कभी सोचा है मिश्र के पिरामिड इन खास सरंचना में ही क्यों design किए गए ? पुनर्जन्म से इसका संबध

0

मिश्र के बारे में हम क्या जानते है। मिश्र के पिरामिड, मिश्र की ममी बस. लेकिन अगर देखा जाये तो कई रहस्य है जो मिश्र की जमीन पर है आज देखते है उन रहस्य को जो मिश्र को आकर्षक और रोमांचक बनाते है। मिश्र के लोग अध्यात्म और काले जादू में ज्यादा विश्वास करते है। उनके आराध्य और शक्ति के सबसे बड़े श्रोत सूर्य देवता है। इसके अलावा मिश्र की महारानी किल्योपेट्रा जो आज भी रहस्य है। आज देखते है उन सबसे बड़े रहस्य को जो आपके अंदर मिश्र को लेकर रोमांच जगा देगा। अगर बात करे pyramid amazing fact की तो हम पाते है की ये सरंचना आखिर इसी तरह क्यों बनाई गई होगी? कोई खास वजह जिसकी वजह से इसे इस तरह और इतना विशाल बनाया गया है.

pyramid amazing fact

दरअसल मिश्र के पिरामिड की कारीगरी अपने आप में आश्चर्य का नमूना है और उससे भी ज्यादा हरित करने वाली बात है उनका विज्ञान क्यों की मिश्र के लोगो के अनुसार मिश्र के पिरामिड प्राण ऊर्जा के सरंक्षण के लिए सबसे अच्छा माध्यम है। आज हम बात करने वाले है मिस्र के पिरामिड से जुड़े कुछ ख़ास रहस्य और फैक्ट के बारे में. आखिर ऐसा क्यों माना है की पिरामिड मरे हुए लोगो को दोबारा जिन्दा कर सकते है? क्या वास्तव में पिरामिड इस तरह का काम कर सकते है. इन्हें क्यों बनाया गया है और ये काम कैसे करते है.

pyramid amazing fact in hindi

मिस्र के पिरामिड वहां के तत्कालीन फैरो (सम्राट) गणों के लिए बनाए गए स्मारक स्थल हैं, जिनमें राजाओं के शवों को दफनाकर सुरक्षित रखा गया है। इन शवों को ममी कहा जाता है। उनके शवों के साथ खाद्यान, पेय पदार्थ, वस्त्र, गहनें, बर्तन, वाद्य यंत्र, हथियार, जानवर एवं कभी-कभी तो सेवक सेविकाओं को भी दफना दिया जाता था।

भारत की तरह ही मिस्र की सभ्यता भी बहुत पुरानी है और प्राचीन सभ्यता के अवशेष वहाँ की गौरव गाथा कहते हैं। यों तो मिस्र में 138 पिरामिड हैं और काहिरा के उपनगर गीज़ा में तीन लेकिन सामान्य विश्वास के विपरीत सिर्फ गिजा का ‘ग्रेट पिरामिड’ ही प्राचीन विश्व के सात अजूबों की सूची में है। दुनिया के सात प्राचीन आश्चर्यों में शेष यही एकमात्र ऐसा स्मारक है जिसे काल प्रवाह भी खत्म नहीं कर सका।

पढ़े  : क्या वाकई वशीकरण और काला जादू सच में होता है

1.1 गिजा का ‘ग्रेट पिरामिड’

यह 450 फुट ऊंचा है। 43 सदियों तक यह दुनिया की सबसे ऊंची संरचना रहा। 11 वीं सदी में ही इसकी ऊंचाई का कीर्तिमान टूटा। इसका आधार 13 एकड़ में फैला है जो करीब 16 फुटबॉल मैदानों जितना है। यह 25 लाख चूनापत्थरों के खंडों से निर्मित है जिनमें से हर एक का वजन 2 से 30 टनों के बीच है। ग्रेट पिरामिड को इतनी परिशुद्धता से बनाया गया है कि वर्तमान तकनीक ऐसी कृति को दोहरा नहीं सकती।

कुछ साल पहले तक (लेसर किरणों से माप-जोख का उपकरण ईजाद होने तक) वैज्ञानिक इसकी सूक्ष्म सममिति (सिमट्रीज) का पता नहीं लगा पाये थे, प्रतिरूप बनाने की तो बात ही दूर! प्रमाण बताते हैं कि इसका निर्माण करीब 2560 वर्ष ईसा पूर्व मिस्र के शासक खुफु के चौथे वंश द्वारा अपनी कब्र के तौर पर कराया गया था। इसे बनाने में करीब 23 साल लगे।

पिरामिड की कारीगरी पर होता है आश्चर्य

सबसे बड़ा pyramid amazing fact ये है की इसका इतना विशाल आकार आखिर कैसे संभव बना. म्रिस के इस महान पिरामिड को लेकर अक्सर सवाल उठाये जाते रहे हैं कि बिना मशीनों के, बिना आधुनिक औजारों के मिस्रवासियों ने कैसे विशाल पाषाणखंडों को 450 फीट ऊंचे पहुंचाया और इस बृहत परियोजना को महज 23 वर्षों मे पूरा किया? पिरामिड मर्मज्ञ इवान हैडिंगटन ने गणना कर हिसाब लगाया कि यदि ऐसा हुआ तो इसके लिए दर्जनों श्रमिकों को साल के 365 दिनों में हर दिन 10 घंटे के काम के दौरान हर दूसरे मिनट में एक प्रस्तर खंड को रखना होगा। क्या ऐसा संभव था?

विशाल श्रमशक्ति के अलावा क्या प्राचीन मिस्रवासियों को सूक्ष्म गणितीय और खगोलीय ज्ञान रहा होगा? विशेषज्ञों के मुताबिक पिरामिड के बाहर पाषाण खंडों को इतनी कुशलता से तराशा और फिट किया गया है कि जोड़ों में एक ब्लेड भी नहीं घुसायी जा सकती। मिस्र के पिरामिडों के निर्माण में कई खगोलीय आधार भी पाये गये हैं, जैसे कि तीनों पिरामिड आ॓रियन राशि के तीन तारों की सीध में हैं। वर्षों से वैज्ञानिक इन पिरामिडों का रहस्य जानने के प्रयत्नों में लगे हैं किंतु अभी तक कोई सफलता नहीं मिली है।

पढ़े  : कम समय में कुंडलिनी जागरण की सर्वोत्तम क्रिया योग की विधि

रोचक तथ्य-interesting fact about pyramid

  • ग्रेट पिरामिड एक पाषाण-कंप्यूटर जैसा है। यदि इसके किनारों की लंबाई, ऊंचाई और कोणों को नापा जाय तो पृथ्वी से संबंधित भिन्न-भिन्न चीजों की सटीक गणना की जा सकती है।
  • ग्रेट पिरामिड में पत्थरों का प्रयोग इस प्रकार किया गया है कि इसके भीतर का तापमान हमेशा स्थिर और पृथ्वी के औसत तापमान २० डिग्री सेल्सियस के बराबर रहता है।
  • यदि इसके पत्थरों को ३० सेंटीमीटर मोटे टुकड़ों मे काट दिया जाए तो इनसे फ्रांस के चारों आ॓र एक मीटर ऊंची दीवार बन सकती है।
  • पिरामिड में नींव के चारों कोने के पत्थरों में बॉल और सॉकेट बनाये गये हैं ताकि ऊष्मा से होने वाले प्रसार और भूंकप से सुरक्षित रहे।
  • मिस्रवासी पिरामिड का इस्तेमाल वेधशाला, कैलेंडर, सनडायल और सूर्य की परिक्रमा में पृथ्वी की गति तथा प्रकाश के वेग को जानने के लिए करते थे।
  • पिरामिड को गणित की जन्मकुंडली भी कहा जाता है जिससे भविष्य की गणना की जा सकती है।
  • कुछ लोग पिरामिडों में स्थित जादुई असर की बात भी करते हैं जो मानव स्वास्थ्य पर शुभ प्रभाव डालता है।

पढ़े  : स्वंय सम्मोहन से बीते कल को कैसे बदले

काहिरा की रानी क्लियोपेट्रा :

इतिहास की खूबसूरत रानियों की List में क्लियोपेट्रा का नाम आज भी शुमार है। लेकिन उसकी खूबसूरती जितनी अच्छी थी उतनी ही रहस्यमयी क्यों की वो काले जादू की जानकर थी और जवान रहने के लिए कुछ भी कर सकती थी जिसमे जवान लड़कियों के खून से नहाना और उनका खून पीना था, इसके अलावा मिस्र की मल्लिका किलियोपैट्रा खबसूरत दिखने के लिये दूध से नहाती थी।

उल्‍लेखनीय है कि इतिहास में किलियोपैट्रा का जिक्र बेहद खूबसूरत यौवना के तौर पर किया जाता है और इस बात की भी चर्चा होती है कि वो सुंदरता बनाए रखने के लिये गधी का दूध का इस्‍तमान करती थी। वो नहाने के लिए हर रोज करीब 700 गधी का दूध मंगाती थी। जिससे उसकी त्वचा खूबसूरत बनी रहती थी।

pyramid amazing fact – मिश्र के लोगो का पुनर्जन्म में विश्वास

मिश्र के लोग पुनर्जन्म में विश्वास रखते थे और इसके लिए वो जिस राजा की मौत हो जाती थी उसके साथ उसके सोने-चांदी के सामान और नौकर के साथ दफनाया जाता था. इसके लिए वो पिरामिड का निर्माण करवाते थे क्यों की पिरामिड सूर्य की किरणों को जीवनदायी ऊर्जा में बदलने का काम करता था। इसलिए उनका मानना था की एक दिन वो फिर से जीवित हो जायेंगे। और इसी आधार पर पिरामिड का इस्तेमाल आज के वक़्त में negative energy को positive energy में या फिर उन्हें जीवनदायी ऊर्जा में बदलती है।

पढ़े  : सूक्ष्म शरीर की यात्रा के 3 आसान मगर कारगर स्टेप्स

मिश्र के लोगो के आराध्य सूर्य देवता :

सबसे खास pyramid amazing fact में से एक है की वहा के लोग देव पूजा में विश्वास रखते थे. उनके आराध्य देव सूर्य थे जो की इंडियन कल्चर में भी है. उनके अनुसार सूर्य देव से मिलने वाली प्राणदायी किरणों के प्रभाव से पुनर्जन्म संभव है. शायद इसी वजह से इसकी सरचना और बनावट इस तरह की बनाई गई की सूर्य से ज्यादा से ज्यादा मात्रा में किरने पिरामिड के अन्दर प्राण उर्जा को बढ़ाती थी.

मिश्र के लोग सूर्य को अपना आराध्य देव मानते है, क्यों की सूर्य की जीवनदायी किरणे उन्हें जीवन में ऊर्जा प्रदान करती है। पिरामिड भी ऊर्जा को collect करने का medium होता है। इसका निर्माण इस बात को ध्यान में रख कर किया जाता था की वो एक खास बिंदु पर collect होती रहे। और मिश्र के लोग ममी को भी उसी केंद्र पर रखा जाता था।

5. मिश्र के लोगो का जादू-टोना में विश्वास

pyramid amazing fact के अलावा मिश्र में और भी कई सीक्रेट थे. उन्ही में से एक था मिश्र के लोगो का black magic में विश्वास. यहाँ के लोग पुनर्जन्म में विश्वास करते थे। इसलिए वो आत्माओं को वापस शरीर में डालने से लेकर तरह के जादू टोना करते रहते थे। काला जादू, आत्मा आवाहन ये वो तांत्रिक द्वारा करने वाले सर्वाधिक क्रिया थी। मिश्र के तांत्रिक अपने राजा के प्रति वफादार थे इसलिए वो उनके दूसरे जन्म से लेकर कई तरह के जादू टोना करते रहते थे। इसके अलावा उनमे शरीर को नष्ट होने से कैसे बचाया जाये,और आत्मा को वापस मृत शरीर में कैसे डाले इनसे संबधित क्रिया करने में विश्वास रखते थे.

पढ़े  :  आत्माओ से बात करने के सरल माध्यम

pyramid amazing fact – पिरामिड का जादुई प्रभाव-कैसे काम करता है

वैज्ञानिक प्रयोगों द्वारा यह प्रमाणित हो गया है कि पिरामिड के अंदर विलक्षण किस्म की ऊर्जा तरंगें लगातार काम करती रहती हैं, जो जड़ (निर्जीव) और चेतन (सजीव) दोनों ही प्रकार की वस्तुओं पर प्रभाव डालती हैं। वैज्ञानिकों ने पिरामिड के इस गुण को ‘पिरामिड पॉवर’ की संज्ञा दी है। पिरामिड चिकित्सा द्वारा विभिन्न रोगों के उपचार से संबंधित कुछ महत्वपूर्ण परीक्षणों से प्राप्त नतीजे इस प्रकार हैं-

सिर दर्द एवं दाँत दर्द के रोगियों को पिरामिड के अंदर बैठने पर दर्द से छुटकारा मिल जाता है। pyramid amazing fact और ‘पिरामिड पॉवर’ के आधुनिक खोजकर्ता स्वयं बोबिस ने पिरामिड के आकार की टोपी बनाई और पहनकर आजमाया। बोबिस का कहना है कि इसको पहनने से सिर दर्द तो दूर हो ही जाता है, साथ ही कई प्रकार के मानसिक विकार भी दूर हो जाते हैं।

Amazing benefit of pyramid

  • मानसिक तनाव से परेशान एक युवती ने पिरामिड के अंदर कुछ समय के लिए सोना शुरू कर दिया तो शीघ्र ही वह अच्छी नींद सोने लगी। दरअसल कुछ मिनट के लिए पिरामिड के अंदर बैठने से शरीर का संतुलन ठीक हो जाता है, जिसके चलते तनाव दूर हो जाता है।
  • घाव, छाले, खरोच आदि पिरामिड के अंदर बैठने से बहुत जल्दी ठीक हो जाते हैं। है न pyramid amazing fact
  • पिरामिड के अंदर रखे जल को पीने से टॉन्सिल की समस्या से छुटकारा मिलता है, आँखों को धोने से उसकी ज्योति बढ़ती है, पाचन क्रिया में सुधार होता है, घुटनों पर मलने से घुटनों, का दर्द दूर हो जाता है।
  • एक परीक्षण के दौरान कुत्तों को चौकोर, गोल और पिरामिड के आकार के घरों में रखा गया। बाद में यह पाया गया कि पिरामिड के आकार के घरों में रहने वाले कुत्ते अधिक समझदार, अधिक आज्ञाकारी निकले और उनका स्वास्थ्य भी बेहतर हो गया।
  • पिरामिड के अंदर किसी तरह की आवाज या संगीत बजाने पर बड़ी देर तक उसकी आवाज गूँजती रहती है। इससे वहाँ उपस्थित लोगों के शरीर पर विचित्र प्रकार के कम्पन पैदा होते हैं, जो मन और शरीर दोनों को शांति प्रदान करते हैं।
  • जब कोई थका हुआ आदमी कुछ ही मिनटों के लिए पिरामिड में बैठता है, तो उसकी थकान दूर हो जाती है और वह शरीर में एक नई शक्ति का संचार महसूस करता है।
  • ये एक pyramid amazing fact ही है की साधना करने वालों ने पिरामिड के अंदर ध्यान लगाने के बाद दावा किया कि इसके अंदर बैठने से मन बहुत जल्दी एकाग्र हो जाता है। पिरामिड में बैठने से इच्छा शक्ति भी दृढ़ होती है।
  • अनिद्रा की बीमारी दूर होती है व शराब पीने की आदत एवं नशीले पदार्थों के सेवन की लत को भी प्रतिदिन थोड़ी-थोड़ी देर के लिए पिरामिड के अंदर बैठकर छुड़ाया जा सकता है।
  • प्रतिदिन पाँच से दस मिनट के लिए पिरामिड के अंदर बैठने से इच्छा शक्ति दृढ़ होती है।
  • थके हुए व्यक्ति को सिर्फ दस मिनट के लिए पिरामिड के अंदर बैठा दिया जाए तो उसकी थकावट दूर हो जाती है और वह खुद को तरोताजा अनुभव करने लगता है।
  • बीजों को बोने के पहले अगर थोड़ी देर के लिए पिरामिड के अंदर रख दिया जाए तो वे जल्दी और अच्छी तरह से अंकुरित होते हैं। बीमार और सुस्त पौधों को भी पिरामिड द्वारा ठीक और उत्तेजित किया जा सकता है।

आज का आर्टिकल pyramid amazing fact विभिन्न पुस्तक, लेख और वेब से लिया गया है। अगर आपके पास कोई सुझाव है तो हमें कमेंट बॉक्स के माध्यम से बताये। अगर आपके पास कोई ज्ञानवर्धक लेख है तो आप हमें भेजे। हमें सब्सक्राइब करना ना भूले।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.