छिपे हुए तनाव के 6 मुख्य लक्षण जिन्हे आपको समझना चाहिए

2

hidden depressionकई बार ऐसा होता है की हम किसी चीज की उम्मीद, भरोसे, और विश्वास में इतना डूब जाते है की जब वो पूरा नहीं होता है तो हमें अचानक से धक्का लगता है। इस स्थिति में हम समझ नहीं पाते है की जो हुआ है वो वास्तव में है या इसके सही होने की उम्मीद और भी है। इससे छिपा हुआ तनाव बनने लगता है और हम इसी के साथ एक झूठी जिंदगी गुजारने लगते है। ज्यादातर लोग जो अपनी जिंदगी में झूठे मुस्कुराते चेहरों के लोगो से मिलते है तो सबको लगता है की वो खुश है लेकिन ऊपर की नकली मुस्कराहट के पीछे उनकी टूटी हुई उम्मीदे होती है जो एक hidden depression का रूप चुकी होती है।

छिपा हुआ तनाव बाद में स्ट्रेस का रूप ले लेता है जो वास्तविक लाइफ में देखा जा सकता है इसलिए अगर आप भी ऐसे लोगो से मिलते है जो निचे दिए कुछ खास लक्षणों से घिरे हुए है तो उन पर गुस्सा होने की बजाय उनकी मदद करने की कोशिश करे। क्यों की कठोर बोलने वाली सास को असल में उसकी सत्ता के छीनने का डर होता है वो ऐसी होती नहीं है। चलिए बात करते है ऐसे कुछ खास लक्षणों की जिनसे आप लोगो के hidden depression का पता लगा सकते है और उन्हें समझ सकते है।

hidden depression symptom and cause hindi

छिपे हुए तनाव के लिए कोई बीमारी जिम्मेदार नहीं है इसके पीछे लम्बे समय से आपके मन में दबी हुई ऐसी भावनाए है जो पूरी नहीं हो पाती है। लम्बे समय से मन में दबे रहने की वजह से ये आप पर अचानक से हावी होने लगती है औरआपको पता भी नहीं चलता है की आपकी असली प्रॉब्लम क्या है। आइये जानते है ऐसी ही कुछ symptom के बारे में जो आपके तनाव की वजह है।

1)  ज्यादा सोने, खाने और पिने की आदत जो एक नार्मल से कई गुना ज्यादा होती है :

हम ऐसे कुछ लोगो से मिलते है जो जबरदस्ती खुश दिखने का दिखावा करते है लेकिन अंदर से वो बिलकुल अकेले पड़ चुके होते है। देखा जाए तो ऐसे लोग बातो बातो पर एक्सक्यूज़ करना शुरू कर देते है। उनके चेहरे के पीछे के मास्क पर उनका hidden depression महसूस किया जा सकता है क्यों की ये लोग दुसरो के साथ वक़्त बिताने के बजाय खुद को खुश रखने, बिजी दिखाने के चक्कर में कुछ ऐसी आदतों को अपना लेते है जो उनके लिए नुकसानदायक होती है जैसे की तनाव होने पर सो जाना, खाने पिने को ज्यादा कर देना यानि जब भी गुस्सा आये कुछ भी खाने पिने लग जाना जैसे लक्षण खुद के तनाव को छिपाने और खुश होने का दिखावा करने के लिए करते है।

पढ़े : विश्व को बदलने वाले अविष्कार जो अगर आज होते तो दुनिया ही कुछ और होती

2) ख़ुशी जाहिर करते है लेकिन बात बात पर एक्सक्यूज़ भी करते है :

क्या आपने ऐसे लोगो से मुलाकात की जो आपके साथ वक़्त बिताने में खुद को खुश महसूस करते है लेकिन जब भी आप उन्हें अपने साथ बाहर ले जाना चाहे या अपने किसी प्रोग्राम में इन्वॉल्व करना चाहे तो कोई भी बहाना बना कर मना कर देते है। ऐसे लोग खुश होने का दिखावा तो करते है लेकिन खुद को दुसरो के साथ comfortable महसूस नहीं करते है। जब भी दूर लोग उन्हें अपने साथ जोड़ना चाहते है वो कुछ भी बहाना बना कर उन्हें मना कर देते है। जैसे की –

आपकी पत्नी आप जब उनके साथ वक़्त बिताते है वो खुद को खुश दिखाती है चाहे वो आपके साथ वास्तव में खुश हो या ना हो लेकिन जब आप उन्हें अपने साथ बाहर ले जाना चाहते है तो वो घर के काम बता कर या अन्य किसी बहाने से हर बार खुद को बिजी बताने लगे तो तो हो सकता है वो किसी hidden depression यानि छिपे हुए तनाव से घिरी हुई हो।

3) hidden depression सामान्य से ज्यादा दार्शनिक जैसी बाते करना :

क्या आप ऐसे लोगो से मिले है जो सामान्य जीवन में नार्मल लाइफ बिताते है लेकिन कभी कभी ऐसी बाते करते है जिन्हे सुनकर आपको लगता है की उन्हें दुनियादारी की वाकई बहुत जानकारी है। जैसे जीवन कितना मुश्किल है या जिंदगी को अकेले बिताना कितना मुश्किल है वही जानते है बिलकुल एक दार्शनिक की तरह बाते करना जो सुनने में कई बार ऊपर से निकल जाती है। ये लक्षण दर्शाते है की बाहर से वो कैसे भी दिखावा करते हो अंदर से वो बिलकुल अकेले पड़ चुके है। इसलिए आप उनके अंदर के hidden depression को महसूस कर उन्हें इससे उभरने में मदद कर सकते है।

पढ़े : सम्मोहन से जुड़े टॉप myth और confusing फैक्ट क्या आप जानते है ?

4) किसी का भी ध्यान अपनी और खींचने के लिए चिल्ला देना अपनी चीज वापिस पाने के लिए :

हम कई बार देखते है की छोटे बच्चे दुसरो का ध्यान अपनी ओर खींचने के लिए चिल्लाने लगते है वो चिल्लाकर दुसरो का ध्यान अपनी ओर खींचते है और हम उनपर ध्यान देते है। लेकिन क्या आप ऐसे लोगो से मिले है जो एक ग्रुप में दुसरो का ध्यान अपनी ओर खींचने के लिए चिल्ला पड़ते है। ऐसी हरकत वो तब करते है जब कोई ऐसी चीज जो उन्हें मिलनी चाहिए थी किसी ओर के पास जाने लगती है। या फिर उनकी किसी खास चीज को वो दुसरो के हाथ जाते हुए देखने लगते है।

ऐसे में वो अचानक से ऐसी हरकत करते है जो दुसरो का ध्यान उनकी ओर खींच लेती है। इसमें बच्चो के खिलोने किसी ओर के पास जाना शामिल है। लेकिन बड़े लोग इस तरह की हरकत करते है ताकि लोग उन्हें सुने और वो दुसरो को कमांड दे। कुछ लोगो को सिर्फ इसलिए गुस्सा आने लगता है क्यों की लोग उनके सोच के मुताबिक नहीं चलते या फिर उनके अनुसार काम नहीं करते है। ये सब hidden depression को show करते है जिसका समाधान निकालना बेहद जरुरी हो जाता है।

5) चीजों को सामान्य से ज्यादा तेज महसूस करने लगाना :

टीवी शो देखते हुए खुद को उनमे डूबा देना जैसे की किसी भी इमोशनल सीन में आंसू निकल जाना या फिर गाड़ी को किसी और के काटे जाने पर अचानक से गुस्से में बड़बड़ाने लग जाना छिपे हुए तनाव को दर्शाता है। ऐसे लोग जो सामान्य जीवन में ज्यादातर किसी एक्शन पर रिएक्शन नहीं देते अचानक से इमोशनल लेवल पर कमजोर पड़ने लगते है। वो काल्पनिक दुनिया को खुद से जोड़ लेते है और उन उसके अनुसार ही रिएक्शन करने लगते है।

अचानक से रोने लग जाना या बुरी तरह से गुस्सा दिखाना उनके hidden depression का main reason है। इसके परिणामस्वरूप आप अंदाजा नहीं लगा पाते है की वो कब आप से नाराज हो जाए या फिर खुद को नुकसान पहुंचा ले। अगर आपके आसपास भी ऐसा होता है तो उनसे दूर होने की बजाय उनके तनाव की वजह को तलाशे उनसे नाराज न हो क्यों की उनका गुस्सा खुद को दर्शाने का एक जरिया बन चूका है।

पढ़े : पोस्ट हिप्नोटिज्म से भविष्य के लिए खुद को प्रोग्राम कैसे करे

6) hidden depression – कम महत्व वाली चीजों की तरफ ज्यादा आकर्षित होना :

क्या आप भी ऐसे लोगो में से है जो बहुत कम उपलब्धि से संतुष्ट हो जाते है। अगर ऐसा है तो आप भी hidden depression realism means depressive realism से घिरे हुए है। ऐसे लोग अपना आत्मविश्वास बनाये रखने में सफल नहीं हो पाते है। मान लीजिये आपको अपने काम में पोमोशन चाहिए और आप बहुत मेहनत भी करते है लेकिन लास्ट में आप अपने काम को 100% नहीं दे पाने के कारण सफल नहीं हो पाते है। इसे समझ कर दोबारा मेहनत करना तो सही है क्यों की आपको अपनी कमी का पता है लेकिन इससे संतुष्ट होकर वही रह जाना दर्शाता है की किस तरह आप खुद के विश्वास और उत्साह को कम कर चुके है।

इस तरह के तनाव का आप अंदाजा भी नहीं लगा सकते है क्यों की ये आपके attitude में सिर्फ एक बारीक़ सा फर्क है। संतुष्टि और सफलता की भूख दोनों में बहुत कम फर्क है लेकिन मायने बहुत बड़े। इसलिए हम इस बात का अंदाजा मुश्किल से ही लगा पाते है की गलती कहा है।

दोस्तों छिपे हुए तनाव को समझना और उससे उबरना इतना आसान तो नहीं है लेकिन आपकी एक कोशिश किसी की जिंदगी में बहुत बड़ा बदलाव जरूर ला सकती है। अगली बार अगर आपको ऐसे लोगो से मिलना पड़े तो दुरी बनाने की बजाय उनके तनाव की वजह को समझने की कोशिश करे।

2 COMMENTS

  1. बहुत अच्छी पोस्ट शेयर की है आपने कुमार जी. आपके द्वारा बताये गए सभी लक्षण उन सभी लोगों में देखने को मिल जाते है जो कि डिप्रेशन से जूझ रहे होते हैं| लेकिन हम अक्सर लोगो की इन आदतों पर बिना ध्यान दिए बिना ही उनके बारे में कुछ और ही राय बना लेते हैं| लेकिन एक बार इन लक्षणों को समझ लेने से हम अपने व्यहार में डिप्रेशन से लड़ रहे लोगों के प्रति बदलाव ला सकते हैं| इतनी महत्त्वपूर्ण जानकारी साझा करने के लिए धन्यवाद कुमार जी…

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.