सफलता के लिए विद्यार्थियों को ध्यान रखनी चाहिए आठ बातें!!

6
4
सफलता के लिए चाणक्य नीति

सफलता के लिए चाणक्य नीति  सफलता के लिए चाणक्य नीति मेंऐसी कई बातो का जिक्र किया गया है जो हर विद्यार्थी के लिए सफलता का पहला और मुख्य कदम होता है। हमें सफलता के लिए इन बातो को ध्यान रखना चाहिए। चाणक्य नीति में हर विनय विषय पर कुछ ऐसी बातो का वर्णन मिलता है जो  इंसान के उन्नति और पतन का कारण बनती है। आइये जानते है सफलता के लिए चाणक्य नीति की कुछ ऐसी ही बातो को।

इन नीतियों का पालन करके कोई भी विद्यार्थी उत्तम तथा सही रूप से शिक्षा प्राप्त करने में सफल हो सकता है और अपनी जिंदगी में हर मुकाम हासिल करने की काबिलियत हासिल कर सकता है। इन्ही नीतियों में से एक के बारे में हम विस्तार से आपको बताएँगे ताकि आप इन्हें अच्छे से समझ सकें और इन्हें अपना कर अपनी जिंदगी में अहम् बदलाव ला सकें :

“कामक्रोधौ तथा लोभं स्वायु श्रृड्गारकौतुरके।

अतिनिद्रातिसेवे च विद्यार्थी ह्मष्ट वर्जयेत्।।”

अर्थात- विद्यार्धी के लिए आवश्यक है कि वह इन आठ दोषों का त्याग करे:

  • 1. काम,
  • 2. क्रोध
  • 3. लोभ
  • 4. स्वादिष्ठ पदार्थों या भोजन
  • 5. श्रृंगार
  • 6. हंसी-मजाक
  • 7. निद्रा (नींद)
  • 8. और अपनी शरीर सेवा में अधिक समय न दे।

इन आठों दोषों के त्यागने से ही विद्यार्थी को विद्या प्राप्त हो सकती है। अब इन दोषों के बारे में थोडा विस्तार से जानते हैं ताकि आप इन्हें ठीक से समझ सकें :

पढ़े : क्या आप भी मानते है मृत्यु के बाद जीवन के सत्य को

सफलता के लिए चाणक्य नीति-विद्यार्थी याद रखे इन बातो को

सफलता के लिए चाणक्य नीति मे विद्यार्थी को कुछ बातो का ध्यान रखना चाहिए। प्राचीन काल में जब गुरुकुल की परम्परा थी तब इन नियम का कड़ाई से पालन किया जाता था। पर बदलते वक़्त और शिक्षा के परिवेश में ये सब बाते नए मायने में बदल दी गई। आइये जानते है सफलता के लिए चाणक्य नीति में कुछ ऐसी बाते जो विद्यार्थी को ध्यान रखनी चाहिए।

1. काम भावनाओं से बचें :

जिस व्यक्ति के मन में काम वासना उत्पन्न हो जाती है, वह हर समय अशांत रहने लगता है। ऐसा व्यक्ति अपनी इच्छाओं की पूर्ति के लिए सही-गलत कोई भी रास्ता अपना सकता है। कोई विद्यार्थी अगर काम वासना के चक्कर में पड़ जाए, तो वह पढ़ाई छोड़कर दूसरे कामों की ओर आकर्षित होने लगता है। उसका सारा ध्यान केवल अपनी काम वासना की पूर्ति की ओर लगने लगता है और वह पढ़ाई-लिखाई से बहुत दूर हो जाता है। इसलिए विद्यर्थियों को ऐसी भावनाओं के बचना चाहिए।

पढ़े : मस्तिष्क को शांत करने के लिए आजमाइए इन अचूक टिप्स को

2. क्रोध से करे तौबा और संयम रखना सीखे:

क्रोध में आदमी अँधा हो जाता है, उसे सही गलत की पहचान नहीं रह जाती है, और जो व्यक्ति क्रोधी स्वभाव है और छोटी से छोटी बात पर भी गुस्सा होकर कुछ ऐसा कर बैठता है जिसके लिए आगे जाकर पछताना पड़े वैसे लोग क्रोध आने पर किसी का भी बुरा कर बैठते है।

ऐसे स्वभाव वाले व्यक्ति का मन कभी भी शांत नहीं रहता। विद्या प्राप्त करने के लिए मन का शांत और एकचित्त होना बहुत जरूरी होता है। अशांत मन से शिक्षा प्राप्त करने पर मनुष्य केवल उस ज्ञान को सुनता है, उसे समझ कर उसका पालन कभी नहीं कर पाता। इसलिए शिक्षा प्राप्त करने के लिए मनुष्य को अपने क्रोध पर नियंत्रण करना बहुत जरूरी होता है।

पढ़े : एकाग्रता पर top 18 अनमोल विचार

3. कभी भी दूसरी चीजो के पीछे लोभ ना करे :

लालच बुरी बला है, हम सबने से सुना और पढ़ा है, लालची इंसान अपने फायदे के लिए किसी का भी इस्तेमाल कर सकते हैं और किसी के साथ भी धोखा कर सकते हैं। ऐसे व्यक्ति सही-गलत के बारे में बिलकुल नहीं सोचते। जिस व्यक्ति के मन में दूसरों की वस्तु पाने या हक़ छीनने की भावना होती है और हमेशा उसे पाने की योजना बनाने में ही लगा रहता है। ऐसा व्यक्ति कभी भी अपनी विद्या के बारे में सतर्क नहीं रह सकता और अपना सारा समय अपने लालच को पूरा करने में गंवा देता है। विद्यार्थी को कभी भी अपने मन में लोभ या लालच की भावना नहीं आने देना चाहिए।

पढ़े : अलौकिक शक्तियों का खजाना है दीपक त्राटक की साधना

4. जिव्हा के स्वाद का गुलाम ना बने :

जिस इंसान की जीभ उसके वश में नहीं होती, वह हमेशा ही स्वादिष्ठ व्यंजनों की खोज में लगा रहता है। ऐसा व्यक्ति अन्य बातों को छोड़ कर केवल खाने को ही सबसे ज्यादा अहमियत देता है। कई बार स्वादिष्ठ व्यंजनों के चक्कर के मनुष्य अपने स्वास्थ तक के साथ समझौता कर बैठता है। विद्यार्थी को अपनी जीभ पर कंट्रोल रखनी चाहिए, ताकी वह अपने स्वास्थय और अपनी विद्या दोनों का ध्यान रख सके।

पढ़े : भूत व प्रेत बाधा मुक्ति के 10 सरल उपाय

5. श्रृंगार (सजना-सवरना) और अपनी शरीर सेवा में अधिक समय न दे:

जिस विद्यार्थी का मन सजने – सवरने में लग जाता है वह अपना ज्यादातर समय इन्ही बातों में गवां देता है। ऐसे व्यक्ति खुद को हर वक्त सबसे सुन्दर और अलग दिखने के लिए ही मेहनत करते रहते हैं, और इसी वजह से हमेश उनके दिमाग में सौंदर्य, अच्छे पहनावे और रहन -सहन से जुडी बातें ही घुमती रहती हैं। सजने-सवरने के बारे में सोचने वाला व्यक्ति कभी भी एक जगह ध्यान केंद्रित करके विद्या नहीं प्राप्त कर पाता। विद्यार्थी को ऐसे परिस्थितियों से बचना चाहिए।

पढ़े : आत्माओ से बात करने के सरल माध्यम

6. हंसी-मजाक में समय व्यर्थ न करें :

किसी अच्छे विद्यार्थी का एक सबसे महत्वपूर्ण गुण होता है गंभीरता। विद्यार्थी को शिक्षा प्राप्त करने और जीवन में सफलता पाने के लिए इस गुण को अपनाना बहुत जरूरी होता है। जो विद्यार्थी अपना सारा समय हंसी-मजाक में व्यर्थ कर देता है, वह कभी सफलता नहीं प्राप्त कर पाता। विद्या प्राप्त करने के लिए मन का स्थित होना बहुत जरूरी होता है और हंसी-मजाक में लगा रहना वाला विद्यार्थी अपने मन को कभी स्थिर नहीं रख पाता।

पढ़े :  भावना शक्ति द्वारा sleep paralysis पर काबू कैसे पाए

7. निद्रा : आवश्यकता से अधिक सोने से बचें :

अमूमन स्वस्थ मनुष्य के लिए 6-7 घंटे सोना आवश्यक होता है, विद्यार्थोयों को इस बात का ध्यान रखना चाहिए की वे आवश्यकता से अधिक निद्रा से बचें। अत्यधिक निद्रा से शरीर में हमेशा थकान बनी रहती है और अगर शरीर थका हो तो ध्यान केन्द्रित करना मुश्किल हो जाता है, और अध्ययन के लिए दिमाग का केन्द्रित होना अत्यंत आवश्यक होता है।

आचार्य चाणक्य द्वारा बताई गयी इन नीतियों को अपना कर हर विद्यार्थी अपने सपने साकार कर सकता है। यह लेख आपको कैसा लगा हमें जरूर बताएं।

प्राचीन समय में विद्यार्थी को शील और संयम सिखाया जाता था। और आज भी इस एक गुण पर सभी बाते निर्भर करती है। ऐसी ही पोस्ट के लिए हमें सब्सक्राइब जरूर करे और आज  की पोस्ट सफलता के लिए चाणक्य नीति पर कमेंट में अपनी राय दे। धन्यवाद !

Never miss an update subscribe us

* indicates required

6 COMMENTS

  1. सिर्फ विद्यार्थियों को ही नहीं सभी को सफल होने के लिए इन बातों का ध्यान रखना चाहिए

  2. बहुत अच्छी जानकारी ।
    सभी के लिए काम की है चाणक्य नीति

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.