इन वजहों से प्राचीन काल में एक सामान्य लड़की को विषकन्या बना दिया जाता था – secret and reason

0
6
विषकन्या

विषकन्या यानि poison girl क्या आज के ज़माने में ये संभव है की किसी इन्सान को विषयुक्त यानि जहरीला बनाया जा सके. पुराने समय में खुबसूरत लडकिया जो राजा महाराजा द्वारा अपने भोग विलास के काम में लायी जाती थी और समय आने पर दुसरे राजाओ को गिफ्ट के तौर पर भी भेजी जाती थी. इनकी वजह थी आपसी षड़यंत्र अगर दुश्मन आपसे ज्यादा शक्तिशाली है तो उसे लडकिया भेज दो और उसके जरिये उसे मरवा दो. इन खास लडकियों को बचपन से ही विष की मात्रा दी जाती थी ताकि इनके शरीर में विष बन सके. आइये जानते है poison girl से जुड़े secret, mystery, और फैक्ट के बारे में विस्तार से.

विषकन्याविषकन्या और विषपुरुष का जिक्र हम बचपन की कहानियो में सुनते आ रहे है। पुराने टाइम में राजा महाराजा अपने से शक्तिशाली लोगो को छल कपट से अपने रास्ते से हटाने के लिए सुन्दर कन्या उनके पास भेजते थे जिसके रूपजाल में फंस कर वो उसे अपने साथ ले जाते थे। ये विषकन्या मौका मिलते ही अपना जहर उनके शरीर में पहुंचा देती थी। जिससे किसी को उन पर शक भी नहीं होता था। कैसे एक सुंदर कन्या इतनी जहरीली हो सकती है। विषकन्या क्या होती है कैसे बनती है आइये जानते है ऐसी ही कुछ बातो को।

विषकन्या क्या होती है :

बचपन में हम राजा महाराजाओ की कहानी सुनते तो उसमे एक ऐसी नायिका या नायक के बारे में सुनने को मिलता था जो अकेले ही राजा या किसी बड़े पद के व्यक्ति को आसानी से रास्ते से हटा देते थे। विषकन्या एक ऐसी लड़की होती है जो अपने अंदर poisonको धारण कर रखती है। लम्बे समय से विष की मात्रा धीरे धीरे लेने से उसका शरीर इस विष को धारण करने लायक बन जाता था और फिर वो किसी को भी उस विष के प्रभाव से ख़त्म कर देती थी।

vishkanya एक साधारण कन्या ही होती थी जो एक long training के बाद विषकन्या बनती थी इन्हे एक weapon के रूप में राजा महाराजा अपने काम के लिए इस्तेमाल करते थे।

पढ़े : तुल्पा एक ऐसी नकारात्मक ऊर्जा जो बन जाती है परछाई

विषकन्या कैसे बनती है :

विषकन्या बनने का गुण कुछ बच्चो में बचपन से ही होता था। नगरवधू की निगरानी में इन बच्चो को एक ऐसे जहर की डोज दी जाती थी जिसका प्रभाव धीरे धीरे चढ़े। उन बच्चो का शरीर धीमे जहर को धीरे धीरे स्वीकार करने लगता था और फिर उनके अंदर भी जहर बनना शुरू हो जाता था। यहाँ तक की उनके जहर से साँप भी मर सकते थे फिर इंसान की बिसात ही क्या।

vishkanya या vishpurush की पहचान करना बेहद मुश्किल होता था क्यों की ऊपर से कोई इनके और साधारण मनुष्य में फर्क पता नहीं कर सकता था। इस वजह से ये अपने आसपास के लोगो में घुल मिल जाते थे और मौका देखते ही अपने काम को कर वहा से निकल लेते थे। इन्हे सिर्फ जहरीला ही नहीं बनाया जाता था बल्कि हर तरह की ट्रेनिंग दी जाती थी फिर चाहे वो दुसरो को रिझाने के हो या फिर शस्त्र विद्या हो ये हर तरह की कला में माहिर बन जाते थे।

क्यों बनती है विषकन्या :

दरअसल पुराने समय में किसी शत्रु को ख़त्म करने के लिए कई तरीके अपनाये जाते थे जिसमे युद्ध सबसे बड़ा माध्यम था लेकिन तब क्या होगा अगर शत्रु आपसे ज्यादा बलशाली हो और आपके पास उससे लड़ने के लिए सही बल भी न हो। ऐसी स्थिति में विषकन्या या विषपुरुष काम आते थे। ये उन लोगो के साथ मिल जाते थे जिन्हे ख़त्म करना होता था।

अगर पुरुष होता था तो नौकर बन कर राजा की सेवा करता और अगर कन्या होती थी तो राजा का मनोरंजन करती थी जिससे की किसी को कोई शक भी नहीं होता था। सही मौके की तलाश में रहते इन लोगो को बस एक मौका चाहिए जिससे ये चूकते नहीं थे। एक तरह से ये राजा महाराजा के गुप्त हथियार का एक हिस्सा ही थे।

पढ़े : बनाना चाहते है अपने काम को और भी रोचक तो समझे इन 3 बातो को

जन्म से जुड़ा है विषकन्या बनने का राज :

कुछ बच्चो के जन्म के समय जब लोगो को पता चलता की शादी के वक़्त जिससे इस बच्चे की शादी होगी वो मर जाएगा तो लोग ये सोच कर की किसी की जिंदगी ख़त्म करने की बजाय इसे शाही सेवा में लगा दिया जाए। यही सोच कर लोगो अपने बच्चे राजा को सौंप देते थे जो नगरवधू के पास रहकर हर तरह की कला सीखते। साथ ही इन्हे जहरीला भी बनाया जाता था। इसके लिए उनके शरीर में ऐसे जहर को पहुँचाया जाता था जो कम जहरीला हो।

धीरे धीरे जब इस जहर को शरीर एक्सेप्ट कर लेता था तब जहर की मात्रा को बढ़ा दिया जाता था इससे बच्चे का शरीर इतना जहरीला हो जाता था की उसकी लार और नाख़ून काटने से भी दूसरे के शरीर में जहर फ़ैल जाता था और वो मर जाता था। कल्किपुराण के अनुसार उस काल में जब किसी घर में पंडित किसी बच्चे को विषकन्या योग से पीड़ित बता दिया करते थे तो उस बच्चे को परिवार से अलग कर राजा की सेवा में भेज दिया जाता था।

विषकन्या और महाराज का आपसी स्वार्थ :

विषकन्या हो या विषपुरुष दोनों का ही राजा अपने स्वार्थ के लिए इस्तेमाल करते थे। इसके जरिये वो उन लोगो को आसानी से ख़त्म करवा देते थे जो उनसे ज्यादा शक्तिशाली थे और सीधे टकराव नहीं कर सकते थे। विषकन्या या विषपुरुष के इस्तेमाल से वो आसानी से दुसरो को अपने रास्ते से हटवा देते थे और किसी को शक भी नहीं होता था की कोई किसी को मरवाने वाला है।

पढ़े : मानसिक शक्तियों को विकसित करने के सरल अभ्यास

उपहार में भेजी जाती थी विषकन्या :

चन्द्रगुप्त मौर्य काल ( 321 – 185 बी सी ) में लिखे गए एक महाग्रंथ “मुद्राराक्षस” में विषकन्या का जिक्र है जिसे नगरवधू राजा के लिए खुद तैयार करती थी। ये नगरवधू शाही वेश्या होती थी। राजा महाराजा के निजी कार्यो की पूर्ति के लिए ये सुन्दर कन्याओ को विषकन्या बनाती थी।

एक अन्य जगह कौटिल्य के अर्थशास्त्र में वर्णन किया गया है की चन्द्रगुप्त मौर्य के दुश्मन और तत्कालीन राजा नन्द के महामंत्री अमात्य राक्षस ने छल से नगरवधू की तरफ से भेजी गई भेंट को राज-दरबार में पेश किया गया। चन्द्रगुप्त उपहार में इस सुंदरी को पाकर खुश हो गए, लेकिन तभी चाणक्य ने कहा की चन्द्रगुप्त के बजाय ये उपहार उनके मित्र राजा पर्वतक को दिया जाना चाहिए क्यों की उन्होंने संकट के समाय राजा की मदद की।

जब राजा पर्वतक रहस्यमयी तरीके से दूसरे दिन मरे मिले और कन्या गायब तक चाणक्य ने चन्द्रगुप्त को ये राज जाहिर किया की ये विषकन्या थी जो उसे मारने के लिए भेजी गई थी।

आज के टाइम विषकन्याओ का इस्तेमाल

आज के दौर में विषकन्या तो नहीं है लेकिन उनके जैसे कर्म करने वाले अनेको मिल जायेंगे। विषकन्या राजा के प्रति वफादार होती थी और दुसरो को राजा के इशारे पर बहला फुसला कर तैयार करती थी। आज के दौर में भी कुछ ऐसा ही है। पाकिस्तान और चीन ये देश पड़ोसी देशो की जासूसी करने के लिए खूबसूरत लड़कियों को उनके पास उनसे नजदीकियां बढ़ाने के लिए प्रेरित करते है। और फिर उनसे उनके देश के सभी गुप्त राज खुलवा लेते थे।

इसे honeytrap कहते है। क्यों की honey मतलब खूबसूरत और trap मतलब जाल। खूबसूरती का जाल बिछा कर कुछ देश अपनी लड़कियों को दूसरे देशो में भेज देते है और इन्हे हर तरह की ट्रेनिंग देकर इस लायक बनाते है की ये हर तरह की परिस्थिति में खुद को संभाल सके।

पढ़े : तो क्या अकबर के पास जिन्नातो की फ़ौज थी ?

बाबा राम रहीम की विषकन्या :

सही सुना आपने जाँच में जब इस बात का खुलासा हुआ की हनीप्रीत खूबसूरत लड़कियों को राम रहीम के लिए तैयार करती थी इसके अलावा वो सोशल मीडिया के माध्यम से स्पेशल नाईट के लिए लोगो को बुलाती थी जिसमे राम रहीम अपने लिए लड़की का चुनाव करता था। हनी-प्रीत भी राम राम की विषकन्या से कम नहीं थी। जिस लड़की पर राम रहीम का दिल आ जाता था वो उसे किसी भी तरह तैयार कर लेती थी।

हनीप्रीत राम रहीम की वफादार थी इसलिए वो उसके हर शौक और राज से वाकिफ थी और हो सकता हो हनीप्रीत के गायब होने का राज यही हो। खैर ये बात तो है की आज भी विषकन्या लोगो के स्वार्थ के लिए काम कर रही है फर्क सिर्फ इतना है की आज के दौर में विषकन्या जहरीली नहीं उनके काम जहरीले है। लोग भी अजीब है जो अब हनीप्रीत को गूगल पर सर्च कर रहे है और लिख रहे है की हनीप्रीत कित मिलगी। खैर हनीप्रीत तो गई।

दोस्तों विषकन्या पर लिखी गई आज की पोस्ट अलग अलग आंकड़ों पर आधारित है इसलिए अगर आपके पास भी इससे जुडी कोई दिलचस्प जानकारी है तो आप इसे हमारे साथ शेयर कर सकते है। पोस्ट अच्छी लगे तो इसे शेयर करना ना भूले।

Never miss an update subscribe us

* indicates required

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.