चेतना के अलग अलग स्तर और एक सामान्य इन्सान से super power बनने का सफ़र

चेतना के अलग अलग स्तर और एक सामान्य इन्सान से super power बनने का सफ़र

under conscious level of mind यानि हमारी चेतना टोटल कितने तरह से काम करती है। आज हम चेतन या अवचेतन मन बल्कि conscious level of mind की बात करने वाले है। conscious level of the mind हमारी चेतना से पूर्ण चेतना का सफर है जो मैडिटेशन की लगातार प्रैक्टिस से संभव है। इस अवस्था में हम सिर्फ conscious level पर बात करेंगे ना की level of subconscious mind क्यों की इसमें हम कार्यप्रणाली और अनुभव के आधार पर इसे बाँटने वाले है।

conscious level of mind
चेतन मन यानि conscious mind और अवचेतन मन यानि sub conscious mind अभी तक हम इन 2 के बारे में ही जानते थे लेकिन धीरे धीरे science और spiritual ने इसमें नए नए experiment किये और कई अन्य मन के बारे में जाना जिसमे super conscius mind भी है लेकिन इसके अलावा विज्ञान ने किन किनlevel of mind and its conscious ness की खोज की है इसके बारे में आज हम बात करने वाले है। अगर बात करे from conscious to unconscious mind की तो अभी तक कई level की खोज हो चुकी है जिन्हे साइंटिस्ट ने उनकी वर्किंग के हिसाब से नाम दिए है। आज हम सिर्फ उन लेवल की बात करेंगे।

अभी तक हम सब जिन तीन state of conscious mind के बारे में जानते आये है वो निम्न है चेतना, सोना, सपने लेना यानि

  • walking conscious
  • deep sleeping
  • dreaming

इसके आलावा की जिन स्टेज की बात करने जा रहे है उन्हें continuous practice of meditation द्वारा activate किया जा सकता है। advanced level of conscious and subconscious mind एक महर्षि द्वारा व्यक्त किये गए है जिसने 40 साल इन पर खोज की है आइये जानते है उन advanced level के बारे में।

conscious level of mind

एक सामान्य इंसान conscious level of mind के 7 स्टेज को पूर्ण कर उस अवस्था में पहुँचता है जो मोक्ष और समाधी के नाम से जानी जाती है। अभी तक हमने सिर्फ conscious mind, subconscious mind और super conscious mind यानि higher self तक जाना है। लेकिन आध्यात्मिक जागरण के लिए conscious level of mind को कैसे हम समझकर खुद को जाने इस बारे में बात करते है।

7 conscious level of mind :

इसमें ये लेवल आते है जो हमारे कार्यप्राणाली के आधार पर 7 भागो में बंटे हुए है। सामान्य से असामान्य और अद्भुत क्षमता का ये सफर इनके बिच ही है।

  1. walking conscious
  2. deep sleeping
  3. Dreaming
  4. Transcendental conscious
  5. cosmic conscious – higherself consciousness
  6. god conscious
  7. Unity conscious

ये सब हमारी चेतना के वो लेवल है जो हमें आम से खास बनाते है। एक इंसान इन स्तर को पार कर जीवन की यात्रा को पूरा करता है।

Walking conscious :

सामान्य स्तर की चेतना जिसमे हम दिनभर की सभी एक्टिविटी को अंजाम देते है walkin conscious का हिस्सा है। इसमें हम किसी कार्य से कैसे जुड़ते है और समझते है शामिल है। किसी भी एक्टिविटी को सही और गलत समझकर उसे sub conscious mind में भेजना यानि सेव करना इसी लेवल में होता है।

deep sleeping :

mind के थकने और आराम करने के बिच का कांसेप्ट यह कहता है की mind को daily update रखने के लिए कुछ समय आराम करने की जरूरत होती है। जागते वक़्त हम कभी सोचना बंद नहीं करते है जिसकी वजह से कुछ समय निकाल कर सोना अनिवार्य है। सोने के वक़्त हम सोचना बंद नहीं करते बस दिनभर के विचारो को जो हमारा subconscious catch करता है उनपर फोकस हो जाते है जिसकी वजह से चेतना सुप्त हो जाती है। इसे ही हम सोना कहते है।

dreaming :

जिन विचारो का हमसे emotional attachment हो जाता है अक्सर वही सपने बनकर हमें नींद में दिखते है इसके पीछे की वजह इंसान की भावनाए और उसकी इच्छाए है जो कार्य वो दिन में कर नहीं पाता है इसे रात को करता है सोने के बाद सपनो में। इसे हम इंसानी सन्तुष्टिकरण भी कह सकते है क्यों की भावनाओ को पूरा करना इंसानी नेचर है फिर कही वो सपने में ही क्यों न हो। सपने देखना हमारी चेतना का तीसरा चरण है जिसमे हम दिनभर के कामो से दिमाग को हटाकर उन भावनाओ पर ले जाते है जो हम दिन में कर नहीं पाते है।

TRANSCENDENTAL CONSCIOUSNESS:

इस अवस्था को complete silence कहा जाता है यानि की समाधी की ऐसी अवस्था जिसमे हमारा मन और mind दोनों एकदम शांत हो गए हो लेकिन consciousness पूरी तरह activate हो। इस अवस्था में हम खुद को अच्छे से समझ सकते है, मुश्किल problems का solution पा सकते है साथ ही खुद को ज्यादा से ज्यादा लोगो के बिच important बना सकते है।

cosmic conscious :

सही मायने में आध्यात्मिक जागरण यानि spiritual awakning यही है। जब हम इस अवस्था में पहुँच जाते है तो अपने आसपास की हर वस्तु का सही रुपण हम देख सकते है। हम सभी जिस संसार में रहते वो असल में कैसा है और कैसे हम इससे पर पा सकते है। इस लेवल में हम किसी से बात करते हुए भी अपने अंदर के मन में जा सकते है। meditation की सबसे rare experience यही मानी गई है जब हम एक जगह रहते हुए भी दूसरी जगह जा सकते है। नार्मल लाइफ में वैज्ञानिक तरीके से ये असंभव है लेकिन meditation की high level stage पर ये संभव है।

ज्यादातर लोग consciousness को इंसानी स्तर तक ही मानते है लेकिन ये किसी इंसानी स्तर से जुड़ा नहीं है ये पुरे यूनिवर्स से जुड़ा है आज quantum theory ये मान चुकी है की जिन चीजों की आज उत्पति हुई है वो एक vaccum से हुई है और अंत भी इसका यही है लेकिन क्या अआप जानते है ये शून्य कहाँ स्थित है। सभी चीजे शून्य से जन्मी है और शून्य में ही मिल जाएगी ऐसा इस स्तर पर आने पर हमें पता चलता है।

God conscious :

अपनी आत्मा से जुड़ना इस अवस्था में संभव है ये अवस्था cosmic level of conscious के similar ही है लेकिन इस अवस्था में हम खुद के अंतरात्मा से जुड़ जाते है और आध्यात्मिक अनुभव करते है। इस अवस्था में सबसे बड़ी खास बात तो ये है की इसमें हमारा point of view यानि चीजों को देखने का नजरिया बदल जाता है और हम हर चीज में ख़ुशी तलाशने लगते है। साथ ही हम अपने अंतर में गहराई से डूबने लगते है। सही मायने में किसी भी इंसान को इस लेवल पर ही आध्यत्मिक जागरण के अनुभव होते है।

इसे हम higher self conscious ness भी कहते है क्यों की इस स्तर पर हमारे अनुभव अंतर्मन से जुड़े होते है। ये कांसेप्ट german idealism से लिया गया है जो भगवद गीता के विचारो से प्रभावित था। higher self conscious में हमें फैसले लेने खुद को बेहतर बनाने के लिए अंदर से प्रेरणा मिलती है और जिसका higher self activate हो जाता है वो व्यक्ति कभी गलत फैसले नहीं ले सकता क्यों की हमारा अंतर्मन हमें हमेशा सही राह दिखाता है।

unity conscious :

जब एक इंसान सभी को अपने जैसा समझने और देखने लगता है तब वो चेतना के सातवे चरण पर होता है। हम हमेशा सुनते आये है की सभी हम है और हम ही सभी है यानि सब में एक ही तरह की आत्मा का निवास है जो ईश्वर ने बनाई है। ईश्वर की इस सृस्टि में सभी समान है और सभी को जीने का पूरा हक़ है। advanced level of conscious ही सब लेवल में ऊपर की मानी गई है क्यों की ये आध्यत्मिक जागरण में पूर्णता लाती है।

इस अवस्था में आकर इंसान सभी तरह के मोह त्याग देता है क्यों की उसके लिए ये सभी भोग की वस्तुए होती है। यही नहीं उसके मन के भाव भी समाप्त हो जाते है ना किसी से प्यार न किसी से नफरत उसे सिर्फ अपने अंतर में ख़ुशी मिलती है।

दोस्तों ऊपर के सभी level of conscious जिनकी आज हमने बात की है india के ही एक महर्षि महेश योगी के अपने अनुभव और खोज का परिणाम है। उनके पास कई लोगो ने आध्यत्मिक जागरण के अनुभव भी किये है।

conscious level of mind से जुड़ी आज की पोस्ट आपको कैसी लगी हमें जरूर बताए। साथ ही नए अपडेट पाने के लिए हमें सब्सक्राइब करना न भूले।

Never miss an update subscribe us

* indicates required

2 thoughts on “चेतना के अलग अलग स्तर और एक सामान्य इन्सान से super power बनने का सफ़र”

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.