क्या त्राटक के जरिये बीमारियों का समाधान संभव है ? हैरान कर देने वाला सच

0
198

क्या त्राटक द्वारा रोग निवारण संभव है ? बगैर किसी दवा के सिर्फ किसी को ये कहे की आप ठीक हो रहे हो और वो ठीक भी होने लगे ये किसी तरह का मैजिक नहीं है बल्कि योग साधना का ही एक चमत्कार है जो त्राटक साधना के जरिये हासिल किया जाता है.

Tratak gazing meditation and cure without medication आज से नहीं बल्कि सम्मोहन के उद्भव के समय से चर्चा और विवाद का विषय बना हुआ है. उस समय इसे मंजूरी सिर्फ इसलिए नहीं दी थी क्यों की काफी सारी मेडिकल टीम का बिज़नेस खतरे में आ गया था.

अगर लोग बिना महँगी दवा के ठीक होने लगे तो सबसे बड़ा नुकसान मेडिकल फार्मा वालो का होना था इसलिए डॉ मेस्मेर को किसी न किसी तरह विवादों में फंसाकर देश निकाला दिया गया लेकिन, उन्होंने अपनी खोज को बंद नहीं किया बल्कि विदेशो में शरण लेकर भी experiment को जारी रखा और लोगो को त्राटक ध्यान साधना की वैज्ञानिक शक्तियों के बारे में बताया.

त्राटक द्वारा रोग निवारण

विज्ञान हर उस चीज पर believe करता है जिसे प्रूफ किया जा सकता है लेकिन मन की शक्ति, भावना शक्ति, आकर्षण शक्ति इन्हें कैसे प्रूफ किया जा सकता है. इन्हें तो सिर्फ अनुभव किया जा सकता है वो भी तब जब आप इसमें believe करे. यही वजह है की आज भी विज्ञान इसे ज्यादा महत्त्व नहीं देता है लेकिन इस फील्ड में खोज आज भी जारी है.

आज हम बात करने वाले है How to cure without medication by tratak meditation के बारे में जिसमे शारीरिक और मानसिक बीमारियों का त्राटक के जरिये किस तरह समाधान किया जा सकता है के बारे में जानेंगे. इस आर्टिकल को डिटेल से समझने के लिए लास्ट में एक बुक का लिंक भी दिया जा रहा है जिसे पढ़े आपको काफी हेल्प मिलेगी. आइये अब जानते है इसे डिटेल से.

त्राटक द्वारा रोग निवारण

त्राटक योग की एक क्रिया है. जादू तंत्र मंत्र और त्राटक के बीच का connection समझने के बाद आपको समझ आ जायेगा की किस तरह हम त्राटक के जरिये रोगों का निदान कर सकते है. हम जितना ज्यादा विज्ञान की तरफ अग्रसर होते जा रहे है उतना ही प्राचीन संस्कृति को जादू मानते जा रहे है.

हम भूल रहे है की वो सब भी अपने समय का एक विज्ञान ही था. किसी भी व्यक्ति को अपनी तरफ आकर्षित कर लेना कोई जादू नहीं बल्कि योग साधना के द्वारा अर्जित की गई शक्ति है.

जिसे आप जादू और तंत्र मंत्र समझते है उसमे भी योग साधना का काफी बड़ा महत्त्व होता है. उदाहरण के लिए किसी को वश में करने के लिए आपको मंत्र जप के साथ साथ उस व्यक्ति का गहन ध्यान होना चाहिए. ये बगैर meditation practice के संभव नहीं है.

आपको एक बात अच्छे से समझने की जरुरत है की बगैर त्राटक ध्यान साधना के आप सफलता हासिल नहीं कर सकते है फिर चाहे वो तंत्र मंत्र हो, समाधी हो, योग क्रिया हो या फिर कुछ और.

त्राटक का अभ्यास करना ध्यान की तुलना में ज्यादा सरल है क्यों की इसमें हमें शुरुआती तौर पर ही अच्छे परिणाम मिलना शुरू हो जाते है. ध्यान में हमें अपनी कल्पना को चित वृति पर उतारना ( मानस पटल ) होता है जो की सरल नहीं है. त्राटक में कोई भी वस्तु को सामने रखने से उस पर ज्यादा मेहनत करनी नहीं पड़ती है और हमारा mind उसे मानस पटल पर साकार बना देता है.

त्राटक का मार्ग और योग त्राटक द्वारा रोग निवारण को संभव बनाना

योग साधना में Tratak meditation का मार्ग द्विमार्गी है. इसे स्थूल और सूक्ष्म दोनों तरह से देखा जा सकता है जिसका मतलब है की ये भौतिक और अभौतिक दोनों तरह से सिद्ध किया जा सकता है.

भौतिक में आपको अपने अन्दर की शक्तियों को पहचानने में मदद मिलती है वही अभौतिक में लौकिक सिद्धियाँ हासिल करने में भी मदद मिलती है. Tratak gazing meditation के जरिये हम हर उस चीज को हासिल कर सकते है जिसकी अभिलाषा हम रखते है.

इसके अलावा हम त्राटक द्वारा रोग निवारण भी कर सकते है. अगर बात करे मेस्मेर जैसे व्यक्ति की तो उन्होंने सिर्फ आकर्षण शक्ति और चुम्बकीय शक्ति के जरिये ही कई ऐसे रोगों का निदान किया है जो मेडिकल की तरफ से लाइलाज थे.

Practical hypnotism Book में इसके बारे में काफी डिटेल से समझाया गया है इसलिए हम आज यहाँ इस बारे में बात करने वाले है की आखिर कैसे ये संभव है की बिना किसी दवा के भी हम खुद को heal कर सकते है.

जो लोग त्राटक का अभ्यास लम्बे समय से करते आ रहे है वो देख सकते है की उन्हें काफी कम बीमारी प्रभावित करती है या फिर वे जल्दी ही किसी भी तरह की बीमारी से खुद को बिना किसी दवा के भी ठीक कर लेते है. ये सीधे तौर पर हमारे immune system को strong करता है.

त्राटक साधना हमारे Defense mechanism system को enhance कर देती है जो किसी भी तरह के Psychic vampire attack को फ़ैल कर देता है.

आइये जानते है की त्राटक द्वारा रोग निवारण में हम किस तरह की बीमारियों का इलाज कर सकते है और ये किस तरह हमारे Body mind soul spirit को affect करता है.

त्राटक के जरिये बीमारियों को दूर कैसे किया जाता है ?

त्राटक साधना में हम जिस object पर भी Gazing meditation practice करते है असल में उसके गुण का एक अंश अपने अन्दर समाहित करते है. इसे इस तरह समझे आप जिस ऑब्जेक्ट पर त्राटक करेंगे आप अपने अन्दर उस ऑब्जेक्ट की quality को adapt करेंगे.

उदाहरण के लिए Candle tratak meditation का अभ्यास करना आपके आँखों में तेज पैदा करता है जिसकी वजह से कोई दूसरा व्यक्ति आपसे आंखे नहीं मिला पाता है.

एक व्यक्ति ने त्राटक का अभ्यास सोने के सिक्के पर किया और पाया की त्राटक करने से अब उसकी शीध्र-पतन और Nightfall जैसी problem दूर हो गई. ऐसा माना जाता है की शुद्ध सोने पर tratak meditation करने से हम अपने अन्दर के धातु को strong बना सकते है.

जिन लोगो को स्त्री सुख में परेशानी का सामना करना पड़ रहा है और वे दवाई ले रहे है उन्हें इसका अभ्यास करना चाहिए.

इसके पीछे सोने का सूर्य से connection माना जाता है जो कलित्व को दूर करता है. ये आपके अन्दर के confidence को भी मजबूत करता है और आप बदलाव को खुद महसूस कर सकते है.

Modern science में Hypnosis therapist इसके लिए Hypnotism का सहारा लेते है और माध्यम को सम्मोहित कर उसे भावना देते है जैसे की “तुम्हारे अन्दर कोई कमी नहीं है” और “पूरी तरह स्त्री के योग्य हो”.

ये सब काम करता है विश्वास की शक्ति पर यानि हमारे मनोबल पर और त्राटक में बार बार भावना देकर हम इसे ही strong बना देते है जो त्राटक द्वारा रोग निवारण में तरह तरह के चमत्कार दिखाता है.

त्राटक साधना और गर्मी से होने वाले रोगों का निदान

त्राटक साधना में सफलता हासिल करने के बाद गर्मी से होने वाले रोगों का समाधान पाया जा सकता है. गर्मी को शांत करने में चन्द्रमा, चांदी और हीरा इन तीनो का उपयोग किया जाता है. हम पीछे की पोस्ट में पढ़ चुके है की Moon tratak meditation के जरिये मन की शीतलता को बढाया जा सकता है.

इसका प्रभाव इतना ज्यादा होता है की गर्मी के दिन की दोपहर में भी वो आराम से समय बिता सकते है.

त्राटक योगी अपने अनुभव में और आगे बताते हुए कहते है की अगर आपको अपनी भूख प्यास पर नियंत्रण करना है तो आपको त्राटक साधना का सहारा लेना चाहिए. वे फलो पर त्राटक करते है और इसके बाद उन्हें बेहद कम भूख प्यास की अनुभूति होती है.

इसके पीछे उनकी भावना शक्ति काम करती है. वे अपने मन को यकीन दिलाने में कामयाब हो जाते है की उन्हें इसकी जरुरत नहीं है जिसकी वजह से वो उन्हें अपने ध्यान में आने ही नहीं देते है.

क्षय रोग में त्राटक साधना की भूमिका

इसे यक्ष्मा, तपेदिक, थाइसिस या टीबी भी कहते है. एक समय था जब इसे लाइलाज और दुष्ट बीमारी माना जाता था. त्राटक का अभ्यास करने वाले साधक की दृष्टी इतनी सूक्ष्म हो जाती है की वो सामने वाले के मन को झझकोर कर रख देती है.

माध्यम की आँखों में दी गई भावना उसके अन्दर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत करती है क्यों की प्राण उर्जा का ही एक रूप चुम्बकीय शक्ति कई रोगों की काट करने में सक्षम है.

त्राटक द्वारा रोग निवारण में क्षय के कीटाणु पर सीधा असर पड़ता है और वे निष्क्रिय होने लगते है. भारतीय साधक ने अपने अनुभव को लिखते हुए कहा है की उन्होंने इसे लेकर किये गए प्रयोगों में 95% सफलता हासिल की है.

मानसिक रोगों में त्राटक की भूमिका

त्राटक का हमारे मन मस्तिष्क पर अधिक प्रभाव पड़ता है. डॉ. मेस्मेर ने भी अपने experiment में उन रोगों का इलाज सफलतापूर्वक किया है जिनमे बाकि मेडिकल डॉक्टर ने हार मान ली थी. सम्मोहन शक्ति के जरिये मानसिक रोगों का समाधान आसानी से किया जा सकता है.

मथुरा के एक योगी महाराज थे जो हिस्टीरिया का इलाज करते थे. मरीज को देखते उसके मुह पर छींटे मारते और कुछ देर उसे देखते थे बस.

पूछने पर उन्होंने बताया की ये कोई तंत्र मंत्र या जादू नहीं है बल्कि मन की शक्ति और त्राटक का प्रभाव है. पागलपन को छोड़कर हर तरह के मानसिक रोग का इलाज त्राटक के जरिये संभव है क्यों की 99% बीमारियों को ताकतवर बनाता है हमारा Subconscious mind और हमें इसे यकीन दिलाना पड़ता है की इसका इलाज बगैर दवा के भी संभव है.

अगर किसी व्यक्ति का विवेक हो तो उसे त्राटक द्वारा भावना देकर ठीक किया जा सकता है. ज्यादातर त्राटक द्वारा रोग निवारण उन लोगो पर काम करता है जिनका विवेक यानि थोड़ी बहुत समझ हो.

नेत्र रोग और त्राटक साधना

त्राटक साधना के जरिये हम ना सिर्फ Attraction power and hypnotic power को पाते है बल्कि आँखों से जुड़ी किसी बीमारी को ठीक कर सकते है. त्राटक का अभ्यास आँखों के जरिये होता है इसलिए सबसे पहले और ज्यादा प्रभाव इसी पर पड़ता है. त्राटक भी ध्यान का ही एक रूप है इसलिए जो फायदे हमें मैडिटेशन में मिलते है वही सब त्राटक के जरिये भी मिल जाते है.

इसमें सिर्फ इतना सा अंतर है की मैडिटेशन बंद आँखों से होता है जबकि त्राटक खुली आँखों से किया जाता है. Tratak sadhna में हम शारीरिक रोगों से ज्यादा मानसिक रोगों में जल्दी असर देख पाते है क्यों की त्राटक का प्रभाव मन और मस्तिष्क पर ज्यादा होता है.

ये हमारे Subconscious mind programing में अहम् भूमिका निभाता है. त्राटक से आँखों से जुड़ी ज्यादातर प्रॉब्लम को दूर किया जा सकता है वही किसी भी तरह की Stress and depression जैसी mental disorder को solve किया जा सकता है.

योग साधना और त्राटक द्वारा रोग निवारण अंतिम शब्द

योग साधना में त्राटक का अभ्यास एक ऐसा मार्ग है जो आपके किसी भी तरह की मानसिक समस्या का समाधान कर सकता है. आपको जानकर हैरान नहीं होना चाहिए की त्राटक द्वारा रोग निवारण संभव है और इसका कोई side effect भी नहीं है.

the power of believe में एक magnetic force होती है जो किसी भी तरह की बीमारी से ठीक कर सकती है. अगर आप खुद पर भरोसा करते है और भावना शक्ति के जरिये खुद को यकीन दिला सकते है तो मनचाहे बदलाव करने से आपको कोई भी नहीं रोक सकता है.

डॉ मेस्मेर जो सम्मोहन शक्ति के जरिये अपना ज्यादातर experiment कर रहे थे वो भी अपने मरीजो को किसी तरह से यकीन दिलाने में कामयाब होते है की उन्हें जो दवा दी जा रही है वो स्पेशल है जबकि हकीकत में सिर्फ पानी था.

ये उन मरीजो की अपनी Will power थी जो की डॉ मेस्मेर ने विश्वास के जरिये पैदा की थी. उम्मीद है अब आपके doubt clear हो गए होंगे की आखिर कैसे बिना दवा के सिर्फ त्राटक से बीमारियों का इलाज किया जा सकता है.

download now button

Never miss an update subscribe us

* indicates required
Previous articleHow Masturbation in Relationships affect your life some fact and myth
Next articleHistory mystery and origin of Werewolves existence in Hindi
Nobody is perfect in this world but we can try to improve our knowledge and use it for others. welcome to my blog and learn new skill about personal | psychic | spiritual development. our team always ready to help you here. You can follow me on below platform

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here