भावनाये आपके अवचेतन मन को कैसे प्रभावित करती है

0

भावना शक्ति का अभ्यासभावना शक्ति का अभ्यास एक निर्देश को बार बार दोहराना ही है. जब हम विचारो के भंवर में फंस जाते है तब हम समझ नहीं पाते है इससे बाहर कैसे निकले तब भावना शक्ति का प्रयोग कर हम बड़ी से बड़ी बढ़ा को दूर कर सकते है. भावना शक्ति हमें संयम सिखाती है. हमें शांति का मार्ग प्रदान करती है, इन सबके आलावा ध्यान से बढ़ी हुई शक्ति को संजो कर रखती है।

एक उदहारण : कबड्डी का खेल चल रहा था. खिलाडी जी जान से गोल करने में लगे थे. खेल में जीत की उम्मीद सिर्फ एक खिलाडी के गोल पर थी. तभी उसके अंगूठे पर बॉल आकर लगती है और अंगूठे में चोट लग जाती है. खून बहने लगता है लेकिन वो खिलाडी अपने गोल में इतना मगन था की उसे ध्यान ही नहीं रहा था. जब गोल पूरा हो गया तब उसका ध्यान अपनी पीड़ा पर आया और वो दर्द इतना तेज था की वो बेहोश हो गया. क्या ये दर्द शुरू से इतना ही रहा था. जी हा दर्द तो तब भी था बस ध्यान नहीं रहा. क्यों की उसके मन में सिर्फ एक ही भावना थी की उसे बस गोल करना है।

एक दूसरा उदाहरण उस बच्चे का जो कभी स्टेज पर नहीं गया. जब वो पहली बार स्टेज पर जाता है तब उसका मन शंकित रहता है मन विचारो से घिरा रहता है की में ये कर पाउँगा या नहीं. लेकिन जब वो बोलना शुरू होता है तब उसे ऐसा लगता ही नहीं की वो पहली बार बोल रहा है. ये सब एक चमत्कार जैसा लगता होगा लेकिन ये सब भावना का खेल होता है. आँखे बाद कर सब भूल जाना और सिर्फ एक ही बात याद रखना में ये कर सकता हु. फिर देखिये आप कैसे दुसरो को अपने आकर्षण में लाते है।

भावना शक्ति का सबसे बढ़िया उदाहरण छोटा सा बच्चा है जो खेल खेल में चोटिल होता रहता है.

बच्चा खेलते खेलते गिर जाता है और उसे चोट लग जाती है दर्द भी होता है पर तभी माँ अति है और घाव पर मुह से फूंक मारती है और कहती है की बस ये अभी सही हो जायेगा और कुछ देर बाद बच्चा वापस हंस खेलने लगता है. क्या ये कोई चमत्कार नहीं ये माँ की भावना होती है जिसे बच्चे का अंतर्मन स्वीकार कर लेता है और उसकी भावना काम कर जाती है।

भावना शक्ति का दूसरा नाम है आत्मसुझाव :

मेने कुछ दिन पहले की पोस्ट पब्लिश की थी जिसमे आत्मसुझाव का जिक्र किया था। आत्मसुझाव यानि खुद को सुझाव देना। जब लगातार एक वाक्य दोहराया जाता है तो वो सीधा असर करता है। इसलिए आत्मसुझाव आपके विचारो में बदलाव लाने का सबसे अच्छा माध्यम साबित हो सकता है। अगर आपको सफर के दौरान तनाव महसूस होने लगता है तो आंखे बंद कर खुद को सुझाव दे की आपका मन शांत हो रहा है। कुछ देर बाद आपका मन शांत हो जाता है।

भावना शक्ति को बनाये कैसे रखे :

इस संसार में सबसे तेज क्या है ? क्या ये कोई भौतिक रचना है या फिर मनुष्य की कोई कृति ? सबसे तेज है हमारे मन की गति. इसका ईंधन क्या है हमारा आत्मविश्वास जो हमारे मन को गति प्रदान करता है. जिसका आत्मविश्वास जितना मजबूत होता है हमारे मन की गति और उसकी वास्तविकता उतनी ही सच्ची होती है. हर वो रचना जो आज अपने भौतिक स्वरूप में है बीते हुए कल की कल्पना है और जो आज की कल्पना है वो कल की रचना होगी.

आत्मविश्वास हमारे मन की ऊर्जा है इससे कोई कम नहीं कर सकता है सिवाय खुद आपके आपका एक नकारात्मक विचार आपके मन में खुद के खिलाफ शंका पैदा कर देता है जिससे आपका आत्मविश्वास गिरने लगता है. इसके साथ ही हमारी इच्छा शक्ति, शंकल्प शक्ति और भावना शक्ति पर भी प्रभाव पड़ता है।

पढ़े : स्लीप पैरालिसिस पर काबू कैसे पाए

सबसे जरुरी है आपका अपने ऊपर विश्वास आपका अपने ऊपर जितना ज्यादा विश्वास रहता है आपके सफल होने के chance उतने ही ज्यादा होते है, इसलिए अगर सफल होना है तो खुद पर विश्वास बनाये रखे कोई भी एक बार में सफल नहीं होता है लेकिन इसका मतलब ये नहीं की बार बार प्रयत्न करने पर सफल नहीं हो सकता है. कोशिश करने पर ही सफल हो सकते है, इसमें भावना शक्ति का योगदान हो सकता है. इसलिए अगर आपको भावना शक्ति को मजबूत करना है तो सबसे पहले शंका और दुसरो के नकारात्मक टिप्पणी से प्रभावित होना बंद करना पड़ेगा.

भावना शक्ति का अभ्यास :

भावना शक्ति का अभ्यास सिर्फ आपका ध्यान मजबूत करता है. विचारो के भंवर से निकल कर कर आपको एक विचार पर टिके रहने का सामर्थ्य प्रदान करता है।

इसके लिए आप सबसे पहले शरीर को शिथिल करने का प्रयत्न करे जो आप लेट कर और हरकत को बंद कर आसानी से कर सकते है. जब शरीर शिथिल हो जाता है तब मन को शांत करना होता है. मन को शांत करने के लिए मन के विचारो को बंद करना होता है जो एकाएक संभव नहीं है।

  • शुरू में आप सिर्फ एक विचार को सोचे की सिर्फ एक विचार ही आपको बार बार दोहराना है।
  • कुछ समय बाद ही आपके मन सिर्फ वह विचार दोहराया जाता है बाकि विचार नहीं आते है।
  • कुछ देर बाद ऐसा लगता है जैसे आपका शरीर बेजान सा हो गया है और मस्तिष्क एकदम खाली खाली सा.

पढ़े : सूक्ष्म शरीर की यात्रा के Top 5 टिप्स

अब आप इसे अपने शरीर पर आजमाए लेट जाये और शरीर को शिथिल कर ले, मन को शांत करने का प्रयत्न करे ये न कर सकते तो कोई बात नहीं अपने मन में सिर्फ एक ही विचार दोहराये जो आपके शरीर से सम्बधित हो जैसे की आपके शरीर का वो भाग जिस पर भावना दी जा रही है वो उस भावना के अनुसार कार्य करने लगा है. उदाहरण के लिए अपने भावना दी है की आपके पैर की हरकत बिलकुल बेजान हो रही है कुछ देर ये भावना दे आप महसूस करेंगे की आपके पैर की हरकत बंद हो कर बिलकुल बेजान हो गई है।

भावना शक्ति को और मजबूत करे :

भावना शक्ति का अभ्यास करते हुए आप भावना दे कर शिथिल पड़े अपने हाथ को हवा में भावना द्वारा उठाये ये शुरू में मुश्किल जरूर है लेकिन अभ्यास से संभव है. इसके लिए आपको अपने शायरी की हरकत को बंद करना होगा और भावना दे की आपके हाथ हवा में उठ रहा है।

अभ्यास के कुछ ही देर बाद आपके हाथ थोड़ा थोड़ा करके हवा में उठ शुरू हो जाता है. इस समय आपको सिर्फ भावना को बार बार दोहराना है और ध्यान देना की आप हाथ को उठाने के लिए बल का प्रयोग न करे क्यों की इस वक़्त आपकी चेतना और अवचेतना में निर्देश का आदान प्रदान होता है और दोनों ही अपने अपने भाव से आपके आदेश ग्रहण करते है लेकिन आपको सिर्फ भावना शक्ति का अभ्यास पर ध्यान देना है उस वक़्त भावना में कोई व्यवधान या फिर निर्देश के प्रशारण में कोई बाधा नहीं आनी चाहिए .

पढ़े : आपके विचारो की अद्भुत शक्ति और मस्तिष्क पर इसका प्रभाव

ये अभ्यास आपके अंतर्मन को मजबूत बनता है जिससे भावना शक्ति तेजी से और पलो में आपको ध्यान की शक्ति का बोध कराती है. और आप ध्यान में तेजी से उतरने लगते है।

सावधानी:

भावना शक्ति का अभ्यास आपके मस्तिष्क पर प्रभाव डालता है। उपरोक्त अभ्यास में आपके मस्तिष्क बहुत जल्दी थकने लगता है इसलिए ज्यादा जोर न दे वर्ना अभ्यास के बाद आपको थकान महसूस होने लगती है. हाथ हवा में उठना एक स्वाभाविक प्रक्रिया होनी चाहिए इसके लिए मानसिक बल न लगाये.

अवचेतन मन की शक्ति से जुडी अन्य पोस्ट यहाँ पढ़े :

अगर आपके पास ध्यान से जुडी बढ़िया पोस्ट, जानकारी, अनुभव है तो आप हमारे ब्लॉग पर इसे शेयर कर सकते है। अपनी पोस्ट हमें Email पर भेजे आपकी फोटो और आपके नाम के साथ हम इसे पब्लिश करेंगे। आज की पोस्ट भावना शक्ति का अभ्यास पर कमेंट कर अपनी राय जरूर दे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.