secret Subconscious mind programming techniques जिसके जरिये हम खुद को मनचाहे तरीके से बदल सकते है

secret Subconscious mind programming techniques जिसके जरिये हम खुद को मनचाहे तरीके से बदल सकते है

how to activate subconscious mind ? कैसे हम saflta k liye avchetan man me badlav करअपनी लाइफ में मनचाहे बदलाव ला सकते है। अवचेतन मन हमारे दिमाग का हिस्सा है जो मस्तिष्क को भेजे गए निर्देशों को अपने कार्यो आप किये जाने वाले कार्यो के समूह को सरंक्षित रखता है. Subconscious mind programming techniques के जरिये हम इसे मनचाहे परिस्थिति के लिए ready कर सकते है.

इस तरह से अवचेतन मन को चेतन मन की तरह बार बार निर्देश भेजने की जरुरत नहीं होती है. मनोवैज्ञानिक अवचेतन मन को productivity skills, कलात्मक और प्रेरणात्मक स्त्रोत के रूप में मानते है. जो हमें हमेशा नए कार्य के लिए प्रेरित करता है. आज जब अवचेतन मन को लेकर पूरी दुनिया जागरूक बनती जा रही है. saflta k liye avchetan man me badlav in hindi.

Subconscious mind programming techniques

एक सामान्य इंसान Subconscious mind programming techniques को daily life में use कर अपनी जिंदगी में desired change कर सकता है. इसके लिए सबसे जरुरी है आपका self confidence.

अगर आप ज्यादा धनवान ज्यादा खुशहाल होना चाहते है तो आपको बस अपने अवचेतन मन पर ज्यादा से ज्यादा focus करना पड़ेगा। फिर देखिये अपनी life में क्रन्तिकारी परिवर्तन की शुरुआत. में इस्तेमाल करने के लिए आपको निम्न परिवर्तन करने पड़ेंगे.

  1. मन की शंका का समाधान खुद करे और खुद पर विश्वास बढ़ाये ( चेतन मन )
  2. अपने अवचेतन मन में बदलाव करे ( ज्यादा से ज्यादा सकारात्मक बने )
  3. बदलाव को अपने जीवन में उतारे. ( अवचेतन मन को creative बनाए रखे )

Subconscious mind programming techniques

हम में से ज्यादातर जो भी फैसले लेते है उन्हें गलत या सही में फर्क नहीं कर पाते है. जब मन में शंका चलने लगती है तो अवचेतन मन सही से कार्य नहीं कर पाता है. किसी फैसले को आपका चेतन मन अवचेतन मन को अगर सही बताता है तो वो उसके लिए सही है.

अगर गलत बताएगा तो गलत है. उसका खुद का कोई वजूद नहीं है और इसकी क्षमता की कोई सीमा नहीं, इसलिए पहले चेतन मन को ज्यादा से ज्यादा मजबूत करे. जिससे आप जो फैसला ले वो सही सही अवचेतन मन स्वीकार करे और कार्य में सफलता हासिल होने लगे.

आज ऐसी कई subconscious mind exercise है जिन्हें हम अपने daily routine में अपनाकर आसानी से बिना किसी बड़े बदलाव के खुद को किसी भी condition के अनुसार ढाल सकते है. subconscious mind power को activate करने वाली इन exercise को आप भी आसानी से कर सकते है.

सवाल ये उठता है की हम अपने चेतन मन की क्षमता में विस्तार कैसे करे ? तो आइये सबसे पहले जानते है इसके बारे में.

चेतन मन की क्षमता में विस्तार करे

आप जो सोचते है वो आप कर सकते है लेकिन खुद पर विश्वास न होने की वजह से आप उतना नहीं कर पते है जितना आप कर सकते है. एक तरह से lack of self-confidence आपके कार्य को वही तक होने देता है जहां तक आप सोचते है.

जैसे की आप एग्जाम में 80% ला सकते थे मगर आपको खुद पर विश्वास नहीं आपके मन में इसको लेकर शंका हुई की आपके सिर्फ 60% तक ही बन सकते है तो यकीन मानिये आपके 60% ही बन पाएंगे. क्या आप ऐसा चाहेंगे नहीं!

तो फिर खुद के लिए फैसले पर विश्वास करना सीख ले. जो भी सोचे उस पर पूर्ण विश्वास हो जो फैसला ले वो सही हो इससे आपका विश्वास खुद पर तो बढ़ेगा ही आपका फैसला भी सही होगा. आपकी क्षमता क्या है ये आप तय नहीं कर सकते.

अगर आप ऐसा करते है तो आप खुद को पीछे ले जाते है. यही वजह है की हर कोई Subconscious mind programming techniques को अपने लाइफ में इस्तेमाल कर success बन रहे है.

confidence building

हमारे सामने सबसे बड़ा challenge है how to build confidence and self esteem क्यों की जब भी हम कुछ नया करने की ठानते है हमारा self-confidence कमजोर होने लगता है. हमें खुद पर भरोसा ही नहीं होता है की हम ऐसा कर पाएंगे भी की नहीं.

इसलिए जब भी आपके मन में कार्य को लेकर बुरे नकारात्मक विचार उभरने लगे अपनी यादो को वहां ले जाये जहां से ये नकारात्मक विचार उठने लगे थे यानि आप वहां से गलत थे, खुद से सवाल करे की क्या वाकई वो गलत है आप पाएंगे की आपकी शंका समाधान होने लगा है और आपका विश्वास उस कार्य से जुड़ गया है. और नकारात्मकता हट गई है.

Subconscious mind programming techniques का पहला step है खुद को वहां ले जाना जहाँ से गलतियाँ होना शुरू हुई थी. जब हम ऐसा करते है तो समस्या से जुड़े समाधान भी मिलने लगते है.

क्या किसी कार्य को किये बगैर उसके नतीजे जान पाना संभव है नहीं ! तो फिर आप कैसे सोच लेते है की आप कामयाब होंगे या फ़ैल.

इसके लिए पहले आपको कोशिश करनी पड़ेगी उसके नतीजे निर्धारित करते है की आप कामयाब होंगे या फ़ैल इसलिए पहले से ही परिणाम न सोचे. पहले कोशिश करे लेकिन याद रखे आपका कार्य सही होना चाहिए.

इससे पहले की आप भी इस Subconscious mind programming techniques को अपनी लाइफ में practice करना शुरू कर दे, सबसे पहले तो उन बातो को जान ले जो बेहद जरुरी है.

Importance of self confidence

ये बात साफ है की जितना आप अपने कार्य को लेकर सकारात्मक रहेंगे आपके कामयाब होने के चांस उतने ही ज्यादा होंगे जितना ज्यादा Positive thoughts उतना ही ज्यादा success. आप एक बार अपने मन की शंका को दूर कर लेते है.

Importance of self confidence का अंदाजा आप इस बात से ही लगा सकते है की Subconscious mind programming techniques में सबसे पहले इसे ही बदला जाता है.

इसके बाद इसे आपको ज्यादा creative और productive skills में बदलना पड़ता है. इसे आप अपनी क्षमताओं से अपने कौशल से और दूसरे लोगो द्वारा सराहे जाने से कर सकते है. याद रखे

हर किसी में ( आपमें भी ) अपना एक हुनर है एक कौशल है क्षमता है जो किसी के पास नहीं.

दैनिक डायरी लिखना जिसमे आप अपने मन की बात को शब्दों में बयां कर सके वो बाते जिन्हे आप दूसरों से शेयर नहीं कर सकते है. इससे आपको सकारात्मक होने में मदद मिलेगी क्यों की इससे आप जब भी नया करेंगे आपके पुराने कार्य आपको याद दिलाते है की आप उस वक़्त कितने सकारात्मक थे.

जब भी आपके मन में low self esteem से जुड़े thoughts आने लगे उसे अपने द्वारा किये गए अच्छे कार्य से बदल दे इससे आपका self-confidence बढ़ेगा.

Subconscious mind programming techniques – change in conscious mind

अवचेतन मन से पहले चेतन मन को सफलता के लिए तैयार करना पड़ता है लेकिन आपकी सफलता के parameter क्या है. अगर आपका उद्देश्य बड़ा है तो आपको उसके लिए एक systematic Subconscious mind programming techniques करनी पड़ेगी.

  • पहला आपका कार्य उतना बड़ा हो जितना आप कर सके ये नहीं की आप छोटे से लेवल से शुरू हुए है और आपका उद्देश्य high लेवल का हो गया.
  • दूसरा आपके उस उद्देश्य को पूरा करने के लिए आपके पास एक systematic way हो जो आपका उद्देश्य पूरा करने में मदद करे.
  • तीसरा आपका उद्देश्य एक साथ कभी पूरा नहीं होता इसलिए उसे छोटे छोटे भागो में विभाजित कर कार्य को पूरा करने का प्रयास करे जिससे आपके ऊपर कार्य का दबाव नहीं पड़ता है और कार्य पूरा भी हो जाता है.

Reprogramming subconscious mind

conscious mind में low self esteem treatment के बाद हम बढ़ते है Subconscious mind programming techniques के अगले steps में. Reprogramming subconscious mind यानि अवचेतन मन को कार्य के हिसाब से ढाल लेना एक कला है.

अवचेतन मन को दोबारा अपने हिसाब से तैयार करने के लिए आप इन points पर विचार कर सकते है जैसे की;

  • Low self esteem यानि खुद पर विश्वास न होने देने वाले कारण की पहचान करना.
  • खुद को लेकर negative self-talk के बारे में सोचना बंद करे.
  • उन लोगो से जुड़े जो आपको समझते है और आपसे attachment रखना चाहते है.
  • खुद के लिए challenge तैयार करे.
  • खुद की देखभाल करे और positive बने रहे.

जो इसे जान गया वो कभी असफल नहीं होता है. self confidence development के लिए काफी सारी ऐसी Building self-esteem activities है जिसे हम कर सकते है. इसके लिए छोटे छोटे उपाय को ध्यान में रखे और आप भी ऐसे कर पाने सफल हो जाते है आइए देखे क्या है वो उपाय.

1.) अपने माहौल को बदलने के लिए अपनी सोच बदले

आपके सोचने का तरीका आपके चारो और के माहौल को आपके अनुसार बनाता है सोचने में अजीब है लेकिन सच्चाई यही है जब आपका मन अच्छे विचारों से भरा होता है और आपकी सुबह की शुरुआत अच्छी होती है तो आपका पूरा दिन भी अच्छा जाता है.

दिन में अगर कुछ नकारात्मक घटे तो भी आपका अवचेतन मन उसे सकारात्मक सोच से बदल देता है. इसलिए सबसे पहले खुद को बदले दुनिया अपने आप बदलेगी.

याद रखे आप दुनिया को नहीं बदल सकते अगर आप अपने आसपास के माहौल से परेशान है तो अपने Subconscious mind programming techniques में change करे ताकि saflta k liye avchetan man me badlav हो और आप इस स्थिति से बाहर निकल सके.

2.) Subconscious mind programming techniques – बदलाव लाए

subconscious mind auto suggestion techniques पर कार्य करता है इसलिए आपके द्वारा दैनिक जीवन में किये जाने वाले कार्य उसे प्रभावित करते है. आपकी आदतों के अनुसार ही आपका अवचेतन मन आपके मन को modify करता है.

खुद में बदलाव करे और अपनी आदतों में बदलाव लाए जिससे आपका अवचेतन मन सही तरीके से आपके लिए सकारात्मक माहौल का निर्माण कर सके.

आपके द्वारा किये गए छोटे छोटे बदलाव आपके अवचेतन मन बड़े प्रभाव डालते है. आपके कार्य करने के तरीके में बदलाव लाने की कोशिश करे इससे आपका अवचेतन मन नए कार्य से कैसे interact करता है आपको बदलाव का पता चल जायेगा.

ये सभी Subconscious mind programming techniques का हिस्सा है जिन्हें हमें daily life routine में अपनाना होता है.

3.) खुद को नए विचारों के लिए मुक्त करे

जब आपको पता चलने लगता है की कैसे आपका अवचेतन मन आपके किये गए behave के आधार पर आपको प्रभावित करता है आप अपने सोचने के तरीकों में बदलाव लाना शुरू कर दे. ये शुरू में वक़्त लेगा लेकिन आपकी सोच को बदल देगा.

कार्य को करने के नए नए सुझाव आपके मन में बनने लगेंगे. इसके बाद जब भी आप पाते है की आपका मस्तिष्क दी गई स्थिति को विकृत कर रहा है तब अपने अवचेतन मन को उस Low self esteem attitude से खुद को affect होने से रोक सकते है.

आपकी सोच बदलते ही आप दूसरों से प्रभावित होना बंद कर देंगे.

एक बार आप इसमें सफल होने लग गए आप खुद को अपनी जिंदगी में बड़े बदलावों के लिए तैयार कर पाने में सक्षम हो जाते है. Subconscious mind programming techniques की एक process खुद को विचारो से ही मुक्त कर देना है. reprogramming subconscious mind के लिए ये सबसे खास techniques है जिससे बहुत ज्यादा benefit भी मिलता है.

4.) खुद अपने जीवन में बदलाव लाये

खुद में बदलाव तभी लाया जा सकता है जब आप self-esteem से भरपूर हो. इसलिए खुद जाने की क्या आपकी अब तक की जिंदगी सकारात्मक थी ?

बदलाव लाने का मतलब है खुद को सकारात्मक बनाने वाले कार्यो से जोड़ना उन्हें अपनी आदत बनाना.

for example आप खुद को positive रखने के लिए पॉजिटिव thoughts पढ़ते है और खुद में बदलाव लाते है आप क्या चाहते है इसे जाने.

अगर किसी कार्य में सफल होना है तो खुद को तैयार कर ले खुद से पूछे जो आप चाहते है जो आपकी उस कार्य से आशा है फिर देखिये आपके मन में खुद-ब-खुद नए नए idea आने लगते है.

खुद को किसी कार्य में expert की तरह सोचने की बजाय उस कार्य की शुरुआत करना चाहिए आप एकदम से किसी खास क्षेत्र में पॉपुलर नहीं बन सकते. इसके लिए आपको पहले उस क्षेत्र में शुरुआती से कार्य करना पड़ेगा खुद का सारा कौशल उस कार्य में लगाना होगा.

अगर आप चाहते है की आप अपने लक्ष्य से भटके नहीं तो आप अपने अंतर्मन की आवाज सुनना शुरू कर दे ये एक मंत्र है जो आपको कार्य में सफल होने में मदद करेगा.

जब भी आपका मन भटके अपने आप से सवाल करे और नकारात्मकता हट जाएगी क्यों की अपने चेतन मन से ही इन्हे साफ कर दिया था.

5.) अपनी पूरी ऊर्जा को कार्य में लगा दे

अपने कार्य के प्रति जागरूक बने रहना आपको अपने कार्य में सफल बनाता है और अगर आप अपने कार्य से भावनात्मक रूप से जुड़ जाते है तो आपकी ऊर्जा को भी focus करने के chance बढ़ जाते है.

एक बार self confidence tips के जरिये आप जान जाये की आप चाहते क्या है तो उसके बाद आपके मन में अपने आप अपने लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए ideas और इमेज ( छवि ) बनना शुरू हो जाती है. लक्ष्य प्राप्त होने के आसार बढ़ जाते है.

Note: Subconscious mind programming techniques आपके मन में आने वाली problem को तभी दूर कर पाता है जब आपकी पूरी ऊर्जा आपका पूरा ध्यान अपने कार्य से जुड़ा हो.

6.) अपने लक्ष्य के प्रति सचेत होकर कार्य करना

अपने मस्तिष्क की सोच में बदलाव कर और अपनी ऊर्जा को कार्य में केंद्रित करके आप अपने लक्ष्य को सफल बनाने के आधे मार्ग को clear कर लेते है. लेकिन ये सिर्फ शुरुआत है आधा रास्ता अभी बाकी है जो आपको ही पार करना है.

अपने मस्तिष्क में बदलाव कर आप खुद असफल होने डर को दूर कर लेते है मगर आपको कार्य भी तो करना पड़ता है.

जैसे की आपको एग्जाम में डर था की आप पास नहीं हो पाएंगे आप अपने विचारों में सकारात्मकता लेकर उस डर को तो दूर कर लेते है लेकिन पास होने के लिए मेहनत भी तो करनी पड़ेगी इसलिए सिर्फ सोच तक कार्य को न रखे उसे पूरा करने के लिए प्रयत्न-शील भी रहे.

तो अब तक आप समझ ही गए होंगे की Subconscious mind programming techniques कर कैसे हम अपनी लाइफ को इजी बना सकते है. subconscious mind convert dream into reality बशर्ते आपको पता हो आपको क्या करना है.

Subconscious mind programming techniques – final word

छोटी छोटी चीजे बड़े बदलाव के लिए जिम्मेदार होती है. हम जाने अनजाने ही daily life में कई सारी गलतियाँ करते रहते है. Reprogramming subconscious mind के जरिये हम सबसे पहले low self esteem को दूर करते है और ऐसी कई सारी subconscious mind programming exercise को अपने routine में इस्तेमाल करते है.

अगर आप भी अपने करियर में या फिर पढ़ाई में success पाना चाहते है तो इन tips को follow करके देखे.

अगर पोस्ट पसंद आयी हो तो कमेंट और शेयर करना ना भूले.

Never miss an update subscribe us

* indicates required

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.