कम समय में कुंडलिनी जागरण की सर्वोत्तम क्रिया योग की विधि जिसके अनुभव अलौकिक है

9
14
सरल कुण्डलिनी जागरण विधि

kundalini jagran kriya yog vidhi क्या वाकई कुण्डलिनी शक्ति इतनी तीव्र है की साधक को अलौकिक बना दे। kundalini shakti in hindi में आज हम बात करने वाले है कुण्डलिनी जागरण के बारे में इस बारे में नेट पर कई kundalini jagran book in hindi pdf आप पढ़ भी सकते है। kundalini jagran vidhi in hindi और kundalini jagran ke symptom in hindi क्या क्या हो सकते है। kundalini jagran kriya yog vidhi in hindi है जिसके माध्यम से हम kundalini jagran कर सकते है। आइये बात करते है  kundalini power activation in hindi complete process के बारे में.

kundalini jagran kriya yog
कुंडलिनी शब्द सुनते ही सबसे पहले हमारा ध्यान shaktiman awakening kundalini hindi serial की तरफ चला जाता है जहा पर एक आम इंसान yoga and meditation power पर नियंत्रण पा कर मानवता का शक्तिशाली रक्षक बन जाता है। कुंडलिनी शब्द हम अच्छी तरह परिचित है और इसका मतलब किसी शक्ति से निकालते है जो हमें असीम शक्ति का मालिक बना देती है। हर कोई कुंडलिनी जाग्रत करना चाहता है पर ऐसा संभव नहीं ! क्यों की हर कोई इसका सही और सटीक मार्ग नहीं बता सकता। फिर भी तंत्र मार्ग और क्रिया योग में सरल कुण्डलिनी जागरण विधि का वर्णन किया है। आज की पोस्ट क्रिया योग के माध्यम से कुंडलिनी जागरण पर आधारित है।

kundalini jagran kriya yog vidhi :

बहुत से लोग आज के समय में kundalini shakti activate करना चाहते है। बहुत से सिद्ध मुनि kundalini jagran mantra विधि को जानते है मगर सिर्फ इस लिए इसे गुप्त रखते है क्यों की उनकी नजर में हम इसे ग्रहण करने के लायक नहीं होते है कुण्डलिनी को जाग्रत करने से पहले शरीर का ऊर्जामय होना जरुरी है। तभी हमारा शरीर इस ऊर्जा के कम्पन को महसूस कर सकता है। kundalini jagran kriya yog vidhi का जिक्र किया गया है जिससे हम saral kundalini dhyan कर सकते है।

ये क्रिया ना सिर्फ आपकी कुण्डलिनी को सहस्रार तक ले जाती है बल्कि आपके तनाव को दूर कर आपको स्वास्थ और सुखमय जीवन जीने का अहसास देती है। क्रिया योग में शरीर को शुद्ध किया जाता है। जिससे की ऊर्जा का प्रवाह पुरे शरीर में हो सके। इस kundalini jagran kriya yog vidhi में हम deepest state of meditation में पहुँच सकते है। kundalini jagran kriya yog vidhi 3 भागो में विभाजित है जिससे kundalini jagran in easy 3 steps में पूरा किया जाता है।

1. ध्यान को सांसो पर केंद्रित करना :

ध्यान को सांसो पर केंद्रित ( ध्यान की स्वांस ध्यान की विधि में बताया जा चूका है ) करते हुए मन में विचार करे की साँस जब अंदर ली जाती है तो ये आपके मेरुदण्ड से होते हुए निचे के छोर तक जा रही है। ये विचार आपको साँस अंदर लेते वक़्त करना है। यानि इस दौरान आपके शरीर में ऊर्जा का प्रवाह साँस के साथ ऊपर से मेरुदण्ड के निचले सिरे तक पहुँचता है।

सांसो को बाहर छोड़ते हुए मन में इस विचार को बनाए की आपकी साँस के साथ ऊर्जा का प्रवाह निचे से आपके मस्तिष्क तक हो रहा है। इसमें ऊर्जा का प्रवाह निचे से ऊपर होने लगता है।

ध्यान दे की आपको इसमें किसी तरह का मानसिक दबाव नहीं बनाना है आपको सिर्फ भावना देनी है सांसो के प्रवाह की। साँस आपके प्राण की मुख्य ऊर्जा है जिसके कारण आप जहां पर इसे केंद्रित करते है वही ऊर्जा का प्रवाह होने लगता है।

पढ़े : ध्यान में आने वाली मुख्य समस्या और उनसे छुटकारा पाने के उपाय

कुछ दिन इस अभ्यास को करते रहने से आपको शुरू में रेंगने का अहसास होगा जो कुछ नहीं बस आपके शरीर में बढ़ती ऊर्जा और उसके गति को दिखाता है। इसके कुछ दिन बाद रेंगने के बजाय शांत और सुखमय अहसास होगा।

2. सांसो को शरीर में निचे की और प्रवाहित करना :

क्रिया योग की सरल कुण्डलिनी जागरण विधि का दूसरा चरण है सांसो को शरीर में रोके रखना और उन्हें अंदर गतिशील बनाना. इसके दूसरे चरण में जब सांसो को छोड़ा जाता है तब साँस आपके मस्तिष्क के ऊपरी हिस्से से आपके तीसरे नेत्र तक पहुंचनी चाहिए।

कुण्डलिनी के इस चरण में ऊर्जा का प्रवाह आपके सहस्रार फिर आपकी तीसरी आँख और इससे निचे की ओर होना चाहिए चक्र की स्थिति के अनुसार ऊर्जा को प्रवाहित करना चाहिए। अपनी सांसो को सीने में रोके और दोबारा सांसे लेते वक़्त पहली क्रिया दोहराए।

पढ़े : क्या वाकई वशीकरण और काला जादू सच में होता है

3. ऊर्जा को जाग्रत करना :

ऊर्जा को जाग्रत करने से हमारा मतलब है शरीर में ऊर्जा के प्रवाह को इस तरह बढ़ा लेना जैसा अचानक शक्तिपात के दौरान ऊर्जा बढ़ती है। शरीर के अंदर छुपी ऊर्जा को जाग्रत करने के लिए आपको किसी सिद्ध की आवश्यकता होती है जो शक्तिपात द्वारा ऊर्जा को बढता है और अंदर छिपी ऊर्जा को जाग्रत करता है।

ये हम मंत्र के उच्चारण से, शक्तिपात से, और ऊर्जा को केंद्रित कर के आराम से कर सकते है। ऊर्जा का जागरण kundalini jagran experience में बहुत अहम् भूमिका निभाता है।

शक्तिपात के लिए जिन लोगो से आपका लगाव होता है या फिर आपके स्नेही आपका शक्तिपात कर सकते है। इसके लिए आपके बुजुर्ग काफी हद तक मदद कर सकते है। इसके बारे जानने के लिए पढ़े शक्तिपात की पोस्ट।

ये अवस्था अगर आपको परेशान करती है तो आप शांति से बैठ कर दोनों चरण को दोहराते रहिये।

कुंडलिनी जागरण में सहायक इन पोस्ट को पढना ना भूले

  1. सप्त चक्र के मध्य ऊर्जा स्थानांतरण और व्यव्हार में बदलाव को समझना है आसान
  2. सप्त चक्र और व्यक्तित्व से जुड़ी ये खास बाते आपको हैरान कर सकती है
  3. सहस्रार चक्र जागरण के मुख्य लक्षण जिन्हें ध्यान देना चाहिए
  4. ध्यान के लिए महत्वपूर्ण कदम जिनसे होते है ध्यान में अच्छे अनुभव
  5. घर बैठे tulpa जैसी super power जाग्रत करने का सबसे सरल लेकिन प्रभावी अभ्यास

कुंडलिनी जागरण की क्रिया योग विधि – conclusion

kundalini jagran kriya yog vidhi आपके शरीर की आंतरिक क्रिया है जिसे आप क्रिया योग से जाग्रत कर सकते है। मंत्र और तंत्र की विधि अगले पोस्ट में बताई जाएगी। सरल कुण्डलिनी जागरण सरल विधि में बाहर से आपको सिर्फ शक्तिपात करने वाले माध्यम की आवश्यकता होती है। गुरु मंत्र लिया हुआ है तो सिर्फ नाम मात्र से आप उस ऊर्जा को जाग्रत कर सकते है। अगर नहीं तो अपने ईष्ट का स्मरण करते रहिये।

ध्यान दे : आज की पोस्ट इंग्लिश भाषा की पोस्ट का हिंदी में रूपांतरण है क्रिया योग में इसका वर्णन भी है लेकिन करने से पहले जानकर की सहायता जरूर ले ले।
source : books, web, article.

Never miss an update subscribe us

* indicates required

9 COMMENTS

    • Dinesh ji kundalini jagran ka mera koi interest nahi na hi anubhav h par kundalini jagran k alag alag tariko ko sabke samne lana mujhe achha laga isliye mene tantra mantra or kriya yog ka jikra kiya h

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.