है तो कुछ लोगो को काफी मेहनत करनी पड़ती है। निर्भर करता है आप कितने संयम से इसके अभ्यास मे खुद को आगे ले जा सकते है।

Never miss an update subscribe us

* indicates required

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here