क्या आप जानते है आत्मा क्या होती है या इनसे बात करने के इन top 5 मगर पावरफुल तरीके

0

atmao se bat kaise kare शायद कुछ लोगो के लिए atmao se sampark karna एक रोमांच से बढ़कर कुछ नहीं। पर क्या आप जानते है आत्माओ से बात करना हमेशा अच्छा अनुभव साबित नहीं होता है खासतौर से तब जब आप इस फील्ड में नए हो। आत्माओ से बात करने से पहले इसके बारे में पूरी जानकारी जुटा लेनी चाहिए जिससे वक़्त आने पर आत्माओ से बात करने के बाद उन्हें वापस भेज जा सके। भूत से दोस्ती कैसे करे और आत्मा से कैसे मिले यही नहीं आत्मा से संपर्क कर आत्मा को कैसे देखे जैसी जानकारी हासिल करने और कुछ खतरनाक करना बहुत से लोग चाहते है. भूत को वश मे करना और आत्मा का रहस्य क्या है ? कुछ लोग पैसे के लालच में आत्मा क्या होती है परी को कैसे बुलाये जैसी बाते जानने के लिए बहुत से लोग बैचेन राहते है.

atmao se sampark karna

हॉलीवुड में बनी The conjuring 3 फिल्म असल में घटी एक खोफनाक वारदात पर बेस्ड है जिसमे एक बच्ची शौक शौक में आत्माओ से बात करना चाहती थी। आत्माए आ जाती है और फिर … खैर फिल्म देखिये सब पता चल जायेगा। आज हम बात करेंगे atmao se sampark karna और इनके लिए आसान और प्रचलित माध्यम।

atmao se sampark karna – बनी होती है सिर्फ2 तत्व से

आत्माओं से हम सीधे बात नहीं कर सकते है क्यों की वो 2 तत्व से बनी होती है. इसलिए हम इसके लिए माध्यम का चुनाव करते है. आपने plain chit के बारे में सुना होगा या फिर Ouija board planchette  ये सब आत्माओं से सांकेतिक बात करने के माध्यम है. आज बात करते है करामाती लेखनी की, त्रिकाल दर्शी दर्पण की और करामाती अंगूठी बनाने की जिसके द्वारा हम खुद आत्माओं से बात कर सकते है.

आत्माओं से बात करने के लिए आपको उन चीजों के बारे में समझने की आवश्यकता है जिनसे वो ATTRACT होती है. क्यों की साधारण चीजों में और इन चीजों में जो फर्क है वो है इन्हे बनाने वाले सामान का इस्तेमाल.

atmao se sampark karna और करामाती चीजों में काम आने वाले सामान

करामाती लेखनी, अंगूठी या त्रिकालदर्शी दर्पण इन सबमे कुछ चीजों का समावेश है आप पिछली पोस्ट करामाती टेबल में भी इनके बारे में पढ़ चुके है आज इन पर विस्तृत रूप से बात करते है.

  • 1.) काजल, तेल ( खुशबू दार )

इसके अलावा आप कड़वा तेल यानि सरसो का कच्चा तेल इस्तेमाल कर सकते है इसका इस्तेमाल बाकि की चीजों को मिलाकर उन्हें एकसमान बनाने में किया जाता है.

  • 2.) शमशानी कोयला :

शमशानी कोयला आत्माओं से बात करने के लिए सबसे बढे तत्व में से एक है इसके अंदर आकर्षण पैदा करने वाले गुण होते है.

  • 3.) चुंबक पत्थर :

चुम्बक पत्थर भी आकर्षक पदार्थ है जिनसे हम अपनी आकर्षण शक्ति को बढाकर आत्माओं को अपनी और आकर्षित कर सकते है.

  • 4.) मोर पंख का चंदवा :

माना जाता है की मोर पंख का चंदवा सबसे बड़ा चुम्बकीय प्रभाव वाला माध्यम है इसके द्वारा फ़क़ीर हमारे शरीर से बुरी ऊर्जा को बाहर निकालते है.

पढ़े : सफलता पाने के लिए अवचेतन मस्तिष्क में बदलाव कैसे करे

atmao se sampark karna – प्रचलित तरीके

आत्माओ से बात करने के निम्न प्रचलित तरीके है

  • करामाती अंगूठी
  • त्रिकालदर्शी दर्पण
  • करामाती लेखनी
  • ओझा टेबल
  • प्लेनचिट टेबल

और भी कई तरीके है मगर ऊपर दिए गए पहले 3 तरीके सबसे ज्यादा प्रचलित है आइये जाने इनके बारे में

करामाती अंगूठी The Magic ring

इस अंगूठी से कई जादूगर या तांत्रिक छोटे बच्चों के माध्यम से आत्माओं से बात करते है.जो हमें भुत और भविष्य की जानकारी देते है. करामाती अंगूठी का नग और इस्तेमाल होने वाली धातु का ज्यादा महत्त्व होता है इसलिए इसके निर्माण में सावधानी रखे की जो आवश्यक तत्व है वो अंगूठी में हो. इसके द्वारा आप घर बैठे आत्माओं से बात कर सकते है और fraud बाबा के चक्कर से बच सकते है. गाव में आज भी छोटे बच्चे सबसे ज्यादा माध्यम बनाए जाते है आत्माओं से बात करने के लिए इसकी वजह है उनके मस्तिष्क का निर्माण इस उम्र में वो ज्यादा तर्कशील नहीं होते है।

करामाती अंगूठी का नग और धातु

करामाती अंगूठी को अष्ट धातु के संयोग से बनाना चाहिए। अष्ट धातु का संयोग सर्वोत्तम होता है. अंगूठी के निर्माण में प्रयुुक्त होने वाली धातु लोहा, चांदी , सोना, तांबा, सीसा, जस्ता, रांगा, पीतल, और कांसा है. इनके संयोग से अंगूठी को बना कर ऊपर छोटा सा दुअन्नी के साइज का गोलाकार नग की जगह रहने दे। नग की जगह काजल, श्मशानी कोयला, तेल, और चुम्बक पत्थर को पीस कर नाग के साइज की गोली बना कर धुप में सुखा लेते है.

पढ़े : सम्मोहन सिखने के लिए त्राटक के खास अभ्यास

अंगूठी के इस्तेमाल का तरीका

अंगूठी पर सुंगधित तेल लगाए फिर इस अंगूठी को 8-9 साल के बच्चे के हाथ में पहना दे. उस बालक को इसे एकटक मन में ये विश्वास करते हुए देखने दे की इसमें उसे मृतक आत्मा दिखाई देगी. एक-टक देखते वक़्त उसका चित स्थिर हो. जब देखने वाला बालक उसे स्थिर चित से देखता है तो वो उसमे खो जाता है और उसे कुछ देर बाद एक मकान दिखाई देता है फिर उसे पूछे कुछ दिखाई दिया क्या ? इस वक़्त भी उसकी नजर अंगूठी पर ही होनी चाहिए।

कुछ देर बाद मकान का द्वार खुद-ब-खुद खुल जाता है और मकान के अंदर 4 मनुष्य 4 कुर्सी पर बैठे दिखलाई देते है जो अंगूठी के रखवाले कहलाते है. अंगूठी पहले बालक को आज्ञा दे की वो उन रखवाले को आदेश दे की वो उनकी मनचाही आत्मा को पकड़ के लाए. कुछ देर बाद जब वो रखवाले उस आत्मा को वह ले एते है तब उनसे सवाल जवाब कर सकते है. काम ख़त्म कर तेल को पोंछ दे और इसे एक डिबिया में बंद कर दे जो लकड़ी की बनी हो.

त्रिकालदर्शी दर्पण The ghost mirror

त्रिकालदर्शी दर्पण मिश्र की देन माना जाता है. इसके द्वारा हम अपनी आत्मशक्ति को बढाकर आत्माओं से या फिर अपनी अवचेतन मन की शक्ति को चरम सीमा तक पहुंचा कर भुत भविष्य को देखने की क्षमता हासिल करते है. आज हर कोई CRYSTAL BAAL का इस्तेमाल करता है और अपने चारो और का माहौल ऐसा बनाता है की सामने वाला उसके मायाजाल में उसी वक़्त फंस जाता है. याद रखे अगर दो व्यक्ति में से एक की तर्कशक्ति को ख़त्म कर दिया जाये तो वो दूसरे व्यक्ति के जाल में फंसते देर नहीं लगाता है.

पढ़े : गाँवो में किये जाने वाले आसान मगर अद्भुत टोटके

त्रिकालदर्शी दर्पण का निर्माण – atmao se sampark karna

इसके लिए आपको कांच की बिल्लौरी किस्म चाहिए जो चीन या मिश्र में मिलती है अगर ऐसा न हो सके तो सामान्य कांच से भी बना सकते है. सामान्य कांच पूरी तरह शुद्ध होना चाहिए जब उसमे देखा जाये तो किसी तरह का कोई भी विकार हमारे प्रतिबिम्ब का न बने.

त्रिकालदर्शी दर्पण के लिए सामान्य कांच के 1 इंच चौड़ाई और 5-6 इंच लम्बाई वाले वाले कांच को ले इसके एक और मोर पंख का चंदवा, शमशानी कोयला, चुम्बक पत्थर और आवश्यकता अनुसार कड़वा तेल लेकर उन्हें आपस में घोट ले ( मिक्स करना ).

इस मसाले को कांच के एक और चढ़ा कर सुखा दे. इसके बाद मसाला लगे हिस्से को पीछे रख मसाले पर काले कागज की एक पट्टी चढ़ा दे. और इसे लकड़ी के फ्रेम में जड़ दे. इसका प्रयोग भी अंगूठी की तरह किया जाता है.

atmao se sampark karna – करामाती लेखनी बनाना

करामाती लेखनी या MAGIC PAN ये एक पेन होता है जिससे हम अपनी आकर्षण शक्ति द्वारा आत्माओं को बुलाकर उनसे सवालों का जवाब संकेतों के माध्यम से जानते है जैसे aujja बोर्ड। इसमें ऊपर की दोनों विधि की तुलना में ज्यादा ज्यादा आत्मविश्वास और आकर्षण शक्ति की आवश्यकता है.

लेखनी को बनाने का तरीका

देवदार या शीशम की के तख्ते को पान के आकार का बनाओ और ऊपर का हिस्सा रंदवा कर साफ कर ले. ऊपर हलकी सी चिकनाई बना दे, पान की नोक की तरफ पेंसिल लगने के लिए छेड़ कर दे निचे के भाग में विद्युत शक्ति के योग से बने हड्डी के 2 छेद लगाकर प्रयोग करे. इसके लिए आपको निचले हिस्से में आकर्षण पदार्थो को भरना होता है.

पढ़े : जिन्नात और इनकी दुनिया का रहस्य

atmao se sampark karna – लेखनी से मृत आत्माओं से बात करना

सफ़ेद या बादामी रंग के मोटे कागज पर लेखनी को रखे इसके लिए आमने सामने बैठने वाले दो लोग चाहिए। दोनों अपने हाथ की 3-3 अंगुली यन्त्र पर रखे लेकिन दबाव न बनाए। अब अपने स्थिर मन की मानसिक विचार शक्ति और विद्युत शक्ति को एकाग्र करे. जिससे कुछ देर बाद यन्त्र चलने लगता है. लेकिन ध्यान रहे इसे अपनी तरह चलने दे अपनी और से कोई भी दबाव न बनाए.

जब कार्य समाप्त हो जाये तो तब उसे लेखनी को अंगूठी की तरह लकड़ी के डब्बे में रख देना चाहिए। इसे बनाना आसान है लेकिन ये इस्तेमाल करने वाले की मानसिक विचार शक्ति और विद्युत ऊर्जा से चलती है इसलिए किसी को का संपर्क न होने पाए इसका ख्याल रखे क्यों की ऐसा करने से उसकी विद्युत शक्ति ख़त्म हो जाती है.

पढ़े : ल्युसिड ड्रीम में सपनो को मनचाहा आकार देने की तकनीक


NOTE : ऊपर जिन करामाती माध्यम का वर्णन किया गया है वो किताबी ज्ञान और गांव में ओझा के पास मिलने वाले सामान के आधार पर है इसलिए इसकी कोई जिम्मेदारी नहीं है की ये हर स्थिति में काम करता हो. गांव में आज भी इन चीजों का इस्तेमाल करने वाले ओझा और तांत्रिक मौजूद है. इसलिए atmao se sampark karna और इसके सामान के चयन में सावधानी बरते और इसके निर्माण में विश्वास रखे.


आज की पोस्ट atmao se sampark karna काफी मेहनत से तैयार की गयी है और इसके लिए न सिर्फ अध्ययन बल्कि असल जिंदगी में इसका इस्तेमाल करने वाले लोगो से मिलकर इसके तरीकों को समझ कर आपके सामने प्रस्तुत किया गया है इसलिए कमेंट द्वारा अपने विचार जरूर रखे आपके कमेंट हमें और अच्छा लिखने के लिए प्रेरित करते है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.