आत्माए किस तरह अपने कातिल को सजा दिलाती है लोगो के माध्यम से – लन्दन में घटी एक घटना

2

हम आज विज्ञान युग में रहते है जहाँ पर भूत प्रेत और आत्माए जैसी चीजो पर विश्वास नहीं किया जाता है. लेकिन कुछ कहानिया / किस्से ऐसे निकल आते है की हमें न चाहते हुए भी मानना पड़ता है की विज्ञान जितना भी तरक्की कर ले आत्माओ को समझने में उसे अभी भी वक़्त लगने वाला है. आज की कहानी एक किस्से पर आधारित है. ये कितनी सच है ये तो पता नहीं लेकिन, ये कहानी हमें बताती है की आत्माए भी किसी न किसी के सपने में आकर अपनी हत्या का खुलासा करती है ताकि उन्हें न्याय मिल सके. ये कहानी है एक आत्मा की जिसने अपनी दोस्त के सपनो के माध्यम से अपनी हत्या का खुलासा किया और कातिल को सजा दिलाई.

हत्या का खुलासा – आत्माओ की सच्ची कहानिया

अगर आप आत्माओ की इस तरह की कहानी में विश्वास नहीं करते है तो इसे सिर्फ कहानी समझ समझ कर एन्जॉय करे. ये कहानी 5 June, 1957 London में घटी एक घटना पर आधारित है. एक मृत आत्मा ने अपनी सहेली के सपनो में बार बार आकर अपनी हत्या के बारे में खुलासा किया है और उसके जरिये एक हत्याकांड का खुलासा हुआ जिसकी वजह से दोषी को सजा मिली.

हत्या का खुलासा – आत्माओ की सच्ची कहानिया

लन्दन स्थित अपने घर में जॉन किसी के रोने की आवाज सुन कर उठ गए. उन्होंने देखा की उनकी बीवी बिस्तर से गायब थी. जो रोने की आवाज वो सुन रहे थे वो उनकी पत्नी की थी. किसी अनहोनी की शंका के चलते बाहर आये तो देखा की हॉल में उनकी वाइफ बैठी रो रही थी.

प्यार से उसके कंधे पर हाथ रख कर जॉन ने पूछा

“क्या बात है लोरी?”

लेकिन वो बार बार सिर्फ रोये जा रही थी. उसकी हालत देख जॉन भी विचलित हो गया और बोला

“बिना कुछ जाने में तुम्हारी मदद नहीं कर पाउँगा. अब बता भी दो”

बड़ी मुश्किल से लोरी ने सर को ऊपर किया और जॉन को देखते हुए बोली “मेरी best फ्रेंड मिकी….” आगे बोलते हुए उसका गला रुंध गया.

जॉन जानता था की ये दोनों गहरी मित्र है. किसी अज्ञात आशंका का अनुभव करते हुए उसने पूछा क्या वो सही है ?

“वह शायद अब जीवित नहीं है”

लोरी के इतना बोलते ही जॉन ने हैरत में कहाँ ये शायद का क्या मतलब है?

“सपने में मेने उसकी मृत देह देखी है.”

सपने की बात सुनकर जॉन को राहत मिली. उसने उसे तसल्ली दी की ये सिर्फ एक सपना है इसलिए परेशान मत हो.

सपने में होने लगा हत्या का खुलासा

उसी रात जैसे किसी ने लोरी को सपने में पुकारा. ये आवाज उसके कानो में इस तरह गूंज रही थी जैसे किसी गहरे कुए से आवाज आ रही हो. उस आवाज को सुनकर लोरी अपने बिस्तर से खड़ी हो गयी. सामने उसने मिकी को पाया. ख़ुशी से उसने उसका नाम पुकारा “मिकी”

अचानक उसे याद आया की वो अपने घर थी तो फिर मिकी के घर कैसे आ गयी? उसने मिकी से पूछा तो उसने कहा की वो उसके बुलाने पर आई है. जिस समय वो नींद में थी उस समय मिकी ने उसे बुलाया जिसकी वजह से वो वहां पहुँच गयी. लोरी थोडा हैरत में पड़ गयी फिर उसने मिकी से पूछा की उसकी आवाज इतनी बदल कैसे गई ऐसा लग रहा है जैसे कोई गहरे कुए से बोल रहा है. मिकी ने बताया की वो इस समय उसके संसार में नहीं है. लोरी ने उसे सब सच बताने का कहा तो उसकी रुलाई फूट पड़ी.

“मेरी बात का विश्वास करो लोरी अब में इस दुनिया में नहीं रही.”

इतना कह कर मिकी एक दीवार में समां गयी. लोरी की आँखे भय से चोडी हो गई. उसको अब सामने मिकी का शव दिख रहा था. उसकी चीख निकल पड़ी.

चीख सुनकर जॉन उठ खड़ा हुआ. उसके पास ही लोरी चिल्ला रही थी. जॉन ने उसे सपने से जगाया और पूछा की क्यों रो रही हो? क्या कोई डरावना सपना देख लिया है ?

लोरी ने रोते हुए कहा “जॉन मेरी बातो को हलके में मत लो” सच में मिकी की हत्या कर दी है. जॉन ने उसे वहम बताया और उसे कही घुमने की बात कही ताकि उसका मन हल्का हो जाए. उसने सलाह पर अमल किया और बाहर घुमने निकल गयी. लेकिन फिर भी रात के सपने ने उसका पीछा नहीं छोड़ा.

क्या वाकई कुछ था – हत्या का खुलासा

जब लोरी का दिल नहीं माना तो वो पुलिस स्टेशन चली गयी. थाना प्रभारी ने उसे आने का कारण पूछा.  लोरी ने उसे सपने वाली सारी बाते बता दी तो उस पुलिस अधिकारी ने उसे पूछा “क्या उसकी सहेली का नाम मिकी मेरिड है?“

लोरी ने बताया हाँ. फिर उस पुलिस वाले ने पूछा की उसने sucide किया है मर्डर हुआ है? तब लोरी ने उसे कहा की वो नहीं जानती लेकिन उसे बस उसके मरने से जुड़े सपने लगातार आ रहे है. कुछ देर खामोश रहने के बाद उसने मिकी के बारे में बताना शुरू किया.

मिकी और लोरी दोनों की दोस्ती 7 साल पुरानी थी. दोनों एक ही स्टोर में काम करती थी और जब कुछ समय बाद लोरी ने शादी कर ली तो भी उनकी दोस्ती में कोई अंतर नहीं आया. उसके कुछ समय बाद मिकी ने भी शादी कर ली. दुरी होने की वजह से अब वो कम ही मिल पाती थी यहाँ ताकि की उसका अंतिम पत्र भी दो महीने पहले आया था.

मिकी का पति उसे बेहद प्यार करता था और दोनों के बिच काफी अच्छे रिलेशन थे किसी तरह का मन मुटाव नहीं. अगर मिकी इस दुनिया में नहीं रही तो उसके पति का क्या हाल हो रहा होगा.

पुलिस अधिकारी ने उससे पूछा

“क्या वास्तव में वो दीवार मिकी के घर में है जिसके पास आप हर रोज सपने में अंगीठी देख रही है?”

लोरी ने बताया हाँ तब उस अधिकारी ने जाँच करने का फैसला लिया और लोरी से पूछा क्या वो भी चलेगी ? लोरी भी चलने को राजी हो गयी. वहां पहुँच कर लोगो से पता किया तो जानने में आया की मिकी महीनो से दिखाई नहीं दी. अब तो दोनों को कुछ गड़बड़ी का अंदेशा होने लग गया.

घर पहुँच कर इंस्पेक्टर ने उस घर के मालिक के बारे में लोरी से पूछा तो उसने उसे मिकी का पति बताया. जब उससे पूछा तो दोनों चौंक गए. उस व्यक्ति के अनुसार मिकी एक दिन झगडा कर कही चली गई. वो हरदम घर को लड़ाई का मैदान बनाए रखने वाली औरत थी. उस दिन के बाद वो घर नहीं आई.

इंस्पेक्टर ने उससे पूछा की क्या उसने कोई रिपोर्ट नहीं लिखवाई तो उसने हिचकिचाते हुए मना कर दिया. उसकी ना सुनकर उसने गुस्से में उसे थप्पड़ मार दिया और कहाँ की पत्नी को गायब हुए इतना समय हो गया और तुमने कोई रिपोर्ट नहीं लिखवाई क्यों ?

होने लगा था हत्या का खुलासा

पुलिस ने उसे सख्ती से पूछा तो उसने कहा की वो साफ साफ कुछ भी नहीं बता सकता है. इससे पहले भी उन दोनों में लड़ाई होती रहती थी लेकिन वो कुछ समय बाद घर वापस आ जाती थी. इंस्पेक्टर ने पुरे घर की तलाश लेने का आदेश दिया लेकिन पुरे घर में उन्हें कुछ नहीं मिला.

उसी वक़्त लोरी की नजर एक अंगीठी पर पड़ी. चिल्लाकर उसे इंस्पेक्टर से कहाँ-

“सर ये रही अंगीठी”

जब इंस्पेक्टर ने वो अंगीठी देखी तो उन्हें लगा जैसे कुछ कुछ लोरी सच ही बोल रही थी. उन्होंने तुरंत उस दीवार को तोड़ने का order दिया. दीवार तोड़ते वक़्त जो उन्हें मिला उसने सभी को हैरत में डाल दिया. दीवार में किसी औरत का शव था जो अब सिर्फ कंकाल बचा था. यह मिकी का शव था जिसे देख लोरी की रुलाई फूट पड़ी.

पुलिस ने मिकी के पति को हिरासत में ले लिया और पूछताछ करनी शुरू कर दी. पुलिस की मार से डरते हुए उसने बताया की उसे दूसरी औरत पसंद आ गई थी. जब उसने मिकी से तलाक लेने की कोशिश की तो मिकी राजी नहीं हुई जिसकी वजह से उसने झगडा कर लिया. झगडा जब बढ़ने लग गया तो उसने हथोड़े से मिकी पर वार कर दिया जिसकी वजह से दीवार से टकरा कर उसकी मौत हो गई.

घबरा कर उसने उसे उसी वक़्त दीवार में चिनकर लोगो में ये बात फैला दी की मिकी झगडा कर कही चली गई है. लोरी ने कभी सपने में भी नहीं सोचा था की उसकी दोस्त का पति इतना जालिम हो सकता है. खैर अब मिकी की हत्या का खुलासा हो चूका था तो उसे इस बात की ख़ुशी हुई की अब शायद मिकी की आत्मा को शांति मिल जाएगी.

सब लोग हैरत में थे की आखिर कैसे लोरी ने सपने के माध्यम से मिकी की हत्या का खुलासा किया है. उसके बाद लोरी को मिकी आत्मा दिखाई दी जो की अब खुश थी. अब वो शांति से वापस चली गई.

क्या वास्तव में भी सपनो के माध्यम से हत्या का खुलासा हो सकता है ?

ऐसी कई मूवी और haunted serial बन चुके है जिसमे आत्माए अपनी मौत के हत्यारे को सजा दिलाने के लिए कोई माध्यम चुनती है. 20 दशक के प्रोग्राम में से एक “आप बीती” ऐसा ही एक सीरियल था जिसकी ज्यादातर एपिसोड इस पर based थी. मिकी की हत्या का खुलासा करने वाली ये कहानी कितनी सच है ये तो में नहीं जानता लेकिन इतना जरुर है की ऐसा भी हो सकता है. आपको क्या लगता है आप हमें जरुर बताए. इन कहानियो को पढना न भूले

2 COMMENTS

  1. Dear sir,

    Ye real ho skta h.
    Hmare Bharat desh ka ek soldier aisa h jo 1964 ke Bharat or China ke yudh me sahid huye hain. But unki deshbhakti aisi h ki vo aaj bhi border Pr duty kr rha h. Or sir itna hi nhi unka promotion bhi hota h.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.