ऑनलाइन सुसाइड गेम क्या वाकई आपकी जान ले सकते है ?

0
5
ऑनलाइन सुसाइड गेम से बचाव के तरीके और सावधानिया

ब्लू वेल एक ऑनलाइन सुसाइड गेम है जिसके बारे में बताया जा रहा है की ये अब तक कई युवा की जान ले चूका है। आज की पोस्ट में हम बात करने जा रहे है ऐसे एक गेम की जो आपकी भावनाओ के साथ खेलता है और धीरे धीरे आपको डिप्रेशन में ले जाता है। अंत में सुसाइड करने को मजबूर कर देता है। क्या वाकई ये संभव है की एक गेम आपको अवसाद में ले जाकर सुसाइड करने को मजबूर कर दे। बताया जा रहा है की अमेरिका में हर साल इस गेम से कई बच्चो की जाने जा चुकी है। ऑनलाइन सुसाइड गेम क्या वाकई में आपकी जान ले सकते है ?ऑनलाइन सुसाइड गेम से बचाव के तरीके और सावधानिया
ब्लू वेल अकेला ऐसा गेम नहीं है इससे पहले भी ऐसे कई गेम और म्यूजिक से जुड़े केस सामने आ चुके है जिनसे आत्महत्या जैसी स्थिति बन गई। सिर्फ गेम ही नहीं म्यूजिक भी है जिससे किसी भी इंसान को पूरी तरह कण्ट्रोल किया जा सकता है। इसके पीछे की साइकोलॉजी हमें वो बताती है जो सुनने में जितना डरावना है उससे भी ज्यादा इससे छुटकारा पाना जरूरी है

ऑनलाइन सुसाइड गेम और मनोविज्ञान :

बदलते वक़्त के साथ मार्केट में गेम एक चैलेंज का रूप ले रहे है एक वक़्त था जब लोग टाइमपास करने के लिए गेम खेलते थे और खुद को रिफ्रेश महसूस करते थे लेकिन अब सब बदल गया है। ऑनलाइन गेम हिंसक और एडवेंचर से भरे है जिनमे आप क्या करते है दुसरो को बता कर उन्हें अच्छा साबित करना होता है। इसके पीछे एक साइकोलॉजी है जिसके अनुसार जिनके माता पिता नौकरी करने वाले या ज्यादा बिजी रहने वाले होते है वो समाज और दोस्तों से कट कर अलग थलग पड़ जाते है।

उनके माता पिता को लगता है की online game खेलने से वो उनके सामने और घर पर खुश रहेंगे लेकिन इसके विपरित युवा इस तरह के गेम खेलते खेलते इतना एडिक्ट हो जाते है की सिर्फ गेम ही इनकी दुनिया बन जाता है और वो इसमें खुश रहते है। लेकिन असल जिंदगी में जब उन्हें थोड़ा सा भी डांट दिया जाता है तो वो बर्दास्त नहीं कर पाते है और गेम को जुनूनी तरीके से खेलने लगते है। इसी का फायदा उठा कर और मशहूर होने के लिए कुछ गेम कंपनी इस तरह के टास्क रखती है की इन्हे करने और ना करने दोनों ही तरीके से आपका होता है। कैसे ? आइये जानते है।

पढ़िए : black magic का आपके अपनों पर कितना बुरा effect हो सकता है

टॉप 5 ऑनलाइन सुसाइड गेम :

दुनिया भर के इकठ्ठा किये गए आंकड़ों में 5 ऐसे गेम का चुनाव किया गया है जो पूरी तरह से मनोविज्ञान से जुड़े है और आपको दुसरो से अलग कुछ कर दिखाने के चक्कर में तनाव में ले जाते है और अंत में सुसाइड या Attempt to sucide जैसी स्थिति बना देते है। ये गेम निम्न है :

  1. Blue whale sucide game- ब्लु वेल सुसाइड गेम नहीं
  2. the pass out game challenge – पास आउट चैलेंज
  3. the ice and salt challenge game – साल्ट और नमक गेम
  4. The fire challenge – द फायर चैलेंज
  5. the cutting challenge game – द कटिंग चैलेंज

most common thing :

इन सबमे एक बात कॉमन मिलेगी और वो ये की इन सभी में आपको उकसाया जाता है की आप कुछ ऐसा करे जो नार्मल लाइफ में मुश्किल और जोखिम भरा है। पिछले 4 साल में इंस्टाग्राम पर लोग ज्यादा एक्टिव हुए है और ऐसी फोटो शेयर की गई जिसमे किसी ऊँची इमारत से लटकते हुए पोज़ दिए गए है। जब इन लोगो को लाइक और शेयर मिलता है तब दूसरे पर्सन में भी एक मानसिकता बनती है की मुझे इससे भी ज्यादा खतरनाक करना है। और यही कई लोगो की मौत की वजह भी बन चूका है। इसलिए इस तरह के गेम भी इसी तरह की भावना पर आधारित है।

पढ़े : बीते कल की घटनाओ और पुनर्जन्म को याद करने का अभ्यास

Blue whale online sucide game :

blue whale sucide game hindiblue whale online game एक ऐसा गेम है जिसे पूरी तरह इंसानी मनोविज्ञान को समझकर बनाया गया है हालाँकि इसे बनाना सर्फ एक सनक थी और लोगो की हो रही मौत से उसे कोई फर्क कोई अफ़सोस नहीं है। असल में उसका कहना था की जो लोग अलग थलग दुनिया से कटे हुए थे वही लोग उसका शिकार थे क्यों की वो लोग समाज में किसी तरह का कोई सहयोग नहीं दे रहे थे।

इस गेम की सभी टास्क आपके भय और घबराहट से जुड़ी है जैसे की रात को एक खास टाइम पर ही उठना, शरीर पर चोट के खास निशान बनाना, डरावनी मूवी अकेले अकेले देखना और छत की मुंडेर पर चलना। ये सभी टास्क दिन पर दिन खतरनाक होती जाती थी और अंत में खेलने वाला अवसाद में आकर सुसाइड कर लेता था या फिर इन टास्क को पूरा करते करते उसकी मौत हो जाती थी।

पढ़े : इन बदलाव को पहचान कर आप भी ऊर्जा को चोरी होने से बचा सकते है

पास आउट चैलेंज :

ये एक चोकिंग गेम है मतलब मर्जी के बगैर भी रोक देना। ये गेम बहुत खतरनाक है जिसमे हमें मर्जी के बगैर भी गला दबाए रखना होता है। जिसका सीधा सा मतलब है मौत। इस गेम में युवा मजे मजे में एक दूसरे का गला दबाने लगे यहाँ तक की दिमाग में ऑक्सीजन का प्रवाह रुक जाने के बावजूद भी यही वजह है की अमेरिका में अब तक कई युवा इस गेम की वजह से 250 से 1000 जाने जा चुकी है।

द साल्ट एंड आइस गेम :

ये गेम भी बिलकुल ऐसा ही है जिसमे गेम की टास्क में टीन ( युवा ) को पहले स्किन पर नमक रखने को कहा जाता है फिर उस पर बर्फ और ऐसा करना बहुत खतरनाक होता है क्यों की विज्ञान के अनुसार ऐसा करने से बर्फ का तापमान बेहद तेजी से -25 डिग्री से भी निचे चला जाता है और इसकी वजह से बेहद ठन्डे प्रदेश में होने वाली खतरनाक स्किन बर्न और फ्रॉस्ट-बाइट्स जैसी बीमारिया हो सकती है। ये सब किसलिए सोशल मीडिया पर ये दिखाने के लिए की आपने कितना बेहतर किया है।

पढ़े : क्या वाकई मेन्टलिज़्म मानसिक शक्ति है या सिर्फ एक जादूगरी का खेल

द फायर चैलेंज :

fire challenge gameकुछ समय पहले में सोशल मीडिया पर एक वीडियो देख रहा था इसमें कुछ युवा बच्चे पहले तो अपने शरीर पर कुछ स्प्रे करते है फिर उस पर आग लगा देते है। पहले पहल मुझे ये एक मौज मस्ती जैसा लगा फिर जब इसके बारे में गूगल पर सर्च किया तो कई हैरान कर देने वाली बाते सामने आयी।

danger game task

ये सब एक गेम का हिस्सा था जिसमे शरीर पर ज्वलनशील स्प्रे कर आग लगाने का वीडियो बनाने की टास्क होती थी। गेम के टास्क में आपको दुसरो से ज्यादा समय तक सवेंदनशील हिस्सों पर आग लगानी होती है। अगर आप दूसरे से ज्यादा समय तक अपने शरीर पर आग लगाए रखने में कामयाब होते है तो आप जीत जाते है।

न्यूयॉर्क में 15 साल के बच्चे ने अपनी छाती पर अलकोहाल छिड़क कर आग लगा ली और मर गया। जब इस तरह की हरकत करने के बाद लोगो से पूछा जाता है तो उनका जवाब होता है की दुसरो से बेहतर साबित करने के लिए या फिर उन्हें पता नहीं वो ऐसा क्यों कर रहे है। आखिर क्यों ! ज्यादा समय तक शरीर पर आग लगे रहने से शरीर झुलसने की नौबत भी आ जाती है और कई बार हालत बहुत ज्यादा सीरियस भी बन जाती है। इसलिए इस गेम को भी सुसाइड गेम का ही नाम दिया जाता है।

पढ़े : घूमने वाले शक्ति चक्र पर त्राटक करने का अभ्यास और उसके फायदे

द कटिंग गेम :

ये एक ऐसा गेम है जिसमे युवा को बहला फुसला कर टास्क के नाम पर अपने शरीर पर जगह जगह कट लगाने को प्रेरित किया जाता है। सिर्फ यही नहीं इसके लिए ऑनलाइन ग्रुप भी थे जिसमे सभी को एक दूसरे से बेहतर करने के लिए उकसाया जाता है। खुद को जितनी ज्यादा चोट पहुंचा सकते है हम उतने ही बहादुर होंगे ये इस गेम में सिखाया जाता है जिसके कारण युवा खुद को बेहद गंभीर तरीके से चोट पहुंचा लेते है और अवसाद के चलते अपनी जान दे देते है। जो ये टास्क करते वो खुद को चोट पहुंचा कर और जो नहीं कर पाते वो अवसाद ले चलते मर जाते है। अक्सर घरवाले इस बात पर तब गौर करते है जब मामला हाथ से निकल जाता है।

ऑनलाइन सुसाइड गेम से कैसे बचे :

इस तरह के गेम से बचने के लिए आपको सबसे पहले ऐसे कुछ बदलावों को पहचानना पड़ेगा जो ये दर्शाते है की आप पर ऑनलाइन गेम का साइड इफ़ेक्ट पड़ रहा है और आप खुद को अवसाद में महसूस करने लगे है। कुछ बाते और बदलाव जिनसे आपको आसानी से इस बात का पता चल जायेगा।

  1. सबसे पहली बात क्या आप खुद को बार बार गेम की तरफ खींचता हुआ महसूस करते है ?
  2. क्या आपका मन बार बार उस गेम को खेलने और टास्क को हर हाल में पूरा करने का करता है दिनभर।
  3. गेम खेलते खेलते आप अपने आसपास की घटनाओ को महसूस नहीं कर पा रहे है।
  4. क्या गेम ओवर होने के बाद आप हद से ज्यादा खुद को निराश और तनाव से भरा हुआ महसूस करने लगे है।
  5. अगर आप भी ऑनलाइन गेम को टाइमपास नहीं चैलेंज मान कर खेलने लगे है तो सावधान हो जाइये क्यों की आप भी ऑनलाइन सुसाइड गेम की पकड़ में आ चुके है।

पढ़े : छिपे हुए तनाव के 6 मुख्य लक्षण जिन्हे आपको समझना चाहिए

ऑनलाइन सुसाइड गेम से बचाव के तरीके और सावधानिया

  1. सबसे पहले तो ये समझ ले की ये महज एक गेम है जो मूड रिफ्रेश करने के काम आता है और इसका हमारी जिंदगी और इज्जत से कोई वास्ता नहीं है।
  2. जब भी गेम ओवर हो और आपके मन में आये की एक बार और खेला जाए तो इसके बजाय टीवी देखने लगे या फिर बाहर घूमने चले जाए।
  3. मूड रिफ्रेश करने के सबसे अच्छा माध्यम है टॉम एंड जेरी, oggy एंड कॉकरोच जैसे कार्टून ना की ऑनलाइन गेम्स यहाँ तक की ऐसे प्रोग्राम और फिल्म देखने से भी बचे जिन्हे देखने के दौरान आप खुद को उनके जैसा महसूस करने लगते है।

इन बातो का ख्याल रख आप भी इससे बच सकते है। और हां एक खास बात और कभी भी गेम और लाइफ को चैलेंज की तरह ना ले। जिंदगी में निरंतर प्रयास करते रहे कामयाब जरूर होंगे।

जरूर पढ़े : क्या हम खुद को एक रोबोट की तरह बना सकते है ?

अंतिम शब्द :

ऊपर जितने भी गेम का जिक्र है उसमे एक बात कॉमन है की आपकी भावनाओ के साथ खेल कर आपको अवसाद में लाया जा रहा है। इसलिए इससे पहले की आप भी किसी तरह के गेम को खेलते खेलते खुद को निराश, गुस्से से भरा हुआ और गेम के प्रति खुद को जुनूनी महसूस करने लगे तो इस तरह की स्थिति से जितना जल्दी हो सके बाहर निकलने की कोशिश करे। गूगल प्ले स्टोर पर ऐसे कई एडवेंचर गेम है जिन्हे खेलते खेलते हम कब अवसाद में चले जाते है पता भी नहीं चलता है। जहा तक हो सके इस तरह के गेम से बचे जो आपको हिंसक बनाते है।

Never miss an update subscribe us

* indicates required

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.