about us

सच्ची-प्रेरणा पर में कुमार और मेरी टीम आप सबका तहेदिल स्वागत करती है। सच्ची-प्रेरणा का सफर में दोस्तों में त्राटक की फील्ड में पिछले 7 साल से भी ज्यादा से हूँ।  इस वक़्त के दरम्यान मेने काफी अच्छे और बुरे अनुभव किये है। दोस्तों में त्राटक तब करना शुरू किया था जब में स्कूल में था। नवोदय विद्यालय जहा की जिंदगी आपको किसी भी समस्या से टकराने का हौसला प्रदान करती है।

सच्ची-प्रेरणा का सफर

में जब हॉस्टल में था तब मेरे साथ हर किस्म के दोस्त थे। अच्छे भी बुरे भी पर अगर में ये कहू की मेरे जैसा सोचने वाला कोई नहीं था तो में गलत नहीं हूँ। क्यों की मेरे दोस्त मुझे त्राटक करते वक़्त अगर देखते तो तंज कसते थे। मुझे स्कूल लाइफ में दोस्तों से उपनाम भी मिला था “तांत्रिक” सोच कर देखिये जब आप लोगो के बिच खुद को अकेला महसूस करते है और कोई आपके विचारो को समझ नहीं पाए ! मेरे साथ ये सब हुआ मगर एक बात थी में हमेशा से खुद को प्राइवेसी देता था। यही वजह थी की मेने जल्दी ही सुबह उठने और विचारो को काबू करने की क्षमता विकसित कर ली थी।

स्कूल लाइफ में मेने बिंदु त्राटक लगभग 20 दिन किया था फिर मेने सीधा शक्ति चक्र पर त्राटक करना शुरू कर दिया था। क्यों की विचारो को लंबे समय तक शून्य बनाये रखने और विचारो को भावना शक्ति से दिशा प्रदान करना सीख चूका था। शक्ति चक्र पर त्राटक में मेने काफी अच्छे अनुभव किये जिनमे से एक था आकर्षण शक्ति। वक़्त के साथ मेने बिना किसी की सहायता के सम्मोहन भी सीखा मगर आधे ज्ञान और गलत इस्तेमाल के कारण उस शक्ति को गवा दिया। लेकिन मुझे ये सिखने को मिला की किसी भी प्रदर्शन में शक्ति का दिखावा आपकी अपनी हार का प्रतिक है।

सच्ची-प्रेरणा का सफर में मुझे आगे चलकर कुछ महानुभाव का साथ मिला जिनके साथ मेने अपने अनुभव शेयर किये उनके अनुभव को जाना। तब मुझे पता चला की आध्यात्म के मार्ग में कुंडलिनी और सप्त चक्र जागरण भी संभव है मगर जैसा सीरियल शक्तिमान में दिखाया गया वैसा कुछ नहीं। दोस्तों यही जीवन की सच्चाई है की जब तक हम कच्चे ज्ञान के सहारे रहते है हम शक्तियों के पीछे भागते है मगर असल में जब हम उन्हें पा लेते है तब हमें अहसास होता है की असली जीवन शक्ति का प्रदर्शन नहीं दुसरो का भला करने में है। अगर आपके पास कुछ खास है तो उसे लोगो से शेयर करे। आपकी शक्तियों के पीछे भागने की लालसा अपने आप दूर हो जाती है।

सच्ची-प्रेरणा का सफर

वर्ष 2013 में मेने अपना पहला ब्लॉग लांच किया था। ध्यान और त्राटक के नाम से पर ज्यादा काम नहीं किया क्यों की ब्लॉगिंग का अनुभव नहीं था। फिर फेसबुक पर ग्रुप बना कुंडलिनी और ध्यान के नाम से वहां भी खूब पोस्ट पब्लिश हुई। कई लोगो से मिला जिनके पास अद्भुत ज्ञान का भंडार था। इस तरह से एक बार फिर सच्ची-प्रेरणा पर काम करने लग गया। उससे पहले ब्लॉग का नाम प्रेरणात्मक कथन था मगर ये सभी फ्री होस्टिंग पर थे और गूगल इन्हें कभी भी बंद कर सकता था।

दूसरा में इन पर ब्लॉग को इतना अच्छा रूप नहीं दे पा रहा था जितना दे सकता था। इसलिए मेने 2017 के शुरुआत में इस ब्लॉग को प्रोफेशनल रूप दिया जिसमे वक़्त वक़्त पर और बेहतर बनने के प्रयास किये जायेंगे। साथ ही आपकी सुविधा और किसी भी समस्या के समाधान के लिए ज्यादा से ज्यादा आपको बेहतर अनुभव मिले यही हमारी कोशिश रहेगी।


ब्लॉग के लिए डोनेशन कितना जरुरी :

हमें अगर किसी चीज से फायदा मिले तो हमें उसका शुक्रिया जरूर अदा करना चाहिए जिससे सामने वाले को लगे की वाकई उनकी मेहनत रंग ला रही है। हम ब्लॉग के निरंतर सुधार के लिए डोनेशन के लिए भी अपील करते है। डोनेशन करना आपका अपना फैसला है।


आप भी कर सकते है ब्लॉग की सहायता :

अगर आपको ब्लॉग की किसी पोस्ट में कुछ सिखने को मिले या अच्छा लगे तो आप उसे शेयर जरूर करे। हमारा उद्देश्य ज्यादा से ज्यादा लोगो तक पहुंचना है। ताकि सभी को अपने आध्यात्मिक और शारीरक विकास का अवसर मिल सके। सच्ची-प्रेरणा का सफर आपसे भी जुड़ा है। आप निम्न तरह से ब्लॉग की मदद कर सकते है।

1.) ब्लॉग की पोस्ट को फेसबुक या सोशल मीडिया प्रोफाइल पर शेयर करे।

2.) हमारे न्यूज़लेटर को सब्सक्राइब जरूर करे ताकि हर पोस्ट पढ़ने का आनंद आप उठा सके।

3.) वक़्त वक़्त पर अपने कॉमेंट, सुझाव हमें भेजे ताकि आपकी पसंद के अनुसार हम आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सके।

4.) अगर आपको ब्लॉग से लाभ मिलता है तो ब्लॉग के विकास के लिए डोनेट जरूर करे। हमारे लिए आपका डोनेशन मायने रखता है राशि नहीं।

दोस्तों अगर आप चाहते है की ब्लॉग सही दिशा में काम करे तो अपना सहयोग उपरोक्त तरीके से जरूर प्रदान करे।

आप हमें अपने सुझाव, समस्या निम्न तरह से भेज सकते है।

contact me : +91-8432048593

Email : sachhiprerna@gmail.com

[wpforms id=”840"]