भावुक होना कमजोरी नहीं ताकत है जानिए भावुक लोगो की सबसे बड़ी powers के बारे में

4
5
emotionally sensetive person

क्या आप मानते है की emotionally sensetive person यानि भावुक लोग अक्सर कमजोर होते है अगर हां तो आज की इस पोस्ट में आपको भावुक लोगो की ऐसी powers समझने को मिलने वाली है जिसके बाद आप भावुक लोगो को कमजोर समझने की गलती नहीं करेंगे. अक्सर ऐसा देखने को मिलता है की हम जिसे कमजोरी समझते है वो ही हमारी सबसे बड़ी ताकत होती है. अगर ऐसा ही है तो कमी कहा देखने को मिलती है? आज की पोस्ट में हम कुछ सवालों के जवाब जानने की कोशिश करेंगे जैसे की highly sensitive person symptom की पहचान क्या है ?, Why I am so sensitive emotionally or why I am so sensitive and cry easily जैसी बहुत सी मुश्किल बाते जो हमें परेशान करती है की भावुक होना कमजोरी की निशानी है या फिर ताकत की.

emotionally sensetive person

कमी होती है हमारी सोच में एक ही बात को दो अलग अलग नजरिये से सोचना और फिर उनके result पर गौर करना. जैसे की अगर आप किसी भी बात पर बहुत जल्द रोने लगते है तो इसका मतलब ये नहीं है की आप कमजोर है बल्कि आप झूठ बर्दास्त नहीं कर पाते है ये बात और है की आप अपनी सच्चाई साबित नहीं कर पाते है जिसकी वजह से आप रोने लगते है. चलिए बात करते है भावुक लोगो की असली ताकत की जिसे समझने के बाद आप कभी भी ऐसे लोगो या खुद को कमजोर नहीं समझेंगे.

भावुक यानि emotionally sensetive person क्यों होते है

भावुक होना एक गुण है ना की कमजोरी. ये दर्शाता है की आप दुसरो की परवाह करते है, सच्चे दिल के है या फिर आप इमानदार है. देखने में आता है की भावुक लोग हालात के आगे इतने ज्यादा भावुक हो जाते है की रोने लगते है इसलिए नहीं की वो कमजोर या बेबस है बल्कि इसलिए की वो दुसरो का दर्द असली मायने में समझते है.

अगर आप किसी की परवाह करते है और वो इसे समझ नहीं पाता है तो आप चीखने लगते है जो जाहिर करता है की आपको उनकी कितनी फ़िक्र है यही नहीं दुःख होता है जब दुसरे आपकी बात समझ नहीं पाते है लेकिन यकीन मानिये जब लोगो को इसका अहसास होता है उनके दिल में आपके लिए असली इज्जत पैदा होती है.

पूर्वानुमान की क्षमता :

भावुक लोग अपने आसपास यहाँ तक दूर बैठे लोगो के मन के भाव को भी पकड़ सकते है. जैसे की एक माँ अपने बच्चे के लिए सबसे ज्यादा फ़िक्र करती है जब भी वो खुद को अपने बच्चे की मदद ना करने की स्थिति में पाती है तो रोने लगती है जिसे देखकर बच्चे का ध्यान भी माँ की तरफ चला जाता है. दूर रहकर भी वो इस बारे में जागरूक रहती है की उसकी संतान के साथ क्या हो रहा है.

पढ़े  : क्या आप भी नकारात्मकता से घिरे हुए है जानिए कैसे पहचाने इसे और दूर करे basic tips

स्पंदन यानि vibration को महसूस करने की क्षमता :

कुछ लोग सिर्फ हालात देखकर या महसूस कर ही बता देते है की यहाँ क्या हुआ था. हम जब भी कही किसी जगह दाखिल होते है, लोगो से मिलते है या फिर या फिर सामने वाले का मूड कैसा है बता पाना हर किसी के बस की बात नहीं लेकिन भावुक यानि sensetive person आसानी से हर जगह के हालात का पता लगा सकता है उसे महसूस कर सकता है.

झूठ को पकड़ना या दुसरे क्या feel कर रहे है बेहतर समझना :

कुछ लोग आपके बोलने से पहले ही बता देते है की आपको क्या चाहिए, यहाँ तक की उनसे मिलते वक़्त या फोन पर अगर आप अपनी बात और हालात को छुपाते भी है तो भी वो आसानी से आपको पकड लेते है की आप झूठ बोल रहे है. ऐसे कैसे ? ये sixth sense कहे या कुछ और लेकिन भावुक लोगो के पास दुसरो के भाव को पढने की गजब की कला होती है.

दुसरे लोगो के मन की बात को समझना भी बेहतर तरीके से सिर्फ भावुक लोग ही कर सकते है. इसके लिए वो सिर्फ दुसरो के vibration को महसूस करते है जो की दुसरे नहीं कर सकते. इसे और ज्यादा गहराई से समझना चाहते है तो कभी ध्यान करके देखिये आप खुद में क्या बदलाव महसूस करते है.

पढ़े : घर बैठे 6 हजार अतिरिक्त कमाने का सबसे आसान तरीका बिलकुल मुफ्त

sensetive people and mental telepathy

अगर आपको दिनभर के काम करते वक़्त अचानक ही कुछ अलाग महसूस होने लगे या फिर आप vibration महसूस करने लगे तो समझ जाइये की आप कुछ खास है. बहुत ज्यादा भावुक लोग vibration को बहुत जल्दी पकड़ लेते है. जैसे की किसी उन्हें याद करना, किसी को कही पर आपकी जरुरत महसूस होना और आप उनके पास पहुँच जाओ.

भावुक लोग होते है रचनात्मक

भावुक लोगो की सबसे बड़ी खासियत में से एक है उनका संजीदा और कल्पनाशील होना. वे रचनात्मक होते है और किसी भी बात को बेहतर तरीके से समझा पाना उनका एक गुण होता है. बगैर रचनात्मक कला के आप कभी भी कुछ नया नहीं सोच सकते और emotionally sensetive person हमेशा कुछ खास और अलग कारते रहते है क्यों की उनकी कल्पनाशक्ति, रचनात्मक शक्ति बेहद मजबूत होती है.

अकेले लेकिन आत्मविश्वास से भरे

emotionally sensetive person यानि भावुक लोग अकेले रहकर भी खुद को अकेला नहीं समझते. उनके पास इतने हुनर होते है की वो अकेले रहकर भी खुद को आत्मविश्वास से पूर्ण बनाये रख सके. उन्हें किसी के सहारे की जरुरत नहीं होती है क्यों की रचनात्मक गुण उन्हें अकेले रहकर भी नए नए आईडिया और उन्हें अजमाने की अद्भुत हिम्मत प्रदान करता है.

पढ़े  : किसी को भी आसानी से सेकंड में हिप्नोटाइज कर सकते है इन टिप्स को अपनाकर

emotionally sensetive person सहज भाव से होते है ऊपर

ऐसे लोग राह चलते हुए दुसरो के लिए रास्ता बना देते है, कही भी दुसरो की केयर करने में हिचकिचाते नहीं है. बहुत जल्दी ही दुसरो की मदद करने को तैयार रहते है और तो और इन्हें आम इन्सान से बेहतर पता होता है की दुसरो को कैसे सहज बनाये रखना है. emotionally sensetive person हमेशा दुसरो की मदद के लिए तैयार रहते है क्यों की उन्हें ये करना दिल से अच्छा लगता है.

आसानी से रो देना कमजोरी नहीं गुण है

ये भावुक लोगो की सबसे बड़ी खासियत है की वो बहुत जल्दी रोने लगते है. कुछ लोग इसे कमजोरी के तौर पर देखते है लेकिन असल में ये खुद को हल्का करने का सबसे बड़ा माध्यम है. अगर आपके मन में कोई बात है जिसे आप दुसरो के सामने जाहिर नहीं करते है तो हो सकता है आगे चलकर वही बात आपके लिए अवसाद की वजह बन जाए लेकिन भावुक लोगो के पास ऐसी कोई वजह नहीं होती है. इसकी वजह से उनका heart strong होता है और वे एक अच्छी healthy life enjoy करते है.

आसानी से ग्रुप और टीम में बेहतर काम करने को तैयार

भावुक लोग अगर team work में काम करते है तो उन्हें पता होता है की दुसरे क्या सोचते है. वो दुसरो के ईगो को एक साइड में कर उन्हें संगठित करते है जिसकी वजह से एक अच्छे लीडर की भूमिका या corporation की भूमिका निभा सकते है. जब कई लोग एक साथ मिलकर काम करते है तो सबके ईगो और strength अलग अलग होती है उन्हें सही तरीके से कैसे प्रयोग में लाये ताकि team work को बेहतर बनाया जा सके ये एक emotionally sensetive person से ज्यादा और कौन जान सकता है.

पढ़े  : super-conscious mind के जरिये आप भी चमत्कार कर सकते है बड़ी आसानी से

भावुक लोग होते है hard working

हो सकता है की आप अपने काम में परफेक्ट हो लेकिन रचनात्मक बने बगैर किसी भी काम में हम बेहतर बदलाव नहीं ला सकते है. भावुक लोग किसी भी कार्य में अपना सम्पूर्ण योगदान तो देते ही है साथ ही साथ वो उसमे और ज्यादा बेहतर करने के आईडिया भी इजाद करते है जिसकी वजह होती है उनकी बेहतर कल्पनाशीलता.

emotionally sensetive person – अंतिम शब्द :

अगर आप भी ये सोचते है की why i am so sensetive emotinally person तो उदास या परेशान मत होइए क्यों की ये आपकी कमी नहीं आपकी सबसे बड़ी ताकत है. जरुरत है तो बस आपको अपनी भावना को दिशा देने की, positive attitude की जिसकी वजह से आप emotinally लोगो से connect हो सकते है, दुसरो की problem को बेहतर समझ सकते है यही नहीं उनकी हेल्प भी कर सकते है.

अगर आपके पास भी ऐसा ही कोई आर्टिकल है तो हमें sachhiprerna पर भेज सकते है. आज की पोस्ट कुछ लोग बहुत ज्यादा emotinally sensetive person क्यों होते है आपको कैसी लगी comment, share subscribe करना ना भूले.

Never miss an update subscribe us

* indicates required

4 COMMENTS

  1. बहुत ही बेहतरीन एवं ज्ञान वर्धक पोस्ट लिखी आपने, इसे पढने के बाद भावुक लोगो के प्रति एक अलग ही द्रष्टिकोण हो जाता है. थैंक्स कुमार जी…

  2. भावुक लोग , जो अक्सर किसी बात पर रो देते हैं वो इतने strong होते हैं ऐसा अक्सर मन नहीं जाता | आपके इस लेख से ये भ्रम दूर हुआ | भावुक लोगों की ताकत को बताता बहुत अच्छा लेख

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.